Aksharma, Yogi Adityanath Cabinet, Jitin Prasad, Arvind Kumar Sharma, Rss, Mohan Bhagwat, Pm Narendra Modi, Cm Yogi Pm Modi Meet, Up Election, Uttar Pradesh, Pm Modi, Up, Jp Nadda, Up Cabinet, Modi Yogi Meeting, İndia, İndia News, İndia News Today, Today News, Google News, Breaking News, Yogi Adityanath, Narendra Modi, Congress, Amit Shah, Up Cabinet Expansion, योगी आदित्यनाथ, योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल, जितिन प्रसाद, अरविंद कुमार शर्मा उत्तर प्रदेश

Aksharma, Yogi Adityanath Cabinet

Exclusive: योगी ने संघ से कहा था- इससे बेहतर तो मैं इस्तीफा ही दे दूं, पढ़ें संघ, सीएम और भाजपा के बीच सुलह की पूरी कहानी

भारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी।

11-06-2021 10:50:00

Exclusive: योगी ने संघ से कहा था- इससे बेहतर तो मैं इस्तीफा ही दे दूं, पढ़ें संघ, सीएम और भाजपा के बीच सुलह की पूरी कहानी myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSS org amitmalviya AmitShah JPNadda AKSharma

भारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी।

सारसूत्रों ने बताया कि संघ के आशीर्वाद से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जल्दी ही राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार और फेरबदल होगा। जिसके तहत पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा और भाजपा में नए नवेले गए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को मंत्री बनाया जा सकता है। लेकिन इनमें से कोई भी उप मुख्यमंत्री नहीं बनेगा।

उत्तर कोरियाः किम जोंग उन की बहन ने अमेरिका को चेताया, वो नहीं समझ रहा बात - BBC Hindi योगी आदित्यनाथ के केशव मौर्य के घर जाने से क्या बदले समीकरण? - BBC Hindi नेपाल में राजनीतिक संकट गहराया, सुप्रीम कोर्ट ने 20 कैबिनट मंत्रियों की नियुक्ति रद्द की - BBC Hindi

विज्ञापनसंघ प्रमुख मोहन भागवत और सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)- फोटो : PTIपढ़ें अमर उजाला ई-पेपरकहीं भी, कभी भी।ख़बर सुनेंख़बर सुनेंभारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी और उत्तर प्रदेश को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दिल्ली में तीन दिन के विचार मंथन के बाद अपनी जो राय भाजपा नेतृत्व को दी थी, पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने उस पर अमल शुरु कर दिया है।

गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ जो विस्तृत चर्चा हुई उसकी जानकारी देते हुए सूत्रों ने बताया कि संघ के आशीर्वाद से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जल्दी ही राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार और फेरबदल होगा। जिसके तहत पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा और भाजपा में नए नवेले गए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को मंत्री बनाया जा सकता है। लेकिन इनमें से कोई भी उप मुख्यमंत्री नहीं बनेगा। headtopics.com

संभावना है कि मौजूदा उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य अपने-अपने पदों पर बने रहेंगे औऱ उनके विभाग भी उनके पास रहेंगे। लेकिन मंत्रिमंडल में पिछड़ों और दलितों का प्रतिनिधित्व बढ़ाया जाएगा ताकि हिंदुत्व के संरक्षण में सामाजिक संतुलन बना रहे। इसलिए मुमकिन है कि अपना दल से अनुप्रिया पटेल को केंद्र में या उनके पति डा.आशीष पटेल को राज्य मंत्रिमंडल में जगह मिल जाए। अनुप्रिया पटेल ने भी गृह मंत्री अमित शाह से गुरुवार भाजपा नेताओं से मुलाकात भी की थी।

गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली आकर गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात में उन सारे जटिल मुद्दों पर बात की जिन्हें लेकर पिछले कई दिनों से उत्तर प्रदेश को लेकर भाजपा में घमासान मचा हुआ था।यह जानकारी देने वाले सूत्रों के मुताबिक इसके पहले योगी सर संघचालक संघ के अपने करीबी शीर्ष पदाधिकारियों से बात करके अपनी स्थिति स्पष्ट कर चुके थे और इसीलिए उन्होंने संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले की लखनऊ यात्रा के दौरान उनसे भेंट नहीं की जबकि होसबोले तीन दिन तक लखनऊ में रहे और उन्होंने मुख्यमंत्री को मिलने का संदेश भिजवाया लेकिन योगी तब मिर्जापुर और गोरखपुर की यात्रा पर थे।

सूत्रों के अनुसार योगी पर अरविंद शर्मा को विधान परिषद सदस्य बनाने के बाद केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से उप मुख्यमंत्री बनाकर गृह नियुक्ति एवं गोपन जैसे अति महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील विभाग देने का दबाव बढ़ रहा था और योगी उसे टालते जा रहे थे। लेकिन जब भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष और प्रभारी राधा मोहन सिंह लखनऊ गए और उन्होंने विधायकों मंत्रियों से बात करके दबाव बढ़ाया और योगी को बदलने तक की चर्चाएं चल पड़ीं जिनको राधामोहन सिंह की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित से की गई मुलाकातों से और बल मिला तब योगी ने सीधे सर संघचालक से संपर्क किया और उनसे अपनी स्थिति स्पष्ट की।

योगी के एक बेहद करीबी सूत्र के मुताबिक मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि पिछले साढ़े चार साल से मेरी सरकार ने केंद्र के हर निर्देश का पालन किया। यहां तक कि राज्यसभा, विधान परिषद चुनावों के लिए पार्टी के उम्मीदवारों की सूची केंद्रीय नेतृत्व बिना उनकी सलाह के तैयार करके भेजता रहा है और वह उसे मानते रहे हैं। राज्य के अधिकारियों को भी सीधे केंद्र से निर्देश मिलते रहे और उन्होंने उसे भी चलने दिया। संगठन के नाम पर सरकारी कामकाज और नियुक्तियों में दखल दिया जाता रहा। और अब असफलता का ठीकरा उनके सिर फोड़ा जा रहा है। headtopics.com

शरद पवार के घर जुटा विपक्ष, अठावले बोले - जितने मोर्चे बना लो, मोदी नंबर-1 - BBC News हिंदी फैक्ट चेक: सऊदी अरब की नहीं हैं योग करते मुस्लिमों की ये तस्वीरें नेपाल में राजनीतिक संकट गहराया, सुप्रीम कोर्ट ने मंत्रियों की नियुक्ति रद्द की - BBC Hindi

योगी ने भागवत से यह भी कहा कि अगर किसी मुख्यमंत्री से गृह गोपन और नियुक्ति विभाग भी ले लिए जाएं तो फिर उस मुख्यमंत्री का रहना न रहना बराबर है। इससे तो अच्छा है संघ प्रमुख अगर उन्हें निर्देश देते हैं तो वो अपना इस्तीफा ही दे देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि संघ प्रमुख के आशीर्वाद से ही वह मुख्यमंत्री बनकर अपने दायित्व का पूरी निष्ठा से पालन कर रहे हैं।

सूत्र के अनुसार योगी आदित्यनाथ की इस बात को संघ प्रमुख ने बेहद गंभीरता से लिया। वैसे भी उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री पद योगी आदित्यनाथ को भाजपा नेतृत्व की इच्छा से नहीं संघ नेतृत्व की इच्छा से मिला था। क्योंकि संघ योगी को मोदी के बाद भाजपा के भावी नेता के रूप में विकसित करने की दूरगामी योजना पर काम कर रहा है।

बताया जाता है कि इसके बाद दिल्ली में संघ के सभी प्रकल्पों और अनुषांगिक संगठनों के प्रभारी और अन्य शीर्ष पदाधिकारियों की तीन दिवसीय बैठक में एक दिन उत्तरप्रदेश पर चर्चा हुई जिसमें सर कार्यवाहर दत्तात्रेय होसबोले और भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष की रिपोर्ट पर विचार हुआ। उसके बाद संघ की सर्वसम्मति से राय बनी कि योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे। लेकिन उन्हें अपनी इस जिद से पीछे हटना होगा कि वह अरविंद शर्मा को ज्यादा से ज्यादा राज्य मंत्री बनाएंगे।

उन्हें अरविंद शर्मा को कैबिनेट मंत्री बनाना चाहिए और जहां तक मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार की बात है तो भाजपा नेतृत्व को मुख्यमंत्री को विश्वास में लेकर आपस में बातचीत करके उस पर निर्णय लेना चाहिए और मंत्रियों के विभागों के मामले में भी मुख्यमंत्री को अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। इस तरह संघ ने एक तरह से बीच का रास्ता निकाला और केंद्रीय नेतृत्व तथा योगी दोनों को ही अपने अपने रुख से कुछ पीछे हटने की सलाह दी। headtopics.com

संघ से योगी को अभयदान मिलने के बाद ही केंद्रीय नेतृत्व ने ऑपरेशन जितिन प्रसाद को अंजाम दिया। इसके जरिए भाजपा नेतृत्व ने एक तरफ कांग्रेस को झटका देकर यह संदेश दिया कि भाजपा उत्तर प्रदेश में अपने मूल जनाधार वर्ग ब्राह्णणों की नाराजगी दूर करने की हर मुमकिन कोशिश करेगी तो दूसरी तरफ जितिन के भाजपा प्रवेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को भी विश्वास में नहीं लिया गया क्योंकि आशंका थी जितिन प्रसाद जो पिछले दो तीन सालों से ब्राह्रणों की उपेक्षा उत्पीड़न और हत्याओं को लेकर लगातार योगी सरकार पर हमले कर रहे थे, कि भाजपा प्रवेश में कहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अडंगा न लगा दें।

इसीलिए जितिन के प्रवेश कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा को कोई नेता मंच पर नहीं था। सूत्रों के मुताबिक योगी इससे असहज तो थे, लेकिन वक्त की नजाकत देखकर उन्होंने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी बल्कि ट्वीट करके जितिन का भाजपा में स्वागत किया। गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष से बातचीत के बाद उन्हें जितिन को अपने मंत्रिमंडल में लेने में कोई परहेज भी नहीं रह गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से योगी आदित्यनाथ की मुलाकात के बाद भाजपा में 'सब कुछ ठीक है' का संदेश देकर चुनाव की अगली तैयारियों में जुट जाएगी।

कार्टून: रिकॉर्ड तो इनका भी बना था - BBC News हिंदी भास्कर इंटरव्यू: भास्कर इंटरव्यू: स्वरा भास्कर बोलीं- चुनाव प्रचार करने पर 3-4 ब्रांड्स ने डील तोड़ दी थी, फिर जब NRC का विरोध किया तो एक ब्रांड ने बाहर निकाल दिया IND vs NZ WTC Final: पांचवें दिन का खेल खत्म, भारत ने न्यूजीलैंड पर बनाई 32 रन की बढ़त

विस्तारभारतीय जनता पार्टी के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुशासन की लाठी एक बार फिर भारी पड़ी और उत्तर प्रदेश को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने दिल्ली में तीन दिन के विचार मंथन के बाद अपनी जो राय भाजपा नेतृत्व को दी थी, पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने उस पर अमल शुरु कर दिया है।

विज्ञापनगुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ जो विस्तृत चर्चा हुई उसकी जानकारी देते हुए सूत्रों ने बताया कि संघ के आशीर्वाद से योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने रहेंगे और जल्दी ही राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार और फेरबदल होगा। जिसके तहत पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा और भाजपा में नए नवेले गए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को मंत्री बनाया जा सकता है। लेकिन इनमें से कोई भी उप मुख्यमंत्री नहीं बनेगा।

संभावना है कि मौजूदा उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य अपने-अपने पदों पर बने रहेंगे औऱ उनके विभाग भी उनके पास रहेंगे। लेकिन मंत्रिमंडल में पिछड़ों और दलितों का प्रतिनिधित्व बढ़ाया जाएगा ताकि हिंदुत्व के संरक्षण में सामाजिक संतुलन बना रहे। इसलिए मुमकिन है कि अपना दल से अनुप्रिया पटेल को केंद्र में या उनके पति डा.आशीष पटेल को राज्य मंत्रिमंडल में जगह मिल जाए। अनुप्रिया पटेल ने भी गृह मंत्री अमित शाह से गुरुवार भाजपा नेताओं से मुलाकात भी की थी।

अमित शाह से दिल्ली में मिले योगी आदित्यनाथ- फोटो : Agencyगुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली आकर गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात में उन सारे जटिल मुद्दों पर बात की जिन्हें लेकर पिछले कई दिनों से उत्तर प्रदेश को लेकर भाजपा में घमासान मचा हुआ था।

यह जानकारी देने वाले सूत्रों के मुताबिक इसके पहले योगी सर संघचालक संघ के अपने करीबी शीर्ष पदाधिकारियों से बात करके अपनी स्थिति स्पष्ट कर चुके थे और इसीलिए उन्होंने संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले की लखनऊ यात्रा के दौरान उनसे भेंट नहीं की जबकि होसबोले तीन दिन तक लखनऊ में रहे और उन्होंने मुख्यमंत्री को मिलने का संदेश भिजवाया लेकिन योगी तब मिर्जापुर और गोरखपुर की यात्रा पर थे।

सूत्रों के अनुसार योगी पर अरविंद शर्मा को विधान परिषद सदस्य बनाने के बाद केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से उप मुख्यमंत्री बनाकर गृह नियुक्ति एवं गोपन जैसे अति महत्वपूर्ण एवं संवेदनशील विभाग देने का दबाव बढ़ रहा था और योगी उसे टालते जा रहे थे। लेकिन जब भाजपा के संगठन महासचिव बीएल संतोष और प्रभारी राधा मोहन सिंह लखनऊ गए और उन्होंने विधायकों मंत्रियों से बात करके दबाव बढ़ाया और योगी को बदलने तक की चर्चाएं चल पड़ीं जिनको राधामोहन सिंह की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित से की गई मुलाकातों से और बल मिला तब योगी ने सीधे सर संघचालक से संपर्क किया और उनसे अपनी स्थिति स्पष्ट की।

योगी के एक बेहद करीबी सूत्र के मुताबिक मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि पिछले साढ़े चार साल से मेरी सरकार ने केंद्र के हर निर्देश का पालन किया। यहां तक कि राज्यसभा, विधान परिषद चुनावों के लिए पार्टी के उम्मीदवारों की सूची केंद्रीय नेतृत्व बिना उनकी सलाह के तैयार करके भेजता रहा है और वह उसे मानते रहे हैं। राज्य के अधिकारियों को भी सीधे केंद्र से निर्देश मिलते रहे और उन्होंने उसे भी चलने दिया। संगठन के नाम पर सरकारी कामकाज और नियुक्तियों में दखल दिया जाता रहा। और अब असफलता का ठीकरा उनके सिर फोड़ा जा रहा है।

योगी ने भागवत से यह भी कहा कि अगर किसी मुख्यमंत्री से गृह गोपन और नियुक्ति विभाग भी ले लिए जाएं तो फिर उस मुख्यमंत्री का रहना न रहना बराबर है। इससे तो अच्छा है संघ प्रमुख अगर उन्हें निर्देश देते हैं तो वो अपना इस्तीफा ही दे देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि संघ प्रमुख के आशीर्वाद से ही वह मुख्यमंत्री बनकर अपने दायित्व का पूरी निष्ठा से पालन कर रहे हैं।

और पढो: Amar Ujala »

वैक्सीन से मंत्री जी अंजान, ललितपुर में दिया गलत बयान: यूपी के राज्यमंत्री मंत्री मनोहर पंथ भ्रांति दूर करने आए लेकिन फैला गए भ्रांति, बोले- अलग-अलग उम्र के लिए है अलग-अलग वैक्सीन; सांसद ने टोका, कहा-एक ही वैक्सीन है

उत्तर प्रदेश के राज्यमंत्री मनोहर लाल पंथ उर्फ मन्नू कोरी ने एक सभा में वैक्सीन को लेकर गलत जानकारी दे दी। बयान देने के बाद उन्हें समझ भी नहीं आया कि उन्होंने गलत बोला है। उनके पास बैठे सांसद ने उन्हें टोका और उनकी भूल सुधारी। | उत्तर प्रदेश के राज्यमंत्री मनोहर लाल पंथ उर्फ मन्नू कोरी ने एक सभा में वैक्सीन को लेकर गलत जानकारी दे दी। बयान देने के बाद उन्हें समझ भी नहीं आया कि उन्होंने गलत बोला है। उनके पास बैठे सांसद ने उन्हें टोका और उनकी भूल सुधारी।

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda Yogi ji next PM myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda Yogi is next PM of India. myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda निस्वार्थ भाव से आम जनता व प्रदेश की सेवा करने वाले योगी जी सर्वश्रेष्ठ मुख्य मंत्री हैं प्रदेश व भाजपा की खुश्किश्मती है जो योगी जैसा नेतृत्वकर्ता मुख्य मंत्री मिला है

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda बेहतरीन न्यूज़ myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda सुना है एक मुगल बादशाह ने अपनी बादशाहत बचाने के लिए मुगलो के 'शाही बरतन ' बेच दिये थे....इस बात का सरकारी‌ कंपनियों के निजीकरण से कोई संबंध नही है stopprivatisation

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda मेरी राय है कि उत्तर प्रदेश का विभाजन ठीक नहीं होगा myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda महोदय संघ प्रान्त प्रचार प्रमुख अनुपम किशोर द्वारा कोर्ट में विचाराधीन वाद के चलते मुझे लूट,छेड़खानी,डकैती,मारपीट,हत्या के प्रयास में फंसाया गया मैं बीजेपी सेक्टर प्र0 पिता जी 30वर्ष से बूथ प्रभारी ये समाज में षड़यन्त्र से संघ की छवि धूमिल कर रहे हैं इन्हे संघ से कार्यमुक्त करें।

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda Don't give up yogi ji , at least u have done better job than modi , u cleaned the gunda raj which will follow the development myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda Yogi is an invaluable asset of Nation and he be always backed and encouraged to go ahead with his people oriented moves and policies.

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda 🙏🙏 myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda जल्दी करो कहीं देर हो ना जाए आज अंतिम दिन हो जाए दे दो इस्ताफा

ब्रिटिश पुलिस के पास पहुंचे मेहुल के वकील, किडनैपिंग की जांच करने की गुहारचोकसी की बचावपक्ष की टीम में शामिल पोलाक ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मीडिया से बातचीत में कहा कि मेट्रोपॉलिटन पुलिस के पास यातना, युद्ध अपराध और नरसंहार की जांच के लिए एक इकाई है।

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda योगी को मासूम दिखाने की कोशिश हो रही है myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda इस बार CM ब्राह्मण होना चाहिए। myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda humail__khan इधर भी नजर दौड़ाईए थोड़ा।

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda कोई कहानी कभी थी ही नही।☺️ myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda blsanthosh DrMohanBhagwat swatantrabjp BJP4UP BJP4India शानदार निर्णय, अब हम सबको मिलकर उत्तर प्रदेश चुनाव की तैयारियों में जुट जाना चाहिए। उत्तर प्रदेश मे बीजेपी की पूर्ण बहुमत से विजय हेतु मेरी अग्रिम शुभकामनाएं स्वीकार करे। जय श्रीराम।

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda ये कहानी सुनाया कौन बे,अमर अँधेरे को?😂 myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda मुलाकात हुई क्या बात हुई यह बात किसी से ना कहना यूपी में हो फिर बरसात हुई

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda वोट जनता देगी या संघ myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda Thakur hai jhukega nahi very proud dear yogi adityanath myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda भ्रष्टाचार उत्तर प्रदेश के सरकारी इंटर कॉलेज में 12वीं फेल शिक्षक ,कूट रचित दस्तावेज के आधार पर 10 -12फर्जी नियुक्तियां aajtak ABPNews yuvahallabol INCIndia AdminGhazipur itspravin99 bharatsamchar PMOIndia CMOfficeUP DainikBhaskar JagranNewspaper

बच्चों के इलाज के लिए कोरोना नई गाइडलाइन, Remdesivir पर रोक, स्टेरॉयड से बचने की सलाहGovernment Guidelines for Children: केंद्र सरकार ने 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में कोरोना (Corona) होने पर उनके इलाज के लिए नई गाइडलाइन (Guidelines) जारी कर दी है. इसमें कोरोना के इलाज के लिए बच्चों को रेमडेसिविर (Remdesivir) ना देने के स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं. साथ ही इसमें बेहद जरूरी होने पर ही सीटी स्कैन (HRCT) कराने के लिए कहा गया है..स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health) के अंतर्गत आने वाले स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (DGHS) ने ये गाइडलाइन जारी की हैं...इस बीच लगातार तीसरे दिन चौबीस घंटों में कोरोना के नए केस एक लाख से नीचे रिकॉर्ड किये गए हैं...10 जून को आई रिपोर्ट के मुताबिक 24 घंटों में 94052 नये केस दर्ज किये गए, जबकि इस दौरान 6148 लोगों की कोरोना से मौत हो गई... देश में अब तक 23,90,58,360 वैक्सीनेशन (Vaccination) किया जा चुका है...

myogiadityanath myogioffice CMOfficeUP BJP4UP JitinPrasada RSSorg amitmalviya AmitShah JPNadda ऐ परिणाम देखने को मिला मुझे भष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने पर शासन प्रशासन में कुछ भृष्ट प्रवृति रखने वाले नेता अधिकारियों की जुगलबंदी से झुठे मुकदमे झेलने पड़ रहे और सरकार में बैठे मुखिया कह रहे हैं सब ठीक है PMOIndia suryapsingh_IAS RakeshTikaitBKU

अख्तर ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के विजेता की भविष्यवाणी की, बाबर को कोहली से बेहतर बतायारावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर शोएब अख्तर के नाम विश्व क्रिकेट में सबसे तेज गेंद करने का रिकॉर्ड आज भी (161.3 किमी/घंटा) दर्ज है। उन्होंने अपने करियर में काबिलियत के दम पर कई रिकॉर्ड बनाएं और तोड़े भी।

दांव-पेच: आरएसएस की धारा के उलट योगी-मोदी की मुलाकात, इस 'जतन' का क्या मकसद?दांव-पेच: आरएसएस की धारा के उलट योगी-मोदी की मुलाकात, इस 'जतन' का क्या मकसद? YogiAdityanath PMModi RSS JitinPrasad UttarPradesh

राजनीति का घमासान: मैनपुरी में मुलायम की भतीजी ने पुनर्मतगणना के लिए दायर की याचिकाराजनीति का घमासान: मैनपुरी में मुलायम की भतीजी ने पुनर्मतगणना के लिए दायर की याचिका UttarPradesh Mainpuri MulayamSinghYadav PanchayatChunav

वारदात: 'मौत की मॉकड्रिल' करने वाले Agra के पारस अस्पताल की देखें पूरी कहानीआगरा का वो श्री पारस अस्पताल जहां कोरोना की दूसरी लहर के दौरान इस दुनिया की सबसे खौफ़नाक एक्सरसाइज़- मौत की मॉकड्रिल की गई. आप सोच रहे होंगे कि भला लोगों को ज़िंदगी देने वाले एक अस्पताल में मौत की मॉकड्रिल कैसे हुई और क्यों? और सबसे अहम ये कि इसका असर क्या हुआ? तो पूरी कहानी समझने के लिए देखें वारदात का ये एपिसोड. ShamsTahirKhan VIRUS Suplair KA kuch NAHI Dakhna hai ShamsTahirKhan मा. मोदी जी एक मंझे हुए राजनेता हैं, वह खूद के लिए ऐसी स्थिति कभी नहीं आने देंगे जैसी स्थिति उन्होंने खूद आडवाणी जी के लिए उतपन्न कर दी थी, और आज आडवाणी जी मार्ग दर्शक मंडल में हैं, योगी जी के पर तो जरुर कतरे जाएंगे 😀 🤣 👍 उत्तरप्रदेशमेंखदेड़ाहोवै