Exclusiveınterview, Cowın, Covid Vaccination, Rs Sharma, Cowin Plateform, Covin App, National Health Authority Ceo, Corona Vaccination, कोविन प्लेटफार्म

Exclusiveınterview, Cowın

Exclusive Interview: कोविन बड़ी-से-बड़ी संख्या को संभालने में सक्षम, डाटा पूरी तरह से सुरक्षित : आरएस शर्मा

#ExclusiveInterview : कोविन बड़ी-से-बड़ी संख्या को संभालने में सक्षम, डाटा पूरी तरह से सुरक्षित : आरएस शर्मा @rssharma3 #COWIN

22-06-2021 21:34:00

ExclusiveInterview : कोविन बड़ी-से-बड़ी संख्या को संभालने में सक्षम, डाटा पूरी तरह से सुरक्षित : आरएस शर्मा rssharma3 COWIN

भारत के टीकाकरण अभियान की सफलता की एक मुख्य कड़ी कोविन प्लेटफार्म है। हर टीके का डाटा इस पर मौजूद है। लोगों को एसएमएस भेजकर इसकी पुष्टि करने से लेकर डिजिटल सर्टिफिकेट जारी करने के साथ यह आगे पड़नेवाले टीके के नाम और तारीख की याद दिलाता है।

 -कोविन प्लेटफार्म एक दिन में टीका लेने वाले 86 लाख से अधिक लोगों की जानकारी अपलोड करने और उन्हें सर्टिफिकेट जारी करने में सफल रहा। यह एक दिन में अधिकतम कितने लोगों का डाटा संभाल सकता है?-जितना भी होगा, सब संभाल सकता है। उसकी चिंता नहीं कीजिए। दो-तीन करोड़.. जितना भी टीका लगे, कोई समस्या नहीं है।

हजारों लोगों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने वाला गुरुद्वारा अब सरकार के बयान पर हैरान ऑक्सीजन की कमी से मरने वाले लोग आख़िर 'काल्पनिक पात्र' कैसे बन गए? - BBC News हिंदी भारत को शामिल करने जा रहा रूस, जयशंकर की कोशिश हुई कामयाब? - BBC News हिंदी

-देश में बड़ी संख्या ऐसे लोगों की है, जो कोविन पर रजिस्ट्रेशन करने या टीकाकरण केंद्र ढूंढने में सक्षम नहीं हैं? -ऐसे लोगों की सुविधा के लिए कई कदम उठाए गए हैं। काल सेंटर शुरू किया गया है, जिस पर लोग फोन कर टीकाकरण केंद्र से लेकर टीके से संबंधित सभी जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसके साथ ही कोविन प्लेटफार्म 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। हमारी कोशिश है कि टीकाकरण के लिए जनता को किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं हो। कोविन दुनिया में एकमात्र ऐसा प्लेटफार्म बन गया है, जिस पर पांच महीने में 30 करोड़ डाटा अपलोड किया गया हो।

यह भी पढ़ें-टीका लगने के बाद भी कई लोगों को मैसेज नहीं आया है और कोविन प्लेटफार्म पर नोट वैक्सीनेटेड बता रहा है?-टीका लगाते समय ही यह देखना चाहिए। यदि टीका लगाते समय कोविन प्लेटफार्म पर डिटेल्स नहीं डाले गए तो इसमें कोविन की गलती क्या है।-गलती चाहे जिसकी भी हो, उसे ठीक करने की व्यवस्था है या नहीं? headtopics.com

-टीकाकरण में लगे सारे लोगों को इसकी ट्रेनिंग दी गई है। इसके बावजूद यदि कोई नहीं कर रहा है, तो स्थानीय स्तर पर उसकी शिकायत की जानी चाहिए।यह भी पढ़ें-शिकायत करने पर इसे ठीक किया जा सकता है?-क्यों नहीं किया जा सकता है। कोविन पर संबंधित व्यक्ति के टीकाकरण के डिटेल्स दोबारा दिए जा सकते हैं।

-झारखंड जैसे कुछ राज्य कई इलाकों में इंटरनेट कनेक्टिविटी नहीं होने की बात कह कर आफलाइन टीकाकरण की छूट मांग रहे हैं?-80 फीसद लोग पहले रजिस्ट्रेशन कराए बिना ही टीका ले रहे हैं। ऐसा नहीं है कि सब कुछ आनलाइन हो रहा है। लेकिन यह तय है कि जो भी टीकाकरण हो रहा है, उसका डाटा अपलोड करना होगा। देश में कनेक्टिविटी की समस्या नहीं है। केवल 25 हजार ऐसे गांव बचे हैं, जहां कनेक्टिविटी नहीं है। 100 करोड़ तो मोबाइल यूजर्स हैं। जहां तक मैं झारखंड को जानता हूं कि वहां कोई इलाका ऐसा नहीं है, जहां दूर-दूर तक कनेक्टिविटी नहीं हो। हो सकता है कि कुछ इलाकों में नहीं हो। मेरे पास आफलाइन की अनुमति देने की कोई मांग नहीं आई है।

यह भी पढ़ें-टीकाकरण महा अभियान के दौरान भी केवल 2,000 निजी टीकाकरण केंद्र ही सक्रिय थे। निजी क्षेत्र बड़े पैमाने पर टीकाकरण क्यों नहीं शुरू कर पा रहा है?-निजी क्षेत्र को खुद वैक्सीन लेकर लगाना है। इसमें हम क्या कर सकते हैं? वे जो भी वैक्सीन लगाएंगे उसका डाटा कोविन पर आता रहेगा।

-कोविन के अलावा भी दूसरे एप से रजिस्ट्रेशन की सुविधा की बात आपने कही थी। कहां पहुंचा मामला?यह भी पढ़ें-रजिस्ट्रेशन तो कोविन पर ही होगा, लेकिन वैक्सीन की उपलब्धता के बारे में जानकारी के लिए आप पेटीएम, टेलीग्राम, मेकमाईट्रिप जैसे कई एप का सहारा ले सकते हैं। आप देख लें कि कहां क्या उपलब्ध है। फिर कोविन पर रजिस्टर कीजिए या फिर फोन से। headtopics.com

कल किसान फिर करेंगे दिल्ली कूच, चलाएँगे अपनी संसद - BBC Hindi अमरिंदर सिंह पर उनके ही मंत्री ने बोला हमला - BBC Hindi दिल्ली सरकार ने जंतर मंतर पर किसानों को धरना प्रदर्शन की इजाजत दी

-कोविन प्लेटफार्म पर डाटा कितना सुरक्षित है?-पूरी तरह से सुरक्षित है। कुछ दावे किए गए थे, लेकिन हमने जांच कराई तो उसमें कोई भी सच्चाई नहीं मिली।यह भी पढ़ें-दुनिया के कई देशों को कोविन एप देने की कोशिश शुरू की गई है? और पढो: Dainik jagran »

दूल्हे को लेकर भागी घोड़ी, देखें VIDEO: तोरण भरने की रस्म में बच्चे ने फोड़ा पटाखा, बिदकी घोड़ी मंडप से भागी, बारातियों ने कार-बाइक से पीछा कर 4 किलोमीटर दूर पकड़ा

एक दूल्हे को लेकर घोड़ी के भागने का वीडियो बुधवार को वायरल हुआ। यह वीडियो तीन दिन पुराना बताया जा रहा है। पटाखा चलते ही बिदकी घोड़ी दूल्हे को लेकर भागी तो बारातियों ने 4 किलोमीटर तक पीछा करने के बाद उसे पकड़ा। इस हादसे के बाद दूल्हे की तबीयत खराब हो गई। | Preparations were being made to fill the pylon, the child left the firecracker; Frightened by the blast, the mare ran away from the groom in front of the in-laws' house; chased 4 kms and rescued the groom

rssharma3 आधार डाटा to Cowin डाटा rssharma3 अब इसका डाटा चोरी होगा पक्का जैसे आधार सबसे सुरक्षित था अब cowin है

कोविड-19 को दोबारा ज़ोर पकड़ने से रोकने के स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत बनाएं देश: डब्ल्यूएचओविश्व स्वास्थ्य संगठन ने कई देशों द्वारा कोरोना वायरस के चिंताजनक स्वरूप के संक्रमण की पुष्टि के बाद दक्षिण-पूर्व एशिया के अपने सदस्यों से कोविड-19 को दोबारा फैलने से रोकने के लिए जन स्वास्थ्य सुविधाओं को मज़बूत बनाने, सामाजिक दूरी के नियमों के कड़ाई से पालन और टीकाकरण तेज़ करने की अपील की है.

जम्मू कश्मीर: पीडीपी नेता नईम अख़्तर को नज़रबंदी से रिहा किया गयापीडीपी नेता नईम अख़्तर को नज़रबंदी से रिहा करने का यह क़दम 24 जून को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में होने वाली सर्वदलीय बैठक से पहले उठाया गया है, जिसमें शामिल होने को लेकर पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस सहित मुख्यधारा के क्षेत्रीय दलों के भीतर विचार-विमर्श चल रहा है. यह बैठक विधानसभा चुनाव कराने सहित राजनीतिक प्रक्रियाओं को मजबूत करने की केंद्र की पहल के तहत बुलाई गई है.

इस वर्ल्‍ड म्‍यूजिक डे पर दुनिया को कुछ इस तरह दें एक गाने से खुशीजब हम पूरी तरह से आइसोलेटेड रहे, गानों ने हमारा बहुत साथ दिया। गानों ने मुश्‍किल समय में खुशियां दीं और दोस्‍तों, परिवार के लिए प्‍यार का काम किया। गाना सबसे गहरे इमोशन्‍स को जाहिर करता है और आत्‍मा तक जोड़ता है।

'मोगैंबो' को भी हुआ था एक लड़की से प्यार, तोड़ दी थी धर्म की दीवारदोस्तों आज बात होगी अमरीश पुरी साहब की..आज उनका जन्मदिन है...रौबदार आवाज़ और लंबे-चौड़े कद के मालिक अमरीश पुरी ने हिंदी TOP 5 MODI of the WEEK | Preparation of third wave Ya Rating Ka Khal ?

सांसद नवनीत कौर राणा को सुप्रीम कोर्ट से राहतनई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने अमरावती से लोकसभा सदस्य नवनीत कौर राणा का जाति प्रमाण-पत्र निरस्त करने के बंबई हाईकोर्ट के फैसले पर मंगलवार को रोक लगा दी। राणा महाराष्ट्र में अमरावती की सुरक्षित संसदीय सीट से निर्दलीय सांसद हैं।

बिहार : चिराग ने लिखा दर्द भरा पत्र, नीतीश से लेकर चाचा पशुपति पारस को ठहराया कसूरवारबिहार : चिराग ने जारी किया दर्द भरा पत्र, नीतीश से लेकर चाचा पशुपति पारस को ठहराया कसूरवार Bihar LJP Letter iChiragPaswan NitishKumar PashupatiKumarParas BJP4India iChiragPaswan NitishKumar BJP4India पिता का न होना के बाद अपने लोग भी औकात दिखाते है ये इस का सबसे सटीक उदहारण है