Coronavirus

Coronavirus

Exclusive: कोरोना ने कैसे इंसान के आखिरी सफर को भी बनाया मुश्किल, देखें ग्राउंड रियलिटी

महामारी से मौतों के कारण अस्पतालों के शवगृह पर बढ़ रहा दबाव रिपोर्ट- @mausamii2u | #coronavirus

21-05-2020 13:06:00

महामारी से मौतों के कारण अस्पतालों के शवगृह पर बढ़ रहा दबाव रिपोर्ट- mausamii2u | coronavirus

मोर्चरी में आए शवों की रिश्तेदारों से पहचान कराना भी स्टाफ के लिए बड़ी दिक्कत वाला है. बहुत केसों में रिश्तेदार पहचान करने के लिए ही नहीं आ रहे. वे पहले ये जानना चाहते हैं कि मृतक की रिपोर्ट पॉजिटिव है या नेगेटिव.

जैसे-जैसे महामारी से मौतों का आंकड़ा बढ़ रहा है वैसे अस्पतालों की मोर्चरी पर भी दबाव बढ़ रहा है. एक तरफ शव की सही देखभाल से अंतिम संस्कार तक गरिमा बनाए रखनी है. मुर्दाघरों में बड़ी संख्या में शव पहुंचने से स्थिति पर काबू रख पाना मुश्किल हो रहा है. मुर्दाघरों में शव रखने की भी एक सीमा है. आजतक/इंडिया टुडे ने दिल्ली में Covid-19 मरीजों के इलाज के लिए निर्धारित एक अहम अस्पताल की मोर्चरी में पहुंच कर जमीनी हकीकत जानी. यह पता करने की भी कोशिश की कि इंसान के मरने के बाद कितने दिन तक शव पर वायरस का असर बना रहता है.

अफसर पर चप्पल बरसाती रहीं BJP नेता, मूक दर्शक बनी रही पुलिस BJP नेता सोनाली फोगाट ने अफसर को जड़ा थप्पड़, बरसाई चप्पल, वीडियो वायरल बीजेपी नेता सोनाली फोगाट ने मंडी अधिकारी की चप्पलों से की पिटाई

लगातार काम करने का दबावमोर्चरी का स्टाफ दिन-रात इस अभूतपूर्व स्थिति से निपटने में लगा है. खुद की सुरक्षा के लिए PPE सूट हैं. लेकिन बिना खाने, बिना पानी कई कई घंटे लगातार काम करने का दबाव कम नहीं है. केयरटेकर के नाते शवों की सही देखभाल, रिश्तेदारों और करीबियों से शव की पहचान कराना, उनके गुस्से का सामना करना सब मोर्चरी स्टाफ का डेली रूटीन है. वहीं मोर्चरी में पहचान के लिए आए मृतकों के रिश्तेदारों में भी हर एक के पास सुनाने के लिए अपना दर्द है.

नसीम अहमद की मौत के बाद उनके Covid-19 पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई. उनका बेटा अब्बू को रुखसत करने आया है. हर कदम के साथ बेटे के चेहरे पर बेबसी झलक रही है. ना ही कोई जनाजा है ना ही रस्म अदाएगी, ना ही आखिरी बार गले लगाने की मंजूरी.वो रूआंसे गले से बताता है, “हम रोजा रखे हुए थे. हमने बहुत इंतजार किया. हमारी किसी ने मदद नहीं की. आखिर में बोला गया कि सैंपल खो गया. कल सैंपल लिया और 4 घंटे में रिपोर्ट दे दी कि यह पॉजिटिव है. ना कोई करोना के लक्षण थे. उन्होंने कारण यही बताया कि सांस की दिक्कत से मौत हो गई.”

नसीम अहमद को 11 मई को सांस लेने में दिक्कत होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया. कुछ ही घंटों में उन्होंने दम तोड़ दिया. Covid-19 का शक होने की वजह सैंपल जांच के लिए भेजा गया. 5 दिन बाद पता चला कि वो कोरोना वायरस से संक्रमित थे.कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

नसीम अहमद के बेटे ने कहा, “मुस्लिम धर्म में तफसील करना बहुत जरूरी है और हमें लग रहा था कि कहीं बॉडी ना खराब हो जाए. इसलिए हमने सोचा था कि जो Covid-19 मृतकों के लिए जो गाइडलाइंस (प्रोटोकॉल) हैं उसके हिसाब से ही रुखसती कर देंगे. टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आए या नेगेटिव वो बाद की बात है.”

सामाजिक तौर पर कोरोना को लेकर इतनी दहशत है कि कोई भी नहीं चाहता कि अपने किसी की मौत से इस महामारी का नाम जुड़े. इसलिए मुर्दाघरों में शव का इंतजार करने वाले लोग कभी इस स्थिति के लिए किस्मत को कोसते हैं तो कभी अस्पतालों की बेहाली को.गाइडलाइंस का पालनफॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के हेड की पोस्ट वाले एक अधिकारी कहते हैं, “मृतक के रिश्तेदारों को हम बॉडी देना चाहते हैं कि वो सीधे अंतिम संस्कार कर दें. इसके लिए गाइडलाइंस का पालन करें. छूने से लेकर बॉडी के संपर्क में किसी तरह भी नहीं आना है. कई लोग इस पर अड़ जाते हैं कि हमें तो पहले रिपोर्ट ही चाहिए, उसी के बाद बॉडी को लेंगे. सोशल स्टिग्मा जुड़ गया है. जिसकी वजह से उन्हें ये दिक्कत होती है कि अगर रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो पड़ोसी क्या बोलेंगे. बहुत बड़ा इशू चल रहा है कि लोग नेगेटिव बॉडी ही लेना चाहते हैं. उसकी वजह से भी हमें कई बार फोन करना पड़ता है, बुलाना पड़ता है रिश्तेदार को.”

आइए अब एक बूढ़ी मां के मन की व्यथा को जानने की कोशिश करते हैं. इस मां का 48 साल का बेटा देवेंद्र दुनिया को अलविदा कह गया. यही मातम कम नहीं है कि बेटे के डेथ सर्टिफिकेट पर कोरोना पॉजिटिव का ठप्पा और लग गया. ये मां दूसरे रिश्तेदारों से बात करते वक्त ये मानने को तैयार नहीं कि उसका बेटा कोरोना वायरस से संक्रमित था. उसका यही कहना है कि बेटे को डायबिटीज थी और उसे सिर्फ जुकाम हुआ था.

आतंक पर मौत बनकर बरस रहे सुरक्षाबल, 4 दिन में 6 आतंकी ढेर अमेरिका ने बना ली कोरोना वायरस की वैक्सीन! ट्रंप बोले- 2 मिलियन डोज तैयार Video: TikTok स्टार और BJP नेता सोनाली फोगाट की दबंगई, अफसर पर बरसाई चप्पल

ये मां कहती है, “मेरा बेटा अकेला कमाने वाला था. वही हमारा सहारा था, कैसे तबीयत बिगड़ गई. उसको सिर्फ जुकाम हुआ था और कुछ नहीं हुआ था.”ये एक पेचीदा स्थिति है. अक्सर मोर्चरी के स्टाफ को रिश्तेदारों के गुस्से का सामना करना पड़ता है. इसके अलावा शव की गरिमा के साथ सही देखभाल का दबाव अलग. साथ ही शवों के आने का सिलसिला कहीं थमने का नाम नहीं ले रहा.

सीनियर टेक्नीशियन राघव (बदला हुआ नाम) का कहना है, “हमारा काम है हम कर रहे हैं. हमारी ड्यूटी बहुत कठिन हो गई है लेकिन हम घबरा नहीं रहे. हर किसी को तसल्ली रहे, इसलिए समय से हर काम कर रहे हैं.”मोर्चरी में संक्रमण का खतरा रेड जोन होने की वजह से का जोखिम भी अधिक रहता है. सरकार की ओर से Covid-19 पॉजिटिव बॉडी की हैंडलिंग और पर्यावरण में संक्रमण रोकने के लिए साफ गाइडलाइंस हैं. बॉडी को खास शीट से लपेट कर बैग्स में सील किया जाएगा. अंतिम संस्कार के वक्त मोर्चरी के दो अटैंडेंट मौजूद रहेंगे. ऐसे में स्टाफ किस मानसिक और शारीरिक दबाव से गुजर रहा होगा, समझा जा सकता है.

एक नर्सिंग स्टाफ ने इन शब्दों में अपनी परेशानी बताई- “कोई टाइम नहीं है ड्यूटी का... न खाने का, न नहाने का, न जाने का...घरवाली चिंतित है...बार-बार फोन करती है- कहां हो, कब छुट्टी होगी? कुछ पता नहीं है कब आएंगे, कब जाएंगे?” ये जान लेने के बाद ही वो तय करते हैं कि मोर्चरी आना है या नहीं. उन्हें डर है कि कहीं वो यहां आकर खुद ही संक्रमित ना हो जाएं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...मोर्चरी में एक शव राजरानी का भी है. उनके परिवार की खुशियों को कोरोना वायरस ने ऐसा डसा कि पहले बेटा दुनिया चला गया, संक्रमित पति का अस्पताल में इलाज चल रहा है. मोर्चरी में राजरानी के शव को अंतिम संस्कार का इंतजार है. राजरानी के रिश्तेदारों को ढ़ूढने में अधिकारियों और पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी.

दिल्ली पुलिस के जांच अधिकारी (IO) ने बताया, “दो दिन लगे पता लगाने में...थोड़ी इंफॉर्मेशन मिली थी... उनके जो ससुर हैं, देवर हैं, उनको संपर्क किया. फिर पहचान कराने के लिए लेकर आए.’’सीनियर टेक्नीशियन ने बताया, “मैंने कॉल किया, IO को कॉल किया, अब घरवालों के पहचान करने के बाद डेड बॉडी हैंड ओवर कर रहे हैं.”

वहीं राजरानी के रिश्तेदार ने कहा, “हमें सिर्फ इतना पता चला था कि हमारी भाभी सीरियस है..अब जानकारी मिली तो आए.”रिश्तेदारों को ट्रैक ओर ट्रेस करने में जहां वक्त लगता है, वहीं टेस्ट का रिजल्ट आने का भी इंतजार करना पड़ता है. ऐसे में मोर्चरी में शवों का बैकलॉग बढ़ता जा रहा है.

टिकटॉक स्टार और भाजपा नेत्री सोनाली फोगाट ने मार्केट कमेटी के सेक्रेटरी को थप्पड़ और चप्पल से पीटा, वीडियो हुआ वायरल एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ा रही थी महिला टीचर, उठाई 1 करोड़ सैलरी, जांच शुरू गूगल ने कहा- ट्रम्प और बिडेन के कैंपेन को हैक करने की कोशिश, ईमेल से जानकारी चुराने की फिराक में चीन और ईरान

मोर्चरी में दो कोल्ड स्टोरेज हैं और कुल 45 शवों को रखने की क्षमता है, हर दिन नए शव आने से मोर्चरी में अब करीब हाउसफुल सी स्थिति है.एक समय में 45 शवटेक्नीशियन ने बताया, “यहां सामान्य दिनों में खाली ही रहता था. ज्यादा से ज्यादा 8 से 10 शव ही होते थे. अब ये पूरी तरह भरा है. हमें बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. अगर शव यहां से साथ-साथ जाते नहीं रहेंगे तो हमें नए आने वाले शवों के लिए कोई और जगह तलाश करनी पड़ेगी. हम यहा ज्यादा से ज्यादा एक वक्त में 45 शव ही रख सकते हैं.”

यहां एक अहम सवाल उठता है कि इंसान के मरने के बाद उसके शव पर कब तक वायरस का असर रहता है. मोर्चरी से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी ने इस पर कहा, ‘’ऐसी भी कोई खास स्टडी ज्यादा नहीं हुई है कि कब तक वायरस डेड बाडी में पॉजिटिव रहेगा. हमने चार-पांच दिन बाद एक बॉडी पर टेस्ट किया और वह पॉजिटिव आया. 5 दिन का ऑन रिकॉर्ड रिजल्ट मेरे पास है कि वायरस बॉडी में रहता है. ये नहीं कह सकते हैं वायरस मरने के बाद मर जाता है. हम इस पर आगे भी टेस्ट करेंगे ताकि स्थिति साफ हो.”

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें और पढो: आज तक »

mausamii2u The reality is depressive and disheartening mausamii2u मै मजदूर हूं मुझसे आपका क्या वास्ता,मेरे नसीब में है तपता हुआ लंबा रास्ता,मत भूलो मै भी एक इंसान हूं,में भी हिन्दुस्तान की पहचान हूं,हम तो पैदाइश आत्म निर्भर है ओर कितना बनाओगे,हम से खेल कर तुम कब तक अपनी कुर्सी बचाओगे,फिर एक दिन चुनाव की लहर छाएगी ओर उस दिन तुमको हमारी याद आयेगी

mausamii2u जब तक तुम जैसे गोदी मीडिया सरकार से सवाल नहीं करोगे।तब तक ये निकम्मी सरकार कुर्सी पर बैठे बैठे सोती रहेगी।ये लोग आवारा हो चुके है। एक बार हिम्मत करके अपने पेशे के साथ न्याय करो और सरकार से नीचे दिए सवाल करो।यकीन दिलाता हूं अपनी अक्षमता देखकर सरकार शर्म से पानी पानी हो जाएगी! mausamii2u Beware of coronavirus .....Its Hiring. IndiaFightsCOVID19 Covid_19india

मधुमक्खियों में भी इंसानों की तरह महामारी का डर, यहां भी अमेरिका का बुरा हालकोरोना के कोहराम से पूरी दुनिया परेशान है, इस रोकने के लिए दुनिया में लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे उपायों को अपनाया क्या डर से जीत हासिल हो जायेगी कुदरत किसी भी इंसान से ज्यादा शक्तिशाली हैं, सो वो हर गुनाह गार को ब्याज समेत सजा सुनायेगी भले ही कोई जेड प्लस की सिक्युरिटी लेकर हजार तालों में भी बंद हो जाये तो भी उसकी शामत आयेगी मुझे इंतजार उस दिन का है जब लोगों को अपने गुनाहों की खुद याद आयेगी

Covid 19 के संक्रमितों के इलाज की बंधी उम्‍मीद, शुरुआती परीक्षण में सफल रही कोरोना वैक्सीनकोरोना वैक्सीन विकसित करने से जुड़ी एक जैव प्रौद्योगिकी कंपनी मॉडर्ना ने दावा किया है कि लोगों में टीके के शुरुआती परीक्षण के परिणाम बेहद आशाजनक रहे हैं। Good news दैनिक_जागरण_झूठा_है You already know why. Bjp हर तरह से देश का साथ दे रही है।

उत्तर प्रदेश के गाज़ियाबाद में घर जाने के लिए फिर उमड़ी प्रवासी श्रमिकों की भीड़वीडियो: दिल्ली से लगे गाज़ियाबाद के रामलीला मैदान में सोमवार को अचानक घर जाने की उम्मीद में प्रवासी श्रमिकों का हुजूम उमड़ आया था, जिसे संभालने में प्रशासन को काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. मंगलवार को गाज़ियाबाद प्रशासन ने मैदान में मज़दूरों को जाने से रोक दिया. द वायर की डिप्टी एडिटर संगीता बरुआ पिशारोती और गौरव भटनागर की इन श्रमिकों से बातचीत. sangbarooahpish gaurav5173

भारत में 1 लाख के पार कैसे पहुंचे कोरोना के मरीज, ग्राफ की मदद से समझिएभारत में कोरोना वायरस के मरीज एक लाख से ज्यादा हो गये हैं. जबकि तीन हजार से ज्यादा मौत हो चुकी हैं. ये आंकड़ा ऐसे वक्त में बढ़ा है जब देश में लॉकडाउन 4.0 चल रहा है और ज्यादातर आर्थिक गतिविधियों को छूट भी दे दी गई है. ऐसे में जब जनता लंबे समय बाद घरों से बाहर निकल रही है तो कोरोना का बढ़ता संक्रमण भी चिंता का विषय बना हुआ है. बहरहाल, वैक्सीन का सबको इंतजार है, लेकिन भारत में जहां कोरोना मरीज 1 लाख से ज्यादा हो गये हैं वहीं अब जून को लेकर भी चिंता है. इस वीडियो में हम आपको अलग-अलग ग्राफ की मदद से समझाने की कोशिश करेंगे कि भारत में कोरोना के मामलों में किस रफ्तार से इजाफा हुआ. देखिए वीडियो. ये बताओ फूलों की वर्षा कब होगी? हिंदुस्तान के लोग आने वाले टाइम में योगी और फ़क़ीर जैसे लोगो को कभी वोट नहीं देंगे क्यूंकि इन दोनों में रिस्पांसिबिलिटी नाम की कोई चीज होती ही नहीं ये बताओ थाली,,,ताली,,,घंटी,,पीपिरी,ढोल कब बजाना है ?!

10वीं-12वीं की परीक्षाओं के लिए लॉकडाउन के नियमों में छूट, सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी10वीं-12वीं की परीक्षाओं के लिए लॉकडाउन के नियमों में छूट, सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी Coronavirus Lockdown Covid19 CBSEBoardExams2020 cbseboardexam2020 AmitShah cbseindia29 AmitShah cbseindia29 AmitShah tiktokbanindia cbseindia29 AmitShah Ramanrajput287 , JatinSa02245318 , o_surjeet ye dekho dosto or smajho. Ramanrajput287 ,JatinSa02245318 , o_surjeet ye dekho dosto or samjho. 😓

रामजन्मभूमि परिसर में समतलीकरण के दौरान मिले मंदिर के अवशेष और देवी-देवताओं की खंडित मूर्तियांखुदाई में मंदिर के अवशेष प्राप्त हुए हैं। रामजन्मभूमि परिसर के पुराने गर्भगृह स्थल के समतलीकरण का कार्य श्रीरामजन्मभूमि Sad to see this n still its happening in many states Jay Shree ram 🙏 अब संविधान खतरे में आ जाएगा...

राहुल ने फिर लॉकडाउन को बताया फेल, कहा- राज्यों को उनके हाल पर छोड़ रहा केंद्र मोदी सरकार पर सिब्बल का वार, कहा- आत्मनिर्भर भारत अभियान एक और जुमला जब सब कुछ रामभरोसे ही छोड़ना था, तो तालाबंदी कर अर्थव्यवस्था की रीढ़ क्यों तोड़ी...? हथिनी की मौत पर राहुल गांधी से मेनका का सवाल, पूछा- क्यों नहीं की कार्रवाई गर्भवती हथिनी की मौत से दुखी IPS डी रूपा, दोषियों को सजा की मांग शामली: एक को गिरफ्तार करने गई पुलिस ने 35 मुस्लिम घरों में तोड़फोड़ व मारपीट की कोरोना वायरस: दुनिया भर में 65.6 लाख से ज़्यादा संक्रमित, 3.87 लाख लोगों की मौत - BBC Hindi रेलमंत्री पीयूष गोयल ने आरपीएफ जवान को पुरस्कृत करने का ऐलान किया, भोपाल स्टेशन पर भूखी बच्ची को चलती ट्रेन में पहुंचाया था दूध दिल्ली दंगा: अमानतुल्लाह खान बोले- ताहिर हुसैन को मिली मुसलमान होने की सजा 'सच बोलने से डरते हैं लोग', उद्योगपति राजीव बजाज ने लॉकडाउन पर कही ये 5 बातें पुरी के जगन्नाथ मंदिर में देवस्नान के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, पुजारियों ने मास्क भी नहीं पहना - देखें VIDEO