Coronavirusvaccine, Coronavirus, Covid_19, Coronavirus Vaccine, Corona Vaccine, Vaccine, Covıd-19 Vaccine, Covıd-19, Coronavirus Vaccine Availability To Public, Coronavirus, Coronavirus Vaccine Updates

Coronavirusvaccine, Coronavirus

Coronavirus Vaccine बनाने से ज्यादा मुश्किल है उसे सभी लोगों तक पहुंचाना, जानें- क्या है वजह

#CoronavirusVaccine बनाने से ज्यादा मुश्किल है उसे सभी लोगों तक पहुंचाना, जानें- क्या है वजह #coronavirus #Covid_19

22-05-2020 13:58:00

CoronavirusVaccine बनाने से ज्यादा मुश्किल है उसे सभी लोगों तक पहुंचाना, जानें- क्या है वजह coronavirus Covid_19

चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस ( COVID-19 )का कहर जारी है। ऐसे में पूरे विश्व की निगाहें इसके टीके ( Coronavirus Vaccine ) पर टिकी हैं।

चीन के वुहान शहर से दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस (COVID-19)का कहर जारी है। वायरस के प्रकोप का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसके आगे अमेरिका जैसे महाशक्तिशाली देश जूझ रहे हैं। ऐसे में पूरे विश्व की निगाहें इसके टीके (Coronavirus Vaccine) पर टिकी हैं। कौन नहीं चाहता कि इसका टीका जल्द से जल्द आए और लोगों की जिंदगी समान्य हो जाए, लेकिन यह इतना जल्दी होता नहीं दिख रहा है।

मोदी सरकार में मध्यम वर्ग क्या ताली और थाली ही बजाएगा? चीन को घेरने के लिए बनाया चक्रव्यूह! किसी भी चाल को कामयाब नहीं होने देगा भारत सोनिया गांधी की डिमांड- प्रवासी मजदूरों के लिए खजाना खोले मोदी सरकार

कोरोना की वैक्सीन बनाने का प्रयास दुनिया के कई देशों में जारी है। इन सब के बीच यह सवाल सबके जेहन में कौंध रहा है कि वैक्सीन बनने में कितना समय लगेगा? क्या यह बन भी पाएगा? इससे भी बड़ा सवाल यह है कि अगर वैक्सीन बन गया, तो यह सभी के लिए कितनी जल्दी उपलब्ध होगा? इस सवाल का जवाब है कि जितना मुश्किल टीका बनाना है, उससे भी ज्यादा मुश्किल इसे लोगों तक पहुंचाना होगा। इस राह में कई रोड़े हैं, जिनसे पार पाना बहुत कठिन है। आइये- जानते हैं कौन सी हैं वो चुनौतियां।

यह भी पढ़ेंऐसा वैक्सीन जो वायरस के खिलाफ काम करेविश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने हाल ही में जानकारी दी थी कि दुनियाभर में कुल 8 वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा है। इसके अलावा पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की 110 अन्य वैक्सीन का अलग-अलग स्टेज पर ट्रायल चल रहा है। न्यूयॉर्क टाइम्स (NYT) की एक रिपोर्ट के अनुसार सार्वजनिक स्वास्थ्य, वैश्विक अर्थव्यवस्था और राजनीति पर व्यापक प्रभाव के साथ मेडिकल रिसर्च में इससे पहले किसी वैक्सीन को लेकर इतनी तेजी नहीं देखी गई है। दवा निर्माता और शोधकर्ता बड़ी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, लेकिन वैक्सीन के प्रभावी साबित होने के अलावा विश्वभर में अरबों लोगों तक इसे पहुंचाने को लेकर अनिश्चितता बरकरार है। सवाल तो यह भी है कि 10 साल के काम को 10 महीने में पूरा करने की कोशिश कहीं सुरक्षा से समझौता साबित न हो जाए। महामारी से निपटने के लिए डब्लूएचओ (WHO) ने इसी वजह से सुरक्षित और प्रभावी टीकों के मानक तय किए हैं। कोरोना वायरस को हराने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि एक ऐसी वैक्सीन इजात हो जो वायरस के खिलाफ काम करे। ऐसे ही सवालों के कारण डब्लूएचओ ने कहा था कि ये वायरस एचआइवी (HIV) की तरह, हमेशा के लिए इंसानी दुनिया का हिस्सा बनकर रह सकता है। हालांकि, दोनों बीमारियों में काफी अंतर है। 

यह भी पढ़ेंक्या वैक्सीन सभी को मिल जाएगी?यदि आज एक प्रभावी और सुरक्षित कोरोना वायरस वैक्सीन उपलब्ध हो जाए, तो क्या यह महामारी को रोकने के लिए पर्याप्त होगी? यह इस बात पर निर्भर करेगा कि यह हर उस व्यक्ति तक पहुंच पाएगा या नहीं, जिसे इसकी आवश्यकता है। न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार यह वैक्सीन महामारी को तब तक रोकने में असफल होगा, जब तक यह विश्व के हर देश तक पहुंच न जाए। फिलहाल ऐसा नहीं लगता कि यह वैक्सीन हर किसी के लिए आसानी से उपलब्ध हो सकेगी। 2009 में सामने आया स्वाइन फ्लू (H1N1) लगभग पूरे विश्व में फैला था, लेकिन इसकी वैक्सीन केवल अमीर देशों तक सीमित रह गयी। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार टीका बनाने वाले देश कुछ ऐसी नीति लागू करते हैं, जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी व्यापक उपलब्धता सुनिश्चित करना मुश्किल हो जाता है। किसी भी देश के लिए पहली प्राथमिकता अपने नागरिकों की रक्षा करना है, लेकिन जब पूरी दुनिया ऐसी संक्रामक बीमारी का सामना करे तो देशों को विश्वस्तर पर सोचना चाहिए। सौभाग्य से स्वाइन फ्लू महामारी, सामान्य फ्लू के मौसम की तुलना में बहुत अधिक गंभीर नहीं थी। अगर कोरोना की वैक्सीन के साथ कुछ ऐसा हुआ तो यह महामारी फैलती रहेगी और लोगों को मारती रहेगी। 

यह भी पढ़ेंकम आय वाले देशों के साथ सबसे बड़ी चुनौतीवैक्सीन बनने के बाद शुरुआती दौर में सबसे बड़ी चुनौती यह होगी कि सीमित उपलब्ध खुराक को कैसे वितरित किया जाए। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार सबसे बड़ी चुनौती कम आय वाले देशों के साथ होगी, जहां स्वास्थ्य सुविधाओं का अभाव है। ये देश वैक्सीन के लिए रकम अदा करने में भी असमर्थ हो सकते हैं। इन देशों की मदद नहीं की गई तो वायरस खत्म नहीं होगा और इसका प्रसार जारी रहेगा। सबसे बड़ी दिक्कत की बात यह है कि भविष्य में किसी आउटब्रेक से अपने नागरिकों को बचाने के लिए समृद्ध देश इसे ज्यादा से ज्यादा खरीदने की कोशिश कर सकते हैं। इसके अलावा ये देश अपनी सीमाओं के भीतर विकसित होने वाले टीकों के निर्यात पर रोक भी लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ेंउत्पादन और वितरण की चुनौतियांएक अन्य चुनौती है कि वैक्सीन सबसे पहले समृद्ध देश ही बनाएंगे। यदि केवल उनकी उत्पादन क्षमताओं पर निर्भर रहे तो वैश्विक आपूर्ति की मांग को कभी पूरा नहीं किया जा सकता। ऐसे में वैक्सीन बनाने की क्षमता में विस्तार करने की आवश्यकता होगी। इसमें टेक्नॉलॉजी ट्रांसफर से हमें मदद मिल सकती है। दुनियाभर के निर्माताओं को टेक्नॉलॉजी ट्रांसफर करने से ही वैश्विक आपूर्ति की मांग पूरी करने में सफलता मिल सकती है। इसके अलावा दुनियाभर को अगले 18 से 24 महीनों के भीतर अरबों खुराक उपलब्ध कराने के लिए वैश्विक उत्पादन के लिए धन मुहैया कराना होगा। डब्लूएचओ वैक्सीन के वितरण को लेकर कार्ययोजना बना रहा है, लेकिन यह लागू कैसे होगा यह अभी तय नहीं है। 

यह भी पढ़ेंक्या कहता है WHO?डब्लूएचओ के अनुसार वैक्सीन बनाने और उसे लोगों तक पहुंचाने में ढाई साल तक का वक्त लग सकता है। पिछले दिनों संगठन ने कहा था कि सुरक्षित और प्रभावी वैक्सीन बनाने में कम से कम 18 महीने का वक्त लग सकता है। इसके बाद इस वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग और इसे दुनिया की 7.8 अरब की आबादी को मुहैया कराने में एक साल और लग जाएगा।

राहुल की मांग- लोगों को कर्ज नहीं, पैसे की जरूरत, 6 महीने तक गरीबों को आर्थिक मदद दे सरकार करोड़ों रुपए दान करने के बाद अक्षय कुमार दिहाड़ी मजदूरों का सहारा बने, खातों में भेजे 45 लाख रुपए बिहार: क्वारंटाइन सेंटर में 'पेटूराम' 40 रोटी, 80 लिट्टी से भी नहीं भरता पेट, लोग कर रहे त्राहिमाम

वैक्सीन को लेकर ताजा अपडेटवैक्सीन बनाने को लेकर दुनियाभर में शोधकर्ताओं ने दिन-रात एक कर दिया है। पिछले दिनों वैक्सीन को लेकर दो अपडेट सामने आया। ब्रिटेन में ऑक्फोर्ड द्वारा बनाई जा रही वैक्सीन का कुछ दिन पहले बंदरों पर ट्रायल किया गया था। सकारात्मक परिणाम आने पर इसका ह्यूमन ट्रायल भी शुरू हो गया, लेकिन इसी बीच बंदर कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए। इसने अब चिंता बढ़ा दी है। हालांकि, नतीजे स्पष्ट आने के बाद ही पता चलेगा कि यह वैक्सीन कारगर होगी या नहीं। वहीं, दूसरी ओर 'न्यूयार्क टाइम्स' के अनुसार अमेरिकी कंपनी 'मॉडर्ना' ने दावा किया है कि 8 स्वस्थ लोगों में टीके के शुरुआती परीक्षण के परिणाम बेहद आशाजनक रहे हैं। कंपनी जल्द दूसरे चरण का परिक्षण करने वाली है। इसमें 600 लोग शामिल होंगे। तीसरा चरण जुलाई में शुरू होगा। इसमें 1000 लोग शामिल होंगे। सब कुछ ठीक रहा तो इस साल के अंत तक टीका मिल सकता है।

 Posted By: और पढो: Dainik jagran »

जैसे पोलियो अभियान चलाया जाता था वैसे कोविड-19 का अभियान चलाया जाएगा। जैसे चुनाव के दौरान पर्चीयां पहुंचा दी जाती है घर घर राजनीतिक पार्टियों द्वारा वैसे ही वैक्सीन भी पहुच जाएगी, नियत तो हो सरकार की, या सिर्फ पहले नेता अधिकारी के घरवाले ही लेंगे वैक्सीन

Corona चुनौती के बीच एक और संकट, ऐसे पाएं चक्रवात Amphan से जुड़ी आधिकारिक जानकारीCyclone Amphan Tracker, Super Cyclone Amphan Live Status Tracking: देश के कई राज्यों में चक्रवात अम्फान के कहर से लोग खौफ में है। च्रकवात की गति और मूवमेंट को ट्रैक करने और चक्रवात से जुड़ी आधिकारिक जानकारी कैसे प्राप्त कर सकते हैं, आइए बताते हैं।

Special Story : सिंगापुर में Corona से जनजीवन थमा, टूरिज्म पर सबसे ज्यादा असरकोरोना काल में सिंगापुर में सामाजिक, आर्थिक एवं अन्य स्तर पर क्या बदलाव हुए, लोगों में क्या परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं, इन्हीं मुद्दों पर सुधीर जैन ने वेबदुनिया से खास बातचीत की Singapore Lockdown3

corona patient in india: 24 घंटे में 5,609 नए केस, 132 लोगों की कोविड-19 से मौतIndia News: covid-19 latest news: देश में कोरोना मरीजों की संख्या में तेजी रुक नहीं रही है। कई राज्यों में प्रवासियों के लौटने से वहां कोरोना पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है। महाराष्ट्र ने कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कड़े कदम उठाए हैं। 290 in Jharkhand

कोरोना वायरस LIVE अपडेट्स - यह काफी संतोषजनक है कि देश में अबतक कोरोना संक्रमण के शिकार 42,298 लोग ठीक हो चुके हैं और ऐक्टिव केसों की संख्या 61,149 हैः लव अग्रवालकोरोना वायरस महामारी ( Coronavirus Pandemic) का कहर देश और दुनिया में लगातार जारी है। दुनियाभर में कोरोना ( Coronavirus ) की वजह से अबतक 3.2 लाख से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में कोरोना ( Coronavirus in India) के अबतक 1,06,750 हैं जिनमें से 3,303 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 42,297 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। वहीं, बीते 24 घंटे के दौरान अमेरिका में कोरोना संक्रमण की वजह से 1,500 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस से जुड़े हर अपडेट ( Coronavirus Updates) के लिए बने रहिए हमारे साथ... यह संतोषजनक है कि 42,298 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं। ऐक्टिव केस 61,149 हैंः लव अग्रवाल, जॉइंट सेक्रटरी, स्वास्थ्य मंत्रालय

कोरोना वायरस LIVE अपडेट्स - दिल्लीः लॉकडाउन में राहत मिलने के बाद लाजपत नगर में खुलीं दुकानें, खरीदारी करने पहुंचे लोग।कोरोना वायरस महामारी ( Coronavirus Pandemic) का कहर देश और दुनिया में लगातार जारी है। दुनियाभर में कोरोना ( Coronavirus ) की वजह से अबतक 3.2 लाख से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में कोरोना ( Coronavirus in India) के अबतक 1,06,750 हैं जिनमें से 3,303 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 42,297 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। वहीं, बीते 24 घंटे के दौरान अमेरिका में कोरोना संक्रमण की वजह से 1,500 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस से जुड़े हर अपडेट ( Coronavirus Updates) के लिए बने रहिए हमारे साथ... जा बेटा और आगरा से दूर रह नहीं तो यहां पागलखाना भी है पता तो होगा ही।

कोरोना वायरस LIVE अपडेट्स - पश्चिम बंगाल में आज कोरोना के 142 नए केस सामने आए हैं। राज्य में कुल मामले 3103 हुए। 181 पीड़ितों की कोरोना से मौत, 72 मरीजों की अन्य वजहों से मौत स्वास्थ्य विभाग, पश्चिम बंगालकोरोना वायरस महामारी ( Coronavirus Pandemic) का कहर देश और दुनिया में लगातार जारी है। दुनियाभर में कोरोना ( Coronavirus ) की वजह से अबतक 3.2 लाख से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में कोरोना ( Coronavirus in India) के अबतक 1,06,750 हैं जिनमें से 3,303 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 42,297 लोग ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। वहीं, बीते 24 घंटे के दौरान अमेरिका में कोरोना संक्रमण की वजह से 1,500 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस से जुड़े हर अपडेट ( Coronavirus Updates) के लिए बने रहिए हमारे साथ... सीतामढ़ी के व्यापारी प्रभात_हिसारिया की आज लूटपाट के दौरान गोली मार कर हत्या कर दी गई।कैसे हिम्मत करे कोई बिहार में उधोग धंघा करने की।So please🙏👏 narendramodi AmitShah nityanandraibjp NitishKumar SushilModi ips_gupteshwar helpline_BP

'2021 की शुरुआत में मिलेगा कोविड-19 का टीका', राहुल गांधी से चर्चा में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर का दावा - BBC Hindi युद्ध की तैयारी में चीन! राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सेना को तैयार रहने के दिए आदेश ‘कोरोना आपदा को बदला लेने का अवसर मान रही मोदी सरकार’: छात्र नेताओं ने लगाया आरोप कांग्रेस का आरोप- यूपी में दलितों-पिछड़ों को निशाना बना रही योगी सरकार VIDEO: राहुल बोले- लॉकडाउन हुआ फेल, मोदी सरकार माने नाकामी संकट में प्रवासी मजदूर: भूख-प्यास से बेहाल मां की स्टेशन पर ही मौत, जगाने की कोशिश करता रहा बच्चा ट्विटर ने पहली बार राष्ट्रपति ट्रंप के ट्वीट को झूठा बताया नेपाल के साथ क्या हुआ, लद्दाख में कैसे हालात? देश के सामने सच्चाई बताए सरकार: राहुल गांधी चुनौतियों को अवसर में बदलते योगी: देश के सबसे प्रभावी, ईमानदार और कठोर परिश्रमी मुख्यमंत्री राहुल गांधी ने किया आदित्य ठाकरे को फोन, महाराष्ट्र को लेकर दिए बयान पर दी सफाई बिहारः सुशील मोदी बोले- RJD के 15 साल के शासनकाल में उद्योग-धंधे हो गए बंद