Coronavaccine, Corona Vaccine İn India

Corona Vaccine in India: साल के अंत तक सबको लग जाएगी वैक्सीन, सरकार ने पेश किया पूरा रोडमैप

साल के अंत तक सबको लग जाएगी वैक्सीन, सरकार ने पेश किया पूरा रोडमैप ! #CoronaVaccine

14-05-2021 05:50:00
Coronavaccine, Corona Vaccine İn India, Corona Vaccine İn India Uodate News, Vaccines Will Be Manufactured İn India, Vaccine For İndians

साल के अंत तक सबको लग जाएगी वैक्सीन, सरकार ने पेश किया पूरा रोडमैप ! CoronaVaccine

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने ट्वीट कर कहा कि इस साल अगस्त से दिसंबर तक वैक्सीन की 216 करोड़ डोज तैयार कर ली जाएगी। पाॅल ने कहा कि कोई भी वैक्सीन जिसे FDA या WHO ने अप्रूव किया हो उसे भारत आने की अनुमति होगी।

इस साल के अंत तक भारत में 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग सकती हैं। सरकार ने दिसंबर तक देश में वैक्सीन की उपलब्धता का पूरा रोडमैप पेश किया है। इसके अनुसार जुलाई तक देश में कुल 51.6 करोड़ डोज उपलब्ध होंगी। ध्यान रहे कि इनमें से लगभग 17 करोड़ डोज दी जा चुकी हैं। वहीं, अगस्त से दिसंबर तक 216 करोड़ डोज का उत्पादन होगा। जाहिर ये देश में 18 साल से अधिक उम्र के लगभग 95 करोड़ लोगों को दोनों डोज की वैक्सीन से कहीं अधिक होंगी।

ईरान के नए राष्ट्रपति को इसराइली पीएम ने बताया ‘तेहरान का जल्लाद’ - BBC Hindi 'दलित विरोधी हैं नीतीश कुमार, करेंगे बेनकाब' : चिराग पासवान International Yoga Day 2021: 18,000 फीट की ऊंचाई पर जवानों का योग, PHOTOS देख करेंगे जज्बे को सलाम

खास बात यह है कि इन सभी वैक्सीन डोज का उत्पादन देश के भीतर होगा और इसमें आयात होने वाली वैक्सीन शामिल नहीं हैं।देश में वैक्सीन की कमी को लेकर विपक्ष की ओर से मचाए जा रहे कोहराम के बीच नीति आयोग के सदस्य और वैक्सीन पर गठित टास्क फोर्स के प्रमुख डा. वीके पाल ने कहा कि वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं और आने वाले चंद महीनों में इसके परिणाम दिखने लगेंगे। आलोचनाओं का करार जवाब देते हुए डा. पाल ने कहा, उन्हें यह नहीं भूलना चाहिए कि 17.5 करोड़ से अधिक डोज देने वाला भारत दुनिया का तीसरा बड़ा देश है और यह उपलब्धि देश में बनी वैक्सीन के आधार पर हासिल की गई है। चीन के आंकड़ों पर सवालिया निशान लगाते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका ही केवल ऐसा देश है जिसने अभी तक वैक्सीन की 25 करोड़ डोज लगाई हैं।

यह भी पढ़ेंसच्चाई यह भी है कि अमेरिका ने भारत से एक महीना पहले वैक्सीन देना शुरू कर दिया था। अमेरिका जैसे संपन्न देश को 17 करोड़ डोज देने में 115 दिन लगे, वहीं सीमित संसाधनों के बावजूद भारत ने 114 दिनों में यह कर दिखाया।वैक्सीनेशन में भारत की बड़ी उपलब्धियों को गिनाते हुए डाक्टर वीके पाल ने कहा कि 16 जनवरी से शुरू हुए इस अभियान के तहत हम 45 साल से अधिक उम्र के हर तीसरे व्यक्ति को एक डोज दे चुके हैं। देश में 45 साल से अधिक उम्र के लोगों की संख्या लगभग 34 करोड़ है। इनमें भी 23 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश ऐसे हैं जो राष्ट्रीय औसत 32 फीसद से अधिक लोगों को एक डोज दे चुके हैं। headtopics.com

यह भी पढ़ेंकोरोना से मौत के आंकड़ों को देंखे तो इससे मरने वालों में 88 फीसद इसी आयु वर्ग से आते हैं। इससे कोरोना की दूसरी लहर में इस आयु वर्ग में होने वाली मौतों को रोकने में सफलता मिली है।भारत में वैक्सीन की मौजूदा उपलब्धता और भविष्य के रोडमैप की जानकारी देते हुए डा. पाल ने कहा कि भारत सरकार अभी तक कुल 35.6 करोड़ डोज का आर्डर दे चुकी है, जिनमें 27.6 करोड़ डोज कोविशील्ड और आठ करोड़ डोज कोवैक्सीन की हैं। जुलाई तक इन सारी डोज की आपूर्ति हो जाएगी। इसी तरह राज्यों और निजी क्षेत्र ने भी जुलाई तक के लिए कोविशील्ड और कोवैक्सीन की 16 करोड़ डोज का आर्डर दिया है। दोनों को मिला दें तो जुलाई तक भारत में कुल 51.6 करोड़ डोज उपलब्ध होंगी, जिससे 25 करोड़ लोगों को दोनों डोज लग सकती हैं।

यह भी पढ़ेंअगले हफ्ते से बाजार में मिलने लगेगी स्पुतनिक-वी वैक्सीनडा. पाल के अनुसार, अगस्त के बाद देश में वैक्सीन की किल्लत पूरी तरह दूर हो जाएगी। सिर्फ सीरम इंस्टीट्यूट अगस्त से दिसंबर के बीच हर महीने औसतन 15 करोड़ के हिसाब से कोविशील्ड की 75 करोड़ डोज की आपूर्ति करेगा। इसी दौरान भारत बायोटेक भी प्रति महीने 11 करोड़ डोज के हिसाब से कोवैक्सीन की 55 करोड़ डोज की आपूर्ति करेगी। यानी मौजूदा दोनों वैक्सीन की 130 करोड़ डोज उपलब्ध होंगी। इसके अलावा स्पुतनिक-वी भी भारत में आ चुकी है और अगले हफ्ते से सीमित मात्रा में आयातित डोज बाजार में मिलने लगेंगी। स्पुतनिक-वी भारत में वैक्सीन उत्पादन की तैयारी में है और जुलाई से उसका उत्पादन शुरू भी हो जाएगा। स्पुतनिक-वी की भी अगस्त से दिसंबर के बीच 15.6 करोड़ डोज बनेंगी।

यह भी पढ़ेंपांच नई वैक्सीन ट्रायल के विभिन्न चरणों मेंडा. पाल ने पांच नई वैक्सीन और उनके संभावित उत्पादन के बारे में भी बताया जो ट्रायल के विभिन्न चरणों में हैं। इनमें बायोलाजिकल ई की सब-यूनिट वैक्सीन, जायडस-कैडिला की डीएनए वैक्सीन, सीरम इंस्टीट्यूट की नोवावैक्स, भारत बायोटेक की नोजल वैक्सीन, जिनोवा की एमआरएनए वैक्सीन शामिल हैं। इनमें जायडस-कैडिला की डीएनए वैक्सीन के तीसरे फेज का ट्रायल पूरा हो चुका है और उसने इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत भी मांगी है।

यदि उसे इजाजत मिलती है तो अगस्त से दिसंबर के बीच वह पांच करोड़ डोज की आपूर्ति कर सकेगी। इसी तरह बायोलाजिकल ई की वैक्सीन तीसरे फेज के अंतिम चरण में है। इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत देने की स्थिति में वह 30 करोड़ डोज की आपूर्ति कर सकती है। इजाजत मिलने की स्थिति में अगस्त-दिसंबर के बीच भारत बायोटेक ने नोजल वैक्सीन की 10 करोड़ डोज, सीरम इंस्टीट्यूट ने नोवावैक्स की 20 करोड़ डोज, जिनोवा ने एमआरएनए वैक्सीन की छह करोड़ डोज सप्लाई करने का भरोसा दिया है।- headtopics.com

'सरकार का इलाज करेंगे, इनको मर्ज की दवा देंगे', Rakesh Tikait ने दी चेतावनी गेहूं की खरीद को लेकर प्रियंका गांधी वाड्रा का यूपी के CM को लेटर, लिखा-इस स्थिति में तो किसान... दिल्ली: उद्योग नगर के गोदाम में लगी आग, 24 फायर टेंडर मौके पर, अंदर फंसे हैं 6 मजदूर

यह भी पढ़ेंभारत बाॅयोटेक दूसरी कंपनियों की भी लेगी मददनीति आयोग के सदस्य डॉ. वी के पॉल ने कहा कि लोगों का कहना है कि कोवैक्सिन के निर्माण में अन्य कंपनियों की मदद भी लेनी चाहिए। मैं यह बताते हुए खुशी महसूस कर रहा हूं कि जब हमने इस संबंध में कोवैक्सिन की निर्माता कंपनी भारत बाॅयोटेक से इस बारे में चर्चा की तो उन्होंने इसपर अपनी सहमति दे दी और इस प्रस्ताव का स्वागत किया। इस वैक्सीन की मदद से कोरोना वायरस को मारा जा सकता है और इसका निर्माण सिर्फ BSL3 लैब में किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें20 राज्यों में पॉजिटिविटी रेट में गिरावटकेंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के नए केस में गिरावट दर्ज की गई है। 20 राज्यों सहित 187 जिलों में पिछले 2 सप्ताह से मामलों में कमी देखी जा रही है। अग्रवाल ने गुरुवार को बताया कि 24 राज्य ऐसे हैं जहां 15 फीसद से अधिक पॉजिटिव केस हैं। 5 फीसद से 15 फीसद के बीच केस वाले 8 राज्य हैं, वहीं 4 राज्य ऐसे हैं, जहां 5 फीसद से भी कम पॉजिटिविटी रेट है। अग्रवाल ने बताया कि में नए केस में गिरावट देखी जा रही है।

यह भी पढ़ेंकोरोना के ज्यादा केस वाले जिलों के कलेक्टरों के साथ पीएम मोदी करेंगे बैठक और पढो: Dainik jagran »

MP की ‘फोगाट फैमिली’: हर सेकंड की कीमत समझाने के लिए मजदूर ने बेटियों को खेत में रोज 25 किमी दौड़ाया, 2 नेशनल खेल चुकीं

फादर्स डे पर पढ़िए कहानी बीना के करोंद गांव में रहने वाले मजदूर पिता के मजबूत और बुलंद हौसले की। यह परिवार भी हरियाणा के फोगाट परिवार जैसा है। इस मजदूर परिवार के यहां जन्मी तीन बेटियां विश्व प्रसिद्ध धावक पीटी ऊषा जैसा बनने का सपना देख रहीं हैं। पिछले पांच साल से यह पिता अपनी बेटियों को दौड़ना सिखा रहा है। खेत की मेढ़ व निर्माणाधीन थर्ड रेलवे ट्रैक पर रोज 5 घंटे की कड़ी मेहनत और रफ्तार से दो बेटियां न... | 1-1 सेकंड की कीमत समझाने के लिए मजदूर पिता ने तीनों बेटियों को खेत में रोज 25 किमी दौड़ाया, 2 आज नेशनल लेवल पर

तब तक जिंदा रहे तभी लग पाएगी Good news for the people of India But it will be too late by December

Corona vaccine: सरकार को स्थायी समिति ने 8 मार्च को ही कहा था टीका उत्पादन बढ़ाएंCorona vaccine: सरकार को स्थायी समिति ने 8 मार्च को ही कहा था टीका उत्पादन बढ़ाएं CoronaUpdate Coronavirus Covid19 Coronavaccine drharshvardhan MoHFW_INDIA BJP4India PMOIndia ICMRDELHI drharshvardhan MoHFW_INDIA BJP4India PMOIndia ICMRDELHI Hello Everyone I will help the first 20 people from earn $10,000 within just 24hrs,But after your earning you are to pay me 10% from it immediately, if interested kindly message directly on WhatsApp +447418324832

Corona Vaccine Black Marketing: जमाखोरी, कालाबाजारी के लिए गिरफ्तार लोग अंतरिम जमानत पर नहीं हो पाएंगे रिहाभारत न्यूज़: ​आवश्यक दवाओं, ऑक्सीजन सिलेंडर, सांद्रकों और कोविड-19 उपचार में जरूरी सामानों की कालाबाजारी और जमाखोरी करने वालों को एक समिति द्वारा निर्धारित किए गए मापदंडों के तहत अंतरिम जमानत का लाभ नहीं मिलेगा। नवीन कालरा एंड कंपनी के 5 लोग कालाबाजारी oxygen कंसंट्रेट की करने के बाद कोर्ट से जमानत पर बरी हो गए।

Delhi में Corona के केस हुए कम, Oxygen की खपत में भी ग‍िरावटकोरोना की भयावहता के बीच अच्छी खबरें भी आ रही हैं. कोरोना के केस कम हो रहे हैं तो संक्रमण की दरें भी कम हो रही हैं. कोरोना संक्रमण की दिल दहला देने वाली तमाम खबरों के बीच राजधानी दिल्ली से भी राहत भरी खबर आई हैं. अब इसे लॉकडाउन का असर कहें या कुछ और, दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रफ्तार नीचे आ गई है. सबसे राहत की खबर ये है कि दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट भी तेजी से कम हो रहा है. देखें वीडियो. All Requested to do Mahdev Pooja side by side,but alone,to create peace of Mahakal-Mahadev Ji who seems to be in Rudra Roop as sins got increased- relation of children to father or vice versa,wife to husband or vice versa,non care of old parents,exploitation of woman in society Fake आँकड़ों के हिसाब से आप ही बेठे बेठे क़ोरोना ख़त्म कर दो ना .!! Vaccine, treatment की क्या ज़रूरत है .!!!जैसे last year किया था , उसी तरह आँकड़ों को manipulate कर सकते हो .!! नया कुछ नहि है .!anjanaomkashyap SwetaSinghAT chitraaum

Corona Antibodies: कोरोना होने के बाद कितने महीने रह सकते हैं बेफिक्र, वैज्ञानिकों ने बतायामंगलवार को इटली के शोधकर्ताओं ने बीमारी के बाद शरीर में एंटीबॉडीज को लेकर महत्वपूर्ण जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कोविड-19 इंफेक्टेड होने के आठ महीने बाद तक मरीज के खून में कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडीज रहते हैं. Oh answer to my query, thanks!!

Corona Update: नहीं थम रही महामारी की रफ्तार, कोरोना के 72 प्रतिशत नये मामले 10 राज्यों सेदिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश उन 10 राज्यों में शामिल हैं जहां पिछले 24 घंटे में सामने आए 3,62,727 नये मामलों में से 72.42 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए हैं. “भाजपा” के राज में “हिन्दू” ही नहीं , “हिन्दुओं” के “शव” भी “खतरे” में है... acche din aane wale hai acche din kender sarkar ke liye aaye hue hai Lakho caror rupea se bista project chalraha hai parchar chal raha hai or kya cahiye logo ki jaan jati hai toh jae no more modi shah bjp sarkaar

Corona के कहर के बीच Black Fungus पसारने लगा पांव! देखें किस राज्य में कितने केसदेश में कोरोना का संकट टला नहीं है और उधर ब्लैक फंगस नाम का नया खतरा सांसों से लेकर दिमाग, दिल तक को जकड़ रहा है. कई राज्यों से ब्लैक फंगस के लगातार केस सामने आ रहे हैं. अहमदाबाद सिविल अस्पताल में 86 नए केस सामने आए हैं. इसके साथ ही अहमादाबद के इसी हॉस्लिटल में 200 मरीजों का इलाज हो रहा है. ज्यादा केस राजस्थान, यूपी और बिहार से भी सामने आ रहे हैं. डायबिटिज और कम इम्यूनिट वाले लोगों को इससे ज्यादा खतरा है. गुजरात में तो ब्लैक फंगस के इलाज में काम आने वाले इंजेक्शन तक नहीं मिल पा रहे हैं. देखें