Upelections 2022, Up Mission 2022, Bjp Roadmap Decided, Dharmendra Pradhan, Anurag Thakur, Bjp Responsibility, Cm Yogi, बीजेपी यूपी, मिशन यूपी 2022, धर्मेंद्र प्रधान, अनुराग ठाकुर, योगी आदित्यनाथ

Upelections 2022, Up Mission 2022

BJP का मिशन यूपी 2022 का रोडमैप तैयार, धर्मेंद्र प्रधान की टीम के कंधों पर एक-एक क्षेत्र का प्रभार

बीजेपी यूपी मिशन-2022 का किया आगाज, धर्मेंद्र प्रधान टीम को सौंपा गया क्षेत्र का जिम्मा #UPElections2022

23-09-2021 08:48:00

बीजेपी यूपी मिशन-2022 का किया आगाज, धर्मेंद्र प्रधान टीम को सौंपा गया क्षेत्र का जिम्मा UPElections2022

उत्तर प्रदेश में चार महीने के बाद होने वाले विधानसभा चुनाव का बीजेपी ने विधिवत आगाज कर दिया है. सूबे की सत्ता में वापसी के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में यूपी चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने अपनी टीम के साथ प्रदेश के सत्ता और संगठन के प्रमुख चेहरों संग बैठक की. इस दौरान आगामी विधानसभा चुनाव की सियासी जंग फतह करने के लिए रोडमैप तैयार किया है.

बीजेपी ने 2022 चुनाव की मोर्चेबंदी कीविधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने चुनाव में क्षेत्र के प्रभारियों के साथ बैठक में धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि अब चुनाव में लगभग चार माह ही बचे हैं. सरकार और संगठन के साथ समन्वय बनाकर सभी छह क्षेत्रों में समान रूप से मेहनत की जाएगी. पहले से मजबूत और अनुभवी संगठन प्रदेश में काम कर रहा है. सभी सह प्रभारी क्षेत्रीय चुनाव प्रभारी और संगठन प्रभारी के रूप में इस तरह काम करेंगे कि केंद्र और राज्य सरकार की जनहित की योजनाओं का लाभ और संदेश निचले स्तर तक जनता में पहुंचे.

आगरा जा रही प्रियंका गांधी वाड्रा को UP पुलिस ने हिरासत में लिया इसराइल में भारतीय वायु सेना का ‘मिराज’ लड़ाकू विमान क्या कर रहा है? - BBC News हिंदी लखीमपुर हिंसा: किसानों को ‘धमकी’ देने वाले अजय मिश्रा केंद्रीय मंत्री बनने से पहले क्या थे

यूपी के रण के लिए बीजेपी ने जबरदस्त तरीके से मोर्चेबंदी शुरू कर दी है. बीजेपी मुख्यालय में हुई महत्वपूर्ण बैठक में तय हो गया कि किस मोर्चे को कौन संभालेगा. ऐसे में चुनावी राजनीति के विशेषज्ञ माने जाने वाले केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के हाथ पूरे चुनाव अभियान की कमान रहेगी जबकि यूथ आइकॉन माने जाने वाले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के जिम्मे बेहद अहम काम सौंपा गया है.

युवा वोटरों के साधेंगे अनुराग ठाकुरअनुराग ठाकुर प्रदेश के युवा वोटरों को पार्टी से जोड़ने की मुहिम की अगुवाई करेंगे. इसके अलावा वे प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ ही सोशल मीडिया में चलने वाले चुनावी कैंपेन की कमान भी संभालेंगे. आईटी का जिम्मा भी उन्हीं के कंधों पर रहेगा. बीजेपी की नजर यूपी के युवा मतदाताओं पर है, जिनमें खासकर ऐसे युवा जो 18 की उम्र पर पहली बार ईवीएम का बटन दबाएंगे. headtopics.com

बीजेपी के विजय अभियान में युवा वोटरों की भूमिका काफी अहम रही है. यह युवा सिर्फ वोट ही नहीं देते, माहौल बनाने का काम भी करते हैं. ऐसे में यूपी के सह चुनाव प्रभारी अनुराग ठाकुर को इन्हीं युवा मतदाताओं को रिझाने की जिम्मेदारी दी गई है.सह प्रभारियों के कंधों पर क्षेत्र का जिम्मा

‌धर्मेंद्र प्रधान की टीम में सात सह प्रभारी बनाए गए हैं, उनमें से अनुराग ठाकुर के अलावा बाकी छह सह प्रभारियों को पार्टी के संगठनात्मक छह क्षेत्रों का जिम्मा सौंपा गया है, जिसके जरिए जातीय समीकरण का भी खास ख्याल रखा गया है. इतना ही नहीं क्षेत्रीय बैलेंस भी बनाने की कोशिश बीजेपी ने की है.

काशी में ब्राह्मण तो कानपुर में वैश्यकाशी क्षेत्र के संगठन प्रभारी सुनील ओझा हैं जबकि चुनावी प्रभारी की जिम्मेदारी सरोज पांडेय को सौंपी गई है. काशी का इलाका पूर्वांचल में आता है, जो ब्राह्मण बहुल माना जाता है. ऐसे में ब्राह्मण नेता के हाथों में बीजेपी ने चुनावी अभियान की जिम्मेदारी सौंपकर बड़ा दांव चला है.

कानपुर क्षेत्र में संगठन प्रभारी का जिम्मा सुधीर गुप्ता के कंधों पर है तो चुनावी प्रभारी की जिम्मेदारी केंद्रीय मंत्री अन्नपूर्णा देवी को सौंपी गई है. कानपुर क्षेत्र वैश्य बहुल माना जाता है और यादव समुदाय का खास प्रभाव है. इस तरह से बीजेपी ने वैश्य समुदाय को साधने के लिए संगठन की कमान सुधीर गुप्ता को सौंपी है तो यादव को पार्टी से जोड़ने का काम अन्नपूर्णा देवी करेंगी. headtopics.com

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क्या कोई जानता है कश्मीर में क्या हो रहा है? वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर UP चुनाव: प्रियंका के सिपहसालार अखिलेश की साइकिल पर सवार, कांग्रेस की नैया कैसे होगी पार? आर्यन ख़ान को नहीं मिली अदालत से राहत, ख़ारिज हुई ज़मानत याचिका - BBC Hindi

पश्चिम क्षेत्र में जाट वोटों को साधेंगे कैप्टनपश्चिमी उत्तर प्रदेश इस बार किसान आंदोलन के चलते बीजेपी के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गया है. किसान आंदोलन के चलते जाट समुदाय के बीजेपी से छिटकने का खतरा है. इसलिए बीजेपी ने पश्चिम क्षेत्र में चुनाव की कमान जाट नेता कैप्टन अभिमन्यु को सौंपी है तो संगठन के प्रभारी संजय भाटिया हैं. इस तरह से बीजेपी ने जाट और पंजाबी समीकरण को मजबूत करने की कवायद की है. दोनों ही केंद्रीय नेता हरियाणा से हैं, जिसके चलते पश्चिम यूपी पर खास नजर रख सकेंगे और यहां के माहौल से वाकिफ हैं.

गोरखपुर क्षेत्र में भूमिहार को जोड़ेंगे विवेक ठाकुरगोरखपुर क्षेत्र में चुनाव प्रभारी की जिम्मेदारी राज्यसभा सदस्य विवेक ठाकुर संभालेंगे जबकि संगठन प्रभारी की जिम्मेदारी अरविंद मेनन के कंधों पर होगी. गोरखपुर क्षेत्र में भूमिहार वोटों को देखते हुए विवेक ठाकुर को लगाया गया है, जो बिहार से आते हैं व दिग्गज भूमिहार नेता सीपी ठाकुर के बेटे हैं. ऐसे में बिहार से सटे पूर्वांचल खासकर गोरखपुर क्षेत्र में उनका अच्छा खासा प्रभाव है, जिसे बीजेपी कैश कराने की मूड में है.

दलित वोटरों को जोड़ने का जिम्मा मेघवाल परअवध क्षेत्र में चुनाव प्रभारी का जिम्मा बीजेपी से लोकसभा सांसद शोभा करंदलाजे को सौंपी गई है, जो ओबीसी समुदाय के कुर्मी समाज से आती हैं जबकि संगठन प्रभारी का जिम्मा वाई सत्या कुमार के पास है. अवध के क्षेत्र में दलित और ओबीसी वोटर काफी अहम हैं, जिसे बीजेपी ने साधने की कवायद की है.

बृज क्षेत्र में चुनाव प्रभारी का जिम्मा केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल संभालेंगे जबकि संगठन प्रभारी संजीव चौरसिया हैं. यह इलाका राजस्थान से सटा हुआ है और दलित वोटर काफी अहम हैं. इस समीकरण को देखते हुए बीजेपी ने अपने दलित चेहरे अर्जुन मेघवाल को कमान सौंपी है. headtopics.com

Live TV और पढो: आज तक »

मौका मिला और लपक लिया: शादी के 12 साल बाद शुरू किया अपना बिजनेस, अब हाउसवाइफ ही नहीं बिजनेसवुमन है मेरी पहचान

‘सिर पर चुन्नी, बालों में कसा हुआ जूड़ा और चेहरे पर जल्दी काम निपटाने की हपड़-धपड़ के साथ मेरी सुबह किचन में खट खट काम करने के साथ होती, तो कभी-कभी ‘हाउस हेल्प’ को निर्देश देते हुए। मुझे लगता है हर हाउसवाइफ की सुबह ऐसे ही होती है। अरे अब हाउसवाइफ नहीं! होम मेकर, क्वीन ऑफ दि हाऊस कहा जाता है। शादी के बाद ये सारे बड़े-बड़े तमगे एक लड़की के नाम हो जाते हैं। शादी से पहले कमाई मेरी ट्रॉफियां किचन में र... | शगुफ्ता चौधरी दिल्ली में पली-बढ़ीं। शादी के बाद वे अपनी पहचान की मोहताज हो गईं। आज उनका अपना बिजनेस है। अब वे हाउसवाइफ ही नहीं बिजनेसवुमन के नाम से जाती हैं।

अबकी बोट डालने से पहले कर्नल पुरोहित साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जेसे बेकसूरों को जेल राम भक्तों पर गोली कश्मीरी पंडितों का पलायन आतंकियों के केश बापिस कांवर यात्रा पर पाबंदी जैसे मुद्दों पर बिचारे करके ही

सोना-चांदी: 45 हजार के पार पीली धातु का दाम, चांदी में 40 रुपये की तेजीआज पीली धातु की कीमत तीन रुपये गिरकर 45,258 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गई और चांदी की कीमत 40 रुपये बढ़कर 58,750 रुपये प्रति किलोग्राम

SAARC देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक हुई रद्द, कारण बना पाकिस्तान का तालिबान प्रेमदक्षिण एशियाई देशों के समूह सार्क (SAARC) की बैठक में पाकिस्तान तालिबान के प्रतिनिधि को शामिल करने की जिद पर अड़ा हुआ था। जिसके बाद गहराए मतभेद के कारण 25 सितंबर को न्यूयॉर्क में होने वाली इस बैठक को रद्द करना पड़ा। 2020 में कोरोना वायरस के कारण सार्क देशों के मंत्रिपरिषद की बैठक ऑनलाइन आयोजित की गई थी।

सचिन-शुभमन ने शेयर की तस्वीरें, लोग सारा संग जोड़ने लगे शाहरुख के ओपनर का नामशुभमन गिल ने 20 सितंबर 2021 को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 में रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर के खिलाफ मैच में शानदार खेल दिखाया। उन्होंने 34 गेंद पर 48 रन की धुआंधार पारी खेली और बेहतरीन फील्डिंग का मुजाहिरा भी पेश किया।

महंत नरेन्द्र गिरि की शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के कारण का हुआ खुलासापोस्टमार्टम वाली जगह सुबह से ही छावनी में तब्दील रही और किसी भी मीडियाकर्मी को भीतर जाने की अनुमति नहीं दी गई NarendraGiriSuicideLie NarendraGiri Prayagraj NarendraGiriDeath Bagham UttarPradesh

अफगानिस्तान पर कतर के अमीर की वैश्विक नेताओं से अपील, तालिबान का ना करें बहिष्कारसंयुक्त राष्ट्र महासभा के मंच से कतर के शासक शेख तमीम बिन हमद अल थानी ने तालिबान के साथ बातचीत जारी रखने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि बहिष्कार से केवल ध्रुवीकरण और अन्य प्रतिक्रियाएं होती हैं जबकि बातचीत सकारात्मक परिणाम ला सकती है। Dhire dhire CURTAIN HT rha h pic. Duniya k smne clear ho rhi h g , om ji The Taliban are always against freedom of women. When war started,Afghan Government should increase d numbers of female soldiers,so that Taliban could not win.तालिबानी महिलाओंकी आज़ादी के खिलाफ रहते है।जब तालिबानियों से लड़ाई चल रही थी तभी अफगान सरकार को महिला फ़ौज बढ़ा लेनी थी जिन्दा मक्खी कौन निगलता है?

आकाशवाणी के रामानुज प्रसाद सिंह का निधन, 86 साल की उम्र में ली आखिरी सांसआकाशवाणी में समाचार वाचक कैडर के आखिरी स्तंभ रामानुज प्रसाद सिंह ने 86 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया RamanujPrasadSingh AllIndiaRadio | mewatisanjoo mewatisanjoo RIP🙏 mewatisanjoo I heard him say this. दुखद है ये सब mewatisanjoo Ye akshwani he. Ab aap ramanuj prasad singh se samachar suniye. What a voice it was. RIP.