Tajmahal, Braillesignage, Agra-City-Jagran-Special, Braille Signage, Tajmahal, Etmaddaula, Agra Fort, Fatehpur Sikri, Visually İmpaired Tourists, Uttar Pradesh News

Tajmahal, Braillesignage

Braille Signage: ताजमहल में मिटते जा रहे हैं ब्रेल लिपि साइनेज के निशान, बदले जाने का काम शुरू

Braille Signage: ताजमहल में मिटते जा रहे हैं ब्रेल लिपि साइनेज के निशान, बदले जाने का काम शुरू #TajMahal #BrailleSignage

17-09-2021 18:50:00

Braille Signage : ताजमहल में मिटते जा रहे हैं ब्रेल लिपि साइनेज के निशान, बदले जाने का काम शुरू TajMahal BrailleSignage

ताजमहल सहित प्रमुख स्मारकों के ब्रेल लिपि साइन बोर्ड हुए खराब। 2014 में ब्रेल लिपि साइनेज लगने की हुई थी शुरूआत। ताजमहल आगरा किला और फतेहपुर सीकरी के जल्द बदले जाएंगे बोर्ड। दृष्टि दिव्यांग पर्यटकों को मिलेगा लाभ।

ताजमहल सहित जिले के प्रमुख स्मारकों में दृष्टि दिव्यांगों की सहायता के लिए लगाए गए ब्रेल लिपि साइनेज के अक्षर अब धीरे-धीरे मिटते जा रहे हैं। स्मारकों में इनके लगाने की शुरुआत 2014 में की गई थी। एल्यूमिनियम की पतली शीट पर प्रिंट होने के कारण इतने सालों में इसके निशान मिट गए हैं। जानकारी लगने के बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) हरकत में आया है। ब्रेल लिपि साइनेज बोर्ड प्रिंट कराए जा रहे हैं। इसके बाद स्मारकों में खराब हुए बोर्ड को बदला जाएगा और दिव्यांग पर्यटकों को इसका लाभ मिलेगा। मंगलवार को ही एएसआइ आगरा सर्किल द्वारा ब्रेल लिपि में आगरा के प्रमुख स्मारक पुस्तक तैयार करा दृष्टि दिव्यांगों को सौगात दी गई थी।

महिलाओं के अधिकार के लिए आज भी डटे हैं : UP में 40% टिकट महिलाओं को देने पर राहुल गांधी आर्यन खान के सपोर्ट में आए जावेद अख्तर, कहा- 'फिल्म इंडस्ट्री हाई प्रोफाइल होने की सजा भुगत रही' बड़े लोगों पर कीचड़ उछालने में सबको मजा आता है...आर्यन के समर्थन में जावेद अख्‍तर

ताजमहल सहित प्रमुख स्मारकों के ब्रेल लिपि साइनेज हुए खराबताजमहल सहित प्रमुख स्मारकों में दृष्टि दिव्यांगों के लिए ब्रेल लिपि बोर्ड 2014 से लगने शुरू हुए थे। एल्युमिनियम की पतली शीट पर प्रिंट होने के कारण इतने सालों में यह खराब हो गए हैं। दृष्टि दिव्यांगों को इसके स्पर्श से स्मारकों के इतिहास के बारे में पता चलता था।

यह भी पढ़ेंताजमहल, आगरा किला और फतेहपुर सीकरी के जल्द बदले जाएंगे ब्रेल लिपि बोर्डअधीक्षण पुरातत्वविद् डा. वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि स्मारकों में 2014 से ब्रेल लिपि बोर्ड लगने शुरू हए थे। इस लिपि को प्रिंट करने की कुछ सीमाएं हैं। एल्यूमिनियम की पतली शीट पर ही ब्रेल लिपि को प्रिंट कर सकते हैं। क्योंकि उभरे हुए अक्षर होते हैं, जो समय के साथ डैमेज हो गए हैं। समय-समय पर संज्ञान में आने पर बदला जाता है। ताजमहल, आगरा किला और फतेहपुर सीकरी के बोर्ड प्रिंटिंग स्टेज पर हैं। जल्द ही बदले जाएंगे। headtopics.com

यह भी पढ़ेंकहां लगे हैं ब्रेल लिपि साइनेजब्रेल लिपि साइनेज लगने की शुरुआत 2014 में हुई थी। ताजमहल के फोरकोर्ट में रायल गेट के पास ब्रेल लिपि साइनेज लगाया गया था। इसके अलावा आगरा किला, सिकंदरा, एत्माद्दौला और फतेहपुर सीकरी में ब्रेल लिपि साइनेज लगे हुए हैं।

दृष्टि दिव्यांग पर्यटकों को मिलेगा लाभताजमहल सहित प्रमुख स्मारकों में ब्रेल लिपि के साइनेज खराब होने से दृष्टि दिव्यांग पर्यटक इनके इतिहास की जानकारी से रूबरू नहीं हो पा रहे थे। नए बोर्ड लगने से दृष्टि दिव्यांग पर्यटक उंगलियों के स्पर्श से पढ़कर प्रमुख स्मारकों का इतिहास आसानी से जान पाएंगे।

और पढो: Dainik jagran »

40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने के क्या हैं सियासी मायने? देखें 10तक

आखिर देश की आधी आबादी वाली महिलाओं को उनकी ताकत के मुताबिक पचास फीसदी हिस्सेदारी देने में राजनीतिक दलों और राजनेताओं का बस क्यों नहीं चलता है? भारत में आजादी से अब तक सबसे ज्यादा सत्ता पर काबिज रहे दलों के बस में भी भारत की 50 फीसदी आबादी को उनकी 50 फीसदी हिस्सेदारी देना नहीं है. आज खबर आई कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी 40 फीसदी टिकट महिलाओं को देगी. अब ये एक लुभावना फैसला मात्र है या वाकई राजनीति में ऐसे फैसलों से कोई बदलाव आएगा? देखें 10तक.

RAM-SETU,MAA SITA G KO VAPISI K LIYE BNA THAA,ADBHUT PREM K NISHANI H Y , OM JI

Bigg Boss OTT: शमिता और दिव्या के बीच राकेश बापट ने चुना शमिता का साथ, दिव्या ने दी ये प्रतिक्रियाBigg Boss OTT: शमिता और दिव्या के बीच राकेश बापट ने चुना शमिता का साथ, दिव्या ने दी ये प्रतिक्रिया BiggBossOTT RakeshBapat ShamitaShetty

कैबिनेट फैसले: पीएलआई का लाभ लेने के लिए पूरी करनी होगी शर्त, राहत पैकेज से दूरसंचार क्षेत्र में भी बढ़ेगी प्रतिस्पर्धाकैबिनेट फैसले: पीएलआई का लाभ लेने के लिए पूरी करनी होगी शर्त, राहत पैकेज से दूरसंचार क्षेत्र में भी बढ़ेगी प्रतिस्पर्धा India Cabinet Decision Relief Package Telecom Auto Industry PMOIndia FinMinIndia

Dengue and Coronavirus Live Update: 24 घंटे में 30,570 नए मामले, कोरोना के ऐक्टिव केस भी घटे, पर केरल ने बढ़ाई चिंतादेश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में उतार-चढ़ाव जारी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना के 30,570 नए मामले (Corona New Cases) सामने आए हैं और 431 लोगों की मौत (Corona Deaths) हुई है। हालांकि इस दौरान 38,303 लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त (Corona Recovery) भी हुए हैं। वहीं, बच्चों में बुखार (Fever in Children) की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। अस्पताल में बच्चों के इलाज के लिए अभिभावक लगातार आ रहे हैं। बीमार बच्चों में अभिभावकों को कोरोना होने का का डर भी सता रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक इन दिनों बुखार चल रहा है लेकिन इसे रहस्यमयी या कोरोना संबंधी बुखार कहना ठीक नहीं होगा। पल-पल के अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ... पिछले 24 घंटे में जितने नए केस और मौतें दर्ज की गई हैं उनमें से 17,681 केस और 208 मौतें अकेले केरल में रिपोर्ट किए गए हैं। CoronavirusUpdates Kerala

Dengue and Coronavirus Live Update: केवल केरल से आ रहे कोरोना के 68 फीसदी नए केस, राज्य में 2 लाख के करीब ऐक्टिव मामलेदेश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में उतार-चढ़ाव जारी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना के 30,570 नए मामले (Corona New Cases) सामने आए हैं और 431 लोगों की मौत (Corona Deaths) हुई है। हालांकि इस दौरान 38,303 लोग कोरोना संक्रमण से मुक्त (Corona Recovery) भी हुए हैं। वहीं, बच्चों में बुखार (Fever in Children) की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। अस्पताल में बच्चों के इलाज के लिए अभिभावक लगातार आ रहे हैं। बीमार बच्चों में अभिभावकों को कोरोना होने का का डर भी सता रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक इन दिनों बुखार चल रहा है लेकिन इसे रहस्यमयी या कोरोना संबंधी बुखार कहना ठीक नहीं होगा। पल-पल के अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ...

भास्कर एक्सप्लेनर: GST काउंसिल कर सकती है पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाने पर विचार, ऐसा हुआ तो आपको कितना फायदा? सरकार को कितना नुकसान? जानें सबकुछकल लखनऊ में GST काउंसिल की मीटिंग है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इस मीटिंग में पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स को GST के दायरे में लाए जाने पर विचार किया जा सकता है। कोरोना महामारी के बाद GST काउंसिल की यह पहली फिजिकल बैठक है। GST काउंसिल की इस 45वीं बैठक की अध्यक्षता वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण करेंगी। | Petroleum Products (Petrol Diesel) Under Gst; GST के दायरे में आने से केंद्र, राज्य और जनता पर क्या असर होगा? अगर पेट्रोलियम प्रोडक्ट GST के दायरे में आते हैं, तो किस तरह की व्यवस्था अपनाई जा सकती है? Kuchh nahi hone bala he ye sab jumle hen aur kuchh bhi nahi jo fas gaya so gaya विचार तो कई बार हुआ लेकिन अमल कभी नहीं। Petrol-Diesel under GST 😅😅

Bigg Boss OTT: फिनाले के करीब आकर बेघर हुईं नेहा भसीन, इन पांच फाइनलिस्ट में कांटे का मुकाबलाBigg Boss OTT: फिनाले के करीब आकर बेघर हुईं नेहा भसीन, इन पांच फाइनलिस्ट में कांटे का मुकाबला NehaBhasin BiggBossOTT NehaBhasineviction