Bitcoin के हिमायती अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें पैसे छापना

Bitcoin के हिमायती El salvador के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें ज्यादा पैसा छापना #bitcoin #btc

Bitcoin, Btc

02-12-2021 16:44:00

Bitcoin के हिमायती El salvador के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें ज्यादा पैसा छापना bitcoin btc

राष्‍ट्रपति बुकेले जहां फेडरल रिजर्व के दृष्‍टिकोण पर अपनी टिप्‍पणी दे रहे हैं, वही एक हफ्ते पहले ही उन्‍होंने बिटकॉइन में गिरावट का फायदा भी उठाया था।

Bitcoin के हिमायती अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें ज्‍यादा पैसे छापनाBitcoin के हिमायती अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें ज्‍यादा पैसे छापनाराष्‍ट्रपति बुकेले जहां फेडरल रिजर्व के दृष्‍टिकोण पर अपनी टिप्‍पणी दे रहे हैं, वही एक हफ्ते पहले ही उन्‍होंने बिटकॉइन में गिरावट का फायदा भी उठाया था।

Shomik Sen Bhattacharjee,अपडेटेड: 2 दिसंबर 2021 18:21 ISTराष्‍ट्रपति बुकेले ने हाल ही में बिटकॉइन माइनिंग को तेज करने के लिए कोंचगुआ ज्वालामुखी के बेस पर"बिटकॉइन सिटी" बनाने की अपनी योजना का भी खुलासा किया है।ख़ास बातेंअमेरिकी फेड के अध्यक्ष की टिप्‍पणियों पर उन्‍होंने प्रतिक्रिया दी है

कहा है कि फेडरल रिजर्व को पैसे की अधिक छपाई को बंद कर देना चाहिएफेड अध्‍यक्ष की टिप्‍पणियों पर बीते दिनों रिपोर्ट प्रकाशित हुई थीअल साल्वाडोर के राष्ट्रपति नायब बुकेले क्रिप्‍टोकरेंसी के जबरदस्‍त हिमायती हैं। राष्‍ट्रपति बुकेले ने अमेरिकी फेडरल रिजर्व (फेड) के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल की टिप्पणियों पर आधारित एक हालिया रिपोर्ट को लेकर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। अपने ताजा ट्वीट में राष्ट्रपति बुकेले ने कहा है कि फेडरल रिजर्व को पैसे की अधिक छपाई को बंद कर देना चाहिए, क्योंकि इसकी वजह से बढ़ती हुई मुद्रास्फीति से लड़ने की उसकी कोशिशें प्रभावी साबित नहीं हो रहीं। अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति ने अनुरोध किया है कि फेड"चीजों के बदतर बनने" के डर से पैसों की छपाई करना बंद कर दे। headtopics.com

Instagram: मनीष मल्होत्रा के घर साथ नजर आए करण जौहर, करीना कपूर और अमृता अरोड़ा, यूजर्स ने किया ट्रोल

सीनेट बैंकिंग कमिटी के सामने फेडरल रिजर्व अध्यक्ष की टिप्पणी पर ब्लूमबर्ग ने 30 नवंबर कोरिपोर्टदी थी। यह कहा गया था कि डेमोक्रेट और रिपब्लिकन दोनों ही अमेरिका में बढ़ती कीमतों और मुद्रास्फीति के बारे में चिंतित थे। अत्यधिक मुद्रास्फीति को डिफाइन करने वाले टर्म"transitory" को भी सेंट्रल बैंक द्वारा हटा दिया गया था। फेड अध्‍यक्ष ने मुद्रास्फीति के दबाव से लड़ने के लिए हर जरूरी कदम उठाने का संकल्‍प भी लिया है।

फेड अध्‍यक्ष पावेल ने ब्याज दरें बढ़ाने या यहां तक कि फेड के बांड-खरीद कार्यक्रम को खत्‍म करने का भी सुझाव दिया है।इसी के बाद अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति नायब बुकेले ने अमेरिका में बिगड़ती आर्थिक और वित्तीय स्थिति के लिए फेडरल रिजर्व के दृष्टिकोण पर जारी रिपोर्ट पर ट्विटर पर अपनी प्र‍तिक्रिया दी। 

 Can you guys just stop printing more money?You're just going to make things worse.

और पढो: NDTV India »
COVID-19: इंसान की त्वचा पर 21 घंटे और प्लास्टिक सतह पर आठ दिन तक जिंदा रहता है ओमिक्रॉन, इसलिए फैलने की रफ्तार सबसे तेज आधिकारिक घोषणाः ये है जोनाथन, धरती पर सबसे बुजुर्ग कछुआ 'तारक मेहता...' फेम सुनैना नहीं बनना चाहती एक्टर, पैसों की तंगी की वजह से इंडस्ट्री में रखा था कदम जबलपुर में परेड के दौरान ड्रोन गिरने से 2 घायल, उधर गुंटूर में हिंदू वाहिनी ने जिन्ना टॉवर पर की तिरंगा फहराने की कोशिश, दर्जन भर अरेस्ट पिज्जा की तरह पाकिस्तान में एके-47 की होम डिलेवरी, आनलाइन आर्डर पर घर-घर पहुंचते हैं हर तरह के हथियार गुलाम नबी को पद्म भूषण सम्मान मिलने पर कांग्रेस के अंदर बढ़ी कटुता, सोनि‍या गांधी और राहुल गांधी ने अब तक नहीं दी बधाई

कांग्रेस के स्टार प्रचारक रहे आरपीएन सिंह अब खिलाएंगे कमल! देखें शंखनाद

जैसे-जैसे चुनाव की तारीखें नजदीक आ रही हैं, वैसे-वैसे उत्तर प्रदेश का समर भीषण हो रहा है. इसी कड़ी में आज कांग्रेस को करारा झटका लगा. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के बड़े नेता माने जाने वाले आरपीएन सिंह ने कांग्रेस का हाथ छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया. एक दिन पहले ही कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में अपने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की थी और इस लिस्ट में आरपीएन सिंह का भी नाम था, मगर आरपीएन ने कांग्रेस का हाथ झटका तो कांग्रेस तिलमिला गई. इतना तो साफ है, राजनीति में न कोई गहरा दोस्त होता है, न पक्का दुश्मन. जिसको जहां भी संभावनाएं मिलती हैं, उसे तलाश के अपने पाले में ले आना ही राजनीति है. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड. और पढो >>

🤣 Who gave NANA permission to crash into an asteroid?

Gold Rate Today : Omicron के डर के बावजूद फिसले सोना-चांदी, सिल्वर फ्यूचर 900 रुपये गिराGold Price Today on 2nd December, 2021 : Omicron के डर के बावजूद बुलियन मार्केट में गिरावट दर्ज हो रही है. गुरुवार यानी 2 दिसंबर, 2021 को सोना मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर 100 रुपये के लगभग की गिरावट दिखा रहा था. गोल्ड फ्यूचर की कीमत 47,791 रुपये प्रति ग्राम दर्ज हो रही थी. JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudents No jumalebaazi, बीके हुए मीडिया वालों तुम्हारी मरी हुई आत्मा को शांति PMOIndia ravishndtv AshwiniVaishnaw

घबराएं नहीं, भारत में ओमिक्रॉन के मामले सामने आने के बाद केंद्र की अपील : 5 बातेंपिछले कुछ दिनों से दुनिया भर में हड़कंप मचा रहे कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने आख‍िरकार भारत में भी दस्‍तक दे ही दी. कर्नाटक में इसके दो मरीज सामने आए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी. दोनों में से एक मरीज की उम्र 66 साल है जबकि दूसरे की 46 साल. दोनों में ही फिलहाल कोई गंभीर लक्षण नहीं दिख रहे. क्या हर एक छोटे बड़े शहरों में ऑमिक्रॉन की जांच हो सकती है? क्या सिर्फ वायरल लोड से इसका पता चल जाएगा या जीनोम सिक्वेंसिंग आवश्यक है? 11 और 20 नवम्बर को आए थे... तो इन्हें भारत में ही हुआ है... PMOIndia केन्द्र सरकार को लापरवाही से बचना चाहिए। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा, सरकार को सबक लेना चाहिए था।

धोनी की इन चीजों के मुरीद हैं सलमान खान के पिता, बेटे सोहेल के साथ LPL में खरीद चुके हैं टीमसलमान खान के परिवार का क्रिकेट से हमेशा जुड़ाव रहा है। उनके पिता सलीम खान क्रिकेट को काफी पसंद करते हैं। वे भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी की कई चीजों के मुरीद हैं। साथ ही वे अपने बेटे अरबाज खान और सलमान खान दोनों को क्रिकेटर बनाना चाहते थे।

लखनऊ में बेरोजगारी के मुद्दे पर छात्र संगठनों ने निकाला मार्च, पुलिस ने NDTV के कैमरे को बंद करने के लिए कहामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा है कि उनकी सरकार ने साढ़े चार लाख लोगों को नौकरियां दी हैं, लेकिन मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव सरकार के इस दावे को झूठा बता रहे हैं.

सरकारी दावों के बावजूद यूपी के गन्‍ना मंत्री के क्षेत्र में ही किसानों का 300 करोड़ रुपए अभी तक बकाया14 दिन में भुगतान और भुगतान न होने पर ब्याज देने की बात कही गई थी, लेकिन मूलधन के साथ किसानों का करीब 6 हजार करोड़ रुपए ब्याज का भी बकाया है. जानकार भी मानते हैं कि मिलें चीनी बेचने के बाद आए पैसे को दूसरे मद में लगाती है. True आज तो ये देखकर तुम्हारी जल रही होगी। बरनोल का ट्रक मंगा लो 🤣🤣 गोबर भुंड भक्तो को झूठ लग रहा है.

कोविड लॉकडाउन: कोरोना की दूसरी लहर के बाद सुधरती अर्थव्यवस्थाअर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने की यह रफ्तार व्यापक आधार पर रही है, हालांकि निजी खपत, जो जीडीपी का एक बड़ा हिस्सा है और JusticForRailwayStudents