Biharelections, Biharelections 2020, Rjd, Jdu, Bihar Election, Bihar Election 2020, Bihar Assembly Election 2020, Bhagalpur Division, Bhagalpur Region, Congress, Jdu, Rjd, Political Fight, Bihar Assembly Election, Bihar Vidhansabha Chunav, बिहार विधानसभा चुनाव, बिहार चुनाव, Bihar News İn Hindi, Latest Bihar News İn Hindi, Bihar Hindi Samachar

Biharelections, Biharelections 2020

Bihar election 2020: भागलपुर प्रमंडल में बदला राजनीतिक समीकरण, बदलेगी भाजपा की किस्मत?

बिहार विधानसभा चुनाव में निर्णायक लड़ाई सत्ताधारी एनडीए और राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन के बीच तय मानी जा रही है।

23-09-2020 19:37:00

Bihar election 2020: भागलपुर प्रमंडल में बदला राजनीतिक समीकरण, बदलेगी भाजपा की किस्मत? BiharElections BiharElections2020 RJD JDU laluprasad rjd SushilModi mangalpandeybjp

बिहार विधानसभा चुनाव में निर्णायक लड़ाई सत्ताधारी एनडीए और राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन के बीच तय मानी जा रही है।

ख़बर सुनेंबिहार विधानसभा चुनाव में निर्णायक लड़ाई सत्ताधारी एनडीए और महागठबंधन के बीच तय मानी जा रही है। ऐसे में नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सत्ता को बरकरार रखने की जद्दोजहद कर रहे हैं। वहीं, राजद नेता तेजस्वी यादव की अगुवाई में महागठबंधन 15 साल बाद सत्ता में वापसी के लिए एड़ी चोटी की जोर लगा रहा है। इसी बीच आइए आपको बताते हैं बिहार के अंग क्षेत्र (भागलपुर) की राजनीति के बारे में...

ये मशहूर कलाकार बनने जा रहा टीवी का सबसे खतरनाक विलेन, ‘ब्रह्मराक्षस’ के चेहरे से उठा पर्दा एनडीए के एक और सहयोगी ने कृषि क़ानून पर अलग होने की दी धमकी - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi Live: आंदोलन के समर्थन में लेफ्ट पार्टियां, बोलीं- किसानों की मांग पूरी करें पीएम

महाभारत काल का अंग क्षेत्र यानी आज का भागलपुर प्रमंडल की बात की जाए तो भाजपा के पास यहां खोने के लिए कुछ नहीं है, लेकिन राजद को अपनी सीटों को बचाने के लिए इस बार कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी।2015 में एक सीट से भाजपा को करना पड़ा था संतोषबिहार के भागलपुर प्रमंडल में दो जिले की 12 विधानसभा सीटें आती हैं। इनमें भागलपुर की सात सीटें और बांका जिले की पांच सीटें हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार और लालू यादव ने मिलकर यहां से भाजपा का सफाया कर दिया था। यहां 12 विधानसभा सीटों में से पांच सीटें जेडीयू ने जीती थी, जबकि चार सीटें राजद को मिली थीं। वहीं, दो सीटें कांग्रेस को मिली थी और महज एक सीट भाजपा के खाते में आई थी। मौजूदा दौर में बदले हुए समीकरण को देखा जाए तो महागठबंधन और एनडीए यहां पर बराबर की स्थिति में खड़े नजर आ रहे हैं।

भागलपुर जिले में नहीं खुला था भाजपा का खाताभागलपुर जिले में सात विधानसभा सीटें आती हैं, इनमें सुल्तानगंज, नाथनगर, गोपालपुर, बिहपुर, पीरपैंती भागलपुर और कहलगांव विधानसभा शामिल हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने सुल्तानगंज, नाथनगर और गोपालपुर सीट पर जीत दर्ज की थी। कांग्रेस ने बिहपुर और पीरपैंती सीट जीती थी जबकि आरजेडी ने भागलपुर और कहलगांव पर जीत का परचम लहराया था। भाजपा को भागलपुर जिले की सात सीटों में से एक भी सीट पर जीत नहीं मिली थी।

भागलपुर प्रमंडल के बांका जिले में पांच विधानसभा सीटें आती हैं। जिनमें बेलहर, कटोरिया, अमरपुर, धोरैया और बांका सीट शामिल हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने अमरपुर और धोरैया सीट जीती थी तो राजद ने बेलहर, कटोरिया सीट पर जीत दर्ज करने में कामयाबी पाई थी। वहीं, भाजपा को सिर्फ बांका सीट पर ही जीती मिली थी।

लेकिन इस बार समीकरण बदल गया है। नीतीश कुमार एक बार फिर एनडीए का नेतृत्व कर रहे हैं। हालांकि, अभी एनडीए में कौन सी सीट किस पार्टी को जाएगी यह तय नहीं है। ऐसे में चर्चा होते ही राजनीतिक गलियारे में 2010 के फॉर्मूले पर सीट बंटवारे की प्राथमिक समझ बता दी जाती है। हालांकि, ऐसा है नहीं। लोजपा भी एनडीए में है। 2010 में वह राजद के साथ था। ऐसे में इस बार भागलपुर प्रमंडल में कुछ अलग होना तय है। दूसरी ओर राजद, कांग्रेस और रालोसपा के स्थानीय नेता मानकर चल रहे हैं कि उनकी पार्टियां मिलकर महागठबंधन के स्वरूप में ही चुनाव लड़ेंगी, पर सीट बंटवारे को लेकर अभी स्थिति साफ नहीं है।

एनडीए का चुनावी गणितभागलपुर जिले की चुनावी गणित को एनडीए के स्थानीय नेताओं की नजर से देखें तो शीर्ष स्तर पहला फॉर्मूला यह होगा कि जिस सीट पर जो जीता हुआ है वह उसका। भागलपुर जिले की सुल्तानगंज, नाथनगर और गोपालपुर सीट पर जेडीयू का कब्जा तीन टर्म से है। इस पर जेडीयू किसी कीमत पर अपना दावा नहीं छोड़ेगा। बाकी बची जिले की चार सीटों में 2010 के हिसाब से बंटवारा होगा। इसमें भागलपुर, बिहपुर और पीरपैंती सीट पर भाजपा लड़ेगी।

इस बार सीट बंटवारे में अगर जिले की एक सीट लोजपा को भी देनी पड़ी तो वह कहलगांव सीट पर दिख रही है। 2015 में जेडीयू की अनुपस्थिति में लोजपा को भागलपुर जिले की दो सीटों में नाथनगर और कहलगांव की ही सीट मिली थी। 2010 में राजद के साथ गठबंधन के दौर में लोजपा के हिस्से में भागलपुर सीट आई थी। तब यहां से लोजपा प्रत्याशी की जमानत जब्त हो गई थी।

PM Modi की Dev Deepawali: काशी में पीएम मोदी का हर-हर महादेव! किसान आंदोलन का असर- दिल्ली को दूसरे राज्यों से होने वाली फल-सब्जी की आपूर्ति प्रभावित - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi किसानों का प्रदर्शन पांचवें दिन भी जारी, कहा- मांगें पूरी होने तक होता रहेगा विरोध

बिहार विधानसभा चुनाव में निर्णायक लड़ाई सत्ताधारी एनडीए और महागठबंधन के बीच तय मानी जा रही है। ऐसे में नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सत्ता को बरकरार रखने की जद्दोजहद कर रहे हैं। वहीं, राजद नेता तेजस्वी यादव की अगुवाई में महागठबंधन 15 साल बाद सत्ता में वापसी के लिए एड़ी चोटी की जोर लगा रहा है। इसी बीच आइए आपको बताते हैं बिहार के अंग क्षेत्र (भागलपुर) की राजनीति के बारे में...

विज्ञापनमहाभारत काल का अंग क्षेत्र यानी आज का भागलपुर प्रमंडल की बात की जाए तो भाजपा के पास यहां खोने के लिए कुछ नहीं है, लेकिन राजद को अपनी सीटों को बचाने के लिए इस बार कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी।2015 में एक सीट से भाजपा को करना पड़ा था संतोषबिहार के भागलपुर प्रमंडल में दो जिले की 12 विधानसभा सीटें आती हैं। इनमें भागलपुर की सात सीटें और बांका जिले की पांच सीटें हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार और लालू यादव ने मिलकर यहां से भाजपा का सफाया कर दिया था। यहां 12 विधानसभा सीटों में से पांच सीटें जेडीयू ने जीती थी, जबकि चार सीटें राजद को मिली थीं। वहीं, दो सीटें कांग्रेस को मिली थी और महज एक सीट भाजपा के खाते में आई थी। मौजूदा दौर में बदले हुए समीकरण को देखा जाए तो महागठबंधन और एनडीए यहां पर बराबर की स्थिति में खड़े नजर आ रहे हैं।

भागलपुर जिले में नहीं खुला था भाजपा का खाताभागलपुर जिले में सात विधानसभा सीटें आती हैं, इनमें सुल्तानगंज, नाथनगर, गोपालपुर, बिहपुर, पीरपैंती भागलपुर और कहलगांव विधानसभा शामिल हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने सुल्तानगंज, नाथनगर और गोपालपुर सीट पर जीत दर्ज की थी। कांग्रेस ने बिहपुर और पीरपैंती सीट जीती थी जबकि आरजेडी ने भागलपुर और कहलगांव पर जीत का परचम लहराया था। भाजपा को भागलपुर जिले की सात सीटों में से एक भी सीट पर जीत नहीं मिली थी।

भागलपुर प्रमंडल के बांका जिले में पांच विधानसभा सीटें आती हैं। जिनमें बेलहर, कटोरिया, अमरपुर, धोरैया और बांका सीट शामिल हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने अमरपुर और धोरैया सीट जीती थी तो राजद ने बेलहर, कटोरिया सीट पर जीत दर्ज करने में कामयाबी पाई थी। वहीं, भाजपा को सिर्फ बांका सीट पर ही जीती मिली थी।

इस बार बदला राजनीतिक समीकरणलेकिन इस बार समीकरण बदल गया है। नीतीश कुमार एक बार फिर एनडीए का नेतृत्व कर रहे हैं। हालांकि, अभी एनडीए में कौन सी सीट किस पार्टी को जाएगी यह तय नहीं है। ऐसे में चर्चा होते ही राजनीतिक गलियारे में 2010 के फॉर्मूले पर सीट बंटवारे की प्राथमिक समझ बता दी जाती है। हालांकि, ऐसा है नहीं। लोजपा भी एनडीए में है। 2010 में वह राजद के साथ था। ऐसे में इस बार भागलपुर प्रमंडल में कुछ अलग होना तय है। दूसरी ओर राजद, कांग्रेस और रालोसपा के स्थानीय नेता मानकर चल रहे हैं कि उनकी पार्टियां मिलकर महागठबंधन के स्वरूप में ही चुनाव लड़ेंगी, पर सीट बंटवारे को लेकर अभी स्थिति साफ नहीं है।

एनडीए का चुनावी गणितभागलपुर जिले की चुनावी गणित को एनडीए के स्थानीय नेताओं की नजर से देखें तो शीर्ष स्तर पहला फॉर्मूला यह होगा कि जिस सीट पर जो जीता हुआ है वह उसका। भागलपुर जिले की सुल्तानगंज, नाथनगर और गोपालपुर सीट पर जेडीयू का कब्जा तीन टर्म से है। इस पर जेडीयू किसी कीमत पर अपना दावा नहीं छोड़ेगा। बाकी बची जिले की चार सीटों में 2010 के हिसाब से बंटवारा होगा। इसमें भागलपुर, बिहपुर और पीरपैंती सीट पर भाजपा लड़ेगी।

यूपी: धर्म परिवर्तन अध्यादेश लागू होते ही बरेली में दर्ज हो गई एफ़आईआर, क्या है पूरा मामला - BBC News हिंदी 'कभी यूरिया लेने के लिए किसानों पर होता था लाठीचार्ज', बोले PM Modi LIVE: सारनाथ में लेजर एंड साउंड शो देख रहे हैं PM मोदी, अमिताभ ने दी है आवाज

इस बार सीट बंटवारे में अगर जिले की एक सीट लोजपा को भी देनी पड़ी तो वह कहलगांव सीट पर दिख रही है। 2015 में जेडीयू की अनुपस्थिति में लोजपा को भागलपुर जिले की दो सीटों में नाथनगर और कहलगांव की ही सीट मिली थी। 2010 में राजद के साथ गठबंधन के दौर में लोजपा के हिस्से में भागलपुर सीट आई थी। तब यहां से लोजपा प्रत्याशी की जमानत जब्त हो गई थी।

विज्ञापनइस बार बदला राजनीतिक समीकरण और पढो: Amar Ujala »

#FarmersProtest: आधी रात के बाद भी न किसान पीछे हटे न पुलिस, माहौल तनावपूर्ण-आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi

बीबीसी हिंदी के इस लाइव पन्ने पर आपको मिलेगी आज दिनभर की सभी बड़ी खबरें. हर अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ.

laluprasadrjd SushilModi mangalpandeybjp मुंगेर को आजतक कोई भी सेवक नही सिर्फ नेता ही मिला।जीता और पटना शिफ्ट हो गये।करोडो अरबो कमाया मुंगेर को भूल गया?फ़िर चुनाव कोई जीतेगा और मुंगेर नर्क गर्त मे?गंगा पुल सडक 50साल मे भी पूरा नही होगा।आज भी लालू राजद की गुण्डा गर्दी आम है शहर मे laluprasadrjd SushilModi mangalpandeybjp कांग्रेस जीतेगी भाजपा पीटेगी

Bihar DGP गुप्तेश्वर पांडे के VRS पर रिया के वकील का तंज, कही ये बातबतौर बिहार डीजीपी अपने तेवर दिखाने वाले गुप्तेश्वर पांडे ने VRS ले लिया है. उनका कार्यकाल अगले साल फरवरी तक था. लेकिन उससे पहले ही उन्होंने स्वैच्छिक रियाटरमेंट की घोषणा कर दी है. उनकी जगह SK सिंघल को बिहार DGP का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है. माना जा रहा है कि VRS लेने के बाद अब वो आगामी विधानसभा चुनावों में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं. अपने VRS के फैसले के बाद उन्होंने ट्वीट कर कल ऐलान किया कि वे 23 सितंबर को यानि आज शाम 6 बजे अपने सोशल मीडिया पर लाइव आकर अपनी कहानी बताएंगे. जब गुप्तेश्वर पांडे ने VRS लिया तो रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानेशिंदे ने तंज करने का मौका मिल गया. देखें क्या बोले रिया के वकील. काश तेज बहादुर यादव ना होकर पांडेय होता।।।।तो आज मीडिया बिहार में कितने रेप होते है।।।कितने मर्डर ।।कितने लूट।।।सब बता दे ता की यादवजी dgp ही सबके जीमेदार है।।। Kuth to log kahnge. राजनीति में ऐसे ही सुलझा हुआ व्यक्तित्व के धनी कानून के जानकार व्यक्ति की आवश्यकता है वेलकम सर हम आपके सपोर्ट में रहेंगे धन्यवाद

दिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया अस्‍पताल में हुए भर्ती, कोरोना के कारण सांस लेने में तकलीफदिल्‍ली के उपमुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया को सांस लेने में परेशानी के बाद बुधवार की शाम को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। कोरोना संक्रमण के बाद सांस लेने में परेशानी के कारण लोकनायक अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। msisodia AamAadmiParty ArvindKejriwal रोज़गार_नहीं_तो_सरकार_नहीं msisodia AamAadmiParty ArvindKejriwal Get well soon sir💐 msisodia AamAadmiParty ArvindKejriwal उम्मीद है उपमुख्यमंत्री जी विश्वस्तरीय मोहल्ला_क्लीनिक में ही भर्ती हुए होंगे। WHO भी सरकार के मोहल्ला क्लीनिक की तारीफ कर चुका है। यही सही समय है msisodia जी दिल्ली मॉडल को दिखाने का। ईश्वर से प्राथना है आप जल्द स्वस्थ हो।

भोजपुरी में पढ़ें: बड़ा अंतर बा पहले के बइठकी अउरी कोरोना काल के बइठकी मेंभोजपुरी शब्द के कई गो माने होला. बैइठकी के इस्तमाल होत रहल हा मिल के बइठे-बतिआवे खातिर. अब त बइठकी माने कवनो काम धंधा नइखे. शब्द के संगे अर्थव्यस्था के एही पहलु पर लेखक विचार करत हवें. | ayodhya News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

कंगना रनोट के ऑफिस में तोड़फोड़ के मामले में संजय राउत भी पक्षकार होंगेकंगना रनोट का बांद्रा स्थित कार्यालय तोड़े जाने के मामले में अब शिवसेना नेता संजय राउत व मुंबई महानगरपालिका के उस अधिकारी को भी पक्षकार बनना पड़ेगा जिसने कंगना का कार्यालय तोड़ने के आदेश दिया था। इस मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट में अगली सुनवाई बुधवार को होनी है। सभी हिन्दू भाई जरूर देखें और शयेर जरूर करे जय महाराष्ट्र❗ बॉलीवुड मे नेपोटिज्म की पैदाइशें और दाऊद ड्रग्स गैंग के गंदी नाली के जिहादी कीड़े जो कलतक स्वयं को अतिरिक्त संवेदनशील महान विचारक और बुद्धिजीवी दर्शाते हुए हर देशद्रोही गद्दार और आतंकवादी के मानवाधिकारों के लिए छातियां पीटते नजर आते थे आज इन जिहादी भेड़ियों की आवाज नहीं निकल रही

Earthquake in Palghar: महाराष्ट्र के पालघर में फिर भूकंप के झटके, दहशत में लोगEarthquake in Maharashtra महाराष्ट्र के पालघर इलाके में भूकंप के झटके महसूस किये जाने से लोगों में दहशत का माहौल है रिक्‍टर स्‍केल पर इस भूकंप की तीव्रता 3.5 मापी गयी है। बीते कुछ दिनों से लगातार धरती के कंपन से यहां के लोगों में डर का माहौल है। ये shadhu का श्राप है अब न बच पायेंगे palgharlynching हत्यारे ConversionMafia

महाराष्ट्र: पालघर के आसपास के क्षेत्र में महसूस किए गए भूकंप के झटके, 3.5 रही तीव्रतामहाराष्ट्र: पालघर के आसपास के क्षेत्र में महसूस किए गए भूकंप के झटके, 3.5 रही तीव्रता Maharashtra Palghar earthquake OfficeofUT