Ayodhyaverdict, Rammandir, Supremecourt, Ayodhya Bhoomi Poojan, Ayodhya Rammandir, Ayodhya Bhumi Pujan, Ayodhya Verdict, Supreme Court Verdict On Ayodhya, Supreme Court Verdict On Ram Janm Bhumi, Ranjan Gogoi

Ayodhyaverdict, Rammandir

Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने अभी तक हिन्दी में नहीं जारी किया राम जन्मभूमि का फैसला

#AyodhyaVerdict : सुप्रीम कोर्ट ने अभी तक हिन्दी में नहीं जारी किया राम जन्मभूमि का फैसला #RamMandir #SupremeCourt

04-08-2020 23:55:00

AyodhyaVerdict : सुप्रीम कोर्ट ने अभी तक हिन्दी में नहीं जारी किया राम जन्मभूमि का फैसला RamMandir SupremeCourt

जस्टिस गोगोई ने ही आमजनता की अंग्रेजी भाषा को समझने की कठि‍नाइयों को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के फैसले हिन्दी सहित करीब नौ भाषाओं में उपलब्ध कराने शुरू किये थे।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का फैसला आए आठ महीने बीत गए हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले का अभी तक हिन्दी अनुवाद सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर जारी नहीं हुआ है। आम जनता से जुड़ा लोगों की उत्सुकता का केन्द्र बना ऐतिहासिक फैसला अभी सिर्फ अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध है। अयोध्या विवाद पर फैसला देने वाली पांच न्यायाधीशों की पीठ की अगुवाई तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने की थी। 

कृषि कानून पर बवाल, केंद्रीय मंत्री वीके सिंह बोले- जो प्रदर्शन कर रहे हैं वे किसान तो नहीं दिखते... आंदोलन पर केंद्रीय मंत्री वीके सिंह बोले- तस्वीरों में कई लोग किसान नहीं लग रहे किसान आंदोलन: दिल्ली के विज्ञान भवन में सरकार को किसानों की 'दो टूक' - BBC News हिंदी

हिंदी समेत नौ भाषाओं में उपलब्ध कराए गए फैसले  जस्टिस गोगोई ने ही देश की आमजनता की अंग्रेजी भाषा को समझने की कठि‍नाइयों को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के फैसले अंग्रेजी के अलावा हिन्दी सहित करीब नौ भाषाओं में उपलब्ध कराने शुरू किये थे। उनके कार्यकाल में ही बहुत से फैसले हिंदी व अन्य भाषाओं में उपलब्ध हो चुके थे। कुछ फैसले तो एक से अधिक भाषा में उपलब्ध हैं। अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद सुप्रीम कोर्ट ने अहम मुकदमों में एक माना था और इसीलिए इस मुकदमें की लगातार 40 दिन तक सुनवाई की गई। यहां तक कि सोमवार और शुक्रवार के मिसलेनियस यानी नए मुकदमों को सुनने के लिए तय दिनों पर भी इस मुकदमे की सुनवाई चली थी। इस ऐतिहासिक मुकदमें पर सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर 2019 को फैसला सुनाया था। 

यह भी पढ़ेंवेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है हिंदी में फैसला 9 अगस्त को फैसला आए हुए 9 महीने पूरे हो जाएंगे लेकिन अभी तक फैसले का हिन्दी अनुवाद सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं है। इस फैसले के हिन्दी अनुवाद की बात इसलिए जरूरी है क्योंकि राम जन्मभूमि मामले में उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट मे अपील थी। उत्तर प्रदेश की प्रादेशिक भाषा हिन्दी है। सुप्रीम कोर्ट के जनसंपर्क अधिकारी राकेश शर्मा कहते हैं कि सामान्य तौर पर मुकदमा जिस प्रदेश से आता है, उस प्रदेश की प्रादेशिक भाषा को अनुवाद में प्राथमिकता दी जाती है। हालांकि कुछ फैसले एक से ज्यादा भाषाओं में भी अनुवादित हुए हैं। 

यह भी पढ़ेंदो प्रमुख समुदायों के बीच रिप्रजेन्टेटिव सूट था यह फैसला  और पढो: Dainik jagran »

काशी के किसानों के नाम पीएम का सीधा संदेश, पीएम मोदी ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड! देखें विशेष

ऐसे समय में जब कृषि कानूनों को लेकर आंदोलनकारी किसानों ने पांच दिन से दिल्ली की घेराबंदी कर रखी है. तब देश के प्रधानमंत्री ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी से उन्हें सीधे संबोधित किया. पीएम मोदी ने इशारों में विपक्ष पर दशकों तक किसानों से छल करने और अब उन्हें बरगलाने का आरोप लगाया. वहीं गंगा किनारे से उन्होंने किसानों को विश्वास दिलाया. पीएम मोदी ने कहा कि भले ही दशकों तक उनके साथ छल हुआ लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि उनकी सरकार की नीयत गंगा जल जैसी पवित्र है. देखिए बेहद खास शो, चित्रा त्रिपाठी के साथ.

पहले देश को धर्म के नाम पर बटो फिर भाषा के नाम पर नाटक करो । उससे क्या होगा ? क्या फैसला बदल जायेगा ? मतलब पैदायशी गधे हो या पप्पू की पार्टी का असर है । After that does the meaning will change

अररिया: रेप सर्वाइवर के दो सहयोगियों को सुप्रीम कोर्ट से मिली ज़मानतजस्टिस अरूण मिश्रा की बेंच ने जन जागरण शक्ति संगठन के कार्यकर्ता तन्मय और कल्याणी को ज़मानत दे दी है. बीजेपी की रखैल... एक ज़ज़ जिसने सुप्रीम कोर्ट को शर्मसार कर दिया ( इतिहास मे लिखा जायेगा दुनिया का सबसे बड़ा भ्र्स्ट ज़ज़ ) Naya Hindustan Dukhad

प्रशांत भूषण का सुप्रीम कोर्ट को जवाब, कहा- मत की अभिव्यक्ति अदालत की अवमानना नहींवकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस के जवाब में सोमवार को कहा कि मत की अभिव्यक्ति से अदालत It should be fair not against justice Acha koi iske MC kahe to bhi mat ki abhivyakti hi hogi? ऐसे भी प्रशांत भूषण भूषण नहीं है ए तो महा प्रदूषण है

सुप्रीम कोर्ट का निर्देश- वरिष्ठ नागरिकों को समय पर दें पेंशन, मास्क, सैनिटाइजरउच्चतम न्यायालय ने केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देश दिया कि वे कोविड-19 संकट के दौरान अकेले रहने वाले सभी वरिष्ठ नागरिकों Thanks sc koi to h sunne wala kam se kam logo ki ईलाज दे साहब❗ बेहाल देश प्रदेश,, खरीदें हुए विधायक,, खरीदीं हुईं सरकारें,,, बेहाल जनता 😢😥 प्रिंट मीडिया, नहीं हो तो,,,, ईल्किटा्निक मिडिया का,, ज़मीर मरचुका चुका है😕❓ Badiya thanks

प्रशांत भूषण ने कहा- चीफ जस्टिस की स्वस्थ आलोचना कोर्ट की अवमानना नहींIndia News: कोर्ट की अवमानना के मामले में सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही का सामना कर रहे प्रशांत भूषण ने आज जवाब दाखिल किया। भूषण ने कहा कि चीफ जस्टिस की स्वस्थ आलोचना कोर्ट की अवमानाना नहीं है। Lekin court ne baar baar ye bola hai ki ye habitual offender hai ...ye ek baar ka nahi baar baar ka natiza hai Tere jese aswasth tuchiye se swasth alochna ki ummeed kese ki ja sakti hai

पाकिस्तान: हाई कोर्ट ने भारत को दी कुलभूषण जाधव का वकील नियुक्त करने की इजाजतPakistan News: Kulbhushan Jadhav: पाकिस्तान की इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव का वकील नियुक्त करने को लेकर भारत के अधिकारियों को इजाजत दे दी है। 🎈 Best .

पंडितों के बिना अधूरा है कश्मीर, सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त जज करें पलायन की जांचः फारूक अब्दुल्लापंडितों के बिना अधूरा है कश्मीर, सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त जज करें पलायन की जांचः फारूक अब्दुल्ला JammuAndKashmir KashmiriPandits OmarAbdullah PMOIndia HMOIndia MehboobaMufti OmarAbdullah PMOIndia HMOIndia MehboobaMufti जवाब नहीं इनका इनको देखिए कश्मीरी पंडितों का जb उत्पीड़न हो रहा था घाटी में तब शायद अब्दुल्ला साहब कोमा में थे आज ही यादाश्त लौटी है इनकी राजनीतिk आदमी है होश में आते ही कश्मीरी पंडितों के दर्द पर मरहम लगाने चल दिए . OmarAbdullah PMOIndia HMOIndia MehboobaMufti आज याद आ रही है हिंदुयों की जब 370 हटा दी और इनका राजपाठ सिमट गया। 30 वर्ष तक तमाशा देखते रहे ये धोखेबाज। अगर 370 न हटती और भाजपा न होती केंद्र में तब इनको याद नही आती हिंदुयों की। OmarAbdullah PMOIndia HMOIndia MehboobaMufti क्या फिर से तुम जैसे राक्षस को बलात्कार करने , हत्या करने के लिए हिंदू माँ, बहन चाहिए ! क्यों न जाँच इस बात की होनी चाहिए कि जो समाज, बलात्कार करने, नरसंहार करने में शामिल था उस समाज को नागरिकता समाप्त होनी चाहिए !