Todayınhistory, This Day İn History, Today İn History, This Day İn History 2020, What Happened Today İn History, Historical Events

Todayınhistory, This Day İn History

75 साल का हुआ यूनाइटेड नेशंस; 1946 में अंतरिक्ष से पृथ्वी की पहली तस्वीर

इतिहास में आज:75 साल का हुआ यूनाइटेड नेशंस; 1946 में अंतरिक्ष से पृथ्वी की पहली तस्वीर #TodayInHistory @UN

24-10-2020 07:30:00

इतिहास में आज:75 साल का हुआ यूनाइटेड नेशंस; 1946 में अंतरिक्ष से पृथ्वी की पहली तस्वीर TodayInHistory UN

दो देशों का झगड़ा हो, कोई विवाद हो या अंतरराष्ट्रीय स्तर से जुड़ा कोई मुद्दा, हर समाधान यूनाइटेड नेशंस (UN) के पास है। 24 अक्टूबर 1945 को बना UN आज 75 साल का हो रहा है। UN के मुख्य अंग हैं- जनरल असेंबली, सिक्योरिटी काउंसिल, इकोनॉमिक एंड सोशल काउंसिल, ट्रस्टीशिप काउंसिल, इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस और यूएन सेक्रेटेरिएट। यह सभी UN के साथ ही 1945 में बने थे। | What Is The Significance Of Today? What Famous Thing Happened On This Day In history; इतिहास में आज | 75 साल का हुआ यूनाइटेड नेशंस; 1946 में अंतरिक्ष से पृथ्वी की पहली तस्वीर On Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर) - Bhaskar.com

कॉपी लिंकदो देशों का झगड़ा हो, कोई विवाद हो या अंतरराष्ट्रीय स्तर से जुड़ा कोई मुद्दा, हर समाधान यूनाइटेड नेशंस (UN) के पास है। 24 अक्टूबर 1945 को बना UN आज 75 साल का हो रहा है। UN के मुख्य अंग हैं- जनरल असेंबली, सिक्योरिटी काउंसिल, इकोनॉमिक एंड सोशल काउंसिल, ट्रस्टीशिप काउंसिल, इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस और यूएन सेक्रेटेरिएट। यह सभी UN के साथ ही 1945 में बने थे।

रेलवे की जमीन पर बसी 48 हजार झुग्गियों को नहीं हटाया जाएगा, केंद्र ने SC से कहा- विचार कर रहे हैं TRP घोटाला : मुंबई पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट, अब तक हो चुकी हैं 12 गिरफ्तारियां कठुआ मामला: कहां पहुँची पीड़ित और दोषी परिवार की ज़िंदगी - BBC News हिंदी

पहले विश्वयुद्ध के बाद 1929 में राष्ट्र संघ बना था। लेकिन, वह दूसरा विश्वयुद्ध रोकने में नाकाम रहा तो 1946 में भंग कर दिया गया। 1944 में अमेरिका, ब्रिटेन, रूस और चीन के बीच ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन बनाने पर सहमति बनी। 1945 में 50 देशों के प्रतिनिधियों में बातचीत हुई और 24 अक्टूबर 1945 को यूनाइटेड नेशंस की स्थापना हुई।

आज UN का हेडक्वार्टर न्यूयॉर्क में है। इसके 193 सदस्य देश हैं। देशों के स्वतंत्र होने और पूर्व सोवियत संघ के टूटने के बाद सदस्य बढ़ते रहे। फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन, इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन, यूनेस्को, यूनिसेफ, विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी संस्थाएं यूएन से जुड़ी हैं।

भारत से नाताःयूनाइटेड नेशंस से भारत को अब तक कुछ ज्यादा लाभ नहीं हुआ है। 1948 में जम्मू-कश्मीर से जुड़ी समस्या हो या 1971 में पूर्वी पाकिस्तान का संकट, भारत की मांगों की अनदेखी हुई है। योगदान के आधार पर भारत लंबे समय से UN की संरचना में बदलाव और सिक्योरिटी काउंसिल में वीटो पॉवर के साथ स्थायी सदस्यता की दावेदारी कर रहा है।

74 साल पहले अंतरिक्ष से पृथ्वी की पहली तस्वीर24 अक्टूबर 1946 को अमेरिका के न्यू मैक्सिको में व्हाइट सैंड्स मिसाइल रेंज से दागे गए रॉकेट ने जमीन से 105 किमी ऊपर यह तस्वीर ली थी। यह रॉकेट जर्मन V2 था, जिसे दूसरे विश्वयुद्ध के खत्म होने पर अमेरिका ने उससे छीन लिया था। नाजी रॉकेट प्रोग्राम के सैकड़ों वैज्ञानिकों और इंजीनियरों ने अमेरिकी और रूसी अंतरिक्ष प्रोग्राम्स में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

युद्ध के दौरान V2 रॉकेट ने लंदन और अन्य शहरों पर दहशत बरसाई थी, लेकिन शांतिकाल में इसकी विस्फोटक सामग्री को निकालकर उसकी जगह साइंटिफिक इंस्ट्रूमेंट्स लगाए गए थे। इसमें 35mm मोशन-पिक्चर कैमरा लगा था, जो हर डेढ़ सेकंड में एक तस्वीर खींच रहा था।अमेरिका में ‘मदर ऑफ सिविल राइट्स मूवमेंट’ का निधन

मोंटगोमरी बस में बैठी रोजा पार्क्स का स्टैच्यू, जिसे बर्मिंघम सिविल राइट्स इंस्टिट्यूट, अलबामा में रखा है।अफ्रीकी-अमेरिकी सिविल राइट्स एक्टिविस्ट रोजा पार्क्स ने 1955 में एक गोरे को बस में सीट देने से इनकार कर दिया था और यह अमेरिका में सिविल राइट्स मूवमेंट की चिंगारी बना था। 1 दिसंबर 1955 को उन्हें शहर के नस्लभेदी कानून के तहत गिरफ्तार किया गया। इसके बाद मार्टिन लूथर किंग के नेतृत्व में एक पब्लिक मूवमेंट शुरू हुआ, जिससे न केवल अमेरिका में नस्लभेदी कानूनों को रद्द करना पड़ा, बल्कि मार्टिन लूथर किंग ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोहरत हासिल की। इस सफल कैम्पेन की चिंगारी बनने के लिए रोजा पार्क्स को मदर ऑफ द सिविल राइट्स मूवमेंट भी कहा जाता है। 2005 में 24 अक्टूबर को रोजा पार्क्स की 92 वर्ष की उम्र में मौत हो गई।

'COVID वैक्सीन कब आएगी, आपके और हमारे हाथ में नहीं'- CMs के साथ बैठक में बोले PM मोदी : सूत्र राहुल गांधी के अध्यक्ष पद पर लौटने तक गद्दी संभाले रखना सोनिया गांधी के लिए हुआ मुश्किल शिवसेना के MLA प्रताप सरनाईक के आवास पर ED का छापा, मनी-लॉन्डरिंग केस में बेटे से हुई पूछताछ

आज की तारीख को इन घटनाओं के लिए भी याद किया जाता हैः1577: चौथे सिख गुरु रामदास ने अमृतसर शहर की स्थापना की, शहर का नाम तालाब अमृत सरोवर के नाम पर रखा गया।1579: जुसुइट पादरी एसजे थामस भारत आने वाले पहले अंग्रेज थे। वह पुर्तगाली नौका से गोवा पहुंचे।1605: मुगल शासक जहांगीर ने आगरा में गद्दी संभाली।

1851: कलकत्ता और डायमंड हार्बर के बीच पहली टेलीग्राफ लाइन शुरू हुई।1856: दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया ने संविधान को मान्यता दी।1861ः कैलिफोर्निया के जस्टिस स्टीफन जे फील्ड ने अमेरिकी राष्ट्रपति लिंकन को पहला अंतरमहाद्वीपीय टेलीग्राफ संदेश भेजा।1912ः प्रथम बाल्कन युद्ध-सर्बियाई सेनाओं ने वरदार मैसेडोनिया में कुमानोवो की लड़ाई में तुर्क सेना को हराया।

1915ः अमेरिकी शहर न्यूयॉर्क में 25 हजार महिलाओं ने मतदान के ​अधिकार के लिए प्रदर्शन किया।1975ः बंधुआ मजदूर प्रथा को समाप्त करने अध्यादेश लाया गया और अगले दिन से यह प्रभाव में आया। और पढो: Dainik Bhaskar »

पश्चिम बंगाल: बीजेपी-टीएमसी में क्यों छिड़ी है आर-पार की जंग?

पश्चिम बंगाल में चुनाव की आहट तेज हो गई है. एक तरफ ममता बनर्जी की सरकार है तो दूसरी तरफ बीजेपी के दावे दमदार हैं. वैसे तो बंगाल के चुनाव में दो दावेदार कांग्रेस और लेफ्ट फ्रंट भी हैं. असली लड़ाई टीएमसी औ बीजेपी में ही छिड़ी है. सबसे बड़ी बात ये है कि जीत के दावे दोनों कर रहे हैं. इन दावों से टकराकर हिंसक चिंगारी भी फूट रही है. बीजेपी ने उत्तर पूर्व के तमाम राज्यों में अपनी सरकार बना ली है. बीजेपी इधर बिहार में नीतीश कुमार के साथ सरकार बनाने जा रही है. बीच में बचा बंगाल जहां अपना झंडा फहराने की उसकी तमन्ना है. वहां आज भी ममता बनर्जी का व्यापक असर है. ऐसे में दोनों पार्टियों की जंग काफी तीखी होती जा रही है. देखिए दस्तक, चित्रा त्रिपाठी के साथ.

UN United Nation Is Strong

बिहार चुनाव में बीजेपी का संकल्प: 19 लाख नौकरियाँ, मुफ़्त कोरोना का टीका - BBC News हिंदीभारतीय जनता पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए अपना संकल्प पत्र जारी कर दिया है. इसमें बिहार के लोगों से कई वादे किए गए हैं. इससे पहले एलजेपी और कांग्रेस ने भी यहां के लोगों से कई वादे किए हैं. बिहार में फिर एक बार NDA सरकार ✌️✌️✌️✌️✌️ 😂😂 पुरा देश बेच दिया सरकार ने ,फिर कहासे देगी ये सरकार नोकरिया , बिहार वासीओ वोट सोच समजकर देना , हमने तो गलती कर दि

चीन का बहिष्कार बेअसर, भारत में 76% मोबाइल बाजार पर चीनी कंपनियों का कब्जाभारतीय बाजार में शाओमी का दबदबा कायम है और इस तिमाही में 1.3 करोड़ फोन की बिक्री के साथ शाओमी बाजार हिस्सेदारी में पहले Koi option hi nhi hai pura market chaina ne chin liya hai jra tax badao fir dekho kiska phone bhechta hai to BJPBiharState jantadal ShivSena RSSorg INCIndia ShivSena ndtvindia aajtak News18India ZeeNews BBCHindi NavbharatTimes DainikBhaskar AnupamPKher ajitanjum sambitswaraj वो भी एक जुमला था l BJP सरकार से इस से ज्यादा उम्मीद करना बबूल के पेड़ पर आम उगाने जैसा ही तो है ज्यादा मत बोलो नही तो साहेब 10 20 एप ओर बेन कर के बदला ले लेंगे

बालाकोट में फिर खुला आतंक का कंट्रोल रूम, फिदायीन हमले का खुफिया अलर्टखुफिय रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बालाकोट में एक बार फिर से जैश के आतंकी कैंपों को भारी संख्या में सक्रिय कर दिया गया, ताकि बड़े फिदायीन हमले कराए जा सकें. jitendra AAP KO KAISE PATA CHALA? jitendra चलो अच्छा है हमारे फोजी लोगो को रोजगार मिलेगा। उधर कुछ मासूम आतंकी ८२ हर्रो की नसीब होंगे jitendra Bihar election

बिहार में रोज़ 10 लाख रोज़गार देने का नीतीश का दावा कितना सच - BBC News हिंदीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वर्चुअल रैली में दावा किया था कि राज्य में प्रतिदिन 10 लाख रोज़गार मिल रहे हैं. 😀😀 Oho no no no hahahaha🤣🤣🤣🤣🤣🤣 🐍🐍🐍🐍🐍

हिमालय में आ सकता है सदी का बड़ा भूकंप, दिल्ली भी होगी जद मेंहिमालय पर्वत शृंखला में कई सिलसिलेवार भूकंपों के साथ हमारे जीवनकाल का अगला बड़ा भूकंप कभी भी आ सकता है। सारा कुछ हमारी पीढी को ही देखना है क्या 😄 ModiHaiToMumkinHai संभव है।

चीनी जासूसी कांड में खुलासा-प्रधानमंत्री कार्यालय और बड़े दफ्तरों में सेंध लगाने का था प्लानजासूसी मामले में पकड़ी गई युवती क्विंग शी ने पूछताछ के दौरान जांच एजेंसियों के सामने कई राज खोले हैं. जांच एजेंसियों को पता चला कि चीन ने भारत में अपनी जासूसी टीम को प्रधानमंत्री कार्यालय समेत बड़े कार्यालयों की आंतरिक जानकारी देने को कहा था.