दिल्ली हाईकोर्ट एनआईए जज न्यूज, Uapa Case, Patiala House Judge, Patiala House Court, Nıa Special Judge, Delhi High Court Orders, Delhi High Court On Nia Judge, Delhi High Court News, Delhi High Court Cause List, Delhi High Court Case Status, Metro News, Metro News İn Hindi, Latest Metro News, Metro Headlines, मेट्रो Samachar

दिल्ली हाईकोर्ट एनआईए जज न्यूज, Uapa Case

6 महीने से लटकी थी UAPA के तहत आरोपी बुजुर्ग की जमानत याचिका पर सुनवाई, हाईकोर्ट ने की NIA जज की खिंचाई

6 महीने से लटकी थी UAPA के तहत आरोपी बुजुर्ग की जमानत याचिका पर सुनवाई, हाईकोर्ट ने की NIA जज की खिंचाई

01-08-2021 12:53:00

6 महीने से लटकी थी UAPA के तहत आरोपी बुजुर्ग की जमानत याचिका पर सुनवाई, हाईकोर्ट ने की NIA जज की खिंचाई

दिल्ली हाईकोर्ट ने एक व्यक्ति की जमानत याचिका पर सुनवाई में 6 महीने से अटके होने पर कड़ा रुख अपनाया। अदालत ने इस मामले में एनआईए जज की खिंचाई की। कोर्ट ने निर्देश दिया कि इस मामले में 7 अगस्त को सुनवाई की जाए।

जमानत याचिका पर सुनवाई नहीं करने के स्पेशल जज के कारण से जताई असहमतिकोर्ट ने स्पेशल जज को दिया निर्देश- 7 अगस्त को जमानत याचिका पर करें सुनवाईआतंकवाद को फंड करने के लिए हवाला लेनदेन के मामले में आरोपी है बुजुर्ग सलीमनई दिल्लीदिल्ली हाईकोर्ट ने यूएपीए (UAPA) के तहत जेल में बंद 60 वर्षीय व्यक्ति की जमानत याचिका पर सुनवाई में छह महीने की देरी पर नाराजगी जताई। हाईकोर्ट ने इस मामले में स्पेशल जज की खिंचाई करते हुए केस की सुनवाई के लिए एक तारीख तय करने को कहा है। जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और अनूप जे भंभानी की पीठ ने स्पेशल एनआईए जज, पटियाला हाउस को इस साल फरवरी में दायर की गई जमानत याचिका पर शीघ्रता से निर्णय लेने का निर्देश दिया।

टेम्पो ड्राइवर की बेटी बनीं ओपनर बल्लेबाज: नागौर की संध्या 7 साल पहले पिता के साथ पहुंची हैदराबाद, स्टेडियम में मैच देखा तो क्रिकेट खेलना शुरू किया, अब हैदराबाद टीम के लिए खेलेगी चीन ने सीमा विवाद पर भारत से की शांतिपूर्ण समाधान की पेशकश, कहा- मुद्दों को विवाद नहीं बनने देना चाहिए - BBC Hindi Quad Summit Updates: मौलिक अधिकारों में क्वाड का विश्वास, आस्ट्रेलिया-जापान ने दिया मुक्त और खुले इंडो पैसिफिक क्षेत्र पर जोर

7 अगस्त को सुनवाई करने का निर्देशपीठ ने मामले की वस्तुतः सुनवाई नहीं करने के लिए एनआईए जज की तरफ से बताए गए कारण को असहमति जताई। एनआईए जज ने केस 'बहुत भारी नेचर' होने की बात कह कर मामले की वर्चुअली सुनवाई से इनकार किया था। स्पेशल जज ने आरोपी से कहा था कि वह अदालत के फिर से खुलने तक इंतजार करें। कोर्ट ने एनआईए जज को 7 अगस्त को जमानत याचिका पर सुनवाई करने का निर्देश दिया।

Delhi High Court: 15 अगस्त के बाद HC और जिला अदालतों में गूंजेगा 'ऑर्डर-ऑर्डर'!निर्णय नहीं करने के कारणों से असहमतपीठ ने अपने आदेश में कहा, 'यह देखा गया है कि इस अदालत के सिंगल जज की तरफ से जारी निर्देशों के बावजूद, जमानत आवेदन स्पेशल जज, एनआईए, पटियाला हाउस कोर्ट में पेंडिंग है। वह भी इस आधार पर कि इस विषय से संबंधित रिकॉर्ड बड़ा है, इसलिए यह एक बार कोर्ट खुलने के बाद ही जमानत अर्जी पर सुनवाई संभव होगी, न कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से। हाईकोर्ट ने कहा, "हम स्पेशल जज, एनआईए की तरफ से अपीलकर्ता की जमानत अर्जी पर सुनवाई और निर्णय न करने के कारणों से सहमत नहीं हैं। headtopics.com

देश में सस्ती हो सकती है डायबिटीज की दवा, दिल्ली हाई कोर्ट का यह आदेश बनेगा वजहआतंकवाद को फंडिंग मामले में किया था अरेस्टपीठ ने एनआईए जज को 07 अगस्त को 'अदालतों के फिजिकली कामकाज को फिर से शुरू होने की प्रतीक्षा किए बिना' आरोपी मोहम्मद सलीम की जमानत याचिका पर सुनवाई करने और 'शीघ्रता से' याचिका का निपटान करने का निर्देश दिया। सलीम गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत आतंकवाद को फंड करने के लिए हवाला लेनदेन में कथित रूप से शामिल होने का आरोपी है। याचिका के अनुसार, सलीम 26 सितंबर, 2018 से हिरासत में है। एजेंसी के अनुसार, पाकिस्तान के साथ कथित आतंकी फंडिंग मॉड्यूल के संबंध में एनआईए ने उसे अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया था।

Navbharat Times News App: और पढो: NBT Hindi News »

आज की पॉजिटिव खबर: UP के 3 दोस्तों ने नौकरी छोड़ किसानों के लिए तैयार किया मोबाइल ऐप; 8 लाख किसान जुड़े, 30 करोड़ रुपए टर्नओवर, फोर्ब्स में मिली जगह

ज्यादातर किसानों को खेती के बारे में सही जानकारी नहीं होती है। मसलन खेती की मिट्टी कैसी है, उस हिसाब से किन-किन फसलों की खेती करनी चाहिए? अच्छे प्रोडक्शन के लिए क्या करना चाहिए? फसल में बीमारी लग जाए तो उसका बचाव कैसे करें? खेती के लिए जरूरी चीजें कहां से खरीदें? फसल कटने के बाद अपना प्रोडक्ट कहां बेचें? कृषि को लेकर सरकार की कौन-कौन सी योजनाएं हैं, उनका लाभ कैसे लिया जा सकता है? ये कुछ ऐसे सवाल ह... | 29-year-old Harshit prepared mobile app to help farmers, more than 8 lakh farmers joined, turnover reached Rs 30 crore

मिजोरम विस्फोटक मामले में एनआइए ने शुरू की जांच, गृह मंत्रालय ने सौंपी केस की जिम्मेदारीअसम राइफल्स की ओर से 26 जून को चलाए गए चेकिंग अभियान के दौरान 3000 स्पेशल डेटोनेटर 925 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर 40 बॉक्स वायर समेत एक टन से अधिक विस्फोटक पदार्थ मिले थे। इस मामले की जांच एनआइए को सौंपी गई है।

पेगासस मामले पर सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को करेगा सुनवाई, CJI की बेंच के समक्ष होगा मामलासुप्रीम कोर्ट की दो न्यायाधीशों की खंडपीठ गुरुवार को पेगासस घोटाले (Pegasus Scandal) की विशेष जांच के अनुरोध वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि विपक्षी नेताओं, पत्रकारों और अन्य लोगों की इजरायली स्पाइवेयर द्वारा जासूसी करवाए गए हैं. ये याचिकाएं वरिष्ठ पत्रकार एन राम, सीपीएम नेता जॉन ब्रिटास और अधिवक्ता एमएल शर्मा ने दायर की हैं. 🔥👀 Who will record Who will give evidence सिर्फ और सिर्फ खाना पूरी (दिखावा जनता को बेकूफ बनाने की कोशिश)

नरेंद्र मोदी के खिलाफ बोलने पर वरुण गांधी पर अमित शाह ने की थी 'कार्रवाई'नरेंद्र मोदी के रैली के बाद वरुण गांधी ने कहा था, 'यह ठीक-ठाक था...वहां 40 से 50 हजार के करीब लोग थे। आप लोगों को गलत आंकड़े मिल रहे हैं। यह सच नहीं है कि दो लाख लोग पहुंचे थे। भीड़ तो सिर्फ 40-50 हजार लोगों की थी।'

सुप्रीम कोर्ट पेगासस जासूसी के आरोपों की जांच वाली याचिकाओं पर 5 अगस्त को करेगा सुनवाईपेगासस मामले सुप्रीम कोर्ट जिन याचिकाओं पर सुनवाई करेगा उसमें वरिष्ठ पत्रकार एन राम और शशि कुमार की याचिका भी शामिल है। शीर्ष अदालत की वेबसाइट पर अपलोड की गई वाद सूची के अनुसार चीफ जस्टिस एन वी रमण और जस्टिस सूर्यकांत की पीठ तीन अलग-अलग याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। LambaAlka Modi ji.. Ab to kuchh bol do 🙏 LambaAlka Mujhe lagta hai modi ji ko suprim court par pura bharosa hai.... Isiliyr itni shanti hai bhai LambaAlka सच निकले

Assam Mizoram dispute: सीमा पर शांति, गुवाहाटी ने नगालैंड और अरुणाचल से शांति वार्ता कीअसम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने इस बीच हाल में सीमा पर हुई हिंसा को लेकर मिजोरम सरकार द्वारा उनके और राज्य के छह अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का कारण पूछा, जबकि घटनास्थल उनके राज्य की ‘‘संवैधानिक सीमा’’ के अंदर है. Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITC4Assam AITC4Delhi AITC4Bihar AITC4Jharkhand AITC4Tripura AITC4UP mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout mizoramspeaksout *_REQUEST TO MEDIA & MODI JI TEAM*_ Please support & help to continue flight between India and Kazakhstan so that we don't suffer further, at least allow Indians who took both vaccine at India. Employee,Students & Bussiness is suffering from ban and this must be removed ASAP.

उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे संबंधी याचिका ख़ारिज कर क्या कोर्ट ने पर्यावरण चिंताओं की उपेक्षा की?बीते फ़रवरी माह में हुए उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे के बाद प्रलयंकारी बाढ़ लाने वाली ऋषिगंगा नदी पर बन रही एनटीपीसी की दो जलविद्युत परियोजना को मिली वन एवं पर्यावरण मंज़ूरी रद्द करने के लिए एक याचिका दायर की गई थी. हालांकि कुछ दिन पहले हाईकोर्ट ने चमोली ज़िले के पांच याचिकाकर्ताओं की प्रमाणिकता पर ही सवाल उठाते हुए इस याचिका को ख़ारिज कर दिया और प्रत्येक पर 10-10 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया है.