500 किसानों का जत्था सिंघु बॉर्डर रवाना: 51 फीट लंबी ट्रॉली लेकर कारसेवा हुजूर साहिब वाले बाबा हुजूर सिंह बसताडा टोल से निकले

500 किसानों का जत्था सिंघु बॉर्डर रवाना: 51 फीट लंबी ट्रॉली लेकर कारसेवा हुजूर साहिब वाले बाबा हुजूर सिंह बसताडा टोल से निकले #FarmersProtest #SinghuBorder

Farmersprotest, Singhuborder

02-12-2021 15:50:00

500 किसानों का जत्था सिंघु बॉर्डर रवाना: 51 फीट लंबी ट्रॉली लेकर कारसेवा हुजूर साहिब वाले बाबा हुजूर सिंह बसताडा टोल से निकले FarmersProtest SinghuBorder

हरियाणा के करनाल जिले के सैकड़ों किसान गुरुवार को आंदोलन में शामिल होने के लिए सिंघु बॉर्डर रवाना हुए। एक तरफ तो आंदोलन खत्म होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं, वहीं दूसरी तरफ आए दिन किसानों की संख्या बॉर्डर की तरफ पहले से भी ज्यादा हो रही है। | हरियाणा के करनाल जिले के सैकड़ों किसान गुरुवार को आंदोलन में शामिल होने के लिए सिंघु बॉर्डर रवाना हुए। एक तरफ तो आंदोलन खत्म होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं, वहीं दूसरी तरफ आए दिन किसानों की संख्या बॉर्डर की तरफ पहले से भी ज्यादा हो रही है।

500 किसानों का जत्था सिंघु बॉर्डर रवाना:51 फीट लंबी ट्रॉली लेकर कारसेवा हुजूर साहिब वाले बाबा हुजूर सिंह बसताडा टोल से निकलेकरनालकॉपी लिंक51 फीट लंबी ट्रॉली आकर्षण का केंद्र रही।हरियाणा के करनाल जिले के सैकड़ों किसान गुरुवार को आंदोलन में शामिल होने के लिए सिंघु बॉर्डर रवाना हुए। एक तरफ तो आंदोलन खत्म होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं, वहीं दूसरी तरफ आए दिन किसानों की संख्या बॉर्डर की तरफ पहले से भी ज्यादा हो रही है।

गुरुवार को रवाना हुए जत्थे में 51 फीट लंबी ट्रॉली आकर्षण का केंद्र रही। ट्रॉली में हर प्रकार की सुविधा तैयार करने के लिए 15 लाख रुपए खर्च हुए हैं। ट्रॉली में सुविधाएं निसिंग के कारसेवा हुजूर साहिब वाले बाबा हुजूर सिंह ने तैयार करवाई है। चढ़ने-उतरने के लिए सीढ़ियां, 12 टायर लगे हैं। किसान नेताओं का कहना है कि जब तक किसानों की सभी मांगों को नहीं माना जाता तब तक किसान निरंतर रवानगी करते रहेंगे।

सिंघु बॉर्डर पर जाने की तैयारी करते हुए किसान।प्रदेश कोर कमेटी सदस्य जगदीप औलख ने बताया कि विश्व की सबसे लंबी 51 फीट की ट्रॉली ​​​​​में ​​कारसेवा हुजूर साहब वाले बाबा हुजूर सिंह के नेतृत्व में एक जत्था निसिंग से सिंघु बॉर्डर के लिए रवाना हुआ। इस ट्रॉली को करीब 15 लाख रुपये खर्च कर तैयार किया है। जत्थे में 500 के करीब लोग पहुंचे हैं। ट्रॉली के अलावा 20 गाड़ियां, दो बसें भी रवाना हुईं हैं। वहां पर लोग खुशी मनाने जा रहे हैं। जब तक आंदोलन जारी रहेगा, तब तक किसान बॉर्डर पर जाते रहेंगे। headtopics.com

‘एक साल से झारखंड की सरकार को गिराने में लगे थे आरपीएन सिंह’, अंबा प्रसाद का आरोप

आईटी सेल के जिला प्रधान बहादुर मैहला ने बताया कि जब से आंदोलन चल रहा है तब से भोजन, रहने व अन्य सुविधाओं के लिए संतों से सहयोग मिलता रहता है। आज भी बड़ी संख्या में जत्था बॉर्डर के लिए रचाना हुआ है।करनाल से सिंघु बॉर्डर के लिए रवाना होता किसानों का जत्था।

और पढो: Dainik Bhaskar »

ShortURL - URL Shortener

ShortURL is a url shortener to reduce a long link. Use our tool to shorten links and then share them, in addition you can monitor traffic statistics. और पढो >>

15 lakh kaha se aye

WhatsApp के जरिए बुक कराई जा सकेगी Uber की राइड, ऐप डाउनलोड करने की जरूरत नहींबुकिंग कराने पर ड्राइवर के बारे में और कैब के नंबर की जानकारी भी दी जाएगी। यूजर्स ड्राइवर की लोकेशन को देख सकेंगे और उससे एक बिना पहचान वाले नंबर के इस्तेमाल से बात कर सकेंगे Uber Time to uninstall Uber_Support as well Uber Wow😲😍

घबराएं नहीं, भारत में ओमिक्रॉन के मामले सामने आने के बाद केंद्र की अपील : 5 बातेंपिछले कुछ दिनों से दुनिया भर में हड़कंप मचा रहे कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने आख‍िरकार भारत में भी दस्‍तक दे ही दी. कर्नाटक में इसके दो मरीज सामने आए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी. दोनों में से एक मरीज की उम्र 66 साल है जबकि दूसरे की 46 साल. दोनों में ही फिलहाल कोई गंभीर लक्षण नहीं दिख रहे. क्या हर एक छोटे बड़े शहरों में ऑमिक्रॉन की जांच हो सकती है? क्या सिर्फ वायरल लोड से इसका पता चल जाएगा या जीनोम सिक्वेंसिंग आवश्यक है? 11 और 20 नवम्बर को आए थे... तो इन्हें भारत में ही हुआ है... PMOIndia केन्द्र सरकार को लापरवाही से बचना चाहिए। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा, सरकार को सबक लेना चाहिए था।

हिमाचल: चीन बॉर्डर के लिए बनेगा देश का सबसे ऊंचा तीसरा डबल लेन मार्गसामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण ग्रांफू-काजा-समदो मार्ग जल्द ही देश का तीसरा सबसे अधिक ऊंचाई पर बनने वाला डबललेन मार्ग

ममता बनर्जी- शरद पवार की मुलाकात और यूपीए के अंत की बात, 2004 से 2021 तक, यूपीए के उत्थान और पतन की दास्तान | Rise and Fall of UPARise and Fall of UPA: 2004 में अटल बिहारी वाजपेयी की नेतृत्व वाली केन्द्र की बीजेपी सरकार का विकल्प बनने वाला यूनाइटेड प्रोग्रेसिव अलायंस यानि यूपीए नरेन्द्र मोदी (PM Modi) के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार का विकल्प नहीं बनेगी क्योंकि अब उसका असित्व खत्म हो चुका है, कम से कम पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और TMC प्रमुख ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की ऐलान से तो ऐसा ही लगता है। 1 दिसंबर 2021 को एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) से मुलाकात के बाद तो ममता दीदी ने साफ कह दिया कि कहीं कोई यूपीए नाम की चीज़ है ही नहीं, क्षेत्रीय दलों को खुद साथ आकर मोदी सरकार का विकल्प पेश करना होगा। जनसत्ता की इस खास रिपोर्ट में एक नजर यूपीए के उत्थान और पतन पर..

कोविड लॉकडाउन: कोरोना की दूसरी लहर के बाद सुधरती अर्थव्यवस्थाअर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने की यह रफ्तार व्यापक आधार पर रही है, हालांकि निजी खपत, जो जीडीपी का एक बड़ा हिस्सा है और JusticForRailwayStudents

रिटायरमेंट के दिन जूते की माला भेंट!: रीवा में यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार से कर्मचारी यूनियन ने की हरकत; थैंक्यू कहकर दिया जवाबरीवा में अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार लाल साहब सिंह से रिटायरमेंट के दिन विदाई समारोह में बदसलूकी का मामला सामने आया है। यूनिवर्सिटी के कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों ने डिप्टी रजिस्ट्रार को जूते की माला भेंटकर मुर्दाबाद के नारे लगाए। जवाब में अफसर ने कहा-धन्यवाद, थैंक्यू। | Viral Video: Employees unions misbehaved with Deputy Registrar at Rewa APS University Creativity level ki tho daat deni padhegi 👏🏽👏🏽 Koon si baat thi Bhai Mahanata namarata se hi hashil hoti hai.