Stockmarket, Sensex, Budget, Stockmarket News, Stock Market Experts Views, Budget 2021, Union Budget 2021, Stock Market, Stock Market News, Share Market Today

Stockmarket, Sensex

50 हजार पॉइंट छूकर लौटा सेंसेक्स: एक साल में 27% निवेशक बढ़े, अगर बजट अच्छा रहा तो शेयर मार्केट 5% और बढ़ सकता है

50 हजार पॉइंट छूकर लौटा सेंसेक्स: एक साल में 27% निवेशक बढ़े, अगर बजट अच्छा रहा तो शेयर मार्केट 5% और बढ़ सकता है #StockMarket #sensex #Budget

21-01-2021 14:55:00

50 हजार पॉइंट छूकर लौटा सेंसेक्स: एक साल में 27% निवेशक बढ़े, अगर बजट अच्छा रहा तो शेयर मार्केट 5% और बढ़ सकता है StockMarket sensex Budget

सेंसेक्स पिछले 32 कारोबारी दिनों में 5 हजार अंक बढ़ा | Stock Market Experts Views , Budget 2021, Union Budget 2021, Stock Market, Stock Market News , Share Market Today

BSE Sensex At 50000; Market Experts Views On Budget Impact On StockAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप50 हजार पॉइंट छूकर लौटा सेंसेक्स:एक साल में 27% निवेशक बढ़े, अगर बजट अच्छा रहा तो शेयर मार्केट 5% और बढ़ सकता हैमुंबई21 मिनट पहले

ममता बनर्जी ने कसा तंज, ''भारत का नाम एक दिन PM नरेंद्र मोदी पर रखा जाएगा..'' वाम से जय श्रीराम तक, कैसा है Mithun Chakraborty का सियासी सफर? आजादी का 75वां साल कैसे मनाएंगे? पीएम मोदी ने बताए ये 5 फैक्टर

कॉपी लिंकसेंसेक्स पिछले 32 कारोबारी दिनों में 5 हजार अंक बढ़ाबॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी BSE का सेंसेक्स गुरुवार को 50 हजार के आंकड़े को छूकर लौट आया और 49,624 पर बंद हुआ। सेंसेक्स की आगे की चाल कैसी रहेगी, यह बजट पर निर्भर है। विशेषज्ञों को बजट से पॉजिटिव उम्मीदें हैं, लेकिन किसी सेक्टर को लेकर अगर कुछ निगेटिव आया, तो बाजार में गिरावट आ सकती है।

अगर बजट के बाद बाजार का रुख पॉजिटिव रहा तो यह मौजूदा स्तर से 5% से 8% तक बढ़ सकता है। यानी सेंसेक्स 53 हजार तक जा सकता है, लेकिन असर पर निगेटिव रहा तो इसमें 5% तक की गिरावट भी आ सकती है। यानी यह 48 हजार से नीचे जा सकता है।रजिस्टर्ड निवेशक 6 करोड़ से ज्यादा हुए headtopics.com

वैसे केवल बाजार ही तेजी में नहीं है, निवेशकों की संख्या भी बढ़ी है। कुल रजिस्टर्ड निवेशकों की संख्या 6 करोड़ से ज्यादा हो गई है। एक साल में यह संख्या 27.37% बढ़ी है। सबसे ज्यादा निवेशक महाराष्ट्र से हैं। इनकी संख्या 1.3 करोड़ है। गुजरात में 78 लाख निवेशक हैं। विश्लेषक कहते हैं कि कम ब्याज दरों के कारण निवेशकों को एफडी जैसी फिक्स्ड इनकम में अच्छा ब्याज नहीं मिल रहा। इसलिए वे इक्विटी में आ रहे हैं।

5 एक्सपर्ट्स से जानिए, यह तेजी क्या कह रही है और आगे क्या हो सकता है...1. अभी कैश फ्लो के कारण बाजार बढ़ा हैकैपिटल वाया के रोहित गाड़िया कहते हैं कि अभी सबसे बड़ा इवेंट बजट का है। इसलिए सावधानी जरूरी है। अभी तक की बाजार की तेजी लिक्विडिटी यानी कैश फ्लो पर आधारित है, लेकिन अब बाजार बजट के संकेतों पर चलेगा। वित्त मंत्री ने कहा है कि यह 100 साल में सबसे अलग बजट होगा। इसलिए बजट को बारीकी से देखना जरूरी है।

2. आर्थिक सुधार के लिए बड़ी घोषणाएं संभवआनंद राठी शेयर्स एंड स्टॉक ब्रोकर्स के इक्विटी रिसर्च हेड नरेंद्र सोलंकी का मानना है कि आर्थिक सुधारों के लिए बजट में बड़ी घोषणा हो सकती है। अगर कोई भी निराश करने वाला फैसला बजट में होता है तो बाजार पर उसका असर जरूर दिखेगा।

3. 42 साल में 15.52 की दर से बढ़ा सेंसेक्सइन्वेस्को म्यूचुअल फंड के इक्विटी के निवेश अधिकारी ताहेर बादशाह कहते हैं कि बाजार में अभी और तेजी बाकी है। सेंसेक्स पिछले 32 कारोबारी दिनों में 5 हजार अंक बढ़ा है। अप्रैल 1979 में यह 100 अंक पर था। इसका मतलब पिछले 42 सालों में सालाना 15.5% की दर से यह बढ़ा है। headtopics.com

'मारूंगा यहां, लाश ग‍िरेगी श्मशान में,' Mithun के डायलॉग पर झूम उठे लाखों बीजेपी वर्कर्स संस्कृत सीखने आईं स्पेन की मारिया बन गईं विश्वविद्यालय की टॉपर - BBC News हिंदी आज तक @aajtak

4. इक्विटी में तेजी रही तो निवेशकों को फायदानिप्पोन इंडिया म्यूचुअल फंड में इक्विटी के मुख्य निवेश अधिकारी (सीआईओ) मनीष गुनवानी कहते हैं कि 50 हजार तो बस एक नंबर है। आगे इक्विटी में तेजी बनी रहेगी तो निवेशकों को अच्छा फायदा होगा।5. सिर्फ 1% लोग इक्विटी फंड में पैसा लगाते हैं

और पढो: Dainik Bhaskar »

जीरो लाइन पर सुरंग वाली साजिश, पाकिस्तान के मंसूबों को ऐसे नाकाम करते हैं BSF के जवान!

सरहद की कटीली तारें, दुश्मन की नापाक निगाहें और इन सबका सामना करते बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के ये जवान. दिन हो या रात हो, मौसम चाहे जैसा भी हो, चाहे पाकिस्तान की तरफ से सीजफायर का उल्लंघन किया जाए, या फिर घुसपैठ कराने के लिए टनल जैसी साजिशों को अंजाम दिया जाए. इन सभी का सामना करने के लिए बीएसएफ के जवान हमेशा तैनात रहते हैं. ये हैं ताकत वतन की. जहां पग पग का इतिहास शौर्य में सराबोर है, जहां पग पग पर वर्तमान शौर्य का गवाह है, जहां पग पग पर संघर्ष है, चुनौती है, विजय है, देखिए देश की सरहद का हाल, श्वेता सिंह के साथ.