Exitpoll, Exitpoll 2019, Abpexitpoll 2019, Loksabhaelections 2019, State Wise Data, 2014 General Election Results, 2019 Exit Poll, 2019 Exit Poll Results, Abp-Nielson Exit Poll, Loksabha Election 2019

Exitpoll, Exitpoll 2019

2019 के Exit Poll के आंकड़े 2014 के नतीजों से कितने दूर और कितने पास हैं, जानिए राज्यवार

2019 के #ExitPoll के आंकड़े 2014 के नतीजों से कितने दूर और कितने पास हैं, जानिए राज्यवार #ExitPoll2019 #ABPExitPoll2019 #LokSabhaElections2019

20.5.2019

2019 के ExitPoll के आंकड़े 2014 के नतीजों से कितने दूर और कितने पास हैं, जानिए राज्यवार ExitPoll2019 ABPExitPoll2019 LokSabhaElections2019

Loksabha Election 2019 Exit Poll : एग्ज़िट पोल के नतीजे सामने आने के बाद लोगों में इस बात को भी जानने की दिलचस्पी है कि साल 2014 में हुए आम चुनाव में आखिरी नतीजे कैसे रहे थे. इस एग्ज़िट पोल से 2014 के आंकड़े कितने पास और कितने दूर थे. ऐसे में हम आपको 2014 के आखिरी नतीजे और 2019 के एबीपी न्यूज़-नीलसन के एग्ज़िट पोल के आंकड़ों से बता रहे हैं कि किस राज्य में कौन-सी पार्टी को कितना नुकसान या फायदा हो रहा है.

रविवार को आखिरी चरण के चुनाव के बाद दिखाए गए लगभग तमाम एग्ज़िट पोल में बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए को भारी बहुमत मिलने का अनुमान लगाया गया है. एबीपी न्यूज़- नीलसन के एग्जिट पोल में भी एनडीए को बहुमत मिलता नज़र आ रहा है. बीजेपी और उनकी सहयोगी पार्टियों को 277 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस और उनकी सहयोगियों को 130 सीटें मिल सकती हैं. इसके अलावा अन्य पार्टियों के खाते में 135 सीटें जाने की संभावना है.

साल 2014 में आंध्र प्रदेश में बीजेपी को 2 सीटें मिली थीं. टीडीपी को सबसे ज्यादा 15 और YSR कांग्रेस को आठ सीटें मिली थीं.

पूर्वोत्तर के इस सबसे बड़े राज्य में साल 2014 में बीजेपी को सात, AIUDF को तीन, आईएनडी को एक और कांग्रेस को तीन सीटें मिली थीं.

पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 22, एलजेपी को छह, आरएलएसपी को तीन, जेडीयू को दो, आरजेडी को चार एनसीपी को एक और कांग्रेस को दो सीटें हाथ लगी थीं.

पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 10 सीटों पर कब्ज़ा किया था, जबकि कांग्रेस को सिर्फ एक सीट मिली थी.

साल 2014 में बीजेपी ने दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों पर कब्ज़ा किया था.

साल 2014 में बीजेपी ने राज्य की सभी 26 सीटें अपनी झोली में डाली थीं.

हरियाणा में साल 2014 में बीजेपी ने सात सीटें जिती थीं. कांग्रेस को सिर्फ एक पर संतुष्ट करना पड़ा था, जबकि आईएनएलडी के खाते में दो सीटें गई थीं.

साल 2014 में बीजेपी ने तीन सीटें जीती थीं, जबकि पीडीपी को भी तीन ही सीटों पर जीत मिली थी.

साल 2014 में इस राज्य में कांग्रेस का खाता भी नहीं खुल पाया था. बीजेपी को 12 और झारखंड मुक्ति मोर्चो का दो सीटें मिली थीं.

पिछले आम चुनाव में बीजेपी ने यहां 17 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जेडीएस के पास दो और कांग्रेस के पास नौ सीटें गई थीं.

साल 2014 के आम चुनाव में कांग्रेस ने यहां आठ सीटें जीती थीं. जबकि IUML को दो, KC(M) और RSP को एक-एक, CPI(M) को पांच, CPI को एक और IND. को दो सीटे मिली थीं.

साल 2014 में बीजेपी ने इस राज्य में भी प्रचंड सीटें हासिल की थीं. उसे 27 सीटों पर जीत मिली थी. जबकि कांग्रस महज़ दो ही सीटें जीत पाई थी.

साल 2014 में बीजेपी ने 23 और शिवसेना ने 18 सीटों पर कब्ज़ा किया था. इसके अलावा एनसीपी ने चार, कांग्रेस ने दो और SWP को एक सीट पर जीत मिली थी.

पिछले लोकसभा चुनाव में ओडिशा में नवीन पटनायक की बीजेडी ने मोदी लहर में भी 21 में से 20 सीटों पर कब्ज़ा जमाया था. जबकि बीजेपी को महज़ एक सीट मिली थी.

2014 के आम चुनाव में यहां पर बीजेपी को दो और अकाली दल को चार सीटें मिली थीं. जबकि आम आदमी पार्टी को चार और कांग्रेस को तीन सीटों पर जीत मिली थी.

साल 2014 में बीजेपी ने यहां की सभी 25 सीटों पर कब्ज़ा जमाया था.

पिछले आम चुनाव में यहां AIADMK ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 37 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि पीएमके और बीजेपी को एक एक सीट मिली थी.

2014 के आम चुनाव में यहां टीआरएस को 11, कांग्रेस को दो, बीजेपी को एक, टीडीपी को एक, YSRCP को एक और AIMIM को एक सीट पर सफलता हाथ लगी थी.

पिछले आम चुनाव में बीजेपी ने यहां की सभी पांच सीटों पर जीत हासिल की थी.

साल 2014 में इस राज्य में ममता बनर्जी की टीएमसी का जादू खूब चला था. 42 सीटों में से 34 सीटों पर टीएमसी ने कब्ज़ा जमाया था. जबकि कांग्रेस को चार, बीजेपी को दो और सीपीआईएम को दो सीटें हाथ लगी थीं.

और पढो: ABP न्यूज़ हिंदी

RahulGandhi narendramodi Ayesa parinam hona chahiye RahulGandhi narendramodi मीडया वालों ये एग्जिट पोल भी नोट करलो 👌 RahulGandhi narendramodi RahulGandhi narendramodi Nahi janna hai aaplogo se.. aaplog sab k sab bik gaye ho narendramodi k haathon.. RahulGandhi narendramodi Nahi janna hai aaplogo se.. aaplog bik gaye ho narendramodi nak haathon..

RahulGandhi narendramodi जो यूपी मे 22 दे रहा है वो भी देश मे 300 दे रहा है जो यूपी में 68 दे रहा है वो भी देश मे 300 दे रहा है चिलम में भी दारु डालने लगे हो क्या ।।🤣

कितने सटीक थे 2014 के एग्जिट पोल- किसने क्या बताया और हुआ क्या?आखिरी चरण का मतदान संपन्न होने के बाद 2019 लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल आएंगे। इससे पहले जान लीजिए, 2014 के एग्जिट पोल में किसने क्या कहा और आखिर में क्या हुआ। ResultsWithAmarUjala ExitPoll2019 एग्जिटपोल2019 2019ExitPoll

ग्राउंड रिपोर्ट: PM मोदी के किए गए कामों पर क्या कहता है वाराणसी का चायवाला– News18 हिंदी2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब वाराणसी को लोकसभा का चुनाव लड़ने के लिए चुना, तभी से वाराणसी के लोगों में विकास की एक नई उम्मीद जग गई थी. लोगों ने इस नाम पर नरेन्द्र मोदी को जमकर वोट दिया कि वो सांसद नहीं देश का प्रधानमंत्री चुन रहे हैं. ऐसे में 2019 के चुनावों के पहले क्या वाराणसी उतना बदला, जितना लोगों को उम्मीद थी, इसका अंदाजा वाराणसी के लालबहादुर शास्त्री हवाई अड्डे पर उतरते ही मिलने लगता है. 2014 के पहले हवाई अड्डे से वाराणसी के कैंट इलाके में किसी होटल में पहुंचने का समय तय नहीं था. anilrai123 BJP4India MERA DESH JAG RHA HAI MERA DESH BADH RHA HAI anilrai123 BJP4India Itni reporting Amethi mein ki hoti to 10 saal pehle hi bhaag gaya hota pappu waha se anilrai123 BJP4India वाराणसी जितना ५ साल में बदला है उतना ५० साल में नहीं बदला था

लोकसभा चुनाव 2019 : 'राजा' के समर्थक के नाम पर संदेह के दायरे में 'महाराजा' के मंत्री– News18 हिंदीग्वालियर में पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले 8 फीसदी ज़्यादा वोटिंग होने के बावजूद कांग्रेस के मंत्री और विधाय़क सवालों के घेरे में हैं. लोकसभा चुनाव में 60 फीसदी मतदान हुआ जो 2014 को मुक़ाबले 8 फीसदी ज़्यादा है. लेकिन मंत्री और विधायकों के इलाकों में 2018 के विधानसभा चुनाव के मुकाबले 14 फीसदी तक कम वोटिंग हुई है. आरोप लग रहे हैं कि सिंधिया खेमे के मंत्रियों और विधायकों ने दिग्विजय खेमे के कांग्रेस प्रत्याशी अशोक सिंह के लिए काम नहीं किया. अगर यहां कांग्रेस को नाकामी मिलती है तो ये मामला तूल पकड़ेगा. अब मीडिया फर्जी गांधी राहुल को हार के इल्जाम से बचाने के लिए षड्यंत्र रच रही Both of you face defeat in this election because you are great sycophants of pappu Khan and pappi Khan Badra .

Exit Poll: NDA अबकी बार 300 पार, कांग्रेस के लिए है बस एक अच्छी खबर!– News18 हिंदी2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को 44 सीटें आने के कारण नेता प्रतिपक्ष का पद नहीं मिला था. लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष के दर्जे के लिए 10 फीसदी सीटें आनी जरूरी हैं. 543 सदस्यीय लोकसभा में 2014 में किसी भी दल को 54 सीटें नहीं आई थीं. कांग्रेस 5 साल तक नेता प्रतिपक्ष के दर्जे के लिए लगातार लड़ती रही. Bechara ponga Pandit सब कुछ लुट गया पप्पू जी का घुटनो के बीच डाल दी मुंडी झुके कंधे, लटका सिर अब क्या संकेत चाहिए।आत्मवालोकन कि जरूरत है।

Exit Polls: पिछले चुनाव में क्या थे एग्जिट पोल के नतीजे और कितने थे सटीक?अब जब 2019 के एग्जिट पोल और नतीजे दोनों ही लोगों के सामने होंगे, ऐसे में हम आपको 5 साल पुरानी तस्वीर सामने रख रहे हैं. 2014 = 2+1+0+4=7 BJP 282 सीट 2019=2+1+9=12 = 282 सीट=12 कुल मिलाकर 12-7=5 साल एग्जिट पोल =282+5 साल ज्यादा बीजेपी= 287 सीटे आएगी ।।। इसे 3 दिन तक एग्जिट पोल covarage बना सकते हो । U people r talking about exit pole while polling held 47% this is subject of worried its happening bcz none of government caring for equality for development zonal Breaking News

चंडीगढ़ का दुर्ग बचाने आज मोदी उतरेंगे मैदान में, किरण खेर को मिल रही है तगड़ी चुनौतीस्टारडम की चकाचौंध से सियासत में आईं 66 साल की किरण खेर 2014 में देश के आधुनिक शहरों में शुमार चंडीगढ़ से सांसद बनीं. बीते पांच साल में उनका नाम कई विवादों से जुड़ा. कभी संसद में वो बहस के दौरान अजीबोगरीब चेहरे बनाते दिखीं तो कभी रेप पीड़िता के ऑटो में बैठने को लेकर विवादित टिप्पणी की. किरण खेर के पति अनुपम खेर भी इस चुनावी समर में उनका साथ दे रहे हैं. Kiran kher this time lose badly Kohi chunouti nahi hai Aayega to Modi hi

NEWS FLASH: कश्मीर से कन्याकुमारी, कच्छ से कामरूप तक, सारा देश कह रहा है - अब की बार 300 पार : PMपश्चिम बंगाल में लोकसभा की उन नौ सीटों के लिए बृहस्पतिवार को रात 10 बजे प्रचार समाप्त हो गया जहां अंतिम चरण में चुनाव होने हैं. देश में यह पहली बार हो रहा है जब तय समय से 20 घंटे पहले चुनाव प्रचार खत्म कर दिया गया हो और ऐसा चुनाव आयोग के आदेश के मुताबिक हुआ है. इसके अलावा प. बंगाल के आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार को गिरफ्तारी से संरक्षण हटाने के फैसले पर SC में सुनवाई आज होगी. तो दूसरी तरफ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह आज दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. इसके अलावा 3 तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद मामले सामने आ रहे जिन पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई होनी है. तो वहीं दिल्ली में इंडिया हैबिटेट सेंटर के 14वें हैबिटैट फिल्म फेस्टिवल संस्करण के सिनेमाई सफर अश्विन कुमार की हाल ही में रिलीज फिल्म नो फादर इन कश्मीर से आज से शुरू होगा. इस फिल्म फेस्टिवल में 19 भारतीय भाषाओं की 42 फीचर फिल्में प्रस्तुत होंगी, जिनमें डॉक्युमेंट्री, शॉर्ट्स और स्टूडेंट फिल्में शामिल हैं. देश-दुनिया की राजनीति, खेल एवं मनोरंजन जगत से जुड़े समाचार इसी एक पेज पर जानें... निश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं 1987 में डिजिटल कैमरा,ई मेल अटैचमेंटजनता इतनी भी बेवकुफ नही है कि ऐसे झूठे को दुबारा वोट दे । Humne to nahi bola

अमित शाह के कोलकाता रोड शो में हिंसा: TMC ने मांगा EC से समय तो BJP बोली- ममता के प्रचार पर लगे बैन, 10 बड़ी बातेंभाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के मंगलवार को कोलकाता में हुए विशाल रोड शो के दौरान भाजपा और तृणमूल कांग्रेस (TMC) समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं. हालांकि शाह को किसी तरह की चोट नहीं आई और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले गई. अधिकारियों ने बताया कि शहर के कुछ हिस्सों में हिंसा भड़क उठी जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर पथराव किया, जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई. गुस्साए भाजपा (BJP) समर्थकों ने भी उसी तरह प्रतिक्रिया दी और कॉलेज के प्रवेशद्वार के बाहर टीएमसी प्रतिद्वंद्वियों के साथ मारपीट करते नजर आए. बाहर खड़ी कई मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया गया. ईश्वर चंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा भी झड़प के दौरान तोड़ दी गई. पुलिसकर्मी पानी भरी बाल्टियों से आग बुझाने की कोशिश करते देखे गए. रोडशो के लिए तैनात किए गए कोलकाता पुलिस (Kolkata Police) के दस्ते ने तुरंत हरकत में आते हुए इन समूहों का पीछा किया. ये सच है कि एसी तस्वीर किसी और राज्य की होती तो देश असुरक्षित क़रार दे दिया जाता। भारत छोड़ने की इच्छा प्रकट करने वालों की क़तारें लग गई होती। लोकतंत्र चूर चूर हो गया होता। भला लोकतंत्र की दो परिभाषा कैसे हो सकती है? BAN MAMTA FROM CAMPAIGN IMMEDIATELY पिक्चर में साफ़ साफ़ दीख रहा है कि भगवा कलर की कमीज़ पहने भाजपा के गुंडे पत्थरों से लाठी/डंडों से हमला कर रहे हैं...

हल्ला बोल: BJP के विरोध में कोलकाता में 'दीदी' की पदयात्रा Halla Bol: Mamata's protest march against BJP in Kolkata - Halla Bol AajTakलोकसभा चुनाव अब अपने आखरी दौर में पहुंच चुका है. लेकिन आखरी दौर तक पहुंचते पहुंचते बंगाल में सियासत तेज हो गई है. अमित शाह के रोड में बवाल के बाद पश्चिम बंगाल की सियासत में कल रात आया तूफान थमता नहीं दिख रहा है. जुबानी जंग के साथ-साथ बीजेपी (BJP) और टीएमसी (TMC) में जबर्दस्त वीडियो वॉर भी छिड़ गया है. दोनों तरफ से वीडियो जारी कर कल की हिंसा के लिए एक दूसरे को दोषी ठहराया जा रहा है. साथ ही ममता बनर्जी अपने ही राज्य में BJP के खिलाफ विरोध करने सड़क पर उतरी हैं. ममता बनर्जी कोलकाता में BJP के खिलाफ विरोध मार्च पर निकलीं हैं. विरोध मार्च के जरिए ममता बनर्जी ये साबित करना चाहती हैं कि बीजेपी ने बंगाल में आकर गुंडागर्दी की है. आज हल्ला बोल में हम इसी पर चर्चा करेंगे कि क्या प्रचार को लहुलुहान होते हम चुनावों में देखेंगे? ptshrikant anjanaomkashyap घेरने से काम नहीं चलेगा डंडा लेकर भगाना पड़ेगा ptshrikant anjanaomkashyap वीर तेज बहादुर को हाईलाइट करो.......कहाँ गया देशभक्ति ptshrikant anjanaomkashyap Sach bolne me kiska aur kyu Darr. Jab Aashirwad ho Prabhu Shree Ram ka,Rath aur BJP pe,to kya hai kisi Party aur unke Gundo ki aukaat. Aur Prabhu Shree Ram ji ki Kripa se BJP 300 ke paar. 'Satya Pareshan ho Sakta hai lekin Parajit nahi ho sakta', Mamata ji Jai Jai Shree Ram 🚩

एक डंडा पटका, फिर चलने लगे पत्‍थर; देखें शाह के रोडशो में कैसे भड़की हिंसाLoksabha Elections 2019: हिंसा से जुड़े पहले वीडियो के मुताबिक, रोडशो के दौरान भगवा और 'नमो अगेन' वाले कपड़ों में बीजेपी समर्थक सड़क के पास जमा थे। अचानक वहां कुछ लोग आए और डंडे पटकने लगे, जिसके बाद बीजेपी समर्थक एक पल के लिए तो हैरान रह गए। अरे तो भाई आतंक फैलाने के लिए रोड़ शो करना जरूरी हैै क्या जब पता हैं सामने वाले उधमी हैं तो क्या सिर्फ मेरी कमीज उसकी कमीज से साफ हैं, दिखाना जरूरी हैं क्या

#ZeeMahaExitPoll: एबीपी-नीलसन के मुताबिक पूर्वोत्तर के राज्यों में बीजेपी को 25 में 13 सीटेंसातवें चरण का मतदान पूरा होने के साथ ही लोगों की दिलचस्‍पी सीटों के एग्जिट पोल को लेकर बढ़ गई है. पूरे देश में इस वक्‍त की सबसे बड़ी सियासी चर्चा यही है कि किस दल को कितनी सीटें मिलेंगी. abp गलत दिखा रहा

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 मई 2019, सोमवार समाचार

पिछली खबर

Exit Poll के बाद अमित शाह ने कल NDA नेताओं को डिनर पर बुलाया, मोदी भी रहेंगे मौजूद

अगली खबर

ABPExitPoll2019: 17 सीटों के साथ शिवसेना होगी एनडीए में दूसरी बड़ी पार्टी, ऐसा रहेगा बाकी सहयोगियों का हाल