2002 गुजरात दंगा: SIT ने जाकिया के साजिश के आरोपों को SC में किया खारिज

2002 गुजरात दंगा मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई @mewatisanjoo

Narendra Modi Gujarat Riots, Gujarat Riots

24-11-2021 20:31:00

2002 गुजरात दंगा मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई mewatisanjoo

2002 Gujarat riots: जाकिया जाफरी की ओर से पेश वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने सुनवाई के दौरान कहा जब SIT की बात आती है, आरोपी के साथ मिलीभगत के स्पष्ट सबूत मिलते हैं. राजनीतिक वर्ग भी सहयोगी बन गया. इस बारे में SIT की ओर मुकुल रोहतगी ने जस्टिस ए एम खानविलकर की बेंच के सामने पक्ष रखा.

स्टोरी हाइलाइट्स2002 दंगा मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाईएसआईटी ने जाकिया जाफरी के आरोपों को किया खारिजजाकिया ने नरेंद्र मोदी पर लगाए थे आरोपGujarat riots 2002: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में 2002 गुजरात दंगों में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को क्लीन चिट देने के खिलाफ याचिका की सुनवाई हुई. जिसमें दंगों की जांच के लिए गठित SIT ने जाकिया जाफरी के बड़ी साजिश के आरोपों को नकार दिया है. SIT ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि इस मामले में FIR या चार्जशीट दर्ज करने के लिए कोई आधार नहीं मिला है. जाकिया की शिकायत पर गहन जांच की गई लेकिन कोई सामग्री नहीं मिली. यहां तक कि स्टिंग की सामग्री को भी अदालत ने ठुकरा दिया

इस बारे में SIT की ओर मुकुल रोहतगी ने जस्टिस ए एम खानविलकर की बेंच के सामने पक्ष रखा. उन्‍होंने कहा कि SIT इस नतीजे पर पहुंची कि पहले से दायर चार्जशीट के अलावा, 2006 की उनकी शिकायत को आगे बढ़ाने के लिए कोई सामग्री नहीं थी. उन्‍होंने कहा राज्य पुलिस पर आरोप तेज़ी से लग रहे थे. इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने SIT नियुक्त की. मुकुल रोहतगी ने कहा हमने अपना काम किया है. कोई सहमत हो सकता है और असहमत भी.

2009 में गुजरात हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ याचिका में चूंकि SIT पहले से ही थी, इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने जाकिया के मामले की जांच के लिए भी कहा था. राज्य पुलिस ने पहले ही कई पूरक चार्जशीट के साथ 9 मामलों में चार्जशीट दाखिल की थी. जब SIT ने कार्यभार संभाला तो चार्जशीट में कई आरोपी जोड़े गये. इसके बाद तहलका टेप सामने आया, टेप की सत्यता पर कोई विवाद नहीं है. लेकिन SIT ने पाया कि टेप की सामग्री में स्टिंग ऑपरेशन से लेकर आशीष खेतान के सामने दिए गए बयानों से अविश्वास पैदा हुआ है. दरअसल जाकिया जाफरी ने SIT पर आरोपियों के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया था. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने इस पर आपत्ति जताई थी. कोर्ट ने कहा सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित SIT के लिए मिलीभगत एक कठोर शब्द है. ये वही SIT जिसने अन्य मामलों में चार्जशीट दाखिल की थी और आरोपियों को दोषी ठहराया गया था. उन कार्यवाही में ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली. headtopics.com

Aar Paar with Amish Devgan | जनता का मूड | UP Election 2022 | News18 India Live Debate

जाकिया के वकील सिब्‍बल ने क्‍या कहा?जाकिया जाफरी की ओर से पेश वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने सुनवाई के दौरान कहा जब SIT की बात आती है, आरोपी के साथ मिलीभगत के स्पष्ट सबूत मिलते हैं. राजनीतिक वर्ग भी सहयोगी बन गया. SIT ने मुख्य दस्तावेजों की जांच नहीं की और स्टिंग ऑपरेशन टेप, मोबाइल फोन जब्त नहीं किया. क्या SIT कुछ लोगों को बचा रही थी? शिकायत की गई तो भी अपराधियों के नाम नोट नहीं किए गए. यह राज्य की मशीनरी के सहयोग को दर्शाता है. लगभग सभी मामलों में एफआईआर की कॉपी नहीं दी गई. इस मामले में जो अंतिम शिकार बना वह खुद न्याय था.

ये है पूरा मामला2002 के गुजरात दंगों के दौरान गुलबर्ग हाउसिंग सोसाइटी हत्याकांड में मारे गए कांग्रेस विधायक एहसान जाफरी की विधवा जकिया जाफरी ने SIT रिपोर्ट को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. रिपोर्ट में राज्य के उच्च पदाधिकारियों द्वारा गोधरा हत्याकांड के बाद सांप्रदायिक दंगे भड़काने में किसी भी"बड़ी साजिश" से इनकार किया गया है. 2017 में गुजरात हाईकोर्ट ने SIT की क्लोजर रिपोर्ट के खिलाफ जकिया की विरोध शिकायत को मजिस्ट्रेट द्वारा खारिज करने के खिलाफ उसकी चुनौती को खारिज कर दिया था.

और पढो: AajTak »
RRB-NTPC रिजल्टः आंदोलनरत छात्रों के समर्थन में उतरे राहुल और प्रियंका गांधी, कहा- गिरफ्तार छात्रों को रिहा किया जाए CM बघेल का छत्तीसगढ़ के सरकारी कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, अब सप्ताह में सिर्फ पांच दिन करने होंगे काम Delhi School Reopen News: ...तो क्या जल्द ही खुल जाएंगे दिल्ली के स्कूल, पैरेंट्स की डिमांड पर डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने दिए संकेत सूरज संग मौनी रॉय की हल्दी सेरेमनी का वीडियो हुआ वायरल, पीले लहंगे में नजर आईं एक्ट्रेस लोकल मैकेनिक से करवाते हैं गाड़ी की सर्विसिंग? इन टिप्स को फॉलो करें नहीं तो हो सकता है भारी नुकसान UP Election 2022: अमित शाह ने की पश्चिमी यूपी के जाट नेताओं से मुलाकात, चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने की उठी मांग

Uttar Pradesh Election: सपा की उम्मीदवार लिस्ट पर हंगामा! बीजेपी ने बताया दंगे की बंद फैक्ट्री शुरु करने की साजिश

यूपी में समाजवादी पार्टी की पहली लिस्ट आते ही चुनावी चढ़ाई शुरु हो चुकी है. लिस्ट में नाहिद हसन जैसों के नाम हैं और बीजेपी इसे अंपराध और दंगा की बंद फैक्ट्री शुरु करने की साजिश बता रही है . सपा की लिस्ट में 159 लोगों के नाम हैं और इसके विश्लेषण से साफ है कि अखिलेश ने ओबीसी और मुस्लिम कार्ड चला है. इसमें यादव उम्मीदवारों के नाम कम हैं. वहीं केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि ये लिस्ट अपराध दंगा भ्रष्टाचार की बंद फैक्ट्री शुरू करने का संदेश है, समाप्त पार्टी की लिस्ट बनाने के लिए धन्यवाद. वहीं उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी अंतिम तीन चरणों के उम्मीदवारों के लिए नामों पर मुहर लगा सकती है. फिलहाल दिल्ली में इसके लिए बैठकों का दौर जारी है और बीजेपी मंगलवार या बुधवार तक कुल 172 टिकटों की घोषणा कर सकती है. देखें ये एपिसोड. और पढो >>

mewatisanjoo 2002 me jo hinduo ke sath hua bhut glt tha mewatisanjoo गुजरात में जो दंगा हुआ था उसमें एक भी भाजपा मोदी समर्थक नहीं थे सब के सब पाकिस्तानी थे केस बंद सुप्रीम कोर्ट

उत्तराखंड में दो ग्लेशियर रास्ता बदल आपस में मिले, भविष्य में बड़े खतरे की आशंका!साल 2013 में उत्तराखंड में आई भीषण तबाही कौन भूल सकता है. या फिर पिछले साल चमौली जिले में आई आपदा. वैज्ञानिक हिमालय के इलाकों पर ऐसे हादसों से बचने के लिए लगातार नजर रखे हुए हैं. साथ ही हिमालय के इलाकों में हो रहे बदलावों की लगातार अध्ययन कर रहे हैं. साइट पर जाकर या फिर हवाई सर्वे करके वैज्ञानिक इन खतरनाक इलाकों की जांच करते हैं. ताकि भविष्य में होने वाले हादसों को लेकर तैयारी की जा सके.

नए सियासी खिलाड़ियों के साथ ममता बनर्जी की बिहार-हरियाणा में पैर जमाने की कोशिशकीर्ति आजाद (Kirti Azad) पूर्व क्रिकेटर हैं और टीएमसी से पहले कांग्रेस और बीजेपी में रह चुके हैं. अब उन्होंने ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के साथ नई सियासी पारी शुरू करने का फैसला किया है. अशोक तंवर राहुल गांधी के पूर्व सहयोगी रहे हैं. जबकि पवन वर्मा जेडीयू के राज्यसभा सांसद हैं, जिन्हें पार्टी से निष्कासित किया जा चुका है. SarkariBankBachaoDeshBachao சென்னை ஆயிரம் விளக்கு F4 காவல் நிலையத்தில் உள்ள காவலர்கள். கொலை செய்த வழக்கில் உள்ள சந்தோஷிடம் லஞ்சம் பெற்று கொண்டு நடவடிக்கை எடுப்பதில்லை மேலும் வீட்டில் உள்ள CCTV camera திருடி செல்லும் குற்றவாளிகள் வேடிக்கை பார்க்கும் F4 காவலர்கள் இது தான் இன்றைய சட்ட ஒழுங்காக? It will take time or she will fail also.

वारदात: Police भर्ती की थी परीक्षा, कैंडीडेट के Mask में निकला Electronic Deviceएमबीबीएस वाले मुन्ना भाई ने अपनी फिल्मों में दो हुनर सिखाए, एक नकल करने का और दूसरा गांधीगीरी की राह पर चलने का. मगर कुछ लोगों ने दूसरे हुनर को तो दरकिनार कर दिया लेकिन पहले वाले को आत्मसात कर लिया और ऐसा आत्मसात किया कि कोरोना की आपदा को ही अवसर बना डाला. इग्ज़ैमनर समझ रहे थे बच्चे कोरोना महामारी को लेकर संजीदा है, लेकिन उन्हें क्या पता था कि नकलचियों ने इसी मास्क में खेल कर रखा है. ये कहानी महाराष्ट्र के पिंपरी चिंचवाड़ की है. पुलिस भर्ती का रिटेन एग्जाम चल रहा था, मगर एक भाई साहब ने इसी मास्क से चीटिंग के लिए ऐसा गज़ब जुगाड़ किया कि पुलिस और इग्ज़ैमनर सभी सन्नाटे में आ गए. देखिए वारदात में पूरी रिपोर्ट. ShamsTahirKhan ShamsTahirKhan क्या गिरफ्तार कर लिया , जो पहले से ही जेल में हैं ShamsTahirKhan लीलालहर चाल री अभी शर्माजी रेलुं आया बतारह्या गाजियाबाद से आबूरोड़ तक S7 B22आला हजरतुं 12से16पेसेंजर,कुपा रहे रेवाड़ी बाद?टीटीई आया रातुं टेसन आतेही हो जाती बत्ती गुल वेंडर कहे कईदिन से है ऐसा कोई अंटेड नही किया अजमेर आगे सिगरेट तम्बाकू कहकह बेचरे मतबल हर सैक्शनु चाल री लीलालहर

16 महीने के बेटे को गोद में बिठा Elon Musk ने की बिजनेस मीटिंग!एलन मस्क (Elon Musk) दुनिया के सबसे अमीर शख्स हैं. उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उनकी गोद में एक बच्चा भी दिखाई दे रहा है. काश मोदी जी भी बेटे को गोद मे बिठा कर मन की बात कर पाते। बेटे का नाम क्या है जरा बताइये पाठकों को 👼

Walmart की DroneUp के साथ साझेदारी, अमेरिका में बढ़ाएगी ड्रोन डिलीवरीवॉलमार्ट ने ड्रोन-आधारित डिलीवरी के लिए वर्जीनिया स्थित कंपनी DroneUp के साथ साझेदारी की है। कंपनी रोजर्स और अर्कांसस में बेंटनविले में ड्रोन स्टेशन भी उपलब्ध करवाएगी। ड्राईवारो की नौकरी बन्द, बेरोजगारी बढ़ेगी,

केंद्र के फैसले से बिटकॉइन बोल्ड: संसद में क्रिप्टो को बैन करने का बिल लाने की तैयारी, दुनियाभर की क्रिप्टोकरेंसी में 15% से ज्यादा की गिरावटकेंद्र सरकार की क्रिप्टोकरेंसी पर शिकंजा कसने की खबर के बाद ज्यादातर क्रिप्टोकरेंसियों में गिरावट देखने को मिल रही है। आज सुबह 10 बजे बिटकॉइन 17% से ज्यादा गिरावट देखी जा रही है। क्रिप्टोकरेंसी के लिए सरकार 29 नवंबर से शुरू होने जा रहे शीतकालीन सत्र में क्रिप्टोकरेंसी को रेगुलेट करने वाला विधेयक संसद में पेश करेगी। बिल में सभी तरह की प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी पर पाबंदी लगाने की बात कही गई है। | Cryptocurrency Ban Bill Update | Narendra Modi Government To Introduce Bill To Ban Private Cryptocurrencies In India केंद्र सरकार की क्रिप्टोकरेंसी पर शिकंजा कसने की खबर के बाद ज्यादातर क्रिप्टोकरेंसियों में गिरावट देखने को मिल रही है।