Loksabhaelections 2019, Exitpolls, All You Need To Know About Election Commission - देश न्यूज़

Loksabhaelections 2019, Exitpolls

1990-96 में शेषन ने बदल दी थी पूरी तस्वीर, पूर्व सीईसी ने बताया उनके दौर से आज की तुलना क्यों संभव नहीं

चुनाव आयोग पहले और अब /1990-96 में शेषन ने बदल दी थी पूरी तस्वीर, पूर्व सीईसी ने बताया उनके दौर से आज की तुलना क्यों संभव नहीं #LokSabhaElections2019 #ExitPolls

20.5.2019

चुनाव आयोग पहले और अब /1990-96 में शेषन ने बदल दी थी पूरी तस्वीर, पूर्व सीईसी ने बताया उनके दौर से आज की तुलना क्यों संभव नहीं LokSabhaElections2019 ExitPolls

1990 से 1996 के बीच सीईसी रहे टीएन शेषन ने बदल दी थी आयोग की पूरी तस्वीर 69 साल से काम कर रहा आयोग लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा में रहा शेषन का ही कार्यकाल | all you need to know about election commission

Dainik Bhaskar May 20, 2019, 07:29 PM IST X 1990 से 1996 के बीच सीईसी रहे टीएन शेषन ने बदल दी थी आयोग की पूरी तस्वीर 69 साल से काम कर रहा आयोग लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा में रहा शेषन का ही कार्यकाल न्यूज डेस्क. चुनाव आयोग की सख्ती की जब भी बात होती है, तब तिरुनेल्लई नारायण अय्यर यानी टीएन शेषन का नाम जुबां पर आ जाता है। 1990 से 1996 में टीएन शेषन मुख्य चुनाव आयुक्त रहे। उन्होंने आयोग में जो कसावट और पारदर्शिता लाए उसकी तारीफ आज भी होती है। वे एक सख्त आईएएस अधिकारी थे। वहीं, मौजूदा चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा अभी विपक्ष के निशाने पर हैं। लोकसभा चुनाव-2019 में निर्णयों को लेकर चुनाव आयोग की आलोचना भी हुई और कुछ मामलों में सवाल भी खड़े हुए। हमने इस बारे में देश के 22वें मुख्य चुनाव रहे ओम प्रकाश रावत से सवाल पूछा कि 'टीएन शेषन के समय जो चुनाव आयोग था और आज जो चुनाव आयोग है, उसे आप कैसे देखते हैं?' दोनों दौर अलग, तुलना नहीं हो सकती- रावत इस पर उन्होंने कहा कि किसी भी समय कोई भी चुनाव तुलनात्मक नहीं हो सकता। शेषन जी के दौर में परिस्थितियां, समय और हालात अलग थे। अब अलग हैं। अब नई टेक्नोलॉजी आ गई है। सोशल मीडिया आ गया है। फेक न्यूज मिनटों में वायरल हो जाती हैं। ऐसे में देखा जाए तो मौजूदा चुनाव अच्छे से संपन्न हुए हैं। छोटी-मोटी घटनाओं को छोड़ दिया जाए तो कहीं कोई बड़ी गड़बड़ी नहीं हुई। कुछ मामलों में निर्णय लेने में आयोग लेट जरूर हुआ। जिसके चलते सुप्रीम कोर्ट को दखल करना पड़ा। हालांकि समय, प्रसंग और परिस्थितियों के हिसाब से चुनाव बहुत अच्छे से संपन्न हुए। अब सिर्फ गणना होना बाकी है। कौन से बड़े निर्णय लिए थे शेषन ने... फर्जी वोटर आईडी बनने पर रोक लगाई। पात्रता पूरी करने वालों को ही आईडी जारी करवाना शुरू किया। चुनाव आयोग की मशीनरी को ऑटोनॉमस करने का काम किया। रिश्वत रोकने, शराब बांटने, वोटर्स को लालच देने जैसे कामों को रोकने के लिए ऐसा किया गया। कैंडीडेट्स के खर्चे की लिमिट पर पाबंदी लगाई। लाउडस्पीकर से प्रचार करने पर पहले लिखित में अनुमित लेने को अनिवार्य किया। शेषन ने ही फोटो आइडेंटिटी कार्ड जारी करवाए थे। शुरुआत में सरकार ने इसे विफल करने की कोशिश की थी, लेकिन शेषन ने रिप्रेजेंटेशन ऑफ द पीपुल्स एक्ट के नियम 37 के तहत, चुनाव रोकने की धमकी दी। बाद में कोर्ट में मामला हल हुआ और जल्द ही फोटो आइडेंटिटी कार्ड जारी होना शुरू हो गए। टीनए शेषन के समय काम में जरा सी भी लापरवाही बरतने या आचरण के विरुद्ध काम करने पर सीनियर पुलिस अधिकारियों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया जाता था। निर्वाचन आयोग की यह प्रतिष्ठा शेषन के बाद आए चुनाव आयुक्तों ने भी बरकरार रखी। एसवाय कुरैशी ने तब के कानून मंत्री सलमान खुर्शीद को मीटिंग के लिए निर्वाचन सदन में बुलाया था, क्योंकि स्वतंत्र तौर पर काम करने वाला आयोग शास्त्री भवन (कानून मंत्री का घर) जाता तो इसका गलत संकेत जाता। एक दौर ऐसा भी था जब मुख्य चुनाव आयुक्त कानून मंत्री के चेम्बर के बाहर बैठे रहते थे, चुनाव की तारीखों के लिए। ऐसे में आयोग कितनी इमानदारी से चुनाव करवाता होगा, समझा जा सकता है लेकिन टीएन शेषन ने इस परिपाटी को बदलकर ही रख दिया। उन्होंने आयोग में ऐसी कसावट पैदा कि नेता उनसे घबराने लगे। वे कहते थे कि 'मैं नेताओं को नाश्ते में खाता हूं'। सुनील अरोड़ा ने ऐसे कौन से कदम उठाए, जिन पर सवाल उठे, चर्चा भी हुई चुनाव आयोग ने बंगाल में तय समय से 19 घंटे पहले ही प्रचार पर रोक लगा दी। विपक्षी दलों ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा कि आयोग मोदी सरकार के सामने झुक गया। आयोग ने मोदी बायोपिक को रोका लेकिन नमो टीवी को लेकर सवाल खड़े हुए। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भारतीय आर्मी को मोदीजी की सेना कहा था। इस पर आयोग ने उन्हें नोटिस जारी किया था। हालांकि बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने इसी बात को दोहराया। मिशन शक्ति के बारे में जानकारी देने पर चुनाव आयोग ने पीएम मोदी को क्लीनचिट दी। हालांकि 66 पूर्व प्रशासनिक अधिकारियों ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर अपनी नाराजगी जताई। एक स्वायत्त संस्थान है चुनाव आयोग, सरकार नहीं बना सकती दबाव भारतीय निर्वाचन आयोग एक स्वायत्त एवं अर्ध-न्यायिक संस्थान है। भारतीय संविधान के भाग-15 के अनुच्छेद-324 से 329 में निर्वाचन से संबंधित उपबंध दिए गए हैं। निवार्चन आयुक्त की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यकाल 6 वर्ष या 65 वर्ष की आयु (जो पहले हो) तक होता है। वहीं अन्य चुनाव आयुक्तों का कार्यकाल 6 वर्ष या 62 वर्ष की उम्र तक होता है। क्या हैं चुनाव आयोग के मुख्य कार्य राजनीतिक दलों को मान्यता देना मतदाता सूची तैयार करना राजनीतिक दलों को चुनाव चिन्ह देना चुनाव का आयोजन करना आचार संहिता का प्रावधान करना चुनाव क्षेत्रों का परसीमन चुनाव आयोग से जुड़े कुछ फैक्ट्स भारतीय संविधान के अनुच्छेद 324 के तहत भारतीय चुनाव आयोग का गठन किया गया। गांवो और शहरों में होने वाले छोटे चुनावों में चुनाव आयोग की भूमिका नहीं होती। मुख्य चुनाव आयुक्त आयोग के प्रमुख होते हैं। 1950 में सिर्फ मुख्य चुनाव आयुक्त के साथ इसकी शुरुआत की गई थी 1993 से इसमें दो और सदस्यों को जोड़ दिया गया। इसके बाद यह तीन सदस्यीय बॉडी हो गई सदस्य 6 साल या 65 वर्ष उम्र (जो भी पहले जल्दी हो) तक पद पर बने रहते हैं सुनील अरोड़ा देश के 23वें मुख्य चुनाव आयुक्त हैं मुख्य चुनाव आयुक्त की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है सुकुमार सेन देश के पहले मुख्य चुनाव आयुक्त थे और पढो: Dainik Bhaskar

गुजरात के खंभात में सांप्रदायिक हिंसा, 13 लोग घायल, घर और दुकानें जलाई गईं



दिल्ली में हिंसाग्रस्त इलाकों में बंद रहेंगे स्कूल : पांच बड़ी ख़बरें

भारत के दौरे पर डोनाल्ड ट्रंप लेकिन पाकिस्तान में मनाई जा रही खुशी, जानिए क्या है वजह



उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में सीएए विरोधी प्रदर्शन में हुई हिंसा में पांच घायल, इंटरनेट बंद

CAA हिंसा पर बोले मनीष सिसोदिया- तीन दशक से दिल्ली में हूं, इतना डर कभी नहीं लगा



भाजपा शासित राज्यों में ही शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन हो रहेः उद्धव ठाकरे

US President Donald Trump and First Lady visit Taj Mahal in Agra



Us samay transparency ko mahatva diya jata tha. Officials strict hone mein zyada believe karte the aur bahut kam lalchi hote the. He was Real election commission not listening to any politicians

घोसी लोकसभा सीट से बीएसपी प्रत्याशी ने रेप केस में सुप्रीम कोर्ट से अग्रिम जमानत मांगीरेप के मामले में फरार चल रहे उत्तर प्रदेश की घोसी लोकसभा सीट पर बीएसपी प्रत्याशी अतुल राय ने मंगलवार को सर्वोच्च न्यायालय में 23 मई को मतगणना होने तक उन्हें गिरफ्तार नहीं करने की याचिका दायर की है. अगर कोर्ट अग्रिम ज़मानत देता है तो इस बढ़ा अपराध कोई नही ऐसे नेता को सीधा जेल में डालो चुनाव प्रकिया से बाहर करो ऐसे नेता को Mayawati Rape aropiko ticket? Rajasthan dalit mahila rape case mayawati ke liye kuchh nahi. Satta hi nahi PM pad ki bhukhi.

प्रेमजाल में फंसाकर युवक ने 30 से ज्यादा महिलाओं से किया रेप– News18 हिंदीछत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के भिलाई में रेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. एक युवक पर तीस से अधिक महिला व युवतियों से रेप का आरोप लगा है. SwatiJaiHind ये क्या हो रहा है ,कुछ कीजिये मैडम ....

रविकिशन ने मुंबई में 'भइया' टैग से बचने के लिए नाम से हटाया 'शुक्ला'-Navbharat Timesलोकसभा चुनाव 2019 न्यूज़: गोरखपुर से बीजेपी के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ रहे ऐक्टर रविकिशन ने बताया है कि मुंबई में 'भइया' टैग से बचने के लिए उन्होंने अपने नाम से अपने टाइटल 'शुक्ला' को हटा लिया था।

नतीजों से पहले BJP को झटका, मणिपुर में NPF ने सरकार से समर्थन लिया वापसलोकसभा चुनाव में वापसी की उम्मीद कर रही बीजेपी को पूर्वोत्तर में झटका लगा है. मणिपुर में बीजेपी के साथ सरकार में शामिल नगा पीपुल्स फ्रंट ने अपना समर्थन वापस ले लिया है. May be जरूरत के सब सौदे और साथी हैं। जरूरत पूरी हो गई होगी NPF की।

वोटिंग से पहले पश्चिम बंगाल में हिंसा, 24 परगना में उपद्रवियों ने गाड़ियां फूंकी– News18 हिंदीराज्य के 24 परगना जिले के भाटपाड़ा में शनिवार देर रात अनियंत्रित भीड़ ने जमकर तोड़फोड़ की. इस दौरान भीड़ ने दो गाड़ियों पर बम फेंक दिया जिसके चलते अफरा-तफरी मच गई.

संकट में कमलनाथ सरकार, माया ने सोनिया से मिलने से किया इनकार!– News18 हिंदीकांग्रेस की मुसीबत अब मायावती ने और बढ़ा दी जब उन्होंने राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मिलने से इनकार कर दिया INCIndia INCIndia मायावती पलटी मारेगी, पक्का। कांग्रेस गयी INCIndia KYO KI WOH 23 MAY KE BAD SOCHEGI KIS PARTY KO SUPPORT KAROO.. INCIndia 23 तारीख तक कोई भी दल अपना पता खोलने को तैयार नहीं है चुनाव परिणाम आने के बाद सब कुछ सामने आ जाएगा

दंगल: दीदी-मोदी का संग्राम कहां तक जाएगा? Dangal: Who vandalised Vidyasagar's statue in Bengal? - Dangal AajTakकल अमित शाह के रोड शो में हुई हिंसा के बाद बंगाल के सियासी माहौल में और तनाव बढ़ गया है. अब से थोड़ी देर पहले PM नरेंद्र मोदी ने बशीरहाट में रैली में कहा कि टीएमसी (TMC) के गुंडे विनाश करने उतरे हैं. उन्होंने कहा कि ममता को हार की परछाईं दिखने लगी है.PM मोदी ने ममता बनर्जी पर सीधे-सीधे हमला करने का आरोप मढ़ा. इससे पहले बीजेपी (BJP) अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया कि सीआरपीएफ (CRPF) ना होती तो उनका भी बचना मुश्किल होता. बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने PM नरेंद्र मोदी और अमित शाह को गुंडा कहकर संबोधित किया है. कुल मिलाकर दोनों ओर से चुनावी जंग सीधे-सीधे दुश्मनी में बदलती दिखाई पड़ रही है. बंगाल में अब तक सभी चरणों में हिंसा हुई है, और ऐसे में कल की घटना के बाद 19 मई की वोटिंग को लेकर चुनाव आयोग की चुनौती और ज्यादा बढ़ गई है.इसीलिए आज हम बहस में पूछ रहे हैं,कि क्या ये चुनाव नहीं, लड़बो, मारबो, पीटबो का कॉन्टेस्ट हो रहा है? sardanarohit Private News Channels have beautiful females than Bollywood Same females anchors are dying to take interview of Manish Sisodia. sardanarohit Bjp bokhla gyi h .. sardanarohit Qki Bangal mein applog agg laganeki kam karrahe ho aur yeah soch rahe hain ki UP mein nukshan ka varpai Bangal se karoge, shame 😠

एंकर्स चैट: लड़बो...मारबो...पीटबो रे! - Anchors Chat Live AajTakकल अमित शाह के रोड शो में हुई हिंसा के बाद बंगाल के सियासी माहौल में और तनाव बढ़ गया है. अब से थोड़ी देर पहले PM नरेंद्र मोदी ने बशीरहाट में रैली में कहा कि टीएमसी (TMC) के गुंडे विनाश करने उतरे हैं. उन्होंने कहा कि ममता को हार की परछाईं दिखने लगी है.PM मोदी ने ममता बनर्जी पर सीधे-सीधे हमला करने का आरोप मढ़ा. इससे पहले बीजेपी (BJP) अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया कि सीआरपीएफ (CRPF) ना होती तो उनका भी बचना मुश्किल होता. बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने PM नरेंद्र मोदी और अमित शाह को गुंडा कहकर संबोधित किया है. कुल मिलाकर दोनों ओर से चुनावी जंग सीधे-सीधे दुश्मनी में बदलती दिखाई पड़ रही है. बंगाल में अब तक सभी चरणों में हिंसा हुई है, और ऐसे में कल की घटना के बाद 19 मई की वोटिंग को लेकर चुनाव आयोग की चुनौती और ज्यादा बढ़ गई है. आज के एंकर्स चैट लड़बो...मारबो...पीटबो रे! में एंकर रोहित सरदाना इसी मुद्दे पर करेंगे लोगों से बात. sardanarohit बंगालन ने बंगाल में लोकतंत्र को उल्टा लटका दिया है! लेकिन किसी चमचे को लोकतंत्र खतरे में है नहीं दिखा| 😡 sardanarohit सुना है, जो भक्त बंगाल में हिंसा करते गिरफ्तार हुए, BJP ने पहचाने से मना कर दिया है, मार खाते हुए बोल रहे है 'साला फंसा दिया रे'😂 sardanarohit Aap or aapke sare પત્રકાર dalali karte he

कई शहरों में सांप्रदायिक हिंसा भड़की; पूरे देश में कर्फ्यू, उल्लंघन पर गोली मारने के आदेशश्रीलंका के उत्तर-पश्चिम क्षेत्र के शहरों में मस्जिदों पर पत्थरबाजी और दुकानों में तोड़फोड़ हुई हिंसक घटनाओं के बाद सोशल मीडिया साइट्स पर बैन लगा दिया गया चिलाऊ कस्बे में रविवार को फेसबुक पोस्ट से विवाद बढ़ा था, लोगों ने तीन मस्जिदों में पत्थरबाजी की थी 21 अप्रैल को श्रीलंका में सिलसिलेवार धमाकों में 251 लोगों की जान गई थी | चिलाऊ कस्बे में एक फेसबुक पोस्ट पर शुरू हुए विवाद के बाद स्थानीय लोगों ने तीन मस्जिदों और मुस्लिम नागरिक की दुकान पर हमला किया। इस घटना के बाद सरकार ने फेसबुक, वॉट्सऐप समेत कई सोशल मीडिया साइट्स बैन लगा दिया

बीजेपी ने की चुनाव आयोग से मांग, ममता बनर्जी को चुनाव प्रचार करने से रोका जाएकोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हिंसा और आगजनी की घटना के बाद केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण और मुख्तार अब्बास नकवी सहित पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग पहुंचा. BJP4India MamataOfficial बीजेपी जिसे चाहे रोक लगाने के लिए बोल देती है BJP4India MamataOfficial Amit sah Modi jee mamta( Jay shri Ram subdo per)bhi band ho BJP4India MamataOfficial BJP Leaders Urge Election Body To Take Action Against Bengal Government

कांग्रेस सरकार ने सिलेबस से हटाया नोटबंदी, 'ऐतिहासिक' बताते हुए BJP सरकार ने किया था शामिलLok Sabha Election 2019 (लोकसभा चुनाव 2019): बीजेपी सरकार ने 2017 में 12वीं की पॉलिटिकल साइंस की किताब में नोटबंदी को शामिल किया था। किताब में केंद्र सरकार के 500 और 1000 के नोटों को बंद करने के फैसले को 'ऐतिहासिक' करार दिया गया था।



ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले

मोदी के रहते भारत-पाक में सिरीज़ नहींः आफ़रीदी

अब्दुल्ला और मुफ़्ती की रिहाई की दुआ करता हूं: राजनाथ सिंह

डोनल्ड ट्रंप भारत आकर क्या हासिल करना चाहते हैं

ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा

डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे

सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 मई 2019, सोमवार समाचार

पिछली खबर

BJP कार्यकर्ता की हत्या पर भड़के शिवराज, कहा- MP को नहीं बनने देंगे पश्चिम बंगाल

अगली खबर

अभिनंदन के नाम से मैसेज वायरल- 'पुलवामा भाजपा की साजिश', अखबार की कटिंग का किया गलत इस्तेमाल
गुजरात के खंभात में सांप्रदायिक हिंसा, 13 लोग घायल, घर और दुकानें जलाई गईं दिल्ली में हिंसाग्रस्त इलाकों में बंद रहेंगे स्कूल : पांच बड़ी ख़बरें भारत के दौरे पर डोनाल्ड ट्रंप लेकिन पाकिस्तान में मनाई जा रही खुशी, जानिए क्या है वजह उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में सीएए विरोधी प्रदर्शन में हुई हिंसा में पांच घायल, इंटरनेट बंद CAA हिंसा पर बोले मनीष सिसोदिया- तीन दशक से दिल्ली में हूं, इतना डर कभी नहीं लगा भाजपा शासित राज्यों में ही शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन हो रहेः उद्धव ठाकरे US President Donald Trump and First Lady visit Taj Mahal in Agra दिल्ली में हिंसा: CAA को लेकर सुलग उठी देश की राजधानी, जानिए 24 घंटे का पूरा अपडेट पुरानी ड्रेस पहनकर आईं डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका, सामने आई ये बड़ी वजह ट्रंप की भारत यात्रा पर क्या कह रहा है अमरीकी मीडिया रेप केस में दोषी सिद्ध हुए हार्वी वाइनस्टीन दिल्ली: मौजपुर में जिस शख्स ने की थी 8 राउंड फायरिंग, उसकी हुई पहचान
ट्रंप भारत के लिए उड़ान भरने से पहले क्या बोले मोदी के रहते भारत-पाक में सिरीज़ नहींः आफ़रीदी अब्दुल्ला और मुफ़्ती की रिहाई की दुआ करता हूं: राजनाथ सिंह डोनल्ड ट्रंप भारत आकर क्या हासिल करना चाहते हैं ट्रंप के भारत दौरे के दौरान हिंसा फैलाने की रची गई थी साजिश, खुफिया सूत्रों ने किया बड़ा खुलासा डोनाल्ड ट्रंप के लिए आयोजित डिनर का कांग्रेस ने किया बायकॉट, मनमोहन सिंह भी नहीं जाएंगे सालभर पुरानी ड्रेस पहनकर भारत आईं इवांका, जानें कितनी है कीमत - lifestyle AajTak कपिल मिश्रा का पुलिस को अल्टीमेटम, तीन दिन में सड़क खाली कराएं वरना हम आपकी भी नहीं सुनेंगे ट्रंप के भारत आने से पहले दिल्ली को 'बंधक' बनाने की साजिश, पत्थरबाजी संयोग या प्रयोग? कांग्रेस एक अध्यक्ष क्यों नहीं चुन पा रही? पति की पिटाई का दिया मेडल से जवाब, 8 साल बाद लिया पंगा; जीता देश के लिए मेडल कपिल मिश्रा का अल्टीमेटम- 3 दिन में सड़कें खाली हों, वरना हम किसी की नहीं सुनेंगे