Ladengecoronase, Coronavirus, Covid 19, Coronavaccine, 100 Crore Vaccination İn İndia, 100 Crore Vaccine, 100 Crore Vaccine İn İndia, İndia Vaccine News, Vaccination, Coronavirus, Covid 19, Cowin App, 100 Crore Vaccinated Person, 100 Crore Vaccine Doses, Vaccine Doses 100 Crore Mark, İndia New Song Launch, Covid 19 Vaccination Completed 1 Billion, İndia Proven İts Capability, Vaccination Milestone Achieved İndia, 1 Billion Completed Vaccination, New Special Song Launch, Ancient Monuments İlluminated, 100 Ancient Monuments, Archaeological Survey Of İndia, Minstry Of Culture, İndia Corona Vaccination Journey, İndia 100 Crore Corona Vaccines, İndia Vaccination Numbers, İndia Population Vaccinated, Corona Vaccine Update, Corona Vaccine, Vaccination İn İndia, 100 Million Doses İndia, Corona Vaccine Registration, Corona Cases İn İndia, Vaccination İn Usa, Vaccination İn China, Vaccination İn Brazil, सौ करोड़ टीकाकरण, टीकाकरण, भारत ने बनया रिकॉर्ड, टीकाकरण में रिकॉर्ड

Ladengecoronase, Coronavirus

100 Crore Vaccination Milestone: कोविन एप बना केंद्र-राज्यों के बीच सेतु, देश में निर्मित टीकों से बना नया कीर्तिमान, पढ़ें किसने क्या कहा

भारत की आबादी 139 करोड़ से ज्यादा है यानी दुनिया में चीन के बाद दूसरी सबसे ज्यादा आबादी वाला देश। कोरोना के टीकाकरण के

22-10-2021 04:35:00

100 Crore Vaccination Milestone: कोविन एप बना केंद्र-राज्यों के बीच सेतु, देश में निर्मित टीकों से बना नया कीर्तिमान, पढ़ें किसने क्या कहा LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine

भारत की आबादी 139 करोड़ से ज्यादा है यानी दुनिया में चीन के बाद दूसरी सबसे ज्यादा आबादी वाला देश। कोरोना के टीकाकरण के

आइए जानते हैं भारत की इस उपलब्धि पर नेताओ, डॉक्टरों, वैक्सीन निर्माताओं, उद्योग समूह से जुड़े लोगों और अन्य लोगों ने क्या कहा...देश में निर्मित टीकों से बना नया कीर्तिमाननीति आयोग के सदस्य और कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि भारत में निर्मित टीकों से देश में कोरोना टीकाकरण का नया कीर्तिमान बना है। नौ महीने में ये कामयाबी हासिल होना कोई सामान्य बात नहीं है। डॉ. पॉल ने कहा कि भारत तब तक सुरक्षित नहीं है, जब तक हर व्यक्ति को टीके की पूरी खुराक नहीं लग जाती है।

आगे भी जारी रहेगा सिलसिलाभारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि टीकाकरण में स्वास्थ्य मंत्रालय को वर्षों का तजुर्बा है और आज उसी का फलसफा सबके सामने है। आगे भी ये सिलसिला इसी तरह जारी रहेगा।हर भारतीय है गौरवान्वित

दुनिया ने ऐसा सोचा तक नहीं था कि भारत इस तरह का लक्ष्य हासिल कर सकता है। हर भारतीय गौरवान्वित महूसस कर रहा है। जनवरी में टीकाकरण शुरू हुआ। नौ माह में भारत ने वैश्विक स्तर पर कीर्तिमान बना दिया।- डॉ. रणदीप गुलेरिया, निदेशक, एम्स, नई दिल्लीआत्मनिर्भर भारत की सफलता headtopics.com

भारत के लिए यह पल ऐतिहासिक है। सफल आत्मनिर्भर भारत की कहानी में यह पहली सफलता है और पूरे देश को इसपर गौरवान्वित महूसस करना चाहिए।- डॉ. कृष्णा एल्ला, चेयरमैन, भारत बायोटेककोविन ने राह की आसानकोविन एप ने टीकाकरण की राह को आसान बनाया है। कोविन एप के जरिये टीके की हर खुराक पर नजर रखी गई। टीकाकरण का पूरा आंकड़ा एक प्लेटफॉर्म पर मौजूद है।

- डॉ. आरएस शर्मा, सीईओ, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरणसहयोग से मिली कामयाबीयह पूरे देश के लिए गौरव का पल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्रालयों के साथ सभी संस्थाओं और स्वास्थ्यकर्मियों की कोशिशों की मेहनत से ही ऐसा संभव हो पाया है। भारत आने वाले समय में भी नए कीर्तिमान बनाएगा।

- अदार पूनावाला, सीईओ, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियानए भारत की क्षमता दिखती हैप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्त्व में भारत ने जो कीर्तिमान स्थापित किया है वो काबिले तारीफ है। इस उपलब्धि के साथ दुनिया को नए भारत की क्षमता का पता चल गया है। इस उपलब्धि के लिए देश के डॉक्टरों, वैज्ञानिकों और हर नागरिक को बधाई।

- अमित शाह, केंद्रीय गृहमंत्रीएक और कीर्तिमानमहामारी से लड़ाई में भारत ने 100 करोड़ से अधिक टीका लगा एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। वैज्ञानिकों, डॉक्टरों व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ की निस्वार्थ मेहनत की बदौलत ही भारत इस मुकाम पर पहुंचा है जिसे दुनिया स्वीकार कर रही है। headtopics.com

- एस जयशंकर, विदेशमंत्रीमिलकर जीतेंगेदेश के हर व्यक्ति को बधाई जो टीकाकरण अभियान का भागीदार बना है। देश ने इस बीमारी को देखा है और सब एकजुट होकर इसे हमेशा के लिए हराएंगे। डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों व अन्य लोगों को ढेर सारी शुभकामनाएं।- अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

वैज्ञानिकों, स्वास्थ्यकर्मियों का अभिनंदनये पूरे देश के लिए गौरव की बात है। कोरोना महामारी से लड़ाई में देश के लिए ये बहुत बड़ी उपलब्धि है। देश के वैज्ञानिकों और स्वास्थ्यकर्मियों का अभिनंदन।- भूपेंद्र यादव, केंद्रीय पर्यावरण मंत्रीसरकार के सहयोग से बना रिकॉर्ड

स्वास्थ्य सेवा से लेकर अन्य उद्योग के दिग्गजों ने बृहस्पतिवार को देश में कोविड-19 टीके की खुराक के 100 करोड़ का आंकड़ा पार करने को ऐतिहासिक क्षण बताया। देश में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 को शुरू हुआ था।भारत के शोधकर्ताओं, डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों, प्रशासनिक टीमों के अथक प्रयास और त्याग असाधारण हैं। यह ऐतिहासिक मिशन अर्थव्यवस्था को उच्च वृद्धि के रास्ते पर ले जाने में मदद करेगा और भारत की वैश्विक नेतृत्व भूमिका को मजबूत करेगा।

-टीवी नरेंद्रन, अध्यक्ष, सीआईआईटीकाकरण की 100 करोड़ खुराक का अहम मुकाम सरकार के टीकाकरण कार्यक्रम की सफलता का संकेत है। इतने बड़े देश की विशाल आबादी जैसी चुनौतियों से पार पाना एक ऐसी उपलब्धि है, जिस पर सभी भारतीयों को गर्व हो सकता है।-प्रताप सी रेड्डी, चेयरमैन, अपोलो हॉस्पिटल्स समूह headtopics.com

बधाई हो भारत। थैंक्स अ बिलियन! कोविड संबंधी चुनौतियों से पार पाने में एक वैश्विक उपलब्धि हासिल की गई। इसमें सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल में सहयोग, आत्मविश्वास, साहस, करुणा का प्रदर्शन किया गया।-सुचित्रा इल्ला, संयुक्त एमडी, भारत बायोटेक100 करोड़ खुराक देने पर प्रधानमंत्री ने इसे भारतीय विज्ञान की जीत बताया है। हाथ जोड़कर जय हिंद कहना चाहती हूं।

-किरण मजूमदार शॉ, बायोकॉनहमें यकीन है कि 100 करोड़ का आंकड़ा पाने के बाद अगले कुछ हफ्तों एवं महीनों में सभी पात्र लोगों के पूर्ण टीकाकरण की गति और तेज हो जाएगी। हम उपभोक्ता विश्वास में और सुधार देखेंगे।-दीपक सूद महासचिव, एसोचैम...पर खतरा टला नहींटीकाकरण के 100 करोड़ पार होने के जश्न के बीच आईसीएमआर के पूर्व महानिदेशक निर्मल गांगुली ने कहा है कि खतरा अभी टला नहीं है। देश के कई राज्यों में अभी भी वायरस का प्रकोप है। जश्न ठीक है लेकिन महामारी खत्म नहीं हुई है। टीके की एक खुराक पूरी सुरक्षा की गारंटी नहीं देती। ऐसे में हमारा लक्ष्य लोगों को टीके की दूसरी डोज लगाने पर होना चाहिए। वे बताते हैं कि खतरा तब तक नहीं टल सकता है जब तक राज्यों में दैनिक संक्रमण के मामले दस हजार से कम नहीं आ रहे हैं।

भूटान के प्रधानमंत्री लोते सेरिंग ने बधाई देते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि लागों का सरकार में विश्वास है। एकजुटता और नेतृत्त्व पर विश्वास ही किसी भी देश की सफलता का राज है। भारत का पड़ोसी होने के नाते वे सुरक्षित महसूस करते हैं।श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिदा राजपक्षे ने कहा है कि महामारी में कोई सुरक्षित तभी महसूस करता जब टीकाकरण की गति तेज हो। भारत ने अभियान के तहत एक नई उपलब्धि हासिल करने के साथ अपने लोगों को सुरक्षित करने का काम किया है। इस सफलता के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ स्वास्थ्यकर्मियों को बधाई जिन्होंने अथक प्रयास से ये कामयाबी हासिल की है।

सेशल्स के राष्ट्रपति वेवल रामकलवान ने भी भारत को इस कीर्तिमान के लिए शुभकामनाएं दी हैं।अमेरिका ने दी बधाईभारत को शुभकामनाएं। ये लक्ष्य अद्धभुत है। कोरोना से भारत की लड़ाई दर्शाती है कि वो हिंद प्रशांत क्षेत्र में महामारी को काबू करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

- एंटनी ब्लिंकन, विदेशमंत्री, अमेरिकामहामारी के दौर में टीके के उत्पादन और वितरण में भारत की भूमिका अकल्पनीय है।- वेंडी शेरमन, उप विदेशमंत्री, अमेरिकासौ करोड़ टीके की उपलब्धि पर कांग्रेस नेता आपस में ही उलझ गए। शशि थरूर ने जहां इसका श्रेय सरकार को देने की बात कही, वहीं कांग्रेस प्रवक्ता ने श्रेय को पीड़ित परिवाराें का अपमान बताया।

सांसद शशि थरूर ने ट्वीट किया, सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात। आइए, सरकार को श्रेय दें। दूसरी लहर के गंभीर कुप्रबंधन का सरकार ने आंशिक प्रायश्चित किया है। हालांकि, अपनी पिछली विफलताओं के लिए अब भी जवाबदेह है।थरूर के ट्वीट पर कांग्रेस प्रवक्ता खेरा ने कहा, सरकार को श्रेय देना उन लाखों परिवारों का अपमान है, जो कुप्रबंधन के बाद के कोविड से पीड़ित हुए या अभी भी पीड़ित हैं। क्रेडिट मांगने से पहले, पीएम को उन परिवारों से माफी मांगनी चाहिए।

कांग्रेस बोली- मौतों की जांच के लिए आयोग बनेकांग्रेस ने कोरोना से हुई मौतों की जांच के लिए आयोग के गठन की मांग की है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि महामारी में सरकार की लापरवाही और बदइंतजामी से हुई मौतों का पता लगाया जाए।विस्तार मामले में भी भारत दूसरा देश है जहां 100 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन की कम से कम एक डोज लग चुकी है।

आइए जानते हैं भारत की इस उपलब्धि पर नेताओ, डॉक्टरों, वैक्सीन निर्माताओं, उद्योग समूह से जुड़े लोगों और अन्य लोगों ने क्या कहा...विज्ञापनदेश में निर्मित टीकों से बना नया कीर्तिमाननीति आयोग के सदस्य और कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि भारत में निर्मित टीकों से देश में कोरोना टीकाकरण का नया कीर्तिमान बना है। नौ महीने में ये कामयाबी हासिल होना कोई सामान्य बात नहीं है। डॉ. पॉल ने कहा कि भारत तब तक सुरक्षित नहीं है, जब तक हर व्यक्ति को टीके की पूरी खुराक नहीं लग जाती है।

आगे भी जारी रहेगा सिलसिलाभारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि टीकाकरण में स्वास्थ्य मंत्रालय को वर्षों का तजुर्बा है और आज उसी का फलसफा सबके सामने है। आगे भी ये सिलसिला इसी तरह जारी रहेगा।हर भारतीय है गौरवान्वित

दुनिया ने ऐसा सोचा तक नहीं था कि भारत इस तरह का लक्ष्य हासिल कर सकता है। हर भारतीय गौरवान्वित महूसस कर रहा है। जनवरी में टीकाकरण शुरू हुआ। नौ माह में भारत ने वैश्विक स्तर पर कीर्तिमान बना दिया।- डॉ. रणदीप गुलेरिया, निदेशक, एम्स, नई दिल्लीआत्मनिर्भर भारत की सफलता

भारत के लिए यह पल ऐतिहासिक है। सफल आत्मनिर्भर भारत की कहानी में यह पहली सफलता है और पूरे देश को इसपर गौरवान्वित महूसस करना चाहिए।- डॉ. कृष्णा एल्ला, चेयरमैन, भारत बायोटेककोविन ने राह की आसानकोविन एप ने टीकाकरण की राह को आसान बनाया है। कोविन एप के जरिये टीके की हर खुराक पर नजर रखी गई। टीकाकरण का पूरा आंकड़ा एक प्लेटफॉर्म पर मौजूद है।

- डॉ. आरएस शर्मा, सीईओ, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरणसहयोग से मिली कामयाबीयह पूरे देश के लिए गौरव का पल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्रालयों के साथ सभी संस्थाओं और स्वास्थ्यकर्मियों की कोशिशों की मेहनत से ही ऐसा संभव हो पाया है। भारत आने वाले समय में भी नए कीर्तिमान बनाएगा।

- अदार पूनावाला, सीईओ, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियानए भारत की क्षमता दिखती हैप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्त्व में भारत ने जो कीर्तिमान स्थापित किया है वो काबिले तारीफ है। इस उपलब्धि के साथ दुनिया को नए भारत की क्षमता का पता चल गया है। इस उपलब्धि के लिए देश के डॉक्टरों, वैज्ञानिकों और हर नागरिक को बधाई।

- अमित शाह, केंद्रीय गृहमंत्रीएक और कीर्तिमानमहामारी से लड़ाई में भारत ने 100 करोड़ से अधिक टीका लगा एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। वैज्ञानिकों, डॉक्टरों व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ की निस्वार्थ मेहनत की बदौलत ही भारत इस मुकाम पर पहुंचा है जिसे दुनिया स्वीकार कर रही है।

- एस जयशंकर, विदेशमंत्रीमिलकर जीतेंगेदेश के हर व्यक्ति को बधाई जो टीकाकरण अभियान का भागीदार बना है। देश ने इस बीमारी को देखा है और सब एकजुट होकर इसे हमेशा के लिए हराएंगे। डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों व अन्य लोगों को ढेर सारी शुभकामनाएं।- अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री, दिल्ली

वैज्ञानिकों, स्वास्थ्यकर्मियों का अभिनंदनये पूरे देश के लिए गौरव की बात है। कोरोना महामारी से लड़ाई में देश के लिए ये बहुत बड़ी उपलब्धि है। देश के वैज्ञानिकों और स्वास्थ्यकर्मियों का अभिनंदन।- भूपेंद्र यादव, केंद्रीय पर्यावरण मंत्रीसरकार के सहयोग से बना रिकॉर्ड

स्वास्थ्य सेवा से लेकर अन्य उद्योग के दिग्गजों ने बृहस्पतिवार को देश में कोविड-19 टीके की खुराक के 100 करोड़ का आंकड़ा पार करने को ऐतिहासिक क्षण बताया। देश में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 को शुरू हुआ था।भारत के शोधकर्ताओं, डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों, प्रशासनिक टीमों के अथक प्रयास और त्याग असाधारण हैं। यह ऐतिहासिक मिशन अर्थव्यवस्था को उच्च वृद्धि के रास्ते पर ले जाने में मदद करेगा और भारत की वैश्विक नेतृत्व भूमिका को मजबूत करेगा।

-टीवी नरेंद्रन, अध्यक्ष, सीआईआईटीकाकरण की 100 करोड़ खुराक का अहम मुकाम सरकार के टीकाकरण कार्यक्रम की सफलता का संकेत है। इतने बड़े देश की विशाल आबादी जैसी चुनौतियों से पार पाना एक ऐसी उपलब्धि है, जिस पर सभी भारतीयों को गर्व हो सकता है।-प्रताप सी रेड्डी, चेयरमैन, अपोलो हॉस्पिटल्स समूह

बधाई हो भारत। थैंक्स अ बिलियन! कोविड संबंधी चुनौतियों से पार पाने में एक वैश्विक उपलब्धि हासिल की गई। इसमें सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल में सहयोग, आत्मविश्वास, साहस, करुणा का प्रदर्शन किया गया।-सुचित्रा इल्ला, संयुक्त एमडी, भारत बायोटेक100 करोड़ खुराक देने पर प्रधानमंत्री ने इसे भारतीय विज्ञान की जीत बताया है। हाथ जोड़कर जय हिंद कहना चाहती हूं।

-किरण मजूमदार शॉ, बायोकॉनहमें यकीन है कि 100 करोड़ का आंकड़ा पाने के बाद अगले कुछ हफ्तों एवं महीनों में सभी पात्र लोगों के पूर्ण टीकाकरण की गति और तेज हो जाएगी। हम उपभोक्ता विश्वास में और सुधार देखेंगे।-दीपक सूद महासचिव, एसोचैम...पर खतरा टला नहींटीकाकरण के 100 करोड़ पार होने के जश्न के बीच आईसीएमआर के पूर्व महानिदेशक निर्मल गांगुली ने कहा है कि खतरा अभी टला नहीं है। देश के कई राज्यों में अभी भी वायरस का प्रकोप है। जश्न ठीक है लेकिन महामारी खत्म नहीं हुई है। टीके की एक खुराक पूरी सुरक्षा की गारंटी नहीं देती। ऐसे में हमारा लक्ष्य लोगों को टीके की दूसरी डोज लगाने पर होना चाहिए। वे बताते हैं कि खतरा तब तक नहीं टल सकता है जब तक राज्यों में दैनिक संक्रमण के मामले दस हजार से कम नहीं आ रहे हैं।

दुनियाभर से मिलीं शुभकामनाएं...लक्ष्य दर्शाता है लोगों का सरकार में विश्वासभूटान के प्रधानमंत्री लोते सेरिंग ने बधाई देते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि लागों का सरकार में विश्वास है। एकजुटता और नेतृत्त्व पर विश्वास ही किसी भी देश की सफलता का राज है। भारत का पड़ोसी होने के नाते वे सुरक्षित महसूस करते हैं।

श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिदा राजपक्षे ने कहा है कि महामारी में कोई सुरक्षित तभी महसूस करता जब टीकाकरण की गति तेज हो। भारत ने अभियान के तहत एक नई उपलब्धि हासिल करने के साथ अपने लोगों को सुरक्षित करने का काम किया है। इस सफलता के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ स्वास्थ्यकर्मियों को बधाई जिन्होंने अथक प्रयास से ये कामयाबी हासिल की है।

सेशल्स के राष्ट्रपति वेवल रामकलवान ने भी भारत को इस कीर्तिमान के लिए शुभकामनाएं दी हैं।अमेरिका ने दी बधाईभारत को शुभकामनाएं। ये लक्ष्य अद्धभुत है। कोरोना से भारत की लड़ाई दर्शाती है कि वो हिंद प्रशांत क्षेत्र में महामारी को काबू करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

- एंटनी ब्लिंकन, विदेशमंत्री, अमेरिकामहामारी के दौर में टीके के उत्पादन और वितरण में भारत की भूमिका अकल्पनीय है।- वेंडी शेरमन, उप विदेशमंत्री, अमेरिकाथमती नहीं सियासतसौ करोड़ टीके की उपलब्धि पर कांग्रेस नेता आपस में ही उलझ गए। शशि थरूर ने जहां इसका श्रेय सरकार को देने की बात कही, वहीं कांग्रेस प्रवक्ता ने श्रेय को पीड़ित परिवाराें का अपमान बताया।

सांसद शशि थरूर ने ट्वीट किया, सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात। आइए, सरकार को श्रेय दें। दूसरी लहर के गंभीर कुप्रबंधन का सरकार ने आंशिक प्रायश्चित किया है। हालांकि, अपनी पिछली विफलताओं के लिए अब भी जवाबदेह है।थरूर के ट्वीट पर कांग्रेस प्रवक्ता खेरा ने कहा, सरकार को श्रेय देना उन लाखों परिवारों का अपमान है, जो कुप्रबंधन के बाद के कोविड से पीड़ित हुए या अभी भी पीड़ित हैं। क्रेडिट मांगने से पहले, पीएम को उन परिवारों से माफी मांगनी चाहिए।

कांग्रेस बोली- मौतों की जांच के लिए आयोग बनेकांग्रेस ने कोरोना से हुई मौतों की जांच के लिए आयोग के गठन की मांग की है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि महामारी में सरकार की लापरवाही और बदइंतजामी से हुई मौतों का पता लगाया जाए।विज्ञापनआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Purvanchal Expressway से BJP की चुनावी गाड़ी पकड़ेगी रफ्तार? Sultanpur से देखें बुलेट रिपोर्टर

सुल्तानपुर के आसमान में भारतीय वायुसेना के गरजते विमानों की दहाड़ बहुत दूर तक सुनाई दे रही है. पूर्वांचल की धरती का बहुत खास सियासी पड़ाव है सुल्तानपुर. यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना के हरक्यूलिस विमान से उतरे और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. समझने वाले समझ ही गए होंगे कि कहां निगाहें हैं, कहां निशाना है. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के इस लोकार्पण से बीजेपी भी उम्मीद कर रही है कि उसकी चुनावी गाड़ी भी इस बहाने रफ्तार पकड़ेगी. तो जनता की नब्ज पकड़ने के लिए हमारी संवाददाता चित्रा त्रिपाठी की बुलेट भी यहां की ओर दौड़ पड़ी. देखिए बुलेट रिपोर्टर का ये एपिसोड.

PM narendramodi will address the nation at 10 AM today.

फ़र्रूख़ाबाद में बौद्ध तीर्थ क्षेत्र के मंदिर से झंडा उतारने पर विवाद, तोड़फोड़ के बाद तनावउत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले का मामला. बुधवार दोपहर धम्म यात्रा के दौरान बौद्ध अनुयायियों में शामिल कुछ अराजक तत्व संकिसा बौद्ध तीर्थ क्षेत्र में विवादित टीले पर स्थित बिसारी देवी मंदिर पर चढ़े और वहां लगा भगवा झंडा नीचे फेंककर उस पर पंचशील ध्वज लगा दिया. पीएम चादर चढ़ाता है इसके दंगाई भक्त दुसरे धर्मों के धार्मिक स्थल पर दंगा, तोड़ फोड़ करते फिरते हैं। इसका चादर चढ़ाना जरूरी नहीं है इसका अपनें अंड भक्तों को रोकना ज्यादा जरूरी है। 🏹🏹🏹 RedicalHindutva HateCrime hindutvafascism सब जानते हैं कि आज के विश्व के चौथे‌ सबसे बड़े बौद्ध धर्म को उसकी जन्म स्थली/कर्मस्थली से समाप्त करने वाले‌ धूर्त पोंगापाखंडी ही थे‌,जिन्होंने बौद्ध मठों पर कब्जा कर उनको मंदिरो‌ पर बदल‌ दिया? meghnad141120 RamdasAthawale Profdilipmandal. WamanCMeshram हमारी sencitivity high हो चुकी है।

उत्तराखंड के बाद बंगाल से सिक्किम तक बारिश से तबाही, दार्जिलिंग में लैंडस्लाइडबंगाल के जलपाईगुड़ी और दार्जिलिंग के पड़ाही इलाकों पर पिछले 45 घंटे से लगातार हो रही बारिश के चलते कई जगहों पर लैंडस्लाइड की घटनाएं सामने आई हैं. महानदी में एनएच 55 पर भूस्खलन हुआ है. सुकना तक सड़क जाम हो गई है. कुरस्योंग में लैंडस्लाइड के चलते एक घर को भी नुकसान पहुंचा है. बताया जा रहा है कि घटना के वक्त घर पर कोई मौजूद नहीं था.

Maharashtra में कॉलेजों में पढ़ाई शुरू, लंबे इंतजार के बाद म‍िली Online Classes से न‍िजातमहाराष्ट्र में कोरोना का प्रभाव कम होता दिख रहा है, जिसकी वजह से महाराष्ट्र सरकार ने कोविड प्रतिबंधों में रियायत देना शुरू कर दिया है. अब 20 अक्टूबर से महाराष्ट्र में कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को भी खोलने का निर्णय लिया है. बता दें कि राज्य में इस महीने की शुरुआत से पहले मंदिर खोल दिए गए हैं और 22 अक्टूबर से सिनेमा घर के साथ-साथ थियेटर हॉल भी शुरू होने जा रहे हैं. कोरोना महामारी की वजह से महाराष्ट्र में तकरीबन डेढ़ साल से बंद पड़े कॉलेज और यूनिवर्सिटीज आज से फिर से शुरू हो गए हैं. देखिए आजतक संवाददाता पंकज खेलकर की ये रिपोर्ट.

India में लगे Covid Vaccine के 100 Crore Doses, बना विश्व रिकॉर्ड!कोरोना से लड़ाई के बीच भारत ने आज एतिहासिक मुकाम छू लिया है. देश ने 100 करोड़ कोरोना टीकाकरण के जादूई आंकड़े को छू लिया है. इस मौके पर पीएम मोदी दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में पहुंच गए हैं, यहां एक खास कार्यक्रम होने वाला है. उनके साथ देश के स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया भी शामिल हैं. इस मौके पर अन्य कई कार्यक्रमों की भी तैयारी है. देखें

भारत से मैच से पहले अपनों के ही निशाने पर आई पाकिस्तानी टीम - BBC News हिंदीटी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के आग़ाज़ से वहाँ के प्रशंसक काफ़ी नाराज़ हैं. लोग जमकर अपनी ही टीम पर तंज़ कस रहे हैं. 2014 में जितना सामान 100 रुपये में मिलता था उतने ही सामान के 2021 में 200 रुपये ख़र्च करने पड़ते हैं. Pakistan मे सारे पोंके है 😁 westindies ke sath jeeta tha pakistan

महाराष्ट्र: नागपुर के कलमना में निर्माणाधीन पुल गिरा, काम बंद होने से टला बड़ा हादसाजानकारी के मुताबिक इस पुल का काम दो कंपनियों को दिया गया था जो मिलकर इस पुल का निर्माण कर रही थीं. लेकिन अचानक से निर्माण के दौरान ही फ्लाईओवर का एक बड़ा हिस्सा नीचे गिर गया.