Cruise Drugs Case, Aryan Khan, Supreme Court, मुंबई क्रूज ड्रग्‍स केस, आर्यन खान, सुप्रीम कोर्ट

Cruise Drugs Case, Aryan Khan

'NDPS कानून की उचित प्रक्रिया का पालन नहीं हुआ' : आर्यन खान ड्रग्‍स मामले में SC में याचिका दाखिल

'NDPS कानून की उचित प्रक्रिया का पालन नहीं हुआ' : आर्यन खान ड्रग्‍स मामले में SC में याचिका दाखिल

27-10-2021 12:01:00

'NDPS कानून की उचित प्रक्रिया का पालन नहीं हुआ' : आर्यन खान ड्रग्‍स मामले में SC में याचिका दाखिल

याचिका में कहा गया है कि आर्यन मामले में NDPS कानून की उचित प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया. आर्यन और रिया चक्रवर्ती जैसे आरोपियों की मीडिया परेड लाइव लिंचिंग जैसी थी और ये उनके निष्पक्ष ट्रायल के अधिकार के खिलाफ है.

मुंबई : Cruise Drugs case: आर्यन खान (Aryan Khan) ड्रग्स मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) पहुंच गया है.  वकील जयकृष्ण सिंह ने इस मामले में याचिका दाखिल की है जिसमें आर्यन की गिरफ्तारी पर बड़े सवाल उठाए गए हैं. याचिका में नारकोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो (NCB) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के खिलाफ 18 करोड़ की वसूली के आरोपों की सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जज से जांच कराने की मांग की गई है.  याचिका में कहा गया है कि आर्यन मामले में NDPS कानून की उचित प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया. आर्यन खान और रिया चक्रवर्ती जैसे आरोपियों की मीडिया परेड 'लाइव लिंचिंग' जैसी थी और ये  उनके निष्पक्ष ट्रायल के अधिकार के खिलाफ है. केंद्रीय गृह मंत्रालय वर्तमान ड्रग मामले को बॉलीवुड का जश्न बनाने के लिए अफसरों की जिम्मेदारी तय करे.

त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं Delimitation : परिसीमन का प्रारूप तैयार, जम्मू संभाग की सात और सीटें बढ़ेंगी

यह भी पढ़ेंइसमेंकहा गया है कि जिस तरह से बॉलीवुड के बच्चों को जेल में डाला गया है, उससे पता चलता है कि कानून का पालन नहीं किया गया. NCB बाहरी प्रभाव में काम करता दिख रहा  है.याचिका में कहा गया है कि तस्करों और पेडलरों को सजा हो लेकिन ड्रग्स लेने वालों को सजा का प्रावधान खत्म हो. याचिका में NDPS कानून को भी चुनौती देते हुए कहा गया है कि नशाखोरों को नशा पीड़ित मानकर पुनर्वास केंद्रों पर भेजने का प्रावधान होना चाहिए. ड्रग्स पीने वालों के लिए सजा के प्रावधान को खत्म करने के सरकार के प्रस्ताव का भी जिक्र किया गया है. 

याचिका में कहा गया है कि व्यक्तिगत उपभोग के लिए कुछ ड्रग्स खरीदने को अपराध से मुक्त किया जाना चाहिए.नशीली दवाओं के तस्करों, पेडलर्स और ड्रग्स का सेवन करने वालों के बीच कानूनी अंतर होना चाहिए.ड्रग्स का सेवन करने वालों के प्रति सहानुभूति होनी चाहिए. उसके ऊपर से अपराध की धाराएं हटा दी जानी चाहिए.बड़ी विसंगति यह है कि जब दुनिया भर में नशीली दवाओं के सेवन करने वाले को आपराधिक श्रेणी से बाहर रखा गया हैभारत में उन्हें NDPS अधिनियम के तहत अपराध के दायरे में रखा गया है. headtopics.com

पेगासस जासूसी कांड की होगी जांच, सुप्रीम कोर्ट ने बनाई एक्सपर्ट कमेटीListen to the latest songs, only on JioSaavn.comCruise Drugs caseAryan KhanSupreme courtटिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | कोरोनावायरस के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें |

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

एक प्रतिबंधित पदार्थ लेने से सम्बंधित मामले पर देश के पूरे मीडिया की निगाहें टिकी हुईं हैं। वहीं, OBC आरक्षण विवाद के बहाने मध्यप्रदेश में सभी सरकारी भर्ती प्रक्रियाओं को स्थगित कर दिया गया। और लाखों युवाओं के बर्बाद होते भविष्य की किसी को चिंता नहीं है। Yuvao k hath tak y nasile patarth kiski santhganth or moti kamai karke thamaya ja rha h. Jisse unka v desh ka bhavisya andhkar ki or ja rha h . Y ek bahut h gambheerta se lene wali baat h. Kese kai kilo nasheele hanikarak tatv bharat tk aa rhe h.

उचित प्रकिया न होने से यह सिद्ध नहीं होता वह निर्दोष व मासूम है और विशेष समुदाय का होने के कारण फंसाया जा रहकहै। If so then the responsible be punished

आर्यन को जमानत का इंतजार: 18 दिन से जेल में बंद आर्यन की जमानत पर आज बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई, मुकुल रोहतगी करेंगे पैरवीमुंबई क्रूज ड्रग्स केस में गिरफ्तार आर्यन खान की जमानत अर्जी पर आज बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है। खास बात ये है कि आज नामी वकील और पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी आर्यन खान की पैरवी करेंगे। उन्होंने खुद ये जानकारी दी है। रोहतगी सोमवार रात को ही मुंबई पहुंच चुके हैं। आर्यन की अर्जी का सीरियल नंबर 57 है, इस लिहाज से इसकी सुनवाई थोड़ी देर में शुरू होने की उम्मीद है। | Aryan Khan Mumbai Cruise Drugs Case Bail Hearing Updates | Actor Shah Rukh Khan's Son Aryan Khan and Arbaaz Merchant Munmun Dhamecha Arrested In Drugs Case

ड्रग्स केस में आर्यन की जमानत के लिए पिता शाहरुख ने उतारे दिग्गज वकीलमुंबई। क्रूज ड्रग्स मामले में फंसे आर्यन को बचाने के लिए पिता शाहरुख खान ने दिग्गज वकीलों की फौज उतार दी है। इस मामले में अब तक वरिष्ठ वकील सतीश मानशिंदे पैरवी कर रहे थे। मानशिंदे ने रिया चक्रवर्ती का केस भी लड़ा था।

जब शाहरुख के बेटे आर्यन की तारीफ में मैनेजर पूजा ददलानी ने लिखी पोस्टशाहरुख खान की मैनेजर पूजा ददलानी की एक पुरानी पोस्ट वायरल हो रही है. साल 2019 में पूजा ने आर्यन को बर्थडे विश करते हुए पोस्ट लिखी थी. उनका कहना था कि आर्यन के पास पिता जैसी समझ है.

आर्यन खान केसः किरण गोसावी पहुंचा लखनऊ, बोला- मुंबई में लग रहा है डर आर्यन खान के ड्रग्स केस में केंद्रीय जांच एजेंसी एनसीबी की तरफ से गवाह बनाए गए किरण गोसावी ने बॉडीगार्ड प्रभाकर सेल द्वारा लगाए गए आरोप पर कहा कि सब आरोप झूठे हैं और जांच को भटकाने की साजिश हो रही है। योगी तो कहते हैं गुंडे-बदमाश यूपी छोड़कर भाग रहे हैं ये तो यूपी में शरण मांग रहा हैं

जानें अब कौन हैं आर्यन खान के वकील, करेंगे शाहरुख खान के बेटे की पैरवी Aryan Khan Drugs Case: देश के जाने माने वकील और पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी शाहरुख खान के बेटे की तरफ से पैरवी करेंगे।

आर्यन ख़ान की ज़मानत याचिका पर सुनवाई कल के लिए स्थगित - BBC Hindiबॉम्बे हाई कोर्ट ने मुंबई ड्रग्स केस में आर्यन ख़ान की ज़मानत याचिका पर सुनवाई कल दोपहर ढाई बजे के लिए स्थगित की. आज उनके पैरवी भारत के पूर्व एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने की. यह न्यायपालिका पर प्रश्न चिन्ह आर्यन खान को जमानत मिलनी चाहिए इतना भी बड़ा गुनाह नहीं किया आजकल तो मर्डर में भी अग्रिम जमानत हो जाती है नेताओं की तो फिर 3 ग्राम ड्रग्स के मामले में इतना लंबा कैसे चल रहा है जबकि ड्रग्स आर्यन खान के पास से नहीं मिली आरोपी का पक्ष बेहतरीन तरीके से रखा रोहतगी साहब ने! May be given bail with stiff conditions. The Mag. Court hadn't jurisdiction to grant bail. Possession maybe disputed, corroborated evidence jeopardize the case. 2018, 19, 20 Gaba chats confirms He is habitual & involved in illegal procurement, purchase & consumption of Drugs.