Missing Covid Deaths, Former Chief Economic Adviser, Arvind Subramanian, India, New Study, Unaccounted Fatalities 50 Lakh, कोरोना से मौतें, कोविड मौतों का आंकड़ा, अरविंद सुब्रमण्यम, पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार, नया अध्ययन, कोरोना से 50 लाख मौतें

Missing Covid Deaths, Former Chief Economic Adviser

'हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा' : कोविड मौतों के आंकड़ों पर बोले अरविंद सुब्रमण्यम

'हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा' : कोविड मौतों के आंकड़ों पर बोले अरविंद सुब्रमण्यम

23-07-2021 18:51:00

'हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा' : कोविड मौतों के आंकड़ों पर बोले अरविंद सुब्रमण्यम

एक नए अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस के कारण देश में करीब 50 लाख मौतें हुई हैं. भारत में कोरोना से लाखों ऐसी मौतें हुई हैं जो रिकार्ड में दर्ज नहीं हुईं. इस मुद्दे पर पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ( Arvind Subramanian ) ने NDTV से बात की. अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि हमें बहुत स्पष्ट होने की आवश्यकता है, हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा. स्वास्थ्य सूचना प्रणाली अच्छी नहीं है, यह हमारा सबसे अच्छा अनुमान है- यह थोड़ा कम हो सकता है, यह थोड़ा अधिक हो सकता है. इतना अधिक सीरो प्रसार, इतनी बड़ी आबादी, यह (मौतों की संख्या) वह है जिसकी हम उम्मीद कर रहे थे. हम भारत में मौतों को उचित रूप से नहीं माप सकते.

नई दिल्ली: एक नए अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस के कारण देश में करीब 50 लाख मौतें हुई हैं. भारत में कोरोना से लाखों ऐसी मौतें हुई हैं जो रिकार्ड में दर्ज नहीं हुईं. इस मुद्दे पर पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम (Arvind Subramanian) ने NDTV से बात की. अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि ''हमें बहुत स्पष्ट होने की आवश्यकता है, हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा. स्वास्थ्य सूचना प्रणाली अच्छी नहीं है, यह हमारा सबसे अच्छा अनुमान है- यह थोड़ा कम हो सकता है, यह थोड़ा अधिक हो सकता है. इतना अधिक सीरो प्रसार, इतनी बड़ी आबादी, यह (मौतों की संख्या) वह है जिसकी हम उम्मीद कर रहे थे. हम भारत में मौतों को उचित रूप से नहीं माप सकते.''

टी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की भारत पर जीत के बाद पंजाब में कश्मीरी छात्रों पर हमला: रिपोर्ट्स - BBC Hindi पिता लालू यादव से मिलने को रोका तो धरने पर बैठे तेजप्रताप, फिर ऐसे शांत हुआ गुस्सा समीर वानखेड़े पर नवाब मलिक का नया हमला: वानखेड़े की जाति और धर्म पर उठाया सवाल, कहा- फर्जीवाड़ा यहीं से शुरू हुआ

यह भी पढ़ेंपूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा कि ''आयु-विशिष्ट संख्या अंतरराष्ट्रीय अनुमानों से आती है. यदि आप संक्रमित हैं तो मरने की संभावना भारत में अधिक है. इन्हें सभी कारण से अधिक मौतें कहा जाता है जो एक महामारी के दौरान मौतों को मापने का मानक तरीका बन गया है. यहां एकमात्र सवाल यह है कि कितनी कम हैं. वास्तव में क्या हुआ, इस पर पहुंचने का प्रयास है.''

उन्होंने कहा कि ''इस अध्ययन में कहीं भी हमने यह नहीं कहा कि सरकार आंकड़ों में हेराफेरी कर रही है. ऐसा करने की हमारी क्षमता में पारंपरिक कमजोरी है. बात सिर्फ इतनी है कि हमारे सिस्टम उतने अच्छे नहीं हैं जितने होने चाहिए. सबक सीखने और भविष्य के लिए तैयार रहने के लिए हम सभी को आपदा के पूर्ण पैमाने को जानने की जरूरत है.'' headtopics.com

अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि ''सीआरएस मौतों के बड़े आंकड़ों वाले सात राज्यों और कई शहरों का डाटा उपलब्ध है. इन सात राज्यों में भारत की 50 प्रतिशत आबादी रहती है. ज्यादातर राज्यों के आंकड़े मई तक के हैं, जून के आंकड़े अभी नहीं आए हैं. तो, यह एक सतत प्रक्रिया है.''

उन्होंने कहा कि ''उत्तर प्रदेश में अध्ययन से पता चलता है कि पहली लहर में मौतों की संख्या दूसरी लहर की तुलना में बेहतर दर्ज की गई है. दूसरी लहर में संख्या बेहद कम है. सर्वेक्षणों पर आधारित अच्छे सरकारी आंकड़ों का कोई विकल्प नहीं है. इसे कुशलतापूर्वक और शीघ्रता से करने की आवश्यकता है. वास्तविक संख्याओं का पता लगाने के लिए इच्छाशक्ति होनी चाहिए.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.comसुब्रमण्यम ने कहा कि ''इस महामारी में कोई भी सरकार और समाज अच्छा दिखने के लिए सामने नहीं आया है. सभी देशों ने गंभीर गलतियां की हैं. क्या हुआ, यह जानने के लिए राज्य सरकारों को भी गंभीरता से सर्वेक्षण करना चाहिए. हमें कई स्रोतों की आवश्यकता है.'' missing Covid deathsFormer Chief Economic AdviserArvind Subramanianटिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | कोरोनावायरस के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें |

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

कोविड में मौतों का आंकड़ा नहीं होना कहना एक मुख्यमंत्री का गैर जिम्मेदाराना बयान है। आपने कभी संतोषजनक काम किया ही नही है इस लिए आप संतोषजनक उत्तर नही दे सकते हो Sach to hoga Wo bolne ki himmat hai kisi me किसी की मृत्यु ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई. 'नेतृहीन मोदी सरकार' सऊदी अरेबिया ने भारत को ऑक्सीजन गुब्बारे फुलाने के लिए भेजी थी मोदी भक्तो

देश कभी नहीं भूलेगा इन अच्छे दिनों को।। HOGI LEKIN SARKAR KI NIYAT NAHI HAI. कोविड मौत का आंकड़ा सही सही पता चल जायेगा तो इससे समाज देस और व्यक्ति विषेस का क्या फायदा होगा जवाब है कुछ नही । हा ये सनसनी फैला कर तुमलोग अपना उल्लू सीधा कर सकते हो । Little Correction: हमे संतोष कभी नहीं होगा आपसे कोई उम्मीद भी नही कर शकता.

नाकामी: देश के पास नहीं है ऑक्सीजन की कमी से मौतों का पता लगाने वाली प्रणालीऑक्सीजन या फिर स्वास्थ्य सेवाओं की कमी से एक भी मौत न होने के बाद हर कोई अलग अलग तर्क दे रहा है जबकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ

योगी के मंत्री ने खाई कसम, जब तक कोरोना खत्म नहीं होगा, अन्न नहीं ग्रहण करूंगाMahesh Chandra Gupta, Yogi State Minister, CM Yogi Adityanath, Corona crisis, not take food, UP, Budaun, Corona Crisis in India , महेश चंद्र गुप्ता, योगी आदित्यनाथ, कोरोना महामारी

दैनिक भास्कर किसी के आगे नहीं झुका, छापे से आश्चर्य नहीं- बोले जावेद अख़्तरदैनिक भास्कर किसी के आगे नहीं झुका, छापे से आश्चर्य नहीं- बोले जावेद अख़्तर तो लोग प्रवक्ता बता करने लगे ट्रोल DainikBhaskarRaid JavedAkhtar

ओलंपिक मेडल के लिए शूटर मनु भाकर ने अपने कोच के साथ बनाया है यह प्लानशूटिंग रेंज में तीन महीने से कम अभ्यास के दौरान कोच रौनक पंडित और मनु भाकर ने एक Team India TokyoOlympics2021 ManuBhaker RaunakPandit Cheer4 India भारतीयस्वतंत्रतासंग्राम 2020Tokyocity NBCOlympics Tokyo2020 WeAreTeam India ManubhakerFC

Sukanya Samriddhi Yojana बेटियों के लिए है बेहतर, इस योजना में निवेश के हैं कई फायदेकोई भी व्यक्ति अपने साथ-साथ अपने बच्चों के भविष्य को बेहतर बनाने की कोशिश में लगा रहता है। अगर बात आर्थिक पैमाने पर की जाए तो अक्सर बेटियों की उच्च शिक्षा और शादी को लेकर धन इकट्ठा करना बड़ी चुनौती होती है।

राहुल गांधी ने कहा- अगर आप भ्रष्ट नहीं हैं तो मोदी से डरने की जरूरत नहींनई दिल्ली। पेगासस जासूसी मामले पर टिप्पणी करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि यदि आप भ्रष्ट नहीं हैं तो आपको प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से डरने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे मोदी से डर नहीं लगता। राहुल के इस बयान को मोदी की तारीफ से जोड़कर देखा जा रहा है।