Supreme Court, Lakimpur Kheri, लखीमपुर खीरी हिंसा, सुप्रीम कोर्ट, यूपी सरकार

Supreme Court, Lakimpur Kheri

'हज़ारों किसान मौजूद थे, सिर्फ 23 चश्मदीद गवाह मिले...?' : लखीमपुर हिंसा पर SC का सवाल

सुप्रीम कोर्ट में लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की अदालत की निगरानी में स्वतंत्र जांच की याचिका पर सुनवाई जारी

26-10-2021 08:46:00

सुप्रीम कोर्ट में लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की अदालत की निगरानी में स्वतंत्र जांच की याचिका पर सुनवाई जारी

यूपी सरकार की ओर से पेश हरीश साल्वे ने कहा कि हमने सार्वजनिक विज्ञापन देकर यह मांगा है कि जो चश्मदीद गवाह हैं, वो सामने आएं, जिन्होंने कार में असल में लोगों को देखा था. हमने घटना के सभी मोबाइल वीडियो और वीडियोग्राफी पर भी ध्यान दिया है.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में अदालत की निगरानी में स्वतंत्र जांच की याचिका पर आज सुनवाई हुई. CJI एनवी रमना, जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने ये सुनवाई की. अब अगली सुनवाई 8 नवंबर को होगी.  सुनवाई के दौरान CJI ने कहा कि गवाहों के मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज कराए ? यूपी सरकार - कुछ गवाहों के बयान मजिस्ट्रेट के सामने कराए गए हैं, कुछ बाकी हैं. यूपी सरकार की ओर से पेश हरीश साल्वे ने कहा कि 30 गवाहों के बयान दर्ज कराए गए हैं. इनमें से 23 चश्मदीद गवाह बताए गए हैं. CJI ने कहा कि मामला ये है कि वहां पर बड़े पैमाने पर किसानों की रैली चल रही थी, क्या सिर्फ 23 चश्मदीद मिले?  यूपी सरकार की ओर से साल्वे ने कहा कि हमने सार्वजनिक विज्ञापन देकर यह मांगा है कि जो  चश्मदीद गवाह हैं,  वो सामने आएं, जिन्होंने कार में असल में लोगों को देखा था. हमने घटना के सभी मोबाइल वीडियो और वीडियोग्राफी पर भी ध्यान दिया है.

बिहार में मृत व्यक्ति ने जीता पंचायत चुनाव - BBC Hindi जम्मू और कश्मीर का विशेष दर्जा वापस दिलाने के लिए अंतिम सांस तक लड़ूंगा: उमर अब्दुल्लाह - BBC Hindi चीन और उत्तर कोरिया पर बोलते हुए जापान के पीएम ने क्यों कही हमला करने की बात - BBC Hindi

यह भी पढ़ेंजस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि वहां पर चार- पांच हजार लोग थे, जो लोकल थे . साल्वे ने जवाब दिया कि ज्यादातर लोकल थे, लेकिन बाहरी भी थे. जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि घटना के बाद भी बड़ी संख्या में लोग थे जो जांच की मांग कर रहे थे. इस पर साल्वे बोले- यहां सवाल चश्मदीदों का है. CJI ने कहा कि क्या आप जानते हैं कि इन मामलों में हमेशा एक संभावना होती है. साल्वे ने कहा कि हम समझ रहे हैं. CJI ने कहा अपनी एजेंसी से यह देखने के लिए कहें कि घटना के बारे में बात करने वाले 23 लोगों के अलावा और कितने लोग हैं, जिन्होंने घटना देखी. साल्वे ने पूछा कि क्या हम आपको सीलबंद लिफाफे में गवाहों के कुछ दर्ज बयानों के बारे में दिखा सकते हैं?

जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि  हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इन चार हजार लोगों में से कई शायद सिर्फ देखने आए थे, लेकिन कुछ लोगों ने चीजों को गंभीरता से देखा होगा और वो गवाही देने में सक्षम हो सकते हैं. साल्वे ने कहा कि  गवाह और भी होंगे जो आरोपियों की पहचान कर सकते हैं. CJI ने कहा कि क्या इन 23 चश्मदीद गवाहों में से कोई घायल हुआ है? साल्वे ने कहा -नहीं. दुर्भाग्य से जिन लोगों को चोटें आईं, उनकी बाद में मौत हो गई. सीजेआई ने कहा कि और अधिक जानकारी लें फिर हम लैब को मामले में तेजी लाने के लिए कह सकते हैं. साल्वे ने कहा- हम अदालत को अगली बार ब्योरा देंगे. CJI ने कहा कि गवाहों की सुरक्षा का भी एक मुद्दा है. साल्वे ने कहा कि उनको सुरक्षा मुहैया कराई जा रही है. सुप्रीम कोर्ट ने मारे गए पत्रकार और एक आरोपी के परिवार की शिकायत पर भी यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार इन शिकायतों पर भी अलग से स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करें.  headtopics.com

पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार पर सवाल उठाए थे. अदालत ने कहा था कि ये कभी ना खत्म होने वाली कहानी नहीं होनी चाहिए. हमें लगता है कि आप अपने पैर खींच रहे हैं. आप इस धारणा को दूर करें. कोर्ट ने पूछा कि आरोपियों को तीन दिन के लिए ही  पुलिस हिरासत में क्यों लिया गया. साथ ही न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने मामले में बाकी गवाहों के बयान दर्ज करने को कहा था और संवेदनशील गवाहों की पहचान कर उन्हें सुरक्षा देने को भी कहा था. कोर्ट ने इसके बाद मामले में सुनवाई 26 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दी थी क्योंकि UP सरकार ने गवाहों के बयान दर्ज करने के लिए और समय मांगा था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com शीर्ष अदालत, जो लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा से जुड़े एक मामले की सुनवाई कर रही है  जिसमें किसानों के विरोध के दौरान चार किसानों सहित आठ लोग मारे गए थे. राज्य सरकार ने बताया था कि न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने 44 गवाहों में से चार के बयान दिए दर्ज हुए हैं. चीफ जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली बेंच ने इस मामले में राज्य सरकार की तरफ से सीलबंद लिफाफे में दायर की गई स्टेटस रिपोर्ट को देखा. बेंच को राज्य ने बताया कि न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने गवाहों के बयान दर्ज करने की प्रक्रिया जारी है. मामले में अब तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा समेत दस लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.  शीर्ष अदालत मामले की सुनवाई तब कर रही है  जब दो वकीलों ने CJI को पत्र लिखकर घटना की उच्च स्तरीय न्यायिक जांच की मांग की थी, जिसमें CBI भी शामिल है. दरअसल लखीमपुर खीरी में एक SUV द्वारा चार किसानों को कुचल दिया गया, जब केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे एक समूह ने 3 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के खिलाफ प्रदर्शन किया. गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने BJP के दो कार्यकर्ताओं और एक ड्राइवर की कथित तौर पर पीट-पीट कर हत्या कर दी, जबकि हिंसा में एक स्थानीय पत्रकार की भी मौत हो गई. इससे पहले शीर्ष अदालत ने जनवरी में तीन नए कृषि कानूनों को लागू करने पर रोक लगा दी थी. Lakimpur KheriSupreme courtUP Governmentटिप्पणियां पढ़ें देश-विदेश की ख़बरें अब हिन्दी में (Hindi News) | कोरोनावायरस के लाइव अपडेट के लिए हमें फॉलो करें |

लाइव खबर देखें: और पढो: NDTVIndia »

Purvanchal Expressway से BJP की चुनावी गाड़ी पकड़ेगी रफ्तार? Sultanpur से देखें बुलेट रिपोर्टर

सुल्तानपुर के आसमान में भारतीय वायुसेना के गरजते विमानों की दहाड़ बहुत दूर तक सुनाई दे रही है. पूर्वांचल की धरती का बहुत खास सियासी पड़ाव है सुल्तानपुर. यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना के हरक्यूलिस विमान से उतरे और पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया. समझने वाले समझ ही गए होंगे कि कहां निगाहें हैं, कहां निशाना है. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के इस लोकार्पण से बीजेपी भी उम्मीद कर रही है कि उसकी चुनावी गाड़ी भी इस बहाने रफ्तार पकड़ेगी. तो जनता की नब्ज पकड़ने के लिए हमारी संवाददाता चित्रा त्रिपाठी की बुलेट भी यहां की ओर दौड़ पड़ी. देखिए बुलेट रिपोर्टर का ये एपिसोड.

लखीमपुर खीरी नरसंहार के बाद किसानों में डर का माहौल बन गया है अनहोनी की आशंका देखते हुए कोई गवाही देने को तैयार नहीं है Biased karyavahi hui एक यही उम्मीद और भरोसा है Koan es pechidi prakriya me uljna चाहेगा It is a very big attack on poor farmers and look at the speed of justice. Justice delayed is justice denied. LakhimpurKheriViolence

आर्यन खान ड्रग केस में ट्विस्ट, गवाह बोला- वानखेड़े को 8 करोड़ देने की बात सुनीनारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की तरफ से गवाह बनाए गए प्रभाकर सेल ने दावा किया कि छापेमारी के बाद उसने शाहरुख़ की मैनेजर पूजा ददलानी, केपी गोसावी और सैम डिसूजा को एक नीले रंग की मर्सिडीज कार में एक साथ बैठे देखा था।

Aryan Khan Case: NCB गवाह केपी गोसावी का पता लगाने में जुटीं पुलिस की टीमेंकेपी गोसावी (KP Gosavi) 2018 में दर्ज धोखाधड़ी के मामले में वांछित है. पुणे पुलिस गोसावी की सहायक को पहले ही इस मामले में गिरफ्तार कर चुकी है. mybmc CPMumbaiPolice DGPMaharashtra should capture goswami before the UP police capture him because we know they have excellence in doing fake encounter like they did of vikas dubey!! Photo dekh 25 bhej भाजपाई फरार है

मुंबई ड्रग्स मामलाः समीर वानखेड़े पर लगे आरोपों पर एनसीबी ने शुरू की जांच - BBC Hindiमुंबई ड्रग पार्टी मामले की जांच कर रहे एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े पर लग रहे आरोपों के बीच एनसीबी ने कहा है कि सतर्कता विभाग मामले की जांच करेगा. बेहद ही शर्म नाक बात है की आज उस इंसान को अपने ही देश के लोग उंगली उठा रहे है जिसने आने वाले टाइम के लिये नशे को बंद करने के लिए आवाज़ उठायी और कानूनी तरीके से काम किया पद से निलंबित और गिरफ्तार कर के जांच किया जाए नहीं तो सबूतों से छेड़छाड़ और गवाहों पर दबाव बनाएंगे Ho Dudh Malaai Kukkar Shukkar, Ghar Ger Berger Sherger Oye Tu Hi Collector, Tu Hi Commisioner, Fir Bis Aata Ander Oye Oye Lucky Lucky Oye, O Lucky Oye

भारत में फूटे पटाखे तो बिफरे संबित, नेकां प्रवक्ता ने कश्मीर की मौतों पर मांगा जवाबपाकिस्तान के खिलाफ टीम इंडिया की हार के बाद पटाखे छोड़े जाने की खबर सामने आने के बाद पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने इस शर्मनाक बताया। वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट करते हुए लिखा कि दीपावली के दौरान पटाखों पर प्रतिबंध है, लेकिन कल भारत के कुछ हिस्सों में पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के लिए पटाखे फोड़े गए।

ममता बनर्जी की नजर यूपी चुनाव पर: कांग्रेस नेता राजेशपति त्रिपाठी तृणमूल कांग्रेस में शामिलयूपी चुनाव-2022 को लेकर सभी दलों ने अपनी जाजम बिछाना शुरू कर दिया है। सत्तारूढ़ भाजपा व विपक्ष कांग्रेस व सपा के अलावा All about the United Nations in just one video, pls watch and share more and more 👍👍 सन २०२१ और २०२४ दोनों ही आप का इंतजार कर रहे हैं उत्तर प्रदेस में

चीन के मुद्दे पर बीजेपी सांसद की नाराजगी, कहा- क्या सच में कोई नहीं आया था?भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी अक्सर मोदी सरकार पर निशाना साधते रहे हैं। इसके पहले चीन द्वारा अपनी सुरक्षा के लिए बनाए गए नये कानून पर भी उन्होंने केंद्र पर हमला बोला था।