Jeevansamvad, जीवनसंवाद, Jeevan Samvad, Dayashankar Mishra, Motivational Story, Depression, Tanav, Nirasha Se Kaise Bache, Lockdown, Corona Virus, Lockdown, जीवन संवाद, दयाशंकर मिश्रा, मोटिवेशनल टॉक, कोरोना वायरस, Mental Health, Depression, Depression, Daily Life, Mental Health, Mental Illness, Nirasha Hona, Tanav Hona, Udashi Se Bachav, Dimag Ki Beemari, Nirasha Se Kaise Bachein, Tanav Kaise Dur Karein, Tension Mein Kya Karein, निराशा से कैसे बचें

Jeevansamvad, जीवनसंवाद

#जीवनसंवाद : प्यार, फैसले और ब्रेकअप!

#JeevanSamvad : ऐसा कैसे संभव है कि कल तक हम जिसकी प्यास में भटकते थे आज उससे नाराजगी होते ही प्यार मिट जाएगा. प्यार कभी मिटा नहीं करते. अगर वह प्रेम है तो लिपटे रहेंगे आपकी आत्मा से. चुपचाप शांति और मौन से. #जीवनसंवाद - @DayashankarMi

03-06-2020 04:44:00

JeevanSamvad : ऐसा कैसे संभव है कि कल तक हम जिसकी प्यास में भटकते थे आज उससे नाराजगी होते ही प्यार मिट जाएगा. प्यार कभी मिटा नहीं करते. अगर वह प्रेम है तो लिपटे रहेंगे आपकी आत्मा से. चुपचाप शांति और मौन से. जीवनसंवाद - DayashankarMi

#JeevanSamvad: ऐसा कैसे संभव है कि कल तक हम जिसकी प्यास में भटकते थे आज उससे नाराजगी होते ही प्यार मिट जाएगा. प्यार कभी मिटा नहीं करते. अगर वह प्रेम है तो लिपटे रहेंगे आपकी आत्मा से. चुपचाप शांति और मौन से. | jeevan-samvad News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

Share this:दयाशंकर मिश्रयुवा मन बहुत तेजी से जुड़ते हैं, उतनी ही तेजी से बिखरते हैं. इधर कुछ पाठक लिखते हैं कि मन और प्रेम पर कुछ बात की जाए. रिश्तों का संभलना मुश्किल हो रहा है. थोड़ा सा दबाव पड़ते ही रिश्ते कांच के बर्तनों की तरह छन्न से टूट जाते हैं. एक-दूसरे के साथ रहते हुए भी नहीं रहते हैं. इन दिनों शहरों में मनोचिकित्सकों (साइक्लोजिकल काउंसलर्स) के पास पहुंचने वाले सबसे अधिक लोगों में ऐसे लोग हैं जो रिश्ते टूटने से दुखी हैं. इनको हम सरल भाषा में ब्रेकअप (प्रेम में रिश्तों का टूटना) से जुड़े हुए मामले भी कह सकते हैं.

अमिताभ हुए कोरोना पॉजिटि‍व, सेहत के लिए दुआ मांग रहे नेता-अभिनेता अमिताभ के बाद बेटे अभिषेक बच्चन भी निकले कोरोना पॉजिटिव, हुए एडमिट अमिताभ-अभिषेक बच्चन का दोबारा हुआ कोरोना टेस्ट, बंगला होगा सैनिटाइज

मंगलवार के जीवन संवाद के लेख 'प्यार की गुलामी' पर हमें देश भर से संदेश मिले हैं. इन संदेशों का सारांश यही है कि अभी भी प्रेम को सही अर्थ और स्वतंत्रता के संदर्भ में समझा जाना बहुत जरूरी है. अभी भी दो लोगों के बीच रिश्तों में बहुत से लोगों की भूमिका है. निर्णय स्वतंत्र नहीं है. जब तक निर्णय हमारे नहीं होंगे, हम उन्हें स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं होंगे हम जीवन से दूर रहेंगे. जब तक परिवार फैसले लेने की आजादी नहीं देगा, युवा मन प्रेम की ओर बढ़ ही नहीं सकते. हम केवल गुलामी और संदेह की ओर बढ़ सकते हैं. हम उसी ओर जा रहे हैं.

लॉकडाउन के दौरान पिछले एक महीने में मुझे कम से कम ऐसे 5 युवाओं से विस्तार से संवाद का मौका मिला, जो लोग किसी ना किसी वजह से तनाव से गुजर रहे हैं. कुछ निर्णय नहीं कर पा रहे हैं. वह कहते हैं प्रेम में हैं, मैं कहता हूं, दुविधा में हैं. वह कहते हैं रिश्ता टूटने से दुखी हूं, मैं कहता हूं ऐसे रिश्ते टूट जाना ही बेहतर. रिश्ता टूटने से संबंध नहीं टूटा करते. प्रेम नहीं टूटा करता.

ऐसा कैसे संभव है कि कल तक हम जिसकी प्यास में भटकते थे आज उससे नाराजगी होते ही प्यार मिट जाएगा. प्यार कभी मिटा नहीं करते. अगर वह प्रेम है तो लिपटे रहेंगे आपकी आत्मा से. चुपचाप शांति और मौन से. मनी प्लांट की बेल कैसे चुपचाप फैलती रहती है, बिना किसी शोर और अपेक्षा के. सच्चा प्रेम अमरबेल की तरह नहीं लिपटता. वह तो गहरे अनुराग में डूबा रहता है.

रिश्तों को जो एक दिन में ही बना लेते हैं, वह अक्सर इतनी ही जल्दी से उनको गंवा देते हैं. लेकिन इसका अर्थ या नहीं हुआ कि जो लोग लंबे समय से किसी रिश्ते में हैं, उनका संबंध फेविकोल के जैसा है. नहीं फेविकोल जैसा कुछ भी नहीं. क्योंकि भीतर से हमारे अंदर परिवर्तन आ रहा है. हमने अपनी गति तेज़ कर ली है. हम सब कुछ बहुत जल्दी चाहते हैं. सारे फैसले, आरजू, तमन्ना. सब कुछ, पूरा और संपूर्ण. सब कुछ किसी को नहीं मिलता. यह नियम है सृष्टि का. उस प्रकृति का जिसने आज हमें कोरोनावायरस के माध्यम से अंततः हरा दिया है. यह कोरोना हमारे लालच और नियमों की अनदेखी का भी परिणाम है.

बहुत से लोग दुखी होते हैं, आजीवन दुखी रहते हैं. ब्रेकअप के कारण. लंबे समय तक प्रेम के शादी में ना तब्दील हो पाने के कारण. यह प्रेम की बुनियाद ही गड़बड़ है. जिस चीज़ का उद्देश्य बहुत पहले तय कर लिया जाता है उसमें मन में दुविधा और संदेह की आशंका अधिक हो जाती है. किसान, इसलिए लंबे समय तक सुखी रहे क्योंकि इन्होंने बहुत अधिक अपेक्षा नहीं की थी. वह हर तरीके के परिणाम के लिए तैयार रहते थे.

मैं बड़ी संख्या में ऐसे युवा जोड़ों से परिचित हूं जिन्होंने अगर विवाह कर भी लिया होता तो उनका जीवन कभी सुखी नहीं होता. हम भूल रहे हैं कि प्रेम के लिए जो गुण अनिवार्य होते हैं, जरूरी नहीं शादी (जिस तरह की व्यवस्था हमारे यहां है) में भी वही लुभावने बने रहें.

अमिताभ बच्चन के परिवार का भी होगा कोरोना टेस्ट, ट्वीट में बिग बी ने लिखा ये ऐश्वर्या राय-जया बच्चन का हुआ कोरोना टेस्ट, रिपोर्ट निगेटिव कौन है सुशांत सिंह का ये हमशक्ल? सोशल मीडिया पर हो रहा वायरल

अनुभवी लोग इस बात को जानते हैं. जो प्रेम में डूबे होने का भ्रम पैदा करते हैं वह स्वयं भी जानते हैं. इसलिए वह समय रहते अलग हो जाते हैं. इसका अर्थ यह नहीं कि सभी ऐसे हैं. जिनकी आत्मा में प्रेम का अमृत उतर आता है वह असुविधा की ओर नहीं देखते. वह तो केवल प्रेम की ओर देखते हैं. उनके जीवन में संकट नहीं है. क्योंकि उनके जीवन में केवल प्रेम है. संकट उनके जीवन में है जो प्रेम को किसी प्रोडक्ट की तरह देखते हैं. सब खुश रहें और प्रेम भी निभ जाए, ऐसा कम ही संभव होता है. अनेक वर्षों में कभी-कभी होता है. इसीलिए दुनिया की महानतम प्रेम कहानियां अधूरी हैं.

समय के साथ सब कुछ बदलता है और यही शाश्वत है. सत्य है. शुभ है. प्रेम है तो उसमें दुविधा और आशंका को मत मिलाइए. ब्रेकअप से डरिए मत. खासकर लड़कियों के लिए यह समझना बहुत जरूरी है. क्योंकि वह कहीं अधिक भावुकता से फैसले लेती हैं. इसलिए उनके जीवन में अवसाद के उतरने का संकट गहरा हो रहा है. इससे बचने की जरूरत है. ब्रेकअप कोई सामाजिक प्रतिष्ठा की विषय वस्तु नहीं है. वह एक निर्णय है. बस, इससे अधिक कुछ नहीं.

शुभकामना सहित....दयाशंकर मिश्रसंपर्क: ई-मेल: dayashankarmishra2015@gmail.com. आप अपने मन की बात फेसबुक और ट्विटर पर भी साझा कर सकते हैं. ई-मेल पर साझा किए गए प्रश्नों पर संवाद किया जाता है. और पढो: News18 India »

DayashankarMi justiceforarvindbansode

मूडीज ने घटाई भारत की रेटिंग, राहुल ने कहा- अभी और खराब स्थिति आने वाली हैदेश में लगभग 70 दिनों से लागू लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था की रफ्तार में कमी दर्ज की गई है। इस कारण रेटिंग एजेंसी मूडीज RahulGandhi INCIndia nsitharaman भारत बना है भा-र-त से मिलकर। 'भा' का मतलब है, भाव या संवेदना, जिससे भावनाएं उत्पन्न होती हैं। ‘रा’ का आशय राग से है। 'त’ यानी ताल । इसलिए इस देश को भारत कहते हैं। ByeByeIndiaOnlyBharat RahulGandhi INCIndia nsitharaman But people can face every problem without the sympathy of mixed blood and few few Congress members. RahulGandhi INCIndia nsitharaman ये अंतर्यामी बाबा कहाँ थे इतने वर्ष

Realme Smart TV की आज है पहली सेल, मिलेंगे आकर्षक ऑफर्स और डिस्काउंटRealme Smart TV first sale today on realme and flipkart: हाल ही में लॉन्च हुए रियलमी स्मार्ट टीवी (Realme Smart Tv) की आज पहली सेल है। ग्राहकों को इस सेल में रियलमी स्मार्ट

भारत में अभी और कहर बरपाएगा कोरोना, जुलाई में टूट सकता है मरीजों का रिकॉर्डबस महीने भर पहले तक कोरोना मरीजों के मामले में भारत टॉप तीस देशों में शामिल था. फिर 25 देशों की सूची में भारत का नाम आया. इसके बाद 20, फिर 15, फिर 10 और अब भारत करीब 2 लाख कोरोना मरीजों के साथ इस लिस्ट में 7वें नंबर पर पहुंच गया है. ShamsTahirKhan याद रखना कोरोना खत्म नही हुआ लोक डाउन खत्म हुआ है सरकार आत्म समर्पण कर सकती है पर आप को खुद के लिये लड़ना पड़ेगा..... 👍 ShamsTahirKhan ShamsTahirKhan Pls safe

भ्रष्टाचार और चीन पर निर्भरता खत्म करे डब्ल्यूएचओ तो फिर जुड़ सकता है अमेरिकाअभी तक विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का विरोध करने वाले और इसकी सदस्यता त्यागने वाले अमेरिका ने अब संगठन से दोबारा WHO POTUS पहले अमेरिका मे दंगे रोको WHO POTUS यदि दुनिया को covid19 से बचाना है तो--बिना भेद-भाव के , सम्पूर्ण मानव जाति के लिए, सभी देशों के साथ मिलकर-- काम करना होगा । ⚖️⚖️🙏 WHO POTUS इन साहब का भी कुछ पता नहीं कभी हां हां कभी ना ना उनकी हां में ना है या ना में हां है यह भी एक अनसुलझी पहेली है इनको कोई क्या समझे और क्या जवाब दें l अक्सर उनके बयान एक मसले पर कई तरह का जवाब देते हैं l

Weather Update: दिल्ली, UP और हरियाणा में अगले कुछ घंटों में आंधी और बारिश का अनुमानDainik Jagran Webinar: उत्तर प्रदेश में 'न' के लिए कोई जगह नहीं : योगी आदित्यनाथ JagranWebinar myogiadityanath myogioffice UPGovt YogiAdityanath myogiadityanath myogioffice UPGovt देश में पहली बार सरकार ने रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वालों के रोजगार के लिए लोन की व्यवस्था की है। ‘पीएम स्वनिधि’ योजना से 50 लाख से अधिक लोगों को लाभ मिलेगा। इससे ये लोग कोरोना संकट के समय अपने कारोबार को नए सिरे से खड़ा कर आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति देंगे।

Samsung Galaxy M11 और Galaxy M01 हुए भारत में लॉन्च: जानें कीमत और खासियतेंSamsung Galaxy M11 और Galaxy M01 दोनों ही स्मार्टफोन Amazon, Flipkart, Samsung India eStore और अन्य प्रमुख ई-रिटेलर्स के जरिए बिक्री के लिए उपलब्ध हो चुके हैं। दोनों फोन ऑफलाइन स्टोर्स के जरिए भी बेचे जाएंगे। मे चीनी सामन नहिं खरीदूंगा चाहे कुछ भी हो जाये 👻

न टायरों के निशान-न शीशों को नुकसान... कैसे पलटी विकास दुबे की गाड़ी? विकास दुबे की मुठभेड़ में मौत, कानपुर लाते समय गाड़ी पलटने पर की थी भागने की कोशिशः उत्तर प्रदेश पुलिस VIDEO: आजतक की टीम से STF की बदसलूकी, कार से निकालकर फेंकी चाबी PM CARES फंड की जांच नहीं करेगी लोक लेखा समिति, BJP ने रोका रास्ता कांग्रेस सांसदों की बैठक में फिर उठी राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाने की मांग VIDEO: एनकाउंटर में विकास दुबे के मारे जाने की खबर 12 घंटे तक कैमरे की जद में था STF का काफिला, 15 मिनट के लिए रोका और विकास दुबे खल्लास! विकास दुबे के अंतिम संस्कार के दौरान भड़की पत्नी रिचा, कहा- सबक जरूर सिखाऊंगी CISCE रिजल्ट: अखिलेश यादव की बेटी ने 12वीं में हासिल किए 98 प्रतिशत अंक आज तक @aajtak VIDEO: भीगी सड़क पर फिसलने के निशान नहीं, कैसे पलटी विकास दुबे की कार?