Jeevansamvad, जीवनसंवाद, Jeevan Samvad, Motivational Talk, Mind, Dayashankar Mishra, जीवन संवाद, दयाशकर मिश्र, मन, प्रेरणा, आत्महत्या के खिलाफ आवाज़

Jeevansamvad, जीवनसंवाद

#जीवनसंवाद: मन के अंधेरे!

#JeevanSamvad : अपने ही भीतर जाना है. वहीं डूबना है. सारे प्रश्नों के उत्तर वहीं हैं. मन के सारे अंधेरे वहीं बैठे हैं, अवचेतन को थोड़ी रोशनी दीजिए वह आपको भरपूर उजाला देगा. बाहर मत खोजिए, रोशनी के सारे रास्ते केवल भीतर हैं! #जीवनसंवाद - @DayashankarMi

29-05-2020 12:10:00

JeevanSamvad : अपने ही भीतर जाना है. वहीं डूबना है. सारे प्रश्नों के उत्तर वहीं हैं. मन के सारे अंधेरे वहीं बैठे हैं, अवचेतन को थोड़ी रोशनी दीजिए वह आपको भरपूर उजाला देगा. बाहर मत खोजिए, रोशनी के सारे रास्ते केवल भीतर हैं! जीवनसंवाद - DayashankarMi

#JeevanSamvad: मन का वह हिस्सा, जिसमें रोशनी नहीं पड़ती, धीरे-धीरे अंधेरा वहां जमा होता जाता है. प्रकाश की कमी नहीं होती. प्रकाश तो हमेशा मौजूद होता है. केवल यह होता है कि बंद खिड़की और दरवाज़े उस रोशनी पर पर्दा डाले बैठे रहते हैं, जिससे आत्मा रोशन होती है. | jeevan-samvad News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

Share this:दयाशंकर मिश्रहमारे फैसले, निर्णय प्रक्रिया और चिंतन मिलकर ही हमें बनाते हैं. जो कुछ होते हैं उसमें परिस्थितियों की भूमिका तो होती है लेकिन वह सब कुछ नहीं होती. अगर ऐसा होता तो हमें इतने आविष्कार, नई खोजें, नए विचार और नए रास्ते कैसे मिलते. हम सब पुरानी ही चीज़ों से बचे रहते. अंधेरों से चिपके रहते, तो नए उजाले हम तक कैसे पहुंचते. नए उजालों की मशाल थामने कोई तो आता ही है. कोई तो होगा ही जो लीक को छोड़कर अपनी राह चलेगा. जो सुंदर और लुभावने रास्तों को छोड़कर अपनी पगडंडी की ओर चलेगा!

Amitabh Bachchan Covid 19 Positive: अमिताभ बच्चन को कोरोना, मुंबई के नानावटी अस्पताल में किया गया एडमिट अमिताभ हुए कोरोना पॉजिटि‍व, सेहत के लिए दुआ मांग रहे नेता-अभिनेता अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन भी कोरोना पॉजिटिव, बोले- हल्के लक्षण हैं...

लेकिन ज्यादातर लोग ऐसा नहीं कर पाते. उन तक, उनकी आत्मा तक वह उजाले पहुंच ही नहीं पाते, जिनसे मन के वह टुकड़े प्रकाश से भर सकें जिनमें न जाने कब से अंधेरा जमा है. ऐसा करने से हमें कौन रोकता है. हम ऐसा क्यों नहीं कर पाते. इसकी वजह बहुत गहरी तो नहीं है लेकिन स्पष्ट नहीं हैं. क्योंकि हम लगातार बाहर की ओर देखते रहते हैं. निरंतर बाहर की ओर देखते रहने से हमें हर चीज़ बाहर से जुड़ी नजर आती है. जबकि उसका केंद्र हम ही होते हैं.

हम जैसे ही खिड़की दरवाज़े खोलते हैं, प्रकाश कमरे में स्वयं आ जाता है. उसे कहीं से लाना नहीं होता. वह तो हमेशा ही उपस्थित होता है. दिमाग़ की रोशनी भी ऐसी ही चीज़ है. वह हमेशा उपस्थित होती है, लेकिन हम ही हैं जो रोशनी के रास्ते उसके लिए बंद रखते हैं!हमारी शक्तियों का केंद्र हमारा चेतन मन (कॉन्शियस माइंड) नहीं है. वह तो केवल पेड़ है, हम सब जानते हैं कि पेड़ को शक्ति कहां से मिलती है. पेड़ की सारी शक्ति उसकी जड़ों में होती है. जड़ें दूसरा पेड़ बना सकती हैं, लेकिन जड़ों के बिना पेड़ नहीं खड़ा रह सकता. अवचेतन मन (सबकॉन्शियस माइंड) हमारी जड़ है. एक तरह का पावर हाउस है.

हमारी पूरी विचार प्रक्रिया को कंट्रोल करने वाला सर्वर रूम है! वैज्ञानिकों ने इसे साबित किया है कि हम जैसेे भी हैैं, अपने अवचेतन मन के कारण हैं.हम अपने जो संकट हल नहीं कर पा रहे हैं/ उन तक नहीं पहुंच पा रहे, उसके मूल में अवचेतन मन ही है. अगर नींद नहीं आती, मन बेचैन रहता है. चिंता में डूबे-डूबे लगता है अब सिर फट जाएगा. हमेशा शंका में डूबे रहते हैं. आने वाली चिंता को दिमाग पर लादे फिरते रहतेे हैं. अतीत के बोझ से मुक्त नहीं है तो यकीन मानिए आपको सबसे पहले अपने अंतर्मन तक पहुंचना चाहिए. जड़ तक पहुंचना चाहिए. जड़ तक पहुंच कर ही आप शरीर के प्रश्नों को हल कर पाएंगे.

मन के ज्यादातर अंधेरे यहीं छुपे होते हैं. लेकिन हम इन तक पहुंच ही नहीं पाते. हमारा पूरा ध्यान पेड़ पर होता है जड़ तक नहीं! इसे इस तरह भी कह सकते हैं कि मन का वह हिस्सा, जिसमें रोशनी नहीं पड़ती, धीरे-धीरे अंधेरा वहां जमा होता जाता है.प्रकाश की कमी नहीं होती. प्रकाश तो हमेशा मौजूद होता है. केवल यह होता है कि बंद खिड़की और दरवाज़े उस रोशनी पर पर्दा डाले बैठेे रहते हैं, जिससे आत्मा रोशन होती है.

हम कैसे निर्णय लेते हैं, हमारे फैसले किन चीज़ों पर आधारित होते हैं, यह जानने के लिए बाहर से थोड़ा सा विश्राम जरूरी है! जरूरी है, अपने भीतर और अंदर की तरफ झांकना! जो भी प्रश्न बाहर हैं, वह हमारे कारण ही उपस्थित हैं. अपने फैसलों के लिए दूसरों को जिम्मेदार मत ठहराइए. ध्यान रहे जब यहां दूसरा कहा जा रहा है तो इसका अर्थ है आपके अलावा हर कोई. अगर आप अपने निर्णय स्वयं नहीं लेते तो यह संसार की समस्या नहीं है. यह दुनिया का नहीं आप का संकट है. कबीर को याद करते हुए भीतर की ओर जाइए....

'जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ.'अपने ही भीतर जाना है. वहीं डूबना है. सारे प्रश्नों के उत्तर वहीं हैं. मन के सारे अंधेरे वहीं बैठे हैं, अवचेतन को थोड़ी रोशनी दीजिए वह आपको भरपूर उजाला देगा. बाहर मत खोजिए, रोशनी के सारे रास्ते केवल भीतर हैं!

कौन नहीं चाहता था, विकास दुबे ज़िंदा रहे? बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन हुए कोरोना संक्रमित, खुद ट्वीट कर दी जानकारी बिहारः बारिश के चलते अस्पताल में हुआ जलभराव, कोरोना जांच के लिए जमा सैंकड़ो सैंपल बहे

संपर्क: ई-मेल: dayashankarmishra2015@gmail.com. आप अपने मन की बात फेसबुक और ट्विटर पर भी साझा कर सकते हैं. ई-मेल पर साझा किए गए प्रश्नों पर संवाद किया जाता है. और पढो: News18 India »

DayashankarMi यही एक कमी रह गई हम अपने दिल की किताब नहीं पढ़ पाये। DayashankarMi पर भाई चैनल वालो आप तो सारे प्रश्न विपक्ष से पूछते हो । अपने अंदर पूछने वाला फार्मूला शायद तब प्रयोग करते होंगे जब प्रश्न सरकार से हो।

कोई सरेआम तो कोई गुमनाम मगर बोल रहा है, गुजरात बोल रहा हैगुजरात हाईकोर्ट में कोविड-19 से जुड़ी याचिकों की सुनवाई करने वाली बेंच में बदलाव किया गया है. जस्टिस जे बी पारदीवाला और आई जे वोरा की बेंच ने गुजरात की जनता को आश्वस्त किया था कि अगर सरकार कोविड-19 की लड़ाई में लापरवाह है तो आम लोगों की ज़िंदगी का रखवाला अदालत है. 1शिक्षा 2 स्वास्थ्य3न्याय ये फ्री में मिले बाकी फ्री में कुछ मत दो मुफ्तखोरी लोगोंको मक्कार देश को कमजोर बनाते हैं । पर इसको तो लोगो ने दिखा दिए की रामायण सब देखना चाहते थे और ये पूछता रह गया कि कोन जनता रामायण देखना चाहती है 🤣🤣🤣 WeSupport_Tejashwi

वैलिडिटी है लेकिन डाटा हो गया है खत्म, तो रिचार्ज कराएं ये खास प्लांसJio airtel vodafone best add on recharge plans: अगर आपके रिचार्ज प्लान का डाटा समय से पहले हो गया है खत्म, तो ये एड-ऑन रिचार्ज पैक आपके लिए बेस्ट हैं।

खुशहाल जीवन और मधुर रिश्तों के लिए अच्छी सोच का संकल्प लें क्योंकि हम जो सोचते हैं वह सिद्ध होता हैसंकट के इस समय में खुशहाल जीवन और मधुर रिश्तों के लिए अच्छे संकल्प और ध्यान बहुत जरूरी हैं | Pledge good thinking for a happy life and sweet relationships because what we think proves BrahmaKumaris BrahmaKumaris Sacchi khushi sirf Bhagwan se aati hai jo Yeshu ke zariye milta h.

कौन है हॉन्ग-कॉन्ग में चीन के सामने चुनौती बना 23 साल का युवा Joshua Wongदुनिया में सुपरपावर बनने का सपना देख रहे चीन के सामने सिर्फ अमेरिका और कोरोना वायरस ही चुनौती नहीं हैं। जिस देश को उसके नागरिकों की हद से ज्यादा स्रूटिनी करने के लिए आलोचनाओं का सामना करने पड़ता है, करीब एक साल से उसकी नाक में दम कर रखा है एक 23 साल के लड़के ने। हॉन्ग-कॉन्ग में अपना राज चलाने की चीन की मंशा के सामने वहां के युवा दीवार बनकर खड़े हैं और इन युवाओं का नेता है हॉन्ग कॉन्ग का एक दुबला पतला लड़का जोशुआ वॉन्ग। देखें, कैसे चीन को टक्कर दे रहे जोशुआ और उनके साथी...

भारत के तवांग पर क्यों रहती है चीन की नजर, समझिए क्या है भारत चीन सीमा विवाद?भारत के तवांग पर क्यों रहती है चीन की नजर, समझिए क्या है भारत चीन सीमा विवाद? chinaindiaborder tawang IndiaChinaBorderTension चीन की ग़लत नज़र अगर भारत पर पड़ी तो भारत की दोस्ती की नज़र बलूचिस्तान से ताइवान, मालवीय,जापान,हांगकांग,फ़िलिपींस पर है। अतः चीन को बहुत सोच समझ कर कदम उठाना होगा। “वरना इस बार चीन का नक़्शा भारत सरकार और मोदी जी बदल देगें । 🇮🇳 जय हिंद 🇮🇳

मौसम विभाग का पूर्वानुमान, अगले 24 घंटे तक लगातार चल सकती है लूभारतीय मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि उत्तर और मध्य भारत के कई हिस्सों में कहर बरपा रही लू (हीट वेव) के अभी अगले 24 घंटे

विकास दुबे की मुठभेड़ में मौत, कानपुर लाते समय गाड़ी पलटने पर की थी भागने की कोशिशः उत्तर प्रदेश पुलिस PM CARES फंड की जांच नहीं करेगी लोक लेखा समिति, BJP ने रोका रास्ता न टायरों के निशान-न शीशों को नुकसान... कैसे पलटी विकास दुबे की गाड़ी? विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले अखिलेश यादव- 'कार नहीं पलटी है, राज़ खुलने से सरकार पलटने से बचाई गई है' विकास दुबे: 'मुठभेड़' में इतने इत्तेफ़ाक़! ऐसा कैसे? विकास दुबे 'मुठभेड़': उत्तर प्रदेश पुलिस की 'ठोक देंगे' परंपरा में क़ानून की जगह कहाँ है? VIDEO: आजतक की टीम से STF की बदसलूकी, कार से निकालकर फेंकी चाबी फिंगर 4 से 5 की तरफ बढ़ी चीनी सेना, सैटेलाइट तस्वीरों से हुई तस्दीक: सूत्र राहुल गांधी का ट्वीट - 'कई जवाबों से अच्छी है ख़ामोशी उसकी', क्या विकास दुबे मुठभेड़ की ओर है इशारा...? कानपुर में विकास की गाड़ी पलटी, पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की; जवाबी कार्रवाई में सीने और कमर में गोली लगने से मौत कार नहीं पलटी, सरकार पलटने से बचाई गयी है: अखिलेश