Bangladeshihindu, Bangladeshtempleattack, Hindu İn Bangladesh, Violence İn Bangladesh, Violence Against Hindu İn Bangladesh, Durga Puja İn Bangladesh, बांग्लादेश में हिंदू, बांग्लादेश, शेख हसीना, बांग्लादेश में हिंदू मंदिर, बांग्लादेश में हिंदुओं पर अत्याचार, दुर्गा पूजा, World News İn Hindi, World News İn Hindi, World Hindi News

Bangladeshihindu, Bangladeshtempleattack

हिंसा के बाद बांग्लादेश से ग्राउंड रिपोर्ट: 37 साल में 13% से 8% हो गई हिंदुओं की आबादी, क्यों लगातार उन पर हो रहे हमले?

14.47 करोड़ की आबादी वाले बांग्लादेश में 13 करोड़ से ज्यादा मुसलमान हैं। 1.47 करोड़ में हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौध व अन्य धर्म

16-10-2021 17:46:00

हिंसा के बाद बांग्लादेश से ग्राउंड रिपोर्ट: 37 साल में 13% से 8% हो गई हिंदुओं की आबादी, क्यों लगातार उन पर हो रहे हमले? BangladeshiHindu BangladeshTempleAttack

14.47 करोड़ की आबादी वाले बांग्लादेश में 13 करोड़ से ज्यादा मुसलमान हैं। 1.47 करोड़ में हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौध व अन्य धर्म

Published by:हिमांशु मिश्राUpdated Sat, 16 Oct 2021 05:11 PM ISTसारदुर्गापूजा के दौरान बांग्लादेश के 22 से ज्यादा जिलों से हिंसा की घटनाएं सामने आ चुकी हैं। बांग्लादेश में हिंदुओं के 150 से ज्यादा दुर्गा पूजा पंडाल और इस्कॉन मंदिर को आग के हवाले कर दिया गया। देवी-देवताओं की मूर्तियां तोड़ दीं। हिंदुओं को मारा-पीटा गया। अमर उजाला के लिए किए गए सॉफ्टवेयर इंजीनियर शौबिक दास ने ग्राउंड रिपोर्ट की है। पढ़िए पूरी खबर...

संबित बोले- कन्हैया हैं राहुल का विकल्प, कांग्रेस के पास मोदी का विकल्प नहीं बघेल ने उठाया सवाल- जब आवास योजना का 40% पैसा राज्यों का तो नाम PM का क्यों? हरियाणा: गुरुग्राम में हुआ भीषण हादसा, कार के उड़ गए परखच्‍चे, 5 लोगों की गई जान

विज्ञापनआंकड़े बांग्लादेश के सरकारी मंत्रालय से लिए गए हैं।- फोटो : अमर उजालाविज्ञापनख़बर सुनेंख़बर सुनेंबांग्लादेश से आ रही खबरें बताती हैं कि दुर्गापूजा के दौरान वहां 20 से ज्यादा हिंदुओं की हत्या कर दी गई। अभी भी अलग-अलग जगहों से लाशें मिल रहीं हैं। पढ़िए अखिर क्यों बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हमले नहीं रूक रहे हैं? बांग्लादेश के कट्टरपंथी हिंदुओं से क्या चाहते हैं? कैसे उन पर अत्याचार करते हैं?

बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजादी दिलाने में भारत की सबसे अहम भूमिका रही। पाकिस्तान से युद्ध के दौरान भारत ने बांग्लादेश का साथ दिया। कई भारतीय जवान शहीद भी हुए। आजादी के तीन साल बाद यानी 1954 में बांग्लादेश ने जनगणना की थी। तब यहां 7.14 करोड़ की कुल आबादी में 13.50% हिंदू थे। आखिरी जनगणना 2011 में हुई है। इन 37 साल में हिंदुओं की संख्या घटकर महज 8.54% हो गई। 2011 से 2021 तक इसमें करीब पांच फीसदी की और गिरावट आ चुकी है। मतलब ताजा अनुमान लगाएं तो पूरे बांग्लादेश में हिंदुओं की आबादी अब तहज तीन से चार फीसदी रह गई है। headtopics.com

बांग्लादेश की 14.47 करोड़ की आबादी में 13 करोड़ से ज्यादा मुसलमान हैं। 1.47 करोड़ में हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध और अन्य धर्म के लोग हैं। यहां पिछले कुछ वर्षों में इस्लामिक कट्टरता बढ़ी है। यही कारण है कि यहां हमेशा अल्पसंख्यकों को और खासतौर पर हिंदुओं को ही निशाना बनाया जाता है।

इसकी शुरुआत पाकिस्तान से अलग देश बनने के बाद से ही हो गई थी। 1971 में बांग्लादेश बनने के बाद यहां अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ हिंसा भड़की थी। इसमें ज्योतिरमोय गुहा ठाकुरता, गोबिंद चंद्र देब, धीरेंद्र नाथ दत्त जैसे कई बड़े हिंदू नेताओं और आम नागरिकों की की हत्या कर दी गई। इसके बाद 1990, 1995, 1999, 2002 में बड़े दंगे हुए। इन दंगों में हिंदुओं को ही निशाना बनाया गया। इसके बाद से तो ये सिलसिला लगातार जारी रहा। अब सोशल मीडिया के जरिए पहले कोई अफवाह फैलाई जाती है और फिर कट्टरपंथी हिंदुओं पर हमले करने लगते हैं। हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ करना, हिंदुओं के घर जलाना, बच्चों और लड़कियों का अपहरण, दुष्कर्म जैसी वारदात यहां आम हो गईं हैं। दुर्गा पूजा से पहले ही हिंदूओं पर हमले का दौर शुरू हो गया था। यहां के कुशतिहा, जॉयपुरहट जैसे जिलों में तैयार किए जा रहे दुर्गा मूर्तियों को कट्टरपंथी मुसलमानों ने निशाना बनाया। बताया गया कि कथित तौर पर एक हिंदू ने इस्लाम के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी की है। हालांकि बाद में वो अकाउंट ही फेक निकला। हाल ही में फिर अफवाह उड़ी और इसको लेकर पूरे देश में हिंदुओं पर अटैक शुरू हो गए। दुर्गा पूजा पंडालों, मंदिरों में आगजनी शुरू हो गई। हिंदुओं को मारा-पीटा जाने लगा। कई हिंदुओं के लापता होने की खबर भी है। कट्टरपंथी मानते हैं कि उनकी पांच वक्त की नमाज के दौरान मंदिरों या घरों में कोई पूजा-पाठ, भजन-कीर्तन नहीं कर सकता है। नवरात्रि या दुर्गा पूजा के दौरान भी लाउड स्पीकर लगाने से मना किया जाता है। यहां तक की भारत में अगर कुछ होता है तो उसका असर भी बांग्लादेश में रहने वाले हिंदुओं पर पड़ता है। सीएए-एनआरसी आंदोलन के दौरान बांग्लादेश में बड़ी संख्या में हिंदुओं के साथ मारपीट की घटनाएं सामने आईं थी। दिल्ली हिंसा के दौरान भी बांग्लादेश में कई हिंदुओं के घर फूंक दिए गए थे। हिंदुओं पर लगातार हो रही हिंसा के बाद बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने प्रधानमंत्री शेख हसीना को चिट्ठी लिखी। कहा, 'माननीय प्रधानमंत्री जी, अगर बांग्लादेशी मुसलमान नहीं चाहते कि हिंदू पूजा-पाठ करें तो हम नहीं करेंगे। लेकिन कृपया हिंदुओं को बचा लें। हम पर लगातार हमले हो रहे हैं। कृपया पूजा मंडपों में आर्मी तैनात करें।' काउंसिल ने अपने आधिकारिक बयान में ये भी कहा कि पुलिस ने इन हमलों पर तुरंत एक्शन लिया। इसके चलते कई हिंदुओं की जान बच सकी है। हालांकि अभी भी हिंसा जारी है। कुछ पता नहीं चल पा रहा है कि अब तक कितने हिंदुओं को मारा जा चुका है।'

विस्तारबांग्लादेश से आ रही खबरें बताती हैं कि दुर्गापूजा के दौरान वहां 20 से ज्यादा हिंदुओं की हत्या कर दी गई। अभी भी अलग-अलग जगहों से लाशें मिल रहीं हैं। पढ़िए अखिर क्यों बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हमले नहीं रूक रहे हैं? बांग्लादेश के कट्टरपंथी हिंदुओं से क्या चाहते हैं? कैसे उन पर अत्याचार करते हैं?

विज्ञापनआगे पढ़ने के लिए लॉगिन या रजिस्टर करेंअमर उजाला प्रीमियम लेख सिर्फ रजिस्टर्ड पाठकों के लिए ही उपलब्ध हैंआजादी के वक्त 13.50% हिंदू थे, अब 8.54%बांग्लादेश के इस्कॉन मंदिर में कट्टरपंथियों ने हमला कर दिया। इसमें कई हिंदुओं को बुरी तरह से चोट लगी है। headtopics.com

MP: पुलिस विभाग की कार्रवाई से हटेंगे उर्दू और फारसी के शब्द! गृहमंत्री ने दिए संकेत अर्दोआन की ज़िद के कारण क्या तुर्की की मुद्रा लीरा हो रही है कमज़ोर - BBC News हिंदी क्या 2024 का आम चुनाव ममता के नेतृत्व में लड़ेंगे? केजरीवाल ने दिया ये जवाब

- फोटो : अमर उजालाबांग्लादेश को पाकिस्तान से आजादी दिलाने में भारत की सबसे अहम भूमिका रही। पाकिस्तान से युद्ध के दौरान भारत ने बांग्लादेश का साथ दिया। कई भारतीय जवान शहीद भी हुए। आजादी के तीन साल बाद यानी 1954 में बांग्लादेश ने जनगणना की थी। तब यहां 7.14 करोड़ की कुल आबादी में 13.50% हिंदू थे। आखिरी जनगणना 2011 में हुई है। इन 37 साल में हिंदुओं की संख्या घटकर महज 8.54% हो गई। 2011 से 2021 तक इसमें करीब पांच फीसदी की और गिरावट आ चुकी है। मतलब ताजा अनुमान लगाएं तो पूरे बांग्लादेश में हिंदुओं की आबादी अब तहज तीन से चार फीसदी रह गई है।

बांग्लादेश में क्यों हिंदुओं पर हो रहे हमले?फोटो बांग्लादेश के बांदरबन जिले की है। यहां भी हिंदुओं पर कट्टरपंथियों ने हमला किया है।- फोटो : अमर उजालाबांग्लादेश की 14.47 करोड़ की आबादी में 13 करोड़ से ज्यादा मुसलमान हैं। 1.47 करोड़ में हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध और अन्य धर्म के लोग हैं। यहां पिछले कुछ वर्षों में इस्लामिक कट्टरता बढ़ी है। यही कारण है कि यहां हमेशा अल्पसंख्यकों को और खासतौर पर हिंदुओं को ही निशाना बनाया जाता है।

इसकी शुरुआत पाकिस्तान से अलग देश बनने के बाद से ही हो गई थी। 1971 में बांग्लादेश बनने के बाद यहां अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ हिंसा भड़की थी। इसमें ज्योतिरमोय गुहा ठाकुरता, गोबिंद चंद्र देब, धीरेंद्र नाथ दत्त जैसे कई बड़े हिंदू नेताओं और आम नागरिकों की की हत्या कर दी गई। इसके बाद 1990, 1995, 1999, 2002 में बड़े दंगे हुए। इन दंगों में हिंदुओं को ही निशाना बनाया गया। इसके बाद से तो ये सिलसिला लगातार जारी रहा। अब सोशल मीडिया के जरिए पहले कोई अफवाह फैलाई जाती है और फिर कट्टरपंथी हिंदुओं पर हमले करने लगते हैं। हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ करना, हिंदुओं के घर जलाना, बच्चों और लड़कियों का अपहरण, दुष्कर्म जैसी वारदात यहां आम हो गईं हैं।

इस बार के दंगों में क्या हुआ?इस्कॉन मंदिर में हमले के दौरान उपद्रवियों ने प्रभुपाद की मूर्ति भी जला दी।- फोटो : अमर उजालादुर्गा पूजा से पहले ही हिंदूओं पर हमले का दौर शुरू हो गया था। यहां के कुशतिहा, जॉयपुरहट जैसे जिलों में तैयार किए जा रहे दुर्गा मूर्तियों को कट्टरपंथी मुसलमानों ने निशाना बनाया। बताया गया कि कथित तौर पर एक हिंदू ने इस्लाम के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी की है। हालांकि बाद में वो अकाउंट ही फेक निकला। हाल ही में फिर अफवाह उड़ी और इसको लेकर पूरे देश में हिंदुओं पर अटैक शुरू हो गए। दुर्गा पूजा पंडालों, मंदिरों में आगजनी शुरू हो गई। हिंदुओं को मारा-पीटा जाने लगा। कई हिंदुओं के लापता होने की खबर भी है। headtopics.com

क्या चाहते हैं कट्टरपंथी?बांग्लादेश के 22 से ज्यादा जिलों में दुर्गा पंडालों को कट्टरपंथियों ने निशाना बनाया है।- फोटो : अमर उजालाकट्टरपंथी मानते हैं कि उनकी पांच वक्त की नमाज के दौरान मंदिरों या घरों में कोई पूजा-पाठ, भजन-कीर्तन नहीं कर सकता है। नवरात्रि या दुर्गा पूजा के दौरान भी लाउड स्पीकर लगाने से मना किया जाता है। यहां तक की भारत में अगर कुछ होता है तो उसका असर भी बांग्लादेश में रहने वाले हिंदुओं पर पड़ता है। सीएए-एनआरसी आंदोलन के दौरान बांग्लादेश में बड़ी संख्या में हिंदुओं के साथ मारपीट की घटनाएं सामने आईं थी। दिल्ली हिंसा के दौरान भी बांग्लादेश में कई हिंदुओं के घर फूंक दिए गए थे।

हिंदुओं ने क्या कहा?कट्टरपंथियों ने हिंदू पुजारियों पर भी जानलेवा हमला किया।- फोटो : अमर उजालाहिंदुओं पर लगातार हो रही हिंसा के बाद बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने प्रधानमंत्री शेख हसीना को चिट्ठी लिखी। कहा, 'माननीय प्रधानमंत्री जी, अगर बांग्लादेशी मुसलमान नहीं चाहते कि हिंदू पूजा-पाठ करें तो हम नहीं करेंगे। लेकिन कृपया हिंदुओं को बचा लें। हम पर लगातार हमले हो रहे हैं। कृपया पूजा मंडपों में आर्मी तैनात करें।' काउंसिल ने अपने आधिकारिक बयान में ये भी कहा कि पुलिस ने इन हमलों पर तुरंत एक्शन लिया। इसके चलते कई हिंदुओं की जान बच सकी है। हालांकि अभी भी हिंसा जारी है। कुछ पता नहीं चल पा रहा है कि अब तक कितने हिंदुओं को मारा जा चुका है।'

'2017 से पहले लुंगी छाप गुंडे घूमते थे, टोपी वाले धमकाते थे, ये सब याद रखना', बोले केशव प्रसाद मौर्य कार्टूनः पाकिस्तान से आया प्रदूषण और क्या महंगाई भी? - BBC News हिंदी अजब बिहार की गजब कहानी, 650 कर्मचारियों को 25 साल के बाद मिला वेतन और पढो: Amar Ujala »

छात्रों से मिले 51 हजार बिजनेस आइडिया, देखें Business Blasters Programme पर क्या बोले Sisodia

दिल्ली सरकार की नई योजना स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों में उद्यमी एवं व्यावसायिक क्षमता को विकसित करने वाले बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्राम को लेकर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आजतक से खास बातचीत की है. इस दौरान उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में छात्र बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं और कई तरह के अनूठे आइडिया दे रहे हैं. इसकी सफलता को देखते हुए दिल्ली सरकार ने भविष्य में प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को भी इस प्रोग्राम से जोड़ने की योजना बनाई है. साथ में दिल्ली सरकार के कॉलेजों में भी प्रोग्राम को ले जाने की तैयारी है. देखिए ये वीडियो.

Bharat may alap sankhyak pay humle rss aur bjp kyo karti hai विरोध करें। हाथ पर हाथ धरे बैठने से क्या फायदा।। This criminal act organised by BJP terrorists government of India in Bangladesh.Indian Hindu Priest spreading Hate speech and terrorism against the Bangladeshi muslim community when they travel. you reap what you sow. In this film Maine villain is Modi and his Group

you reap what you sow

जानना जरूरी है: कोयला खत्म हुआ तो भारत के हर 10 में से 5 से 6 घर की बत्ती गुल हो जाएगी, जानिए‌ कितने सालों में दुनिया से खत्म हो जाएगा कोयलाकोयले पर हमने खूब मजे लिए। नहीं? तो अब तक आप ये जान गए होंगे ‌कि सारा हो हल्ला किस बात पर है। इसलिए मैं इंडिया रेटिंग्स की उस रिपोर्ट की बात नहीं करूंगा जिसमें कहा जा रहा है कि 10 अक्टूबर तक कोयले की कमी से देश के 16 बिजली बनाने के प्लांट बंद हो गए। | If coal is exhausted, 5 to 6 house lights out of every 10 in India will go off, know in how many years coal will be exhausted from the world Janardan010691 CoalIndiaHQ PMOIndia कोयला कभी ना कभी ख़त्म होगा ही... हमें दूसरे ऊर्जा के sources के तरफ पहल करनी चाहिए 🙏🙏 PMOIndia CoalCrisis

वैश्विक भुखमरी सूचकांक में भारत बांग्लादेश और पाकिस्तान से भी पीछे, 7 पायदान खिसका नीचेभुखमरी सूचकांक में भारत के पड़ोसी देशों ने उससे अच्छा प्रदर्शन किया है। जारी रिपोर्ट में नेपाल का 76वां स्थान है, तो वहीं बांग्लादेश (76), म्यांमार (71) और पाकिस्तान ने 92वें स्थान पर है। एक अनोखी उप्लभदि हमारे प्यारे मोदी जी और भाजपा के नाम सब मोदी जी कृपा से संभव हो पाया है नसीब वाला प्रधानमंत्री है हिंदुस्तान में । ये उपलब्धि तो हांसिल होनी ही थी

बांग्लादेश में हिंदुओं का भविष्य खतरे में, मंदिरों पर चुन-चुनकर हमले बांग्लादेश में तब हिंदुओं को निशाना बनाया गया जब भारत उसकी मुक्ति का 50वां वर्ष मना रहा है। बेहतर हो कि बांग्लादेश सरकार यह समङो कि उसके यहां बेलगाम होते जिहादी दोनों देशों के संबंधों को पटरी से उतारने का काम कर रहे हैं। Reasons are TMC winning elections and torturing Hindus after elections Second is talibans winning Afghanistan. Mamta and Taliban both need be given a proper treat.

अफगानिस्तान में शिया मस्जिद में विस्फोट, 30 से ज्यादा की मौत, कई घायलकाबुल। अफगानिस्तान के दक्षिणी प्रांत की एक शिया मस्जिद में जुमे (शुक्रवार) की नमाज के दौरान किए गए विस्फोट में कम से कम 32 लोगों की मौत हो गई और 13 अन्य जख्मी हो गए।

पत्थलगांव में धार्मिक रैली में घुसी कार, दर्जनभर से ज्यादा घायल, ASI निलंबितरायपुर। छत्तीसगढ़ के जशपुर में शुक्रवार शाम को दुर्गा विसर्जन रैली के दौरान एक बड़ा हादसा हो गया। इस दौरान एक तेज गति से आ रही कार भीड़ में घुस गई और उसने लोगों को कुचल दिया है।

देश के 135 थर्मल पॉवर प्लांट्स में से 112 में गहराया बड़ा कोयला संकट, मुश्किल बढ़ीदेश के 135 थर्मल पावर प्लांट्स में से 82.96% में कोयले का स्टॉक क्रिटिकल या सुपर क्रिटिकल स्तर पर बना हुआ है. 😉😀 Job tb bhi nhi de rahe hain mining engineer ko Nothing will happen .....