हिंदुओं पर हमलों के बाद अब बांग्लादेश सरकार बनाने जा रही यह क़ानून - BBC News हिंदी

हिंदुओं पर हमलों के बाद अब बांग्लादेश सरकार बनाने जा रही यह क़ानून

26-10-2021 04:43:00

हिंदुओं पर हमलों के बाद अब बांग्लादेश सरकार बनाने जा रही यह क़ानून

बांग्लादेश में पिछले दिनों दुर्गा पूजा के दौरान सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं हुई थीं जिनमें अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को निशाना बनाया गया था.

समाप्तइसलिए सरकार गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक नया क़ानून बनाने जा रही है.क़ानून मंत्री अनीसुल हक़ ने कहा कि ऐसा क़ानून बनाने के लिए पहले ही क़दम उठाए जा चुके हैं.लेकिन 13 अक्टूबर को कुमिल्ला के पूजा मंडप में क़ुरान मिलने की घटना के बाद बांग्लादेश के विभिन्न हिस्सों में सांप्रदायिक हिंसा और हमलों के मद्देनजर ऐसे मामलों की सुनवाई का मुद्दा फिर से उभर कर सामने आया है.

लखनऊ में बेरोजगारी के मुद्दे पर छात्र संगठनों ने निकाला मार्च, पुलिस ने NDTV के कैमरे को बंद करने के लिए कहा पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का संकट और गहराया - BBC Hindi रूस ने अगर यूक्रेन पर हमला किया तो हम चुप नहीं बैठेंगे: अमेरिका - BBC Hindi

क़ानून मंत्री अनीसुल हक़ ने कहा, ''जब ऐसे हमले होते हैं, तब होता यह है कि गवाह निडर होकर गवाही देने से हिचकिचाते हैं. इसीलिए हमने गवाह संरक्षण क़ानून बनाने के लिए पहले ही क़दम उठाये थे. अब यह क़ानून बनाकर हम इसे बहुत जल्दी ही लागू करेंगे.''

"इसमें गवाहों को सुरक्षा प्रदान करने की व्यवस्था होगी. और अगर कोई गवाहों से किसी तरह का दुर्व्यवहार करता है, तो इसे भी अपराध माना जायेगा और ऐसा करने वाले के ख़िलाफ़ कार्रवाई का प्रावधान होगा."क़ानून मंत्री ने कहा, "एक और बात - क़ानून में गवाहों की गोपनीयता बनाये रखने की भी व्यवस्था की जायेगी." headtopics.com

शेख़ हसीना ने हिन्दुओं की सुरक्षा पर भारत को क्यों दी चेतावनी?इमेज कैप्शन,नानूयादीघी के किनारे के पूजा मंडप में तोड़फोड़ के बाद का दृश्य, अष्टमी के दिन ली गई यह फोटो बीबीसी को दी गईबांग्लादेश में सर्वोच्च न्यायालय ने 2015 में गृह मंत्रालय और क़ानून मंत्रालय को गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये पहल करने का निर्देश दिया था.

उस समय मुख्यत: आपराधिक मामलों के त्वरित निपटान और निश्चित तारीख़ पर गवाहों की उपस्थिति और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए क़ानून बनाने का निर्देश दिया गया था.इसके बाद सरकार ने उन सब विषयों पर काम करना शुरू किया था.साम्प्रदायिक हमलों के मामलों की सुनवाईमानवाधिकार संगठन आइन ओ सालिश केन्द्र (क़ानून और मध्यस्थता केन्द्र) की एक हालिया रिपोर्ट में कहा गया है कि 2013 से पिछले नौ वर्षों में बांग्लादेश में अल्पसंख्यक समुदाय, ख़ासकर हिंदू समुदाय पर हमले की साढ़े तीन हज़ार से अधिक घटनाएं हुई हैं.

इन हमलों में हिंदुओं के घरों और व्यवसायिक प्रतिष्ठानों और पूजा मंडपों और मंदिरों पर हमला, तोड़फोड़ और आगज़नी की गई थी.संगठन ने यह रिपोर्ट अख़बारों में छपी ख़बरों के आधार पर तैयार की है.बांग्लादेश: दुर्गा पूजा स्थल पर क़ुरान रखने वाला संदिग्ध इक़बाल हुसैन गिरफ़्तार

वीडियो कैप्शन,हिंदू पूजा स्थलों पर सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए, लेकिन लोग डरे हुए हैं.क़ानून और मध्यस्थता केंद्र की वरिष्ठ उप निदेशक नीना गोस्वामी ने कहा कि इन मामलों में से शायद ही कोई ऐसा मामला हो जिसमें यह कहा जा सके कि "न्याय का कार्य पूरा हो चुका है", इसका मुख्य कारण यह है कि ज़्यादातर मामलों में लोग गवाही देने ही नहीं आते. headtopics.com

'एक विशेष व्‍यक्ति का दैवीय हक नहीं..' : प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी पर कसा तंज प्रशांत किशोर ने फिर कांग्रेस नेतृत्व को निशाने पर लिया - BBC Hindi भारत में भी ओमिक्रॉन की दस्तक, पहली बार मिले दो मामले - BBC News हिंदी

उन्होंने कहा, "अल्पसंख्यकों पर हमलों के मामलों में अधिकतर समय गवाह उसी परिवार का कोई पड़ोसी होता है, शायद एक और अल्पसंख्यक परिवार का सदस्य. लेकिन मुक़दमे की सुनवाई के दौरान गवाही देने जाने में उन्हें डर लगता है, इसलिए वे गवाही देने नहीं जाते."

उन्होंने समझाया, "क्योंकि वे वहीं रहते हैं, उन्हें वहीं लौटना है, उन्हें वहीं रहना है. वे जिनके ख़िलाफ़ बोलेंगे, हो सकता है कि वे उनके पड़ोसी हों, हो सकता है कि वे प्रभावशाली हों. इसलिए लोग डर से गवाही देने नहीं जाते."वीडियो कैप्शन,बांग्लादेश में हमलों के बाद हिंदू समुदाय का क्या हाल है?

ऐसे में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने नया क़ानून बनाने की सरकार की पहल का स्वागत किया है.मानवाधिकार कार्यकर्ता सुल्ताना कमाल का मानना है कि इस मामले में सरकार के केवल क़ानून बना देने से ही काम नहीं चलेगा, बल्कि यह भी सुनिश्चित करना होगा कि क़ानून को अमल में लाया जाए.

उनके अनुसार इसके साथ ही क़ानून लागू करने वालों की मानसिकता को बदलना भी उतना ही ज़रूरी है.इस बीच, क़ानून मंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदायों पर हमलों के मामलों की सुनवाई के लिए सरकार ने अल्पसंख्यक संरक्षण अधिनियम का मसौदा तैयार कर लिया है.सरकार मसौदे की समीक्षा के बाद इस दिशा में आगे बढ़ने पर भी विचार कर रही है. headtopics.com

और पढो: BBC News Hindi »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

भारत मे नही हमारे भारत में तो अल्पसंख्यक पर हमला करने वालों को सरकार संरक्षण देती, अदालत मूकदर्शक बनना देखता है, फिर बहुसंख्यक समुदाय उसे पार्लियामेंट भेज देती है मैंने सोचा हमलावरों को सांसद या विधायक बनाया जाएगा जैसे भारत के बहुसंख्यक करते हैं लेकिन वहां तो उल्टा ही है कैसा कानून है बंगलादेश का 👎👎👎

गवाह सुरक्षा कानून... हा यह कर लो पहले अच्छी नौटंकी की स्क्रिप्ट बनाई है हिन्दुओं को बरगलाने के लिए, तुम चाहें जितना कानून बना लो, लेकिन जेहादियों की विचारधारा को कभी नहीं बदल पाओगे उनके लिए हम कल भी काफ़िर थे और आज भी रहेगें, उनके लिए मानवता बाद में इस्लामिक आतंक पहले आता हैं... कानून ? 🧐 मंत्री नहीं बनाते क्या उस‌ देश में ?

Kash bharat m bhi hinduon par hamle krne walo k khilaaf kanoon bane Yahan toh aaj tak moblynching zabardasti JSR par koi qaanoon toh kiya or award se nawaaza gaya. कोई भाव अछूता नहीं रहे. जिस भाव में खुद के अस्तित्व मिले .. उसको ही स्थिर.. अब सब में करे🧬 भारत मे बनेगा कभी ऐसा Media Sahi to sab sahi Bjp chor sakaar

डाबर के करवाचौथ के विज्ञापन पर हंगामा।Uproar Over Dabur KarwaChauth Advertisement। Dabur AdDaburaadvertisement KarwaChauth2021 Dabur 24 अक्टूबर को देश भर में KarwaChauth का त्यौहार मनाया जा रहा है और विज्ञापन एजेंसियां त्योहारों को लेकर इन दिनों बेहद सक्रिय रहती हैं। Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITCofficial AITC4Gujarat AITC4Goa AITC4Tripura AITC4Jharkhand AITC4Assam AITC4Bihar AITC4UP AITC4Delhi BanglarGorboMB AITC_Parliament ANewDawnForGoa देश की हिफाजत मरते दम तक करेंगे दुश्मन की हर गोली का हम सामना करेंगे आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें जय हिन्द !! Sir help me please! I'm victim of electronic torture, gangstalking ,targeted individuals, organised covert harassment, gov stalking surveillance blackmailing mobbing, cyber harassment and stalking.

एक इस्लामिक राष्ट्र पर इस तरह कोई भरोसा नहीं किया जा सकता। क्या मोदी और शाह सरकारी एजेंसियों का इस्तेमाल कर देश भर में वसूली का रैकेट चला रहे हैं..?

भारत-पाकिस्तान के खिलाड़ी जब मैदान में तू-तू, मैं-मैं पर उतरे - BBC News हिंदीभारत और पाकिस्तान के बीच जब क्रिकेट मुक़ाबला होता है तो क्रिकेट प्रेमियों ही नहीं बल्कि दोनों टीमों के खिलाड़ियों की भावनाएं भी उफ़ान पर होती हैं. 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

Earthquake in Taiwan: ताइवान में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 6.2 रही तीव्रताEarthquake in Taiwan: ताइवान में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 6.2 रही तीव्रता earthquake Taiwan

हरीश रावत के बयान पर बरसे कांग्रेस नेता, बोले- इतिहास में ऐसी 'गटरछाप' भाषा नहीं सुनीकांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने ट्वीट कर कहा कि आज एक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व की खुलकर अवहेलना की जा रही है और कांग्रेस के नेता आपस में बच्चों की तरह सार्वजनिक रूप से झगड़ने लगते हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू ने फिर दिखाए तेवर, बोले- पंजाब के असली मुद्दों पर डटा रहूंगासिद्धू ने ट्वीट किया, 'पंजाब को अपने वास्तविक मुद्दों पर वापस आना चाहिए, जो हर पंजाबी और हमारी आने वाली पीढ़ी की चिंता है. हम उस वित्तीय आपातकाल का मुकाबला कैसे करेंगे जो हमें घेर रहा है? मैं असली मुद्दों पर डटा रहूंगा.' SRA Scam ( Slum Rehabilitation Authority ) Project Scam in my area SRA Bldg no 6,Shivaji Nagar,Jogeshwari east, mumbai. CMOMaharashtra mybmc narendramodi PMOIndia rashtrapatibhvn MoHUA_India mumbaimatterz Mumbai_2424 MakeInMaha mygovMaha mayor_mumbai ना चैन से बैठूंगा और न किसी को बैठने दूंगा। जब तक सीएम नहीं बन जाता।

ड्रग्स केस: फरार गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा- एनसीबी ने सादे कागज पर साइन करवाएक्रूज ड्रग्स मामले में बॉलीवुड मेगास्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान आर्थर जेल में बंद हैं. उनकी जमानत याचिका दो बार खारिज हो चुकी है. वकील जमानत दिलाने में जुटे हैं. अब सुनवाई 26 अक्टूबर को मुंबई के हाईकोर्ट में होनी है. इस बीच इस केस में नया ट्विस्ट आया है. फरार किरण गोसावी के बॉडीगार्ड प्रभागकर सैल ने सनसनीखेज दावा किया है. प्रभागकर ने दावा किया कि उन्हें पंचनामा पर साइन नहीं करवाया गया बल्कि जबरन खाली कागज पर साइन करवाया गया. प्रभाकर ने रेड के समय कुछ तस्वीरें खींची थी और वीडियो भी बनाए थे. जिन्हें प्रभागकर ने आज तक को दिखाया है. देखें वीडियो. नवाब मलिक एक ईमानदार ऑफिसर को धमकी मत्लोब साफ हे ड्रग्स माफिया को महारास्ट्र सरकार की छत्र छाया के निचे हे हकला सबको खरीद लेगा जांच में रुकावट डालने के लिए 'बॉडीगार्ड' की स्क्रिप्ट लिखी गई समीर वानखेड़े के ट्रांसफर करने का खेल खेला जा रहा है कोर्ट में यह साबित करना की यह रिश्वत का खेल है आर्यन को जमानत मिल जाए