Allahabad High Court, Judge Rang Nath Pandey, Letter To Pm Narendra Modi, Allahabad High Court, Up News, Pm Modi

Allahabad High Court, Judge Rang Nath Pandey

हाईकोर्ट जज की मोदी को चिट्ठी- न्यायाधीशों की नियुक्ति वंशवाद और जातिवाद से ग्रसित

इलाहाबाद /हाईकोर्ट जज की मोदी को चिट्ठी- न्यायाधीशों की नियुक्ति वंशवाद और जातिवाद से ग्रसित

3.7.2019

इलाहाबाद /हाईकोर्ट जज की मोदी को चिट्ठी- न्यायाधीशों की नियुक्ति वंशवाद और जातिवाद से ग्रसित

जस्टिस रंगनाथ पांडेय ने कहा- जजों की नियुक्ति के लिए कोई निश्चित मापदंड नहीं पत्र में लिखा- हाईकोर्ट के जजों का चयन बंद कमरों में चाय की दावत पर पैरवी से हो रहा | Allahabad High Court judge Rang Nath Pandey has written a letter to PM Narendra Modi,

X जस्टिस रंगनाथ पांडेय ने कहा- जजों की नियुक्ति के लिए कोई निश्चित मापदंड नहीं पत्र में लिखा- हाईकोर्ट के जजों का चयन बंद कमरों में चाय की दावत पर पैरवी से हो रहा Dainik Bhaskar Jul 03, 2019, 12:06 PM IST लखनऊ. इलाहाबाद हाईकोर्ट के जस्टिस रंगनाथ पांडेय ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्तियों पर गंभीर सवाल उठाए हैं। उन्होंने सोमवार को इस बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा। जस्टिस पांडेय ने कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्तियों के लिए कोई निश्चित मापदंड नहीं है। प्रचलित कसौटी केवल परिवारवाद और जातिवाद से ग्रसित है। न्यायपालिका की गरिमा को बरकरार रखने के लिए सख्त फैसले लेना जरूरी है। ये भी पढ़ें आदेश लागू ना करने पर सुप्रीम कोर्ट खफा, राज्य सरकार से पूछा- क्या केरल कानून से ऊपर है? उन्होंने पत्र में लिखा, ''न्यायपालिका दुर्भाग्यवश वंशवाद और जातिवाद से ग्रसित है। यहां जजों के परिवार से होना ही अगला न्यायाधीश होना सुनिश्चित करता है। अधीनस्थ न्यायालय के न्यायाधीशों को भी अपनी योग्यता सिद्ध करने पर ही चयनित होने का अवसर मिलता है। लेकिन हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों की नियुक्ति का हमारे पास कोई निश्चित मापदंड नहीं। प्रचलित कसौटी है तो केवल परिवारवाद और जातिवाद है।'' प्रधानमंत्री से सख्त कदम उठाने की मांग जस्टिस पांडेय ने कहा कि 34 साल के सेवाकाल में उन्हें कई बार हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजों को देखने का अवसर मिला। उनका विधिक ज्ञान संतोषजनक नहीं है। जब सरकार द्वारा राष्ट्रीय न्यायिक चयन आयोग की स्थापना का प्रयास किया गया तो सुप्रीम कोर्ट ने इसे अपने अधिकार क्षेत्र में हस्तक्षेप मानते हुए असंवैधानिक घोषित कर दिया था। जस्टिस पांडेय ने पिछले 20 साल में हुए सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के विवाद और अन्य मामलों का हवाला देते हुए नरेंद्र मोदी से अपील की है कि न्यायपालिका की गरिमा को पुर्नस्थापित करने के लिए न्याय संगत कठोर निर्णय लिए जाएं। 'कई न्यायाधीशों के पास विधिक ज्ञान तक नहीं' जस्टिस पांडेय ने पत्र में लिखा, ''कई न्यायाधीशों के पास सामान्य विधिक ज्ञान तक नहीं है। कई अधिवक्ताओं (वकीलों) के पास न्याय प्रक्रिया की संतोषजनक जानकारी तक नहीं। कॉलेजियम के सदस्यों के पसंदीदा होने की योग्यता के आधार पर न्यायाधीश नियुक्त कर दिए जाते हैं। यह स्थिति बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजो का चयन बंद कमरों में चाय की दावत पर वरिष्ठ न्यायाधीशों की पैरवी और पसंदीदा होने के आधार पर हो रहा है। इस प्रक्रिया में गोपनीयता का ध्यान रखा जाता है। प्रक्रिया को गुप्त रखने की परंपरा पारदर्शिता के सिद्धांत को झूठा करने जैसी है।'' और पढो: Dainik Bhaskar

गुजरात में ट्रंप के तीन घंटों पर खर्च होंगे 85 करोड़



15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ

आधार कार्ड को लेकर क्यों जारी हुए नागरिकता साबित करने के नोटिस



धार्मिक नेता बोले- पीरियड्स में पति के लिए खाना बनाया तो अगले जन्म में 'कुत्ता' बनेंगी महिलाएं, खाने वाले बनेंगे बैल

भारत के किस-किस मेहमान को गुजरात ले गए नरेंद्र मोदी



छत्रपति शिवाजी की जन्मतिथि को लेकर विवाद क्यों है?

मुकेश अंबानी समेत भारत के इन दिग्गज कारोबारियों से मिलेंगे डोनाल्ड ट्रंप, तैयारियां शुरू



narendramodi 100% सत्य, यही कारण है कि यहाँ भी जज - वकील का परिवारवाद ही हॉबी है जो फैसलों को प्रभावित करता है। narendramodi UPSC की तर्ज़ पर न्यायपालिका मे भी भर्तियां होनी चाहिए । तभी जाकर मोदी जी का नारा हकीकत मे बदलेगा । सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास । narendramodi असलियत सामने आई गई लेकिन मोदी जी क्या ऐक्शन लेते है देखते हैं

narendramodi Sb kuch aisa he hoga

क्रिकेट विश्व कप 2019: श्रीलंका ने वेस्ट इंडीज को 23 रनों से हरायाअविष्का फर्नांडों की शतकीय पारी की मदद से टूर्नामेंट में श्रीलंका की तीसरी जीत. Congratulations lanka

Why Mumbai is Facing such Problem in Every Monsoon? - रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क़ुदरत के निशाने पर आ गई है मुंबई, बारिश और चक्रवात का ख़तरा वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बररवीश कुमार का प्राइम टाइम : क़ुदरत के निशाने पर आ गई है मुंबई, बारिश और चक्रवात का ख़तरा हिन्दी न्यूज़ वीडियो। एनडीटीवी खबर पर देखें समाचार वीडियो रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क़ुदरत के निशाने पर आ गई है मुंबई, बारिश और चक्रवात का ख़तरा अगले 48 घंटे में मुंबई और महाराष्ट्र में भारी से भारी बारिश होने की आशंका जताई गई है. मंगलवार को मुंबई, पुणे सहित महाराष्ट्र भर में दीवार गिरने से 31 लोगों की मौत हो गई. पुणे में पिछले हफ्ते दीवार गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई थी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बारिश के कारण महाराष्ट्र भर में दीवार गिरने से 46 लोगों की मौत हुई है. मुंबई में ही बारिश के कारण अलग-अलग दुर्घटनाओं में 25 से अधिक लोगों की मौत हो गई है. पुराना अनुभव अब काम नहीं आएंगे. मुंबई की बारिश कभी भी धोखा दे सकती है. मुंबई में समंदर के अलावा नदियों और दलदली ज़मीन का अपना एक सिस्टम बना हुआ था. हम धीरे-धीरे उन पर कब्ज़ा करते चले गए. ये प्राकृतिक सिस्टम महानगर की सुरक्षा के उपकरण थे. अपने आस पास देखिए. प्राकृतिक आपदाओं का स्केल बड़ा होता जा रहा है. बीएमसी की तैयारी तबाही के असर को कुछ कम कर सकती है मगर तबाही नहीं टाल सकेगी. जिन लोगों की बनाई नीतियों के ये परिणाम हैं उन पर बीएमसी का ज़ोर नहीं चलेगा. अब देखिएगा. यहां से भाषा बदलेगी. उस भाषा को ग़ौर से नोट कीजिए. जब आप पूछेंगे कि इस तबाही का ज़िम्मेदार कौन है, कैसे इस तबाही से बचें तो जवाब आएगा हम सबको मिलकर सामूहिक रूप से जिम्मेदारी उठानी होगी. जब भी लापरवाही का स्तर हद से ज्यादा हो जाता है, लापरवाही सामूहिक बताई जाने लगती है और उन्हें बचा लिया जाता है जो कुर्सी पर बैठते हैं. बजट पास करते हैं, योजनाएं बनाते हैं. आम लोग ज़िम्मेदार हो जाते हैं. दुःखद सब ज्यादा हो रहा है मरने वालों की संख्या मोदीराज में ही क्यों

हाई कोर्ट के जज ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, जजों की नियुक्ति पर उठाए सवालइलाहाबाद हाई कोर्ट के न्यायाधीश रंग नाथ पांडे ने हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्तियों पर सवाल उठाए हैं। हमारे देश में माननीय न्यायाधीश नियुक्ति प्रक्रिया सार्वजनिक होनी चाहिए व इसके लिए भी एक शक्तिशाली आयोग का घठध है,जिसके सदस्य सभी वर्ग के प्रतिष्ठित व्यक्ति हों। माननीय न्यायाधीश श्री रंगनाथ पांडेय जी ने उच्च न्यायालयों व उच्चतम न्यायालय में जजों की नियुक्ति में भाई भतीजावाद व जातिवाद के जो आरोप लगाए हैं वो आज की सच्चाई है। जजों की नियुक्ति प्रणाली में सुधार होना चाहिए। न्यायपालिका भी जवाबदेह होनी चाहिए। आखिर क्यों आप सुधार से कतरा रहे हो

SC से अभिषेक बनर्जी की पत्नी को राहत, पेशी से मिली छूट बरकरारपेशी से छूट आजतक नहीं समझ पाया! भ्रष्टाचारी अपराधी खुले घूंमें और मुकदमा माननीय न्यायालय में लंबित हो! जय संविधान जय हिन्द!! Sare choro ko Court se jamanat itni jaldi kaise mil jaati hai, aam aadmi ko jamanat ka ja bhi itne jaldi nahi milta

मुंबई: फिर खुली बीएमसी की पोल, लगातार चार दिन की बारिश से बेहाल हुई मायानगरीमुंबई में बारिश से फिर बदइंतजामी की पोल खुली, कई इलाकों में पानी भर गया. दक्षिण-मध्य मुंबई में सबसे ज्यादा बारिश हुई है. दक्षिण मुंबई को पूर्वी मुंबई से जोड़ने वाला परेल का ये रास्ता पानी से भरा हुआ है. रेल लाईन का काम बीएमसी मे नही आता हे, ये रेल विभाग का काम हे की पटरी के पाणी का निपटारा करने हेतू कोई ठोस उपाय करे.. mybmc RailMinIndia भारतमाताकीजय और वंदे-मातरम के उदघोष लगाने वाली राष्ट्रवादी सरकार से पूछो ये सवाल या हिम्मत नही है 'औकात' & 'हैसियत' कांड के बाद 36000 करोड़ का बजट है BMC का ऐसे ही सबसे ज्यादा करोड़पति भारत मे नही बनते

INDvsBAN: संजय मांजरेकर की कमेंट्री से भड़के फैंस, हटाने की मांग हुई तेज– News18 हिंदीइंडिया और बांग्‍लादेश के क्रिकेट वर्ल्‍ड कप मैच के दौरान सोशल मीडिया पर पूर्व क्रिकेटर और अब कमेंटेटर की भूमिका निभा रहे संजय मांजरेकर फैंस के निशाने पर हैं. बाहर तो धोनी होना चाहिए जब स्ट्राइक रेट 200 होना चाहिए और रन गति 15 होना चाहिए तब धोनी की महरबानी से 7 या 8 रन प्रति ओवर रहती है आज भी रन 360 का स्कोर नजर आ रहा था लेकिन आखिर के 10 ओवर मे केवल 70 रन बने संजय सही बात कहने का हक किसी को नहीं है



महात्मा गांधी ने कई बार कहा कि वो कट्टर हिन्दू हैं: मोहन भागवत

ब्रितानी सांसद डेबी को दिल्ली एयरपोर्ट पर रोका गया

J&K: अनुच्छेद 370 हटाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद का आरोप, 'नहीं मिली भारत आने की मंजूरी'

शाहीन बाग़ पर सुप्रीम कोर्ट: संजय हेगड़े प्रदर्शनकारियों से बात करें

मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, डर और लालच दिखाकर धर्मांतरण कराना महापाप से कम नहीं

J&K से अनुच्छेद 370 हटाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद को नहीं मिली भारत आने की मंजूरी, कहा- मेरा वीजा रिजेक्ट हो गया

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

03 जुलाई 2019, बुधवार समाचार

पिछली खबर

दुनियाभर में जून का महीना सबसे गर्म रहा, ग्लोबल वार्मिंग के चलते लू में 5 गुना इजाफा

अगली खबर

महाराष्ट्र में बांध टूटा, 7 की मौत, 20 लापता
गुजरात में ट्रंप के तीन घंटों पर खर्च होंगे 85 करोड़ 15 दस्तावेज देकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाई असम की जाबेदा, कानूनी लड़ाई में खो बैठी सब कुछ आधार कार्ड को लेकर क्यों जारी हुए नागरिकता साबित करने के नोटिस धार्मिक नेता बोले- पीरियड्स में पति के लिए खाना बनाया तो अगले जन्म में 'कुत्ता' बनेंगी महिलाएं, खाने वाले बनेंगे बैल भारत के किस-किस मेहमान को गुजरात ले गए नरेंद्र मोदी छत्रपति शिवाजी की जन्मतिथि को लेकर विवाद क्यों है? मुकेश अंबानी समेत भारत के इन दिग्गज कारोबारियों से मिलेंगे डोनाल्ड ट्रंप, तैयारियां शुरू पाकिस्तान में रहस्यमय गैस लीक, 14 की मौत EXCLUSIVE: डोनाल्‍ड ट्रंप के दौरे से पहले अहमदाबाद में क्‍या हैं जोरदार तैयारियां... सीएम रूपाणी ने बताया सिर्फ घूमने आ रहे हैं अमेरिकी प्रेसिडेंट? जानिए क्या है डोनाल्ड ट्रंप के भारत यात्रा का 'असली प्लान' कश्मीरी संस्कृति पर लिखें आर्टिकल, मिलेंगे 1 लाख रुपये, DU ने किया ऐलान राकेश मारिया का खुलासा- कसाब को समीर के रूप में मारने की थी लश्कर की योजना
महात्मा गांधी ने कई बार कहा कि वो कट्टर हिन्दू हैं: मोहन भागवत ब्रितानी सांसद डेबी को दिल्ली एयरपोर्ट पर रोका गया J&K: अनुच्छेद 370 हटाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद का आरोप, 'नहीं मिली भारत आने की मंजूरी' शाहीन बाग़ पर सुप्रीम कोर्ट: संजय हेगड़े प्रदर्शनकारियों से बात करें मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ दुनिया की 5वीं बड़ी इकोनॉमी बना भारत रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, डर और लालच दिखाकर धर्मांतरण कराना महापाप से कम नहीं J&K से अनुच्छेद 370 हटाने की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद को नहीं मिली भारत आने की मंजूरी, कहा- मेरा वीजा रिजेक्ट हो गया उमर अब्दुल्ला को किस आधार पर बंद किया गया है? RSS चीफ मोहन भागवत ने दिया तलाक पर बयान तो सोनम कपूर भड़कीं, बोलीं- 'मूर्खतापूर्ण' अर्दोआन ने कश्मीर की रट क्यों लगा रखी है सपा का आरोप- अखिलेश यादव की हत्या कराना चाहती है बीजेपी सरकार जामिया: चार वीडियो पर उठने वाले पांच अनसुलझे सवाल