Columnist

Columnist

हरिवंश का कॉलम: एआई दुनिया को बहुत तेजी से बदल रही है; मानव मन की संभावनाएं हैं अनंत, अपार और अज्ञात

हरिवंश का कॉलम: एआई दुनिया को बहुत तेजी से बदल रही है; मानव मन की संभावनाएं हैं अनंत, अपार और अज्ञात @HarivanshNSingh #columnist

17-09-2021 07:51:00

हरिवंश का कॉलम: एआई दुनिया को बहुत तेजी से बदल रही है; मानव मन की संभावनाएं हैं अनंत, अपार और अज्ञात HarivanshNSingh columnist

शास्त्रों व ऋषियों ने माना, मानव मन-मस्तिष्क की संभावनाएं अनंत, अपार व अज्ञात हैं। हर परिस्थिति में वह ढल जाता है। 19 वर्ष बाद वियना (ऑस्ट्रिया) की दूसरी यात्रा थी। 2020 (जनवरी) के बाद पहली विदेश यात्रा। प्रो. हरारी की बात कि कोविड-19 के बाद की दुनिया, पुरानी नहीं रहेगी, धरातल पर झलकती है। जीवन में कोरोना के बाद कुछेक आदतें, स्वाभाविक बन गई हैं। वियना, संगीत, कला व शिल्पों का खूबसूरत शहर। यहां इले... | Harivansh's Column - New Idea AI is changing the world very fast; The possibilities of the human mind are infinite, immense and unknown.

हरिवंश का कॉलम:एआई दुनिया को बहुत तेजी से बदल रही है; मानव मन की संभावनाएं हैं अनंत, अपार और अज्ञात6 घंटे पहलेकॉपी लिंकहरिवंश, राज्यसभा के उपसभापतिशास्त्रों व ऋषियों ने माना, मानव मन-मस्तिष्क की संभावनाएं अनंत, अपार व अज्ञात हैं। हर परिस्थिति में वह ढल जाता है। 19 वर्ष बाद वियना (ऑस्ट्रिया) की दूसरी यात्रा थी। 2020 (जनवरी) के बाद पहली विदेश यात्रा। प्रो. हरारी की बात कि कोविड-19 के बाद की दुनिया, पुरानी नहीं रहेगी, धरातल पर झलकती है। जीवन में कोरोना के बाद कुछेक आदतें, स्वाभाविक बन गई हैं। वियना, संगीत, कला व शिल्पों का खूबसूरत शहर। यहां इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या बढ़ रही है।

हिंदू मंदिरों पर हमले के बाद बांग्लादेश में कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन - BBC News हिंदी राहुल गांधी बोले- पार्टी नेताओं ने दबाव बनाया तो दोबारा कांग्रेस प्रमुख बनने के बारे में सोचेंगे 'कोई पछतावा नहीं': सिंघु बॉर्डर पर क्रूर हत्या की जिम्मेदारी लेने वाले 'निहंग' ने कहा

मानव समाज ने तीन विशिष्ट क्रांतियां देखी हैं। भाप की ताकत। बिजली का दौर। फिर सूचना क्रांति। अब चौथी औद्योगिक क्रांति जीवन-जगत में उतर चुकी है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), डिजिटलाइजेशन व ऑटोमेशन से अभूतपूर्व बदलाव। इस बदलाव के और संकेत क्या हैं? भावी ‘ग्रीन फ्यूचर’ अवसरों का दौर बनेगा। लिथियम-आयन बैट्री से संचालित गाड़ियां, डीजल-पेट्रोल वाहनों की जगह लेंगी। रोबोट कामगारों की फौज, आटो उद्योग के उत्पादन को शीर्ष पर ले जाएंगे।

कम कार्बन आधारित अर्थव्यवस्थाएं नए रोजगार केंद्र बनेंगी। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन का अनुमान है, क्लाइमेट चेंज के कारण परिवर्तन से ऊर्जा क्षेत्र में 2.4 करोड़ नई नौकरियां सृजित होंगी। 60 लाख पुराने अवसर खत्म होंगे। जो शायद कई दशकों में घटता, वह महीनों-वर्षों में हो रहा है। एआई उद्योग, तकनीक उद्योग के मुट्ठीभर महारथियों के हाथ में है। ये कंपनियां मानव मन की भावनाएं पहचानने वाले उपकरण बनाने के क्रम में हैं। इस तकनीक की प्रामाणिकता पर आपत्तियां भी हैं। headtopics.com

यूरोपीय संघ ने इसे नियंत्रित करने की बात की है। पर एआई उद्योग का फैलाव-विकास अपरिहार्य माना जा रहा है। विशेषज्ञ बता रहे हैं कि चीन ने अमेरिका को इस क्षेत्र में 2014 में पीछे छोड़ा। वह शीर्ष पर है। इस मुल्क में खेतों में ड्रोन, रोबोट व सेंसर प्रयोग हो रहे हैं। इसी मुल्क में नए-नए क्षेत्रों के लिए रोबोट बन रहे हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि जल्द रोबोट और एआई, मैनुफैक्चरिंग डिजाइन, डिलीवरी और चीजों की मार्केटिंग भी मामूली खर्च पर करेंगे। बच्चों के खिलौने ब्लॉक की तरह बहुमंजिली इमारत बनाएंगे।

धीरे-धीरे स्वचालित सार्वजनिक यातायात होगा। इन युगांतकारी बदलावों को लोक जीवन में विकास का स्वभाविक क्रम मान लिया गया है। शायद कोविड अनुभवों के कारण भी। विचारक रॉबर्ट ओवेन (1771-1855) की बात याद आती है, परिस्थिति मनुष्य को बनाती है। विचारक विलियम गाडविन (1756-1836) ने माना कि मनुष्य की अच्छाई या बुराई, परिस्थिति के कारण पैदा होती है। 19 वर्षों पहले इसी वियना शहर में ‘मानव मन का दूसरा सामर्थ्य’ देखा था। फ्रायड के घर (म्यूजियम) जाकर।

मनोविज्ञान में वह ‘पहले स्कूल’ के भाष्यकार हुए। यहीं मनोविज्ञान धारा के ‘दूसरे स्कूल’ के जनक हुए, एल्फ्रेड एडल्र। पर ‘तीसरे स्कूल’ के वियनावासी मनोविज्ञानी विक्टर फ्रैंकल ने तो नाजी कैंपों से स्वपीड़ा को लिपिबद्ध किया। मन-मस्तिष्क की क्षमता पर विश्व प्रसिद्ध किताब लिखी ‘मैंस सर्च फॉर मीनिंग’। मन को समझने, जानने, तह में उतरने व अनुभव करने वाले इसी शहर में हुए, तो संगीत के अमर नाम भी हुए। मोजार्ट, बीथोवेन समेत अनेक वियना में फले-फूले।

कोविड के बाद बदलती दुनिया की गति का एहसास इसी शहर में हुआ। भयंकर मानवीय यातनाओं के बीच भी जीवन के अर्थ की तलाश करते बचे रहना, फिर दुनिया को मन का रहस्य बताना दो दशकों पहले यहीं पाया। मानव मन की परतें व ताकत रहस्य ही हैं, तभी तो उपनिषद में कहा गया, ‘केनेषितं पतति प्रेषितं मनः’ यानी किन इच्छाओं से दिशा पाकर मस्तिष्क-मन अपने लक्ष्य में डूबते हैं? यह अज्ञात है, शायद एआई के दौर के बाद भी प्रकृति का यह रहस्य, गोपन ही रहे। headtopics.com

मांडविया पर भड़कीं मनमोहन सिंह की बेटी: अस्‍पताल के बेड पर लेटे पिता की तस्‍वीर पब्लिक होने पर बोलीं- मेरे पेरेंट्स चिड़ियाघर के जानवर नहीं शरद पवार बोले- BSF की ताकत बढ़ाने के मामले पर करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात सिंघु बॉर्डर से ग्राउंड रिपोर्टः शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर क्या-क्या हुआ - BBC News हिंदी

(ये लेखक के अपने विचार हैं) और पढो: Dainik Bhaskar »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

Fact Check: जानें, तालिबान समर्थक महिलाओं की बैठक की इस VIRAL तस्वीर का सचहाल ही में अफगानिस्तान में नकाबपोश महिलाओं ने तालिबान के समर्थन में सड़कों पर उतरकर रैली निकाली। साथ ही, उन्होंने काबुल यूनिवर्सिटी के लेक्चर थिएटर में बैठक भी की। अब सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें एक हॉल में बुर्का पहने हुए कई महिलाओं को देखा जा सकता है। दावा किया जा रहा है एक पुरुष भी बुर्का पहनकर महिलाओं के बीच बैठा हुआ है।

ट्रैक्टरों की बिक्री में बढ़ोतरी गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा की साज़िश का हिस्साः दिल्ली पुलिसविवादित कृषि क़ानूनों को पूरी तरह रद्द करने की मांग को लेकर बड़ी संख्या में किसान कई महीनों से दिल्ली की सीमाओं के साथ अन्य जगहों पर भी प्रदर्शन कर रहे हैं. इस साल 26 जनवरी को किसान संगठनों द्वारा आयोजित ट्रैक्टर परेड के दौरान कुछ प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए थे. AGholv दिल्ली पुलिसकी बौद्धिक दिवालीयापण दिखाई दे रहा है।भारतिय किसान टैक्टरकी खरीददारी जादातर त्योहांरोपरही करता है। फिर वह सास्कृतिक हो या राष्ट्रीय त्योंहार। AGholv RahulGandhi RakeshTikaitBKU BJP4India BJP4Maharashtra

डॉक्टर्स का दावा- सफेद दाग का इलाज कर सकती है DRDO की ये दवासफेद दाग से बहुत से लोग परेशान होते हैं. इसकी एक शानदार दवा भारत में मौजूद है, जिसे रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने विकसित किया है. इस दवा का नाम है ल्यूकोस्किन. इस दवा से अब तक एक लाख से अधिक मरीजों का सफल इलाज हो चुका है. उपचार की सफलता का दर 70 फीसदी से ज्यादा दर्ज किया गया है.

UP में जनता की जान की चिंता छोड़ अब्बाजान, चचाजान की राजनीति, देखें 10 तकआज हमें जनता की जान की चिंता छोड़कर अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की होती राजनीति पर दस्तक देनी है. इसीलिए हमने आज की पहली दस्तक का नाम दिया है- जब तक है जान. यहां तीन तरह की जान है. पहली आम आदमी की जान यानी जिंदगी, जो उत्तर प्रदेश में डेंगू समेत दूसरे संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रही है. लेकिन उसकी जान बचाने की जगह यूपी में अब्बा जान, चचा जान, अम्मी जान की चर्चा हो रही है. अब सवाल है कि क्या पेड़ के नीचे इलाज कराती जनता की पीड़ा भी क्या अब्बाजान-चाचाजान की राजनीति में दब जा रही है? देखिए 10 तक का ये एपिसोड. Vaccination के बाद ये आजतक वालों की इतनी फटने क्यों लगी है.. 😆🤣 देखिए 10Tak, Sayeed Ansari के साथ.. अफ़गान स्टेट टीवी के इंटरव्यू में देखा गया मुल्ला बरादर! 😆

मानसून की बारिश से बाढ़ की आफत, ओडिशा और गुजरात समेत कई राज्यों की हालत खराबइस बार मानसून जाने का नाम नहीं ले रहा और तो और अंतिम समय में भी देश के कई इलाकों में भारी बारिश करवा रहा है। इससे देश के कई राज्यों में बाढ़ आ गई है। वहीं हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भूस्खलन हुआ है।

UP Election 2022: अब्बाजान के बाद ‘चचाजान’ की एंट्री, ओवैसी की पार्टी पर क्यों लगता है भाजपा की बी टीम होने का आरोपUPElections2022 : अब्बाजान के बाद ‘चचाजान’ की एंट्री, ओवैसी की पार्टी पर क्यों लगता है भाजपा की बी टीम होने का आरोप Abbajan chachajan asadowaisi BJP4UP myogioffice yadavakhilesh asadowaisi BJP4UP myogioffice yadavakhilesh Chacha jaan nahi naajayish beta asadowaisi BJP4UP myogioffice yadavakhilesh सिम्पल कांग्रेस के कोर वोटर मुस्लिम है कोई दूसरा मुस्लिम वोट मांगेगा तो कांग्रेस को घाटा bjp को फायदा होगा , इसलिए इसे bjp की B टीम कहते है मतलब पूरी मुस्लिम समुदाय कांग्रेस की बपौती है दूसरे जगह गई तो वो bjp rss की B टीम होगी asadowaisi BJP4UP myogioffice yadavakhilesh Nothing wrong in this. The dearest ♥Icon of Love-Shahjahan was also a great Abaajan of Jahaara.