Haryana, Panipat, Rottenfood, Migrantsworkers, कोरोनावायरस, लॉकडाउन, हरियाणा, पानीपत, खाना, प्रवासीमजदूर

Haryana, Panipat

हरियाणा: पानीपत में प्रशासन ने प्रवासी मज़दूरों के लिए सड़ी हुई खिचड़ी के पैकेट भिजवाए

हरियाणा के पानीपत में रह रहे कई प्रवासी मज़दूरों ने शिकायत की है कि या तो प्रशासन उन्हें भोजन मुहैया नहीं करा रहा है और अगर कहीं पर खाना पहुंच भी रहा है तो उसकी गुणवत्ता काफी ख़राब है.

01-04-2020 13:55:00

हरियाणा : पानीपत में प्रशासन ने प्रवासी मज़दूरों के लिए सड़ी हुई खिचड़ी के पैकेट भिजवाए Haryana Panipat RottenFood MigrantsWorkers कोरोनावायरस लॉकडाउन हरियाणा पानीपत खाना प्रवासीमजदूर

हरियाणा के पानीपत में रह रहे कई प्रवासी मज़दूरों ने शिकायत की है कि या तो प्रशासन उन्हें भोजन मुहैया नहीं करा रहा है और अगर कहीं पर खाना पहुंच भी रहा है तो उसकी गुणवत्ता काफी ख़राब है.

नई दिल्ली:कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के कारण देश भर के शहरों में फंसे हजारों मजदूरों को कई गंभीर मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है. राज्य सरकारें दावा कर रही हैं कि मजदूरों को पलायन करने की जरूरत नहीं है और शहर में ही उनके रहने-खाने का इंतजाम किया जा रहा है.

'पिंजरा तोड़' की लड़कियांः गिरफ़्तारी, ज़मानत और फिर पुलिस कस्टडी कोरोना वायरस: महामारी के बीच चीन सुअर के मांस की रिकॉर्ड ख़रीदारी क्यों कर रहा? - BBC Hindi कोरोना वायरस: क्या भारत जुलाई में संक्रमण के मामले में कई देशों को पीछे छोड़ देगा? - BBC Hindi

हालांकि जमीनी हकीकत सरकारों की गैर-जिम्मेदाराना और घोर संवेदहीन रवैये को बयां कर रही है. आलम ये है कि मजदूरों को बासी, खराब या सड़ा-गला भोजन दिया जा रहा है.द वायरने हरियाणा के कई मजदूरों से इस संबंध में बातचीत की है, जिन्होंने ये पुष्टि की है कि या तो उन तक राशन पहुंचाया ही नहीं जा रहा है और अगर बार-बार गुजारिश के बाद थोड़ी-बहुत राहत पहुंच भी रही है तो भोजना की गुणवत्ता बेहद खराब है.

मूल रूप से बिहार के नालंदा जिले के निवासी और मौजूदा समय में पानीपत के कबाड़ी रोड पर रह रहे मजदूर विक्की ने बताया कि बीते मंगलवार यानी कि 31 मार्च को प्रशासन की तरफ से शाम छह बजे के आसपास 45 मजदूरों के लिए खिचड़ी के कुछ पैकेट भिजवाए गए थे, लेकिन वो बिल्कुल खराब थे. विक्की ने आरोप लगाया कि खाना सड़ चुका था और उससे दुर्गंध आ रही थी.

विक्की धागा मिल में मजदूरी करते हैं. उन्होंने कहा, ‘हमें ये खाना डस्टबिन में फेंकना पड़ा. हमारे छोटे-छोटे बच्चे हैं, ये सब खाकर उनकी तबीयत और खराब हो जाती. सरकार हमें सूखा राशन दे दे, हम खुद बना लेंगे.’पानीपत के देस कॉलोनी में रहने वाले शाहिद बीती रात सो रहे थे कि रात दस बजे उनके पास फोन आया और कहा गया कि आकर राशन लेकर जाओ.

शाहिद राशन लेने नहीं गए क्योंकि उन्होंने अपने बच्चों को पहले ही बिस्किट खिला कर सुला दिया था. उन्होंने कहा, ‘हम दिन भर खाने के इंतजार में बैठे थे. कोई खाना देने नहीं आया. एक हफ्ते हो गए हमें कुछ भी नहीं मिला है.’मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले के रहने वाले घनश्याम वर्तमान में रामायणी चौक पर रहते हैं. उन्होंने बताया कि घर पर गैस बिल्कुल खत्म हो गई है, पैसे नहीं हैं जिसके कारण वे अपने बच्चों को दूध नहीं दे पा रहे हैं.

घनश्याम ने कहा, ‘चार दिन पहले मैं अपनी पत्नी के साथ मध्य प्रदेश में अपने गांव में जाने के लिए निकल गया था. लेकिन पुलिस ने हमें सोनीपत में पकड़ लिया और वापस पानीपत छोड़ गई. तब उन्होंने पांच किलो आटे की एक थैली, आलू, एक लीटर तेल और दाल दिया था. हालांकि सिलेंडर नहीं है, इस राशन का क्या करें हम.’

ये भी पढ़ें:लॉकडाउन में पानीपत के 3500 परिवारों को राशन का इंतज़ारघनश्याम ने बताया कि उन्होंने हरियाणा का हेल्पलाइन नंबर 1100 पर कॉल किया था लेकिन वहां से जवाब आया कि तुम्हारा मध्य प्रदेश का आधार कार्ड नहीं चलेगा, राशन नहीं मिल सकता.55 वर्षीय विधवा और शारीरिक रूप से अक्षम गीता देवी रेहड़ी लगाकर अपना गुजारा चलाती थीं. वे राजनगर की गली नंबर तीन में रहती हैं. इनके पड़ोस में रहने वाली रेणु घरों में सफाई करने का काम करती थीं. लॉकडाउन के कारण दोनों का काम बंद हो गया है और दोनों को अभी तक किसी तरह का राशन नहीं दिया गया है.

अब करोना को मेरे मुल्क से गारत कर दे, नफरतें खत्म हों, फिर से वही भारत कर दे: चार मशहूर शायरों ने दिया उम्मीद का पैगाम एलओसी पहुंचे आर्मी चीफ बाजवा ने कहा- कश्मीर को वैश्विक मुद्दा बनाने में हम नाकाम रहे, दुनिया को बात समझाने में भारत को कामयाबी मिली कोर्ट ने पिंजरा तोड़ कार्यकर्ताओं को जमानत दी, पुलिस ने एक अन्य मामले में कस्टडी मांग ली

गीता देवी ने कहा, ‘मेरे दोनों हाथ और पांव बिल्कुल खराब हो रखे हैं. चलना-फिरना भी मुश्किल है. अभी तक कोई भी सहायता नहीं मिली है. पिछले कई दिनों से भूखी बैठी हूं.’एक अन्य मजदूर प्रीती ने बताया कि वो पिछले कई दिनों से बीमार हैं, इलाज भी नहीं हो पा रहा और खाना भी नहीं मिल रहा है.

उन्होंने बताया कि बीती रात को प्रशासन की तरफ से खाने के नाम पर उन्हें नमकीन चावल का पैकेज भिजवाया गया था. उन्होंने कहा, ‘इससे क्या होगा. मैं बीमारी के हालत में ये सब कैसे खा सकती.’आरोप है कि हरियाणा प्रशासन प्रवासी मजदूरों को राहत पहुंचाने के लिए उचित राशि नहीं खर्च कर रहा है और जो हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं, उस पर कॉल करने पर कोई फोन नहीं उठा रहा, अगर एकाध बार फोन लग भी जा रहा तो अधिकारी मामले को टरकाने की कोशिश कर रहे हैं.

हालांकि हरियाणा के पानीपत प्रशासन का कहना है कई लोग हेल्पलाइन पर फर्जी कॉल करके जमाखोरी कर रहे हैं, इसलिए अब सूखा राशन देना बंद कर दिया गया.पानीपत के जिला कलेक्टर हेमा शर्मा से जब इस संबंध में सवाल किया तो पहले तो उन्होंने ऐसी कोई दिक्कत होने की संभावना से इनकार किया. हालांकि बाद में उन्होंने कहा कि आप उन मजदूरों का संपर्क दें, मदद की जाएगी.

उद्धव ठाकरे और रेल मंत्री में बहस- पीयूष गोयल ने 5 घंटे में 9 ट्वीट कर महाराष्ट्र सरकार से डिटेल मांगी; रात 2 बजे 10वें ट्वीट में कहा- अब तक पूरी लिस्ट नहीं मिली असम: तबलीगी जमात को लेकर विवादित पत्र लिखने वाले विदेशी न्यायाधिकरण सदस्य को हटाया गया पूर्व हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह का 96 की उम्र में निधन, ओलिंपिक फाइनल में सबसे ज्यादा 5 गोल करने का उनका रिकॉर्ड आज भी कायम

उन्होंनेद वायरसे बातचीत में कहा, ‘अब हमने सूखा राशन देना बंद कर दिया है, क्योंकि लोग सूखा राशन जमा करना शुरू कर दिया था. एक ही व्यक्ति अलग-अलग नंबर से कॉल करके सूखा राशन मंगाता था और अपने यहां जमा कर लेता था.’शर्मा ने कहा कि जिला प्रशासन ने हर वार्ड में कर्मचारियों की ड्यूटी लगा रखी है, जो वहां जाते हैं और पता करते हैं कि किसे खाने की जरूरत है. कर्मचारी ये भी देखते हैं कि राशन है या नहीं, ताकि ऐसा न हो कि फ्री में जो भी मिल रहा है ले लेंगे.’

स्थानीय प्रशासन ने 20 प्राइवेट संस्थाओं के साथ टाई-अप किया है, जो कि ऑर्डर आने पर खाना बनाकर डिलीवरी करने का काम करते हैं. हालांकि मजदूरों का कहना है कि हर टाइम के लिए इन्हें कॉल करना पड़ता है और हर बार इन्हें खाना पहुंचाने के लिए प्रशासन की मंजूरी लेनी पड़ती है.

मजदूर संगठन इंडियन फेडरेशन ऑफ ट्रेड यूनियंस (इफटू) ने कहा कि वे परसों पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर करेंगे, ताकि भुखमरी के शिकार इन प्रवासी व स्थानीय श्रमिकों, बुनकरों को तत्काल राशन व आर्थिक मदद सरकार दे, इनके जिंदा रहने का अधिकार की सुरक्षा हो पाएं.

द वायरने अपनी पिछली रिपोर्ट में बताया था कि हरियाणा के पानीपत ज़िले के प्रवासी बुनकरों, रिक्शा चालकों समेत हजारों दिहाड़ी मज़दूरों को राशन नहीं मिल पा रहा है. इसमें से कई लोग अपने गांव वापस लौट रहे थे, लेकिन प्रशासन ने इन्हें ये आश्वासन देकर रोका है कि उन्हें खाने-पीने की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी.



और पढो: द वायर हिंदी

गर्मी की वजह से शायद खाने में देर कर दी और फिर लाखो लोगो का खाना बनता है khanumarfa rpuni Maharashtra aur Rajasthan ke bhi haal batao शर्मनाक अब गरमी पड़नी शुरू हो गई है पैकिंग होने से लेकर वितरित होने ज़्यादा समय लगने के कारण खराब हो जाती है यह स्वाभाविक है आजकल घरों में भी सुबह की सब्जी शाम तक खराब होने लगी है हर बात का बतंगड़ नहीं बनना चाहिए

पैकेट पर मोदी का फोटू नहीं था क्या? अगर फोटू लगा होता तो किसकी मजाल थी कि सड़ी कहता? तुम्हारे अब्बा फरार है। पता हो तो दिल्ली पुलिस को बताना। DeependerSHooda Very shameful बहुत ही शर्मनाक हैं। इस तरह की घटना से इन नेताओं की व प्रशासन की इंसानियत नजर आ रहीं हैं शायद

निजामुद्दीन के तब्‍लीगी मरकज के 503 लोगों की हरियाणा में इंट्री, कई जगह मस्जिदों पर छापे हरियाणा में तब्‍लीगी मरकज में शामिल हुए लोगों की इंट्री से हड़कंप मचा हुआ है। बताया जाता है कि निजामुद्दीन से करीब 503 लोग हरियाणा में आए हैं। सरकार इनकी जांच व क्‍वारंटाइन कराएगी। इन लोगों को देश को बर्बाद करने के लिए तैयार किया जा रहा है करदाताओं के पैसों से इनका इलाज क्यों किया जा रहा है यह सारे जमाती को चौराहे पर गोली मार देना चाहिए यह जमाती नहीं है मौत का सौदागर है और ऐसे समय मौत बांट रहा है जब देश दुनिया तबाह हो रहे हैं

कर्फ्यू की मार: चंडीगढ़ के कई इलाकों में गरीबों-मजदूरों के घर रोटी के लालेभारत में कोरोना संकट से निपटने के लिए देशभर में लॉकडाउन लागू है. इस बीच चंडीगढ़ में कर्फ्यू के चलते दिहाड़ी मजदूर बेरोजगार हो गए हैं. कई इलाकों में गरीबों और मजदूरों के परिवारों को पेट भरने के लिए रोटी भी नसीब नहीं हो रही है. manjeet_sehgal No worry, tomorrow there will be any other announcement.. Like always.. Who cares about reality. manjeet_sehgal Varanasi me kisi garib ko madad ki jarurat ho hme btaeye hmare chacha bidhayak nhi hai pr har sambhav madad kr skte hai manjeet_sehgal Promote 121 Challenge ShivKumarPushp1 yadavtejashwi ManojTiwariMP nitin_gadkari laluprasadrjd AshwiniKChoubey nitish_pc priyankagandhi deepikapadukone rashtrapatibhvn

कोरोना के बीच पूर्वोत्तर के लोगों के साथ भेदभाव, पीएम मोदी से एक्शन की मांगदोस्तों मुझे फॉलो कीजिए आपके इंटरटेनमेंट का पूरा ध्यान रखा जाएगा जय हिंद जय भारत जय श्री राम जो लोग साजिश करके मोदी के लॉक डाउन को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं जनता देख रही है उनको

रोज बनता है 10 हजार लोगों का खाना, कैसा है केजरीवाल का कम्यूनिटी किचन?कोरोना वायरस से बचाव के लिए केंद्र सरकार द्वारा किए गए 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद अपने गांव को पलायन करने वाले मजदूरों और गरीबों की भारी भीड़ बॉर्डर पर रोजाना देखने को मिलती है. इन्ही मजदूरों के पलायन को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने पूरा जोर लगा दिया है. केजरीवाल सरकार पलायन करनेवाले मजदूरों के रहने -खाने के इंतजामों में जुटी है. ऐसे ही एक कम्यूनिटी किचन का हाल बता रहे हैं हमारे संवाददाता आशुतोष, जहां हर रोज 10 हजार लोगों का खाना बन रहा है. देखिए ग्राउंड रिपोर्ट. ऐसी झूठी मन गणित खबरें ना दिखाओ अगर ऐसा था तो बिहार और यूपी के लोग पलायन को मजबूर क्यों हुए उत्तर प्रदेश बिहार के लोग तो जा रहे हैं तो खाना खा कौन रहा है रोहिंग्या मुस्लिम देखिये iamDivyaKhosla जी ArvindKejriwal के खर्च किये गए पैसे काम आने लगे 😢 इसीलिए करोड़ो रूपये खर्च किया है एडवरटाइजिंग पर अपनी।

कोरोना के खिलाफ जंग में अहम 'हथियार' है वेंटिलेटर, देखें स्पेशल रिपोर्टकोरोना वायरस के खिलाफ पूरा देश एक जंग लड़ रहा है और इस जंग में सबसे आगे वो डॉक्टर्स और नर्सेस हैं जो इसे खत्म करने की कोशिश में जुटे हैं. सैनिटाइजेशन से लेकर उन्नत तकनीक के उपकरणों को जुटाया जा रहा है. कोरोना के खिलाफ जंग में वेंटिलेटर एक अहम हथियार है. आखिर कैसे काम करता है एक वेंटिलेटर जानने के लिए देखें ये आजतक की यह स्पेशल रिपोर्ट. Weldone Aaj tk ko maine ek video bheja hai plz eska koi question hai kya Sir Aap meri baat suno Mai kuch help kar sakta hoo corona virus ko lekar

बैठे-बैठे करना है कुछ काम: जुड़िए आजतक अंताक्षरी के साथ और जानिए आज का अक्षरSwetaSinghAT vikrantgupta73 Wah wah wah wah...yahi reh gaya hai ab !!!! SwetaSinghAT vikrantgupta73 शर्म है या वो भी दलाली में बेंच दी। SwetaSinghAT vikrantgupta73 Bas yeh or Baki rah gaya tha