Opinion, Narendarmodi, İndiavspakistan, Narendra Modi, Up Election, India Pakistan Match, Loksabha Election 2024, Congress, Aryan Khan Drugs Case, Shahrukh Khan Son Case, Mumbai Cruise Drugs Case, आर्यन खान ड्रग्‍स केस, शाहरुख खान का बेटा, नरेंद्र मोदी, यूपी चुनाव

Opinion, Narendarmodi

हताशा में डूबते-उतराते मोदी विरोधियों को उत्तर प्रदेश में लगने वाला है एक बड़ा झटका

#Opinion - हताशा में डूबते-उतराते मोदी विरोधियों को उत्तर प्रदेश में लगने वाला है एक बड़ा झटका @23pradeepsingh @BJP4India @INCIndia #narendarmodi #indiaVsPakistan

28-10-2021 06:25:00

Opinion - हताशा में डूबते-उतराते मोदी विरोधियों को उत्तर प्रदेश में लगने वाला है एक बड़ा झटका 23pradeepsingh BJP4India INCIndia narendarmodi indiaVsPakistan

मोदी विरोधियों को संवैधानिक मर्यादा में होने वाला कोई काम तभी स्वीकार होता है जब वह उनके मन मुताबिक हो। शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी क्या हुई अचानक नशेड़ी युवाओं के प्रति सहानुभूति की बाढ़ आ गई।

जैसे-जैसे 2024 के लोकसभा चुनाव करीब आ रहे हैं, मोदी विरोधी विमर्श खड़ा करने वालों की आतुरता बढ़ती जा रही है। उन्हें लग रहा है कि समय तेजी से हाथ से निकल रहा है। समझ ही नहीं पा रहे हैं कि इस देश के लोगों को हो क्या गया है। मोदी विरोध में कुछ सुनने को ही तैयार नहीं हैं। मोदी विरोधियों की हताशा का आलम देखिए कि भारत-पाकिस्तान के मैच में भारत की हार को वे मोदी की हार के रूप में देख रहे हैं। कांग्रेस की एक प्रवक्ता ने टिप्पणी की, ‘क्यों भक्तों आ गया स्वाद?’ इसका मतलब है कि उन्होंने मान लिया है कि भारत मतलब मोदी। इसमें उनका दोष नहीं है। ऐसी बातों पर मुझे राजनीतिक लोगों की प्रतिक्रिया पर आश्चर्य नहीं होता, मगर बुद्धिजीवियों की बात पर जरूर होता है।

दिल्‍ली में कोरोना के मामलों में दर्ज की गई तेजी, पिछले 24 घंटे में सामने आए 63 नए मरीज महाराष्‍ट्र में ओमिक्रॉन के 7 नए मामले आए सामने, भारत में अब तक कुल 12 मरीज ममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन पर विचार कर रही हैं: संजय राउत

यह भी पढ़ेंबुद्धिजीवियों की मानें तो माओवादियों के खिलाफ कार्रवाई करना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला है। आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई सांप्रदायिकता है। किसी व्यक्ति पर आरोप/एफआइआर/ मुकदमा चलाने का आधार यह होना चाहिए कि वह मोदी/भाजपा/ संघ का समर्थक है या विरोधी? आरोपित मुसलमान है, तो वह निर्दोष ही होगा और मोदी सरकार उसे जबरन फंसा रही होगी। यदि आरोपित कोई हिंदू है तो उसे अदालत के फैसले से पहले ही सजा मिल जानी चाहिए, उसे सजा नहीं मिल रही है तो उसे बचाने का षड्यंत्र रचा जा रहा है।

एक अजीब-सा सनकीपन है। कोई कानून अच्छा है या बुरा, यह इस आधार पर तय होता है कि उसके तहत कार्रवाई किस पर हो रही है? सुशांत राजपूत के मामले में यह नहीं कहा गया कि एनडीपीएस एक्ट में खराबी है। शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान की गिरफ्तारी क्या हुई, अचानक नशेड़ी युवाओं के प्रति सहानुभूति की बाढ़ आ गई। कहा जा रहा है कि यह कानून तो बच्चों का जीवन बर्बाद करने के लिए है। जितने बड़े पैमाने पर और जितनी शिद्दत से आर्यन खान की गिरफ्तारी के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है, उसकी आधी भी ताकत से नशे के खिलाफ अभियान चलाया गया होता, तो आज यह नौबत नहीं आती। जब एक पिता अपने छोटे से बेटे के बारे में टीवी इंटरव्यू में कहे कि वह चाहता है कि बेटा बड़ा होकर नशे का अनुभव ले, तो नतीजा तो यही होना था। कौन नहीं जानता कि पूरे बालीवुड में नशा खासतौर से युवा पीढ़ी में चाय-काफी का दर्जा हासिल कर चुका है। अब इस सच्चाई से शुतुरमुर्ग की तरह आंखें फेरना है तो दूसरी बात है। headtopics.com

यह भी पढ़ेंभारत-पाकिस्तान के मैच में कुछ लोग पाकिस्तान की जीत पर नहीं, भारत की हार पर जश्न मनाते हैं। उनके बारे में कहा जाता है कि यह खेल भावना है और उसका आदर होना चाहिए। सामान्य शिष्टाचार की बात है। देशभक्ति और देश विरोध की बात छोड़ दीजिए। आपके पड़ोसी के घर में मातम हो तो क्या आप नाचते हुए जाते हैं? भारत की हार से देश में मायूसी का माहौल होना स्वाभाविक है। यह हार क्रिकेट में हो तो और भी ज्यादा। पाकिस्तान का पूर्व कप्तान वकार यूनुस कहता है कि उसके लिए सबसे अच्छा लम्हा वह था, जब उसके खिलाड़ी ने जीत के बाद हिंदुओं के सामने मैदान में नमाज पढ़ी। आपत्ति के बाद उसने माफी मांग ली, लेकिन इस मानसिकता को समझिए। उनके लिए भारत से मैच खेल नहीं धर्म का मामला है। इसके बावजूद अपने देश में कुछ लोगों के लिए यह भी खेल भावना है। जो बिरादरी वकार पर सवाल नहीं उठाती, वो वीरेंद्र सहवाग पर सवाल उठाती है। सहवाग हों या वेंकटेश प्रसाद, इनकी नजर में नायक से खलनायक बन जाते हैं। खेल हो युद्ध या कोई सामान्य स्पर्धा, देश की हार पर खुशी मनाने वाले देश के हितैषी कैसे हो सकते हैं? ऐसे लोगों के समर्थन में खड़े होने वाले आखिर किस मानसिकता के लोग होते हैं? ऐसा कैसे होता है कि देश के विरोध में खड़े होने वालों पर ये सारी ममता उड़ेलने के लिए तैयार रहते हैं और देश के साथ खड़े होने वालों के लिए उनके पास सिर्फ नफरत है?

यह भी पढ़ेंदेश की सर्वोच्च अदालत के दरवाजे अब आतंकियों/अपराधियों को सजा से बचाने की कोशिश करने वालों के लिए आधी रात को नहीं खुलते तो उनकी नजरों में उसकी प्रतिष्ठा गिर गई है। संवैधानिक मर्यादा में होने वाला कोई काम इस वर्ग को तभी स्वीकार होता है, जब वह इनके मन मुताबिक हो। मन मुताबिक की परिभाषा बहुत सरल है। वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के खिलाफ होना चाहिए। चुनाव आयोग भाजपा के खिलाफ हो तो निष्पक्ष है। जनादेश भाजपा के खिलाफ है तो जनतंत्र को मजबूत करता है और पक्ष में हो तो जनतंत्र ही खतरे में है। व्यक्ति और संस्था छोड़िए, इस पूर्वाग्रह से मशीन भी नहीं बची है। इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से भाजपा विरोधी वोट निकलें तो ठीक, अन्यथा मोदी सरकार ने उसे हैक करवाया। तर्क एक ही है कि भाजपा कैसे जीत सकती है? इसीलिए वे भाजपा के पक्ष में आए जनादेश को पिछले सात साल से स्वीकार करने को तैयार ही नहीं हैं।

यह भी पढ़ेंमामला राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद का हो, राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का या सेंट्रल विस्टा का, अदालत का फैसला संविधान और जनतंत्र विरोधी है, क्योंकि जनतंत्र तो तभी बचेगा, जब कानून की अदालत से जनता की अदालत तक फैसला मोदी के विरोध में हो। सारी बात का लब्बोलुआब यही है कि इनके मन का हो तो न्याय है और मन का न हो तो अन्याय है। न्याय की इससे सरल परिभाषा और क्या हो सकती है? इन्हें लगता है कि एक बार मोदी को हटा लें, तो फिर पुराने दिन लौट आएंगे। ये सावन के अंधे हैं। इनकी नजर से हरियाली का वह मंजर हटता ही नहीं। उसकी जितनी याद आती है उतने ही जोशो-खरोश से मोदी विरोधी अभियान में जुट जाते हैं। कथित किसान आंदोलन के गुब्बारे में इतनी हवा भरी कि वह फूट गया। विपक्षी एकता का ताना इतना खींचा कि वह टूट गया। अब विपक्षी एकता की बात तो दूर, विपक्ष की आपसी लड़ाई रुकने का नाम नहीं ले रही। एक-दूसरे को भाजपा की बी टीम बताने की होड़ लगी हुई है। बस एक बात सही है कि इनके हाथ से समय मुट्ठी में बंद रेत की तरह फिसलता जा रहा है। उत्तर प्रदेश में मोदी विरोधियों को एक बड़ा झटका लगने वाला है। जल्दी ही निराशा हताशा में बदलने वाली है।

(लेखक राजनीतिक विश्लेषक एवं वरिष्ठ स्तंभकार हैं) और पढो: Dainik jagran »

1971 की सबसे खूनी जंग #VandeMatram #ATLivestream

1971 \u0915\u0940 \u0938\u092c\u0938\u0947 \u0916\u0942\u0928\u0940 \u091c\u0902\u0917 \n#VandeMatram #ATLivestream\nSweta Singh

23pradeepsingh BJP4India INCIndia

लखनऊ में फाइलों में हो गया पशुओं का 100 फीसद टीकाकरण, हकीकत में नहीं हुआ पूरालखनऊ के असोहड़ी खुर्दहरी व बिसईपुर समेत बख्शी का तालाब क्षेत्र के कई इलाकों में खुरपका व मुंहपका से बचाव का टीका नहीं लगा है। पशुपालन विभाग की फाइलों में 15 मई को राजधानी में 100 फीसद टीकाकरण का कार्य पूरा हो गया है।

MP: महंगाई को लेकर कमलनाथ ने साधा पीएम मोदी की दाढ़ी पर निशानाकमलनाथ ने प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान को लेकर कहा कि मैं शुरू से ही शिवराज जी के बारे कहता रहा हूं कि वो एक अच्छे एक्टर हैं, अच्छे कलाकार हैं। देश कंगाल करके ऊलजलूल बयानबाजी करते हो

PM को भगवान माननेवालों में अब मंत्री उपेंद्र तिवारी भी: हरदोई में बोले- नरेंद्र मोदी कोई आम आदमी नहीं, वह भगवान का अवतारयूपी सरकार में मंत्री उपेंद्र तिवारी ने एक बार फिर अपना बड़बोलापन दिखाया है। हरदोई में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सर्वशक्तिमान बताया। कहा कि नरेंद्र भाई मोदी कोई आम आदमी नहीं, वो भगवान का अवतार हैं। अपने बयान से उन्होंने वहां मौजूद लोगों की तालियां जरूर लूट ली, लेकिन अब विवादों में घिर गए हैं। उन्होंने अपना यह बयान मंगलवार को हरदोई में एक कार्यक्रम के दौरान दिया। | Prime Minister praised in Hardoi, said - Narendra Modi is not a common man, he is an incarnation of God: यूपी सरकार में मंत्री उपेंद्र तिवारी ने एक बार फिर अपना बड़बोलापन दिखाया है। हरदोई में उन्होंने प्रधानमंत्री का इस कदर गुणगान किया कि उनके बयानों को चौतरफा आलोचना मिलने लगी है। दरअसल, उन्होंने नरेंद्र मोदी को भगवान का अवतार बताया दिया। God will not biased like pm टिकट भी तो चाहिए .. इसे बड़बोलापन नही कहते .. ये भगवान का अपमान कर रहे है और किसी का भावना आहत नही हो रही ना किसी का खून खोल रहा है

बदली गई गोरखपुर की सूरत, योगी सरकार में गोरक्षनगरी को मिली एक लाख करोड़ की परियोजनाएंकरीब साढ़े चार साल पहले योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने तो गोरखपुर में विकास की गंगा बहने लगी। 19 मार्च 2017 से 18 मार्च 2021 तक गोरखपुर के खाते में एक लाख करोड़ रुपये की परियोजनाएं आ चुकी हैैं। Saale tu to bika hua hai लोगो का खून चूस के कितनी भी परियोजनाओं को ले आओ लेकिन असली तलवे चाटुकार की योजना सबसे बड़ा बिकाऊ में प्रथम स्थान प्राप्त करेगा । जूतो से मारना चहोये इन के दलालो को

कोवैक्सीन को डबल्यूएचओ की मान्यता के इंतजार में बैठे हैं लाखों लोग | DW | 27.10.2021कोवैक्सीन पर डबल्यूएचओ का फैसला जल्द आ सकता है. इस फैसले पर लाखों लोगों की यात्राओं के फैसले टिके हुए हैं क्योंकि विभिन्न देश तभी भारतीय टीके को मान्यता देंगे, जब उसे विश्व स्वास्थ्य संगठन की मान्यता मिलेगी.

एनडीपीएस एक्ट को SC में चुनौती: सीमित मात्रा में ड्रग्स मिलने पर न माना जाए अपराध, युवाओं को जेल की बजाए पुनर्वास पर हो जोरएनडीपीएस एक्ट को SC में चुनौती: सीमित मात्रा में ड्रग्स मिलने पर न माना जाए अपराध, युवाओं को जेल की बजाए पुनर्वास पर हो जोर NDPS SupremeCourt