Rajasthan, Gangajal, Dainikbhaskar

Rajasthan, Gangajal

स्वर्ण कलश की सुरक्षा: 107 साल से 1.5 किलो के स्वर्ण कलश में रखा है गंगाजल, 11 साल में कलश की सुरक्षा पर ही 5.73 करोड़ रुपए खर्च

स्वर्ण कलश की सुरक्षा: 107 साल से 1.5 किलो के स्वर्ण कलश में रखा है गंगाजल, 11 साल में कलश की सुरक्षा पर ही 5.73 करोड़ रुपए खर्च #Rajasthan #gangajal

19-06-2021 09:18:00

स्वर्ण कलश की सुरक्षा: 107 साल से 1.5 किलो के स्वर्ण कलश में रखा है गंगाजल, 11 साल में कलश की सुरक्षा पर ही 5.73 करोड़ रुपए खर्च Rajasthan gangajal

महाराजा माधव सिंह द्वितीय ने 1100 स्वर्ण मोहरें गलवा कर बनवाया था कलश | Gangajal is kept in a 1.5 kg gold urn for 107 years, in 11 years Rs 5.73 crore has been spent on the security of the urn.

कलश की सुरक्षा पर हर साल 90 लाख रुपए खर्च हो रहे हैं।महाराजा माधव सिंह द्वितीय ने 1100 स्वर्ण मोहरें गलवा कर बनवाया था कलशगोविंद देव जी मंदिर के पीछे देवस्थान विभाग के राजकीय प्रत्यक्ष प्रभार श्रेणी मंदिर श्री गंगा जी में 107 साल से 1.50 किलो के स्वर्ण कलश में गंगाजल रखा है। स्वर्ण कलश की सुरक्षा में 1 इंस्पेक्टर और 3 सिपाही 24 घंटे तैनात रहते हैं। कलश की सुरक्षा पर हर साल 90 लाख रुपए खर्च हो रहे हैं।

टोक्यो ओलंपिक: भवानी की तलवार धारदार, तीरंदाज़ भी निशाने पर- आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi IND vs SL: टीम इंडिया का विजयी आगाज, पहले टी-20 में श्रीलंका को 38 रन से हराया ट्यूनीशिया: हिंसक प्रदर्शन के बाद प्रधानमंत्री बर्ख़ास्त और संसद भंग, विपक्ष ने कहा, 'तख़्तापलट' - BBC News हिंदी

देवस्थान विभाग जुलाई 2010 से 31 मार्च 2021 तक 5.73 करोड़ खर्च कर चुका है। 10 जुलाई 2009 में संयुक्त शासन सचिव के आदेश पर देवस्थान विभाग के सहायक आयुक्त ने राजकीय प्रत्यक्ष प्रभार श्रेणी मंदिर एवं आत्मनिर्भर श्रेणी के मंदिरों के आभूषणों व अन्य कीमती सामान ट्रेजरी में रखवा दिए थे लेकिन जन आस्था को देखते हुए इस स्वर्ण कलश को मंदिर में ही रख दिया गया।

हालांकि ऑडिट ने सवाल खड़े किए कि कलश को स्ट्रांग रूम में क्यों नहीं रखवाया गया? साथ ही भुगतान बिलों के साथ गार्डों की उपस्थिति प्रमाण पत्र भी नहीं दिए गए। अगस्त 2020 को आयुक्त देवस्थान विभाग ने प्रशासनिक स्वीकृति की अनुमति मांगी, तब संयुक्त शासन सचिव अजय सिंह राठौड़ ने 19 नवंबर 2020 को पुलिस सुरक्षा के पिछले बिलों की स्वीकृति देते हुए 31 मार्च 2021 तक पुलिस गार्ड लगे रहने की अनुमति दी। headtopics.com

1915 में मंदिर के निर्माण पर 35000 रुपए खर्च किए गए थेमहाराजा सवाई माधव सिंह द्वितीय ने मंदिर श्री गंगा जी का निर्माण संवत 1971 और सन् 1915 में करवाया था। मंदिर का पाटोत्सव गंगा दशमी पर हुआ था। मंदिर को बनवाने पर ₹35000 रु. खर्च हुए थे। इतिहासकार डॉ. आनंद शर्मा बताते हैं महाराजा माधव सिंह के संतान नहीं थी तब उनकी पासवान से गंगा सिंह और गोपाल सिंह दो पुत्र पैदा हुए। महाराजा के इन दोनों पुत्रों की चेचक से मौत हो गई। इन दोनों पुत्रों की याद में उन्होंने इनके नाम से मंदिर श्री गंगा जी और मंदिर श्री गोपाल जी का निर्माण करवाया।

गंगामाता मंदिर के निर्माण पर गंगोत्री से लाया गया था जलमहाराजा माधव सिंह ने जब गंगोत्री में गंगा माता मंदिर निर्माण कराया था, उस समय से ही वहां से लाया गया जल ही इस स्वर्ण कलश में सुरक्षित है। स्वर्ण कलश को 1100 मोहरें गलवा कर बनवाया गया था। इसके मुंह पर देवस्थान विभाग ने मोहर लगवा कर गंगाजल को सुरक्षित रखा हुआ है। कलश के नीचे रखी चांदी और सोने की छोटी कलात्मक शीशियों में भी उसी समय का गंगाजल सुरक्षित है। इन्हें भी विभाग ने सील बंद किया हुआ है।

और पढो: Dainik Bhaskar »

Coronavirus Curfew Live Updates: कोरोना कर्फ्यू के बीच आज निकलेगी जगन्नाथ रथ यात्रा, गृह मंत्री अमित शाह ने की आरती

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। 5 दिनों के बाद एक बार फिर कोरोना के नए मामलों की संख्या 40 हजार से नीचे रही। इस दौरान मौतों की संख्या में भी थोड़ी कमी देखी गई। https://www.covid19india.org/ के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में कोरोना के चलते 720 लोगों की जान गई है। अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की वार्षिक रथयात्रा, इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण आज कर्फ्यू के बीच निकाली जाएगी ताकि लोग इसमें शामिल न हो सकें। इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने जगन्नाथ मंदिर में आरती की। दूसरी तरफ कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट ने रूस में कहर मचाया हुआ है। रूस में लगातार तीसरे दिन कोविड-19 के 25 हजार से अधिक नये मामले सामने आए हैं। पल-पल के अपडेट के लिए बने रहिए हमारे साथ...

ये धंधा कभी मंदा नही होता ।। देख लो भाई कहीं गंगाजल में ऊली(काई) ना लग गयी हो इतने सालो से बंद रखा है।

शरारती या स्वीट: बुआ सबा ने सारा अली खान के बचपन की तस्वीर साझा कर फैंस से पूछा सवाल, क्या है आपकी राय?शरारती या स्वीट: बुआ सबा ने सारा अली खान के बचपन की तस्वीर साझा कर फैंस से पूछा सवाल, क्या है आपकी राय? SaraAliKhan SabaPataudi

मिल्खा सिंह की दरियादिली: जीवनी पर फिल्म बनी तो लिया था सिर्फ एक रुपया, बेहद खास था ये नोट, भावुक हो गए थे 'फ्लाइंग सिख'मिल्खा सिंह की दरियादिली: जीवनी पर फिल्म बनी तो लिया था सिर्फ एक रुपया, बेहद खास था ये नोट, भावुक हो गए थे 'फ्लाइंग सिख' MilkhSingh FlyingSikh Bollywoodmovie OneRupees

दुखद: महान धावक मिल्खा सिंह का कोरोना से निधन, पीजीआई चंडीगढ़ में ली अंतिम सांसदुखद: महान धावन मिल्खा सिंह का कोरोना से निधन, पीजीआई चंडीगढ़ में ली अंतिम सांस MilkhaSingh CoronaVirus MilkhaSinghDies PGIchandigarh drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI Rip 🙏 drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI Rip🙏🙏🙏 drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI ॐ शान्ति

भारी पड़ सकती है लापरवाही: दूसरी लहर में तीन गुना बढ़ा कोविड कचरा, सही से न हुआ निपटारा तो पड़ सकता है भुगतनालापरवाही: दूसरी लहर में तीन गुना बढ़ा कोविड कचरा, सही से न हुआ निपटारा तो पड़ेगा भारी LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI twitterindia myogiadityanath जी 💐⛳🙏 ट्विटर 🐦 पर FIR दर्ज कराने वाले हिंदुस्तान के पहले मुख्यमंत्री बने हमारे YogiAdityanath जी। जयकारा लगाएं। ️जय श्री राम। 🙏💪🚩

मुकेश अंबानी के घर की सुरक्षा मामले में गिरफ़्तार प्रदीप शर्मा कौन हैं? - BBC News हिंदीबीजेपी ने मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटकों की बरामदगी के मामले में प्रदीप शर्मा की गिरफ़्तारी को लेकर शिवसेना पर निशाना साधा है. Aditya Birla sun life insurance is a fraud company and looting the people through their insurance policies. I request to all Indians not to purchase the insurance policies of Aditya Birla sun life insurance. Otherwise, you have to weep for your decision.

आज की पॉजिटिव खबर: दिल्ली की 3 बहनों ने बांस से बने हैंडीक्राफ्ट और चाय का स्टार्टअप शुरू किया; सालाना 7 लाख का बिजनेस, फोर्ब्स की लिस्ट में मिली जगहदिल्ली में पली-बढ़ीं तीन बहनें तरु श्री, अक्षया और ध्वनि मिलकर एक स्टार्टअप चला रही हैं। 2017 में तीनों ने अपने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए बांस से बने हैंडीक्राफ्ट का बिजनेस शुरू किया। इनके साथ 500 से ज्यादा कारीगर जुड़े हैं। भारत के साथ ही विदेशों में भी इनके प्रोडक्ट की डिमांड है। पिछले साल इनकी कंपनी का टर्नओवर 7 लाख रुपए था। इस साल इन्हें 25 लाख रुपए के बिजनेस का अनुमान है। हाल ही में इन्होंने बा... | Three sisters are earning Rs 7 lakh annually from the marketing of bamboo handicrafts and tea, also linked 500 artisans with employment