Ajitjogiji, Ajit Jogi, Ajit Jogi History, Ajit Jogi Chhattisgarh, Cm Ajit Jogi, İndira Gandhi, Rajeev Gandhi, Ajit Jogi Family Background, Chhattisgarh News İn Hindi, Latest Chhattisgarh News İn Hindi, Chhattisgarh Hindi Samachar

Ajitjogiji, Ajit Jogi

स्मृति शेष: डीएम से सीएम और कभी हार न मानने वाले अजीत जोगी की इंदिरा से मुलाकात और वो किस्सा...

छत्तीसगढ़ के पहले सीएम रहे अजीत जोगी की पहचान ऐसे नेता के रूप में रही, जिन्होंने कभी हार नहीं मानी। आईएएस की नौकरी छोड़

30-05-2020 04:50:00

स्मृति शेष: डीएम से सीएम और कभी हार न मानने वाले अजीत जोगी की इंदिरा से मुलाकात और वो किस्सा... bhupeshbaghel BJP4CGState Ajitjogiji

छत्तीसगढ़ के पहले सीएम रहे अजीत जोगी की पहचान ऐसे नेता के रूप में रही, जिन्होंने कभी हार नहीं मानी। आईएएस की नौकरी छोड़

जोगी ने 1964 में उज्जैन विश्वविद्यालय से गोल्ड मैडल के साथ इंजीनियरिंग की। इसके बाद आईपीएस और फिर आईएएस बने। रायपुर और इंदौर सहित विभिन्न जिलों में रिकॉर्ड 12 साल कलेक्टर रहे जोगी 1986 में आईएएस की नौकरी से इस्तीफा देकर कांग्रेस में शामिल हुए। पार्टी ने उन्हें 1986-92 और 1992-98 तक राज्यसभा भेजा। नवंबर 2000 में छत्तीसगढ़ बना तो जोगी पहले मुख्यमंत्री बने।

चीनी कंपनियों को हाईवे प्रोजेक्ट में एंट्री नहीं मिलेगी- नितिन गडकरी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को सरकारी बंगला खाली करने का नोटिस, 1 अगस्त तक की मोहलत जम्मू-कश्मीर: चरमपंथी हमले में एक शख़्स की मौत, पोते की तस्वीर वायरल

इंदिरा से मुलाकात और वो किस्साजोगी अपने करीबी लोगों को अक्सर एक किस्सा सुनाते थे। प्रशिक्षु आईएएस के तौर पर जब उनका बैच तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी से मिला तो एक सवाल के जवाब में इंदिरा ने कहा, भारत में वास्तविक सत्ता तीन ही लोगों के हाथ में है- डीएम, सीएम और पीएम। सीएम बनने के बाद एक बार जोगी ने कहा था, यहां सीएम और पीएम तो कुछ लोग (एचडी देवेगौड़ा, पीवी नरसिंहराव, वीपी सिंह, मोरारजी देसाई) बन चुके हैं, पर डीएम और सीएम बनने का सौभाग्य केवल मुझे मिला है।

राजीव के कहने पर राजनीति में आएजोगी जब रायपुर कलेक्टर थे उस दौरान उनका संपर्क इंडियन एयरलाइंस के पायलट राजीव गांधी से हुआ। इंदिरा की हत्या के बाद राजीव पीएम बने तो जोगी इंदौर कलेक्टर थे। जून 1986 में उनका पदोन्नति आदेश जारी हुआ। इसी दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन कर उन्हें नौकरी से इस्तीफा देने और राज्यसभा के लिए नामांकन करने को कहा गया। तब पत्नी रेणु जोगी और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की सलाह पर वह राजनीति में जाने को तैयार हुए।

दिग्गज कांग्रेसी नेताओं को पीछे छोड़ाजोगी तीन बार मध्य प्रदेश के सीएम रहे श्यामाचरण शुक्ल, उनके भाई विद्याचरण शुक्ल और पूर्व सीएम मोतीलाल वोरा जैसे दिग्गज नेताओं को पीछे छोड़कर छत्तीसगढ़ के सीएम बने थे। जोगी कहते थे कि जो स्थानीय बोली में बात नहीं कर सकता वह सीएम कैसे बन सकता है? कांग्रेस में आगे बढ़ने में जोगी को आदिवासी पृष्ठभूमि और गांधी परिवार से नजदीकी का फायदा मिला। लंबे समय तक वह गांधी परिवार के विश्वस्त नेताओं में रहे।

हार और विवादों से गर्दिश में गए सितारे2003 में छत्तीसगढ़ का पहला विधानसभा चुनाव हुआ तो जोगी के नेतृत्व में कांग्रेस की हार हुई। इस दौरान एक स्टिंग आपरेशन से पता चला कि वह और उनके बेटे अमित ने भाजपा सरकार गिराने के लिए कथित तौर पर विधायकों को पैसे की पेशकश की। इसके बाद जोगी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच दूरी बनने लगी। 2004 के लोकसभा चुनाव महासमुंद से भाजपा के टिकट पर लड़े विद्याचरण शुक्ल को जोगी ने मात दी। इसी चुनाव प्रचार के दौरान हुए सड़क हादसे के बाद जोगी व्हील चेयर पर आ गए।

बसपा के साथ लड़ा आखिरी विधानसभा चुनावलगातार दो विधानसभा चुनाव में जोगी के नेतृत्व में हार के बाद पार्टी ने 2013 में भूपेश बघेल को प्रदेश अध्यक्ष बनाया। 2016 में अंतगढ़ विधानसभा सीट के उपचुनाव के दौरान जोगी के बेटे अमित पर फिक्सिंग का आरोप लगाने के बाद उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। इसके बाद जून 2016 में जोगी ने जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जोगी) का गठन किया। 2018 का विधानसभा चुनाव जोगी मायावती की पार्टी बसपा के साथ मिलकर लड़े लेकिन केवल सात सीट जीत सके। वहीं, कांग्रेस ने 90 में से 68 सीटें जीतकर किंग मेकर बनने का उनका सपना तोड़ दिया। हालांकि, जोगी अपनी परंपरागत महवाही सीट से चुनाव जीत गए।

श्रद्धांजलिअजीत जोगी का एकमात्र ध्येय जनसेवा था। वह गरीबों और खासकर आदिवासियों का जीवन बेहतर बनाने के लिए सदैव प्रयत्नशील रहे। मैं उनके निधन से बेहद दुखी हूं।- नरेंद्र मोदी, पीएमछत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन प्रदेश के लिए बड़ी राजनीतिक क्षति है। वह हमारी यादों में सदैव जीवित रहेंगे।

पतंजलि को मिली कोरोनिल बेचने की इजाजत, इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर आयुष मंत्रालय ने दी परमिशन चीन को भारत का एक और जवाब, पीएम मोदी ने Weibo से हटने का लिया फैसला अब निजी कंपनियां चला सकेंगी पैसेंजर ट्रेनें, देश के 109 रूटों पर होगा संचालन

- भूपेश बघेल, सीएम छत्तीसगढ़अजीत जोगी जी का निधन प्रदेश के लिए अपूरणीय क्षति है। उनके साथ प्रदेश का एक राजनीतिक इतिहास समाप्त हो गया है।- रमन सिंह, पूर्व सीएम छत्तीसगढ़ राजनीति में आए जोगी जिलाधिकारी (डीएम) पद से सीएम की कुर्सी तक पहुंचने वाले संभवत: पहले शख्स थे। छत्तीसगढ़ में बिलासपुर के गांव में शिक्षक माता-पिता के घर जन्मे जोगी मित्रों के बीच इस उपलब्धि का अक्सर जिक्र भी करते थे।

विज्ञापनजोगी ने 1964 में उज्जैन विश्वविद्यालय से गोल्ड मैडल के साथ इंजीनियरिंग की। इसके बाद आईपीएस और फिर आईएएस बने। रायपुर और इंदौर सहित विभिन्न जिलों में रिकॉर्ड 12 साल कलेक्टर रहे जोगी 1986 में आईएएस की नौकरी से इस्तीफा देकर कांग्रेस में शामिल हुए। पार्टी ने उन्हें 1986-92 और 1992-98 तक राज्यसभा भेजा। नवंबर 2000 में छत्तीसगढ़ बना तो जोगी पहले मुख्यमंत्री बने।

इंदिरा से मुलाकात और वो किस्साजोगी अपने करीबी लोगों को अक्सर एक किस्सा सुनाते थे। प्रशिक्षु आईएएस के तौर पर जब उनका बैच तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी से मिला तो एक सवाल के जवाब में इंदिरा ने कहा, भारत में वास्तविक सत्ता तीन ही लोगों के हाथ में है- डीएम, सीएम और पीएम। सीएम बनने के बाद एक बार जोगी ने कहा था, यहां सीएम और पीएम तो कुछ लोग (एचडी देवेगौड़ा, पीवी नरसिंहराव, वीपी सिंह, मोरारजी देसाई) बन चुके हैं, पर डीएम और सीएम बनने का सौभाग्य केवल मुझे मिला है।

राजीव के कहने पर राजनीति में आएजोगी जब रायपुर कलेक्टर थे उस दौरान उनका संपर्क इंडियन एयरलाइंस के पायलट राजीव गांधी से हुआ। इंदिरा की हत्या के बाद राजीव पीएम बने तो जोगी इंदौर कलेक्टर थे। जून 1986 में उनका पदोन्नति आदेश जारी हुआ। इसी दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन कर उन्हें नौकरी से इस्तीफा देने और राज्यसभा के लिए नामांकन करने को कहा गया। तब पत्नी रेणु जोगी और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की सलाह पर वह राजनीति में जाने को तैयार हुए।

दिग्गज कांग्रेसी नेताओं को पीछे छोड़ाजोगी तीन बार मध्य प्रदेश के सीएम रहे श्यामाचरण शुक्ल, उनके भाई विद्याचरण शुक्ल और पूर्व सीएम मोतीलाल वोरा जैसे दिग्गज नेताओं को पीछे छोड़कर छत्तीसगढ़ के सीएम बने थे। जोगी कहते थे कि जो स्थानीय बोली में बात नहीं कर सकता वह सीएम कैसे बन सकता है? कांग्रेस में आगे बढ़ने में जोगी को आदिवासी पृष्ठभूमि और गांधी परिवार से नजदीकी का फायदा मिला। लंबे समय तक वह गांधी परिवार के विश्वस्त नेताओं में रहे।

हार और विवादों से गर्दिश में गए सितारे2003 में छत्तीसगढ़ का पहला विधानसभा चुनाव हुआ तो जोगी के नेतृत्व में कांग्रेस की हार हुई। इस दौरान एक स्टिंग आपरेशन से पता चला कि वह और उनके बेटे अमित ने भाजपा सरकार गिराने के लिए कथित तौर पर विधायकों को पैसे की पेशकश की। इसके बाद जोगी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच दूरी बनने लगी। 2004 के लोकसभा चुनाव महासमुंद से भाजपा के टिकट पर लड़े विद्याचरण शुक्ल को जोगी ने मात दी। इसी चुनाव प्रचार के दौरान हुए सड़क हादसे के बाद जोगी व्हील चेयर पर आ गए।

कोरोना: चीन की यूरोप के साथ कोविड-19 डिप्लोमेसी, निशाना कहीं और कश्मीरी नागरिक की मौत पर संबित पात्रा का ट्वीट, भड़कीं दीया मिर्जा बोलीं- संवेदना बची हुई है? निगार जौहर पाकिस्तान के इतिहास की पहली महिला लेफ्टिनेंट जनरल

बसपा के साथ लड़ा आखिरी विधानसभा चुनावलगातार दो विधानसभा चुनाव में जोगी के नेतृत्व में हार के बाद पार्टी ने 2013 में भूपेश बघेल को प्रदेश अध्यक्ष बनाया। 2016 में अंतगढ़ विधानसभा सीट के उपचुनाव के दौरान जोगी के बेटे अमित पर फिक्सिंग का आरोप लगाने के बाद उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। इसके बाद जून 2016 में जोगी ने जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जोगी) का गठन किया। 2018 का विधानसभा चुनाव जोगी मायावती की पार्टी बसपा के साथ मिलकर लड़े लेकिन केवल सात सीट जीत सके। वहीं, कांग्रेस ने 90 में से 68 सीटें जीतकर किंग मेकर बनने का उनका सपना तोड़ दिया। हालांकि, जोगी अपनी परंपरागत महवाही सीट से चुनाव जीत गए।

श्रद्धांजलिअजीत जोगी का एकमात्र ध्येय जनसेवा था। वह गरीबों और खासकर आदिवासियों का जीवन बेहतर बनाने के लिए सदैव प्रयत्नशील रहे। मैं उनके निधन से बेहद दुखी हूं।- नरेंद्र मोदी, पीएमछत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन प्रदेश के लिए बड़ी राजनीतिक क्षति है। वह हमारी यादों में सदैव जीवित रहेंगे।

- भूपेश बघेल, सीएम छत्तीसगढ़अजीत जोगी जी का निधन प्रदेश के लिए अपूरणीय क्षति है। उनके साथ प्रदेश का एक राजनीतिक इतिहास समाप्त हो गया है। और पढो: Amar Ujala »

सीबीआई ने शुरू की तब्लीगी जमात के लेन-देन और विदेश से मिले चंदे की जांचसीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) ने तब्लीगी जमात के आयोजकों के खिलाफ कथित रूप से संदिग्ध नकद लेन-देन और अधिकारियों से विदेशी Haan ye to karoge hi🙏 Amar ujala sahit sabki Funding ki jaamch ho Media ki poll khul jaegi, her ancher patrkar ki jaanch ho जय हिंद.

दिल्लीः लॉकडाउन से बंद सदर बाजार को फिर से खोलने की मांग, CM से लगाई गुहारसरकार पूरी तरह से कोशिश कर रही है कि इस कोरोना के संक्रमण को रोके और जल्द से जल्द लॉकडॉउन हटाए। 🙏🙏 save male nursesI am against at 80:20 Discrimination In AIIMS... save_male_nurse save_male_nurse_in_aiims PMOIndia drharshvardhan MoHFW_INDIA ravishndtv DrKumarVishwas It's really right if u do like than Ur business also not suffer it's good for our economy open trunwise 50/ open other day

अजित जोगी: अध्यापक, आईपीएस, आईएएस और सीएम से लेकर बाग़ी तकछत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री रहे अजीत जोगी का आज रायपुर में निधन हो गया. RIP🙏🙏🙏 भगवान उसकी आत्मा को शांति दे दुखद

कर्नाटक: विधायकों से बात नहीं कर रहे सीएम येदियुरप्पा, आलाकमान से करेंगे शिकायत!कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 10 से ज्यादा विधायक मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा से नाराज हैं. पार्टी सूत्रों के मुताबिक वे पार्टी हाई कमान से शिकायत करेंगे. विधायकों का आरोप है कि सीएम उनसे बात नहीं कर रहे हैं. राम मंदिर बना तो मै आत्महत्या कर लूँगा - कपिल_सिब्बल 👇👇👇👇 जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा रोके ज़माना चाहे रोके खुदाई तुमको जाना पड़ेगा😂😂😂 jb pm cm se ni krte to kon krega

कोरोना बुलेटिन LIVE : विज्ञान और तकनीक से जीती जाएगी कोरोना से अंतिम लड़ाईकोरोना बुलेटिन LIVE : विज्ञान और तकनीक से जीती जाएगी कोरोना से अंतिम लड़ाई CoronaBulletin NITIAayog CoronaUpdate Lockdown Coronavirus drharshvardhan MoHFW_INDIA drharshvardhan MoHFW_INDIA तो फिर लोग गौमूत्र से इलाज बन्द कर दे

लॉकडाउन 5.0 और आर्थिक गतिविधियां शुरू करने पर महामंथन, मोदी और शाह ने की बैठकLockdown 5.0: इस मुलाकात से एक दिन पहले शाह ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी बात की थी और राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को 31 मई के बाद बढ़ाए जाने पर उनके विचार जाने। चलो नींद तो खुली

इमरान ख़ान बोले- मैं भारत के ख़िलाफ़ विश्व नेताओं से संपर्क कर रहा टिकटॉक पर भारत में पाबंदी लगने से क्या होगा, भारत को इससे क्या हासिल होगा? चीनी दूतावास बोला- ऐप्स बैन से हम चिंतित, WTO के नियमों का है उल्लंघन 80 करोड़ से ज़्यादा लोगों को नवंबर तक मुफ़्त अनाज मिलेगा- पीएम मोदी अनलॉक 2: एक जुलाई से क्या क्या खुल रहा है, क्या क्या बंद रहेगा प्रधानमंत्री अपने संबोधन में चीन की बात करने से भी डर रहे हैं- कांग्रेस कोरोना अपडेट: महामारी का सबसे बुरा दौर आना अभी बाकी: WHO - BBC Hindi राहुल ने विदेशों में भारतीय नर्सों से कोरोना पर की चर्चा, कल वीडियो होगा जारी पीएम मोदी को जून महीने में छठ की याद क्यों आई मध्य प्रदेश: चौहान और सिंधिया की खींचतान में मंत्रिमंडल विस्तार अटका? TikTok और UC Browser समेत चीन से संबंध‍ित 59 ऐप्स भारत में बैन