Socialmedia, Twitter, Facebook, Digitalage, Social Media, Twitter, Facebook, İnstagram, Online Media, Digital Advt, Columns News İn Hindi, Opinion News İn Hindi, Opinion Hindi News

Socialmedia, Twitter

सोशल मीडियाः लगाम किस पर, दिक्कतों का यूं बना रहा शिकार

सोशल मीडियाः लगाम किस पर, दिक्कतों का यूं बना रहा शिकार #SocialMedia #Twitter #Facebook #DigitalAge

24-06-2021 04:06:00

सोशल मीडियाः लगाम किस पर, दिक्कतों का यूं बना रहा शिकार SocialMedia Twitter Facebook DigitalAge

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में टि्वटर के माध्यम से उठे विवाद ने सोशल मीडिया के प्रभावों की चर्चा को नया आयाम दे दिया

अमेरिका के प्रसिद्ध प्यू शोध संस्थान की अक्तूबर, 2020 में जारी एक रिपोर्ट में सामने आया है कि 64 फीसदी अमेरिकियों का मानना है कि सोशल मीडिया उनके देश में हो रही घटनाओं में नकारात्मक प्रभाव डालता है। हमारे देश में यदि ऐसे किसी शोध की रपट आती, तो वर्तमान विवाद को देखते हुए लगता है, लोग उसे सिरे से खारिज कर देते।

वारदात: Dhanbad के जज की मौत के पीछे का असली सच! देखें कौन वसूल रहा है पेट्रोल पर ज़्यादा टैक्स- केंद्र या राज्य सरकार? - BBC News हिंदी असम मिज़ोरम सीमा पर एक तरफ़ बंकर तो दूसरी तरफ़ पुलिस चौकियां - BBC News हिंदी

2018 में एमआईटी के शोधार्थियों के अमेरिका में सोशल मीडिया पर हुए शोध में यह पाया गया था कि सोशल मीडिया में फेक न्यूज के लोगों द्वारा पुनः शेयर/ट्वीट करने की संभावना सत्य घटनाओं के सापेक्ष 70 फीसदी ज्यादा है। इसी से समझ लीजिए कि क्या सोशल मीडिया पर आंख बंद करके भरोसा किया जा सकता है। इसके साथ-साथ सोशल मीडिया एवं अन्य वेबसाइट द्वारा इस्तेमाल में लाए जाने वाले बोट्स और कूकीज भी हमारी चाहत के मुताबिक हमें सामग्री और जानकारी परोसते हैं, परंतु कई बार ये विध्वंसक भी हो सकते हैं। गलती से यदि आप एक बार नकारात्मक जानकारी को 'क्लिक' करते हैं, तो अगले दिन वैसी ही नकारात्मक जानकारी का अंबार लग जाता है। गौरतलब है कि फरवरी में सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में व्हाट्सएप के 53 करोड़ से ज्यादा उपयोगकर्ता हैं, यू-ट्यूब के 44.8 करोड़, फेसबुक के 41 करोड़, इंस्टाग्राम के 21 करोड़ और टि्वटर के 4.1 करोड़ लोग। यानी हमारी आबादी का एक बड़ा और अपने स्तर पर प्रभाव रखने वाला हिस्सा इनका उपयोग करता है।

विशेषज्ञों का मानना है कि कुत्सित सोच और देश विरोधी ताकतें सोशल मीडिया के माध्यम से खबरों को तोड़-मरोड़ कर लोगों की भावनाओं को प्रभावित कर सकती हैं। और आज के दौर में जिस तरह से भारत में सोशल मीडिया हावी है, ऐसा माहौल तैयार करना कोई मुश्किल बात नहीं। चीन द्वारा अपने यहां टि्वटर, फेसबुक, गूगल आदि पर प्रतिबंध की एक वजह शायद यह भी हो। और एक हम हैं कि अभिव्यक्ति की आजादी की आड़ में न जाने क्या-क्या इस प्लेटफॉर्म पर डाल कर पूरी दुनिया में अपनी छीछालेदर कराने से नहीं चूकते। अतः सोशल मीडिया के ऊपर लगाम लगाने के भारत सरकार के फैसले को गलत नहीं ठहराया जा सकता। headtopics.com

सरकार ने फरवरी में आईटी ऐक्ट के अंतर्गत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए जो नए नियम जारी किए थे, उनका अनुपालन टि्वटर ने अब तक नहीं किया है। टि्वटर ने इन नियमों की न केवल अनदेखी की, बल्कि आरोप है कि उत्तर प्रदेश पुलिस के सूचित करने के बावजूद उसने भ्रामक वीडियो नहीं हटाया, ऐसे में उसके खिलाफ रिपोर्ट होना स्वाभाविक है। दुखद यह है कि धार्मिक उन्माद फैलाने की मंशा से भड़काऊ वीडियो वायरल करने में कई जिम्मेदार लोगों ने भी संकोच नहीं किया। सरकार को चाहिए कि सोशल मीडिया और इंटरनेट के सुरक्षित और सही उपयोग हेतु लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाए और यह सुनिश्चित करे कि इससे संबंधित प्राथमिक स्तर की प्रायोगिक जानकारी बच्चों को स्कूली स्तर पर अनिवार्य रूप से उपलब्ध हो। साथ ही, माता-पिता, अभिभावकों और शिक्षकों को भी सोशल मीडिया के प्रभावों को समझना होगा, तभी वे बच्चों को प्रेरित कर सकेंगे।

- दोनों लेखक शिक्षाविद हैं और दिल्ली स्थित उच्च शैक्षिक संस्थानों से संबद्ध हैं। है, और इस विवाद ने टि्वटर को भी अपने लपेटे में ले लिया है। लोग चाहे कुछ भी कहें, पर टि्वटर समेत अन्य सोशल मीडिया के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभावों से लेकर अमेरिका में चुनावों को प्रभावित करने और वैश्विक स्तर पर उन्माद फैलाने में सहायक होने के आरोपों को सिरे से खारिज नहीं किया जा सकता। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल से संबद्ध एक संस्थान की वेबसाइट में प्रकाशित, 'सोशल मीडिया और आपका मानसिक स्वास्थ्य', नामक आलेख के मुताबिक आप पसंद करें या न करें, पर सोशल मीडिया का उपयोग आपको, घबराहट, हताशा एवं अन्य स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का शिकार बना सकता है।

विज्ञापनअमेरिका के प्रसिद्ध प्यू शोध संस्थान की अक्तूबर, 2020 में जारी एक रिपोर्ट में सामने आया है कि 64 फीसदी अमेरिकियों का मानना है कि सोशल मीडिया उनके देश में हो रही घटनाओं में नकारात्मक प्रभाव डालता है। हमारे देश में यदि ऐसे किसी शोध की रपट आती, तो वर्तमान विवाद को देखते हुए लगता है, लोग उसे सिरे से खारिज कर देते।

2018 में एमआईटी के शोधार्थियों के अमेरिका में सोशल मीडिया पर हुए शोध में यह पाया गया था कि सोशल मीडिया में फेक न्यूज के लोगों द्वारा पुनः शेयर/ट्वीट करने की संभावना सत्य घटनाओं के सापेक्ष 70 फीसदी ज्यादा है। इसी से समझ लीजिए कि क्या सोशल मीडिया पर आंख बंद करके भरोसा किया जा सकता है। इसके साथ-साथ सोशल मीडिया एवं अन्य वेबसाइट द्वारा इस्तेमाल में लाए जाने वाले बोट्स और कूकीज भी हमारी चाहत के मुताबिक हमें सामग्री और जानकारी परोसते हैं, परंतु कई बार ये विध्वंसक भी हो सकते हैं। गलती से यदि आप एक बार नकारात्मक जानकारी को 'क्लिक' करते हैं, तो अगले दिन वैसी ही नकारात्मक जानकारी का अंबार लग जाता है। गौरतलब है कि फरवरी में सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में व्हाट्सएप के 53 करोड़ से ज्यादा उपयोगकर्ता हैं, यू-ट्यूब के 44.8 करोड़, फेसबुक के 41 करोड़, इंस्टाग्राम के 21 करोड़ और टि्वटर के 4.1 करोड़ लोग। यानी हमारी आबादी का एक बड़ा और अपने स्तर पर प्रभाव रखने वाला हिस्सा इनका उपयोग करता है। headtopics.com

UP: जब बीजेपी विधायक को नाराज जनता ने सीवर के पानी में चलवाकर महसूस करवाया दर्द, VIDEO वायरल टोक्यो ओलंपिक: दीपिका कुमारी क्वार्टर फ़ाइनल में, मनु भाकर रहीं असफल: आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi टोक्यो ओलंपिक: दीपिका कुमारी क्वार्टर फ़ाइनल में, सटीक 10 निशाने लगाए: आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi

विशेषज्ञों का मानना है कि कुत्सित सोच और देश विरोधी ताकतें सोशल मीडिया के माध्यम से खबरों को तोड़-मरोड़ कर लोगों की भावनाओं को प्रभावित कर सकती हैं। और आज के दौर में जिस तरह से भारत में सोशल मीडिया हावी है, ऐसा माहौल तैयार करना कोई मुश्किल बात नहीं। चीन द्वारा अपने यहां टि्वटर, फेसबुक, गूगल आदि पर प्रतिबंध की एक वजह शायद यह भी हो। और एक हम हैं कि अभिव्यक्ति की आजादी की आड़ में न जाने क्या-क्या इस प्लेटफॉर्म पर डाल कर पूरी दुनिया में अपनी छीछालेदर कराने से नहीं चूकते। अतः सोशल मीडिया के ऊपर लगाम लगाने के भारत सरकार के फैसले को गलत नहीं ठहराया जा सकता।

सरकार ने फरवरी में आईटी ऐक्ट के अंतर्गत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए जो नए नियम जारी किए थे, उनका अनुपालन टि्वटर ने अब तक नहीं किया है। टि्वटर ने इन नियमों की न केवल अनदेखी की, बल्कि आरोप है कि उत्तर प्रदेश पुलिस के सूचित करने के बावजूद उसने भ्रामक वीडियो नहीं हटाया, ऐसे में उसके खिलाफ रिपोर्ट होना स्वाभाविक है। दुखद यह है कि धार्मिक उन्माद फैलाने की मंशा से भड़काऊ वीडियो वायरल करने में कई जिम्मेदार लोगों ने भी संकोच नहीं किया। सरकार को चाहिए कि सोशल मीडिया और इंटरनेट के सुरक्षित और सही उपयोग हेतु लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाए और यह सुनिश्चित करे कि इससे संबंधित प्राथमिक स्तर की प्रायोगिक जानकारी बच्चों को स्कूली स्तर पर अनिवार्य रूप से उपलब्ध हो। साथ ही, माता-पिता, अभिभावकों और शिक्षकों को भी सोशल मीडिया के प्रभावों को समझना होगा, तभी वे बच्चों को प्रेरित कर सकेंगे।

- दोनों लेखक शिक्षाविद हैं और दिल्ली स्थित उच्च शैक्षिक संस्थानों से संबद्ध हैं।आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?

हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

इन राज्यों में राहत की बारिश बनी भारी आफत? देखें तस्वीरें

बारिश ने पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों के लोगों के सामने लिए बड़ी मुश्किलें लाकर खड़ी कर दी. एक तरफ जहां पहाड़ों पर लोग भूस्खलन से जान गंवा रहे हैं तो दूसरी तरफ मैदानी इलाकों में बाढ़ ने कहर मचा रखा है. दरभंगा में बाढ़ के पानी से कुशेश्वरस्थान के लोग परेशान तो मध्य प्रदेश के कई जिले भी बाढ़ से त्रस्त हैं. सबसे बुरी हालात में महाराष्ट्र है जहां बारिश और बाढ़ से अबतक तकरीबन 112 लोग जान गंवा चुके हैं. इन सबके अलावा कर्नाटक से लेकर तेलंगाना तक में मौसम ने अपना कहर बरपा रखा है. देखें वीडियो.

राम मंदिर भूमि घोटाला बीजेपी खामोश क्यों है

सोशल मीडिया: रिया चक्रवर्ती ने साझा की बचपन की तस्वीर, लिखा- कौन जानता था कि मैं...'सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद उनकी गर्लफ्रेंड और एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती ने काफी परेशानियां झेली थीं। वो सोशल Tweet2Rhea बहन दीपा को न्याय दिलाने के लिए आप सभी इस अभियान में जुड़े और ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर आप जहां पर हैं वहीं से आवाज उठाएं । Justicefordeepa जरूर लिखें। Tweet2Rhea योग्यता_करे_पुकार_22k_जोड़े_सरकार महराज जी SC के आदेश के क्रम में 137000 को पूरा भरते हुए 68500 की बची 22000 सीटों को 69000 में जोड़कर नियुक्ति प्रदान करें myogiadityanath CMOfficeUP BJP4UP BJP4India drdwivedisatish myogioffice PMOIndia JPNadda basicshiksha_up

फेक न्यूज एक्सपोज: सऊदी अरब में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने किया योग, सोशल मीडिया पर फोटो हुई वायरल; जानिए इस दावे की सच्चाईक्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रहा है। पोस्ट में दो फोटो हैं, जिसमें मुस्लिम समुदाय के लोग योग करते हुए नजर आ रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि ये तस्वीरें सऊदी अरब की है। जहां योग दिवस के मौके पर मुस्लिम योग करते हुए दिखाई दिए। | People of Muslim community did yoga in Saudi Arabia, photo went viral on social media ; Know the truth of this claim Unlike our once a year yog they sit five times everyday in vajar aasan, a healthy tradition यह फोटो एक फेस न्यूज़ फैलाने के लिए है क्योंकि यह फोटो गुजरात के अहमदाबाद की है ना की सऊदी अरब की

कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़े आम सवालों पर कोविड के नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार से खास चर्चामहामारी कोरोना वायरस का प्रकोप दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है। हर दिन कोविड केस में एक नया रिकॉर्ड दर्ज हो रहा है। पिछले साल 2020 में इस अदृश्य बीमारी ने भारत में दस्तक दी थी। 2021 में एक बार फिर से इसका कोहरम मचने HindiNews CoronaVirus CoronaNews Covid19

ट्विटर और पत्रकारों पर एफ़आईआर, पुलिस ने किस आधार पर की कार्रवाई? - BBC News हिंदीगाज़ियाबाद में एक मुसलमान बुजुर्ग की पिटाई के बाद उठे विवाद में ट्विटर और कुछ पत्रकारों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने का कानूनी आधार क्या है? देशविरोधी हर तत्व जो देशविरोध को अपनी लोकतन्त्र अभिव्यक्ति व संभिधान मे दिया हुया अपना फंडामेनतल राइट समझते हे ,एसे लोग देशहित जनहितके लिए एक दीमक व नासूर हे,ये लोग विदेशी फ़नडींग ले देश को बदनाम करने मे लगे हुये हे ,इनको ढंग से नकेल लागये जाने की जरूरत हे विदेशी प्लेटफोरम देशविरोध हिन्दूविरोध को बड़ा चडा कर दिखा देश के राज्य के चुनाबो मे दंगा-फसाद करा हिंदुस्तान की छवि खराब कर रहे हे ,इनको नकेल लगाए जाने की सख्त जरूरत हे ,देश आत्मनिर्भर ना हो सके इसलिए ये लोग हर हतकंडा अपना देश की चुनी हुई सरकार को बदनाम करने मे लगे हुये हे बीबीसी को इतना तो पता ही होना चाहिए कि भारत में भारतीय कानून के आधार पर ही कार्यवाही होगी।?

पाकिस्तान के खिलाफ बोलने वाली गुलालई इस्माइल हुई आलोचनाओं का शिकार, पुरस्कार मिलने पर मची खलबलीपाकिस्तान में एक बार फिर से पश्तून तहफुज आंदोलन (PTM)की नेता और महिला अधिकार कार्यकर्ता गुलालई इस्माइल (Gulalai Ismail) को आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा। पाकिस्तान में महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए कारावास और यातना से बचने के लिए उन्हें पुरस्कार दिया गया है। ये पाकिस्तान है भारत नहीं जहां कोई कुछ भी भौंककर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता कहता है. पाकिस्तान ने चंद दिनो पहले एक ऐंकर को बाहर फैंक दिया था चैनल से. तो तू कया सोचता है कि जैसे तेरे जैसे दो टके के अखबार और चैनल भारत जैसे भारत में भारत के खिलाफ बकवास करते हैं पाकिस्तान के भी कर सकते हैं

धर्मेंद्र का जज्बा: 85 साल के एक्टर ने शेयर किया वाटर एरोबिक्स का वीडियो, लिखा- इंटरनेशनल योगा डे पर जोश आ गया, मजा आयादिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने इंटरनेशनल योगा डे पर सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया है। इसमें वे स्विमिंग पूल में वाटर एरोबिक्स करते नजर आ रहे हैं और बैकग्राउंड में 'सत्यम शिवम सुंदरम' का टाइटल ट्रैक बज रहा है। 85 साल के धर्मेंद्र ने कैप्शन में लिखा है, 'दोस्तों, आज इंटरनेशनल योगा डे पर जोश आ गया। मैंने शाम में वाटर एरोबिक्स करना शुरू किया। पानी की धारा के खिलाफ अपने एरोबिक्स को करने में मजा आता ... | International yoga day: Dharmendra does water aerobics at his swimming pool; दिग्गज अभिनेता धर्मेंद्र ने इंटरनेशनल योगा डे पर सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया है।