Supremecourt, Hindusikhs, Religiousplaces, Supreme Court, Hindus Sikhs, Hindu Temple, Sikh Gurdwara, Muslim And Christians, सुप्रीम कोर्ट

Supremecourt, Hindusikhs

सुप्रीम कोर्ट में याचिका: हिंदुओं-सिखों को भी मुस्लिम-ईसाई जैसे मिले धार्मिक स्थलों के रखरखाव का हक

सुप्रीम कोर्ट में एक नई जनहित याचिका दायर की गई है जिसमें धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती के लिए समान नियम की मांग की

01-08-2021 03:41:00

सुप्रीम कोर्ट में याचिका: हिंदुओं-सिखों को भी मुस्लिम-ईसाई जैसे मिले धार्मिक स्थलों के रखरखाव का हक Supremecourt HinduSikhs ReligiousPlaces

सुप्रीम कोर्ट में एक नई जनहित याचिका दायर की गई है जिसमें धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती के लिए समान नियम की मांग की

याचिका में यह निर्देश देने की मांग की गई है कि हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों और सिखों को भी मुस्लिम, पारसी और ईसाइयों की तरह धार्मिक स्थलों की स्थापना, प्रबंधन और रखरखाव के समान अधिकार है।स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती द्वारा दायर इस याचिका में यह घोषित करने की भी मांग की गई है कि हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों और सिखों को मुस्लिम, ईसाई और पारसियों जैसे अपने धार्मिक स्थानों की चल-अचल संपत्ति के स्वामित्व, अधिग्रहण और प्रशासन के समान अधिकार हैं।

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क्या NEET अंग्रेजी माध्यम, अमीरों की परीक्षा है? वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देश भर में बीजेपी की क्या है तैयारी - BBC News हिंदी पीएम मोदी का 71वां बर्थडे : देश में रिकॉर्ड टीकाकरण का लक्ष्य, सीएम योगी का ट्वीट- प्रभु राम आपको लंबी उम्र दें

याचिका में कहा गया है कि अनुच्छेद 26 व 27 धार्मिक मामलों के प्रबंधन के मामले में धर्मों के बीच किसी तरह के भेदभाव की गुंजाइश नहीं छोड़ता।इससे पहले, इसी तरह की एक याचिका वकील व भाजपा नेता अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर की गई थी, जिसमें धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती के लिए समान संहिता की मांग की गई थी और देशभर के हिंदू मंदिरों पर अथॉरिटी के नियंत्रण का हवाला दिया गया था।

विस्तार गई है। याचिका में कहा गया है कि देश के हिंदू मंदिरों पर अथॉरिटी का नियंत्रण है, जबकि अन्य समूहों को अपने संस्थानों का प्रबंधन करने की अनुमति है।विज्ञापनयाचिका में यह निर्देश देने की मांग की गई है कि हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों और सिखों को भी मुस्लिम, पारसी और ईसाइयों की तरह धार्मिक स्थलों की स्थापना, प्रबंधन और रखरखाव के समान अधिकार है। headtopics.com

स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती द्वारा दायर इस याचिका में यह घोषित करने की भी मांग की गई है कि हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों और सिखों को मुस्लिम, ईसाई और पारसियों जैसे अपने धार्मिक स्थानों की चल-अचल संपत्ति के स्वामित्व, अधिग्रहण और प्रशासन के समान अधिकार हैं।

याचिका में कहा गया है कि अनुच्छेद 26 व 27 धार्मिक मामलों के प्रबंधन के मामले में धर्मों के बीच किसी तरह के भेदभाव की गुंजाइश नहीं छोड़ता।इससे पहले, इसी तरह की एक याचिका वकील व भाजपा नेता अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर की गई थी, जिसमें धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती के लिए समान संहिता की मांग की गई थी और देशभर के हिंदू मंदिरों पर अथॉरिटी के नियंत्रण का हवाला दिया गया था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Imran Khan कर रहे तालिबान का बचाव, अमेरिका के टारगेट पर आया Pakistan

तालिबान के समर्थन में कई मौकों पर खुलकर बल्लेबाजी करने वाले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने फिर पूरी दुनिया से उस आतंकी संगठन की मदद की अपील कर दी है. इमरान खान ने कहा है कि तालिबान सरकार को अभी विदेशी फंड्स की जरूरत है, अगर दुनिया ने मदद की तो ये संगठन सही दिशा में आगे बढ़ सकता है. अगर पाकिस्तान तालिबान का रहनुमा है तो इमरान उसके सबसे बड़े हमदर्द हैं, जिनका दिल तालिबान के लिए धड़कता है. दरअसल एक इंटरव्यू में इमरान खान से अफगानिस्तान के आतंकवादी संगठन हक्कानी नेटवर्क पर सवाल हुआ और वो उसका बचाव करने में डींगें मारने लगे. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वारदात.

बहुत सुंदर Up ke sichha mitra ko bahal karo sahab myogioffice

पेगासस जासूसी कांड पर तकरार जारी, संसद में मचा घमासान सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचापेगासस जासूसी कांड को लेकर संसद में हंगामा लगातार जारी है. वहीं, अब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसद में जारी गतिरोध को खत्म करने की कोशिश में सरकार और विपक्षी नेताओं से बात करेंगे.

धनबाद जज मौत मामले में दो गिरफ़्तार, सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लियाधनबाद के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश-8 उत्तम आनंद की बुधवार सुबह सैर के दौरान एक ऑटो रिक्शा से टक्कर के बाद मौत हो गई थी. घटना को पहले हिट एंड रन माना जा रहा था लेकिन मौक़ा-ए-वारदात की सीसीटीवी फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद कथित हत्या का संदेह जताया जा रहा है. इस तरह के शातिर बदमाशों की पकड़ राजनीतिक लोगों तक होती है सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया के मामले में भी स्वतः संज्ञान लेता तो अच्छा होता?

CJI पर आधारहीन आरोप लगाने वाले को जुर्माने में कोई रियायत नहीं: सुप्रीम कोर्टयाचिकाकर्ता मुकेश जैन और स्वामी ओम (अब दिवंगत) ने 2017 में जस्टिस दीपक मिश्रा को सुप्रीम कोर्ट का चीफ जस्टिस नियुक्त करने को चुनौती देते हुए जनहित याचिका दायर की थी. mewatisanjoo जुर्माना कम किया माफ नही किया सही किया लेकिन जुर्माना राशि का नीति नियम साफ और उल्लेखित हो किसी को दस लाख और किसी को एक रुपया ? य़े कौनसा मापदंड है ? दस लाख गुना कम से दस लाख गुना ज्यादा तक ?

पोर्नोग्राफी केस: राज कुंद्रा की अग्रिम जमानत याचिका पर दो अगस्त को कोर्ट सुनाएगा फैसलापोर्नोग्राफी केस: राज कुंद्रा की अग्रिम जमानत याचिका पर दो अगस्त को कोर्ट सुनाएगा फैसला TheRajKundra TheRajKundra देश का मीडिया यह सब नही दिखायेगा उनको सिर्फ योगीजी से नफरत है तो झूटी लाशे दिखाने गर्व मेहसूस करता है लेकिन सपा बसपा के प्रवक्ता पुछते है 5काम बताये तो जनता गली गली मे बता रही पर सपा के राज मे गुंडो का राज था आज सुरक्षीत है जनता फिर भी मंदिर बने तब तब योगी

उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे संबंधी याचिका ख़ारिज कर क्या कोर्ट ने पर्यावरण चिंताओं की उपेक्षा की?बीते फ़रवरी माह में हुए उत्तराखंड ग्लेशियर हादसे के बाद प्रलयंकारी बाढ़ लाने वाली ऋषिगंगा नदी पर बन रही एनटीपीसी की दो जलविद्युत परियोजना को मिली वन एवं पर्यावरण मंज़ूरी रद्द करने के लिए एक याचिका दायर की गई थी. हालांकि कुछ दिन पहले हाईकोर्ट ने चमोली ज़िले के पांच याचिकाकर्ताओं की प्रमाणिकता पर ही सवाल उठाते हुए इस याचिका को ख़ारिज कर दिया और प्रत्येक पर 10-10 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया है.

पीएम मोदी और अमित शाह के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका, मगर क्यों? - BBC News हिंदीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका, पेगासस स्पाईवेयर बनाने वाली कंपनी एनएसओ ने कई देशों की सेवाओं पर लगाई अस्थायी रोक. आज के अख़बारों की सुर्खियाँ. Chal be lo re इनका कुछ नहीं होगा, इनके पास पेगासस है।