Prisoners, Supremecourt, Upgovt, Supreme Court, Up Government, Republic Day

Prisoners, Supremecourt

सुप्रीम कोर्ट: सिर्फ गणतंत्र दिवस पर कैदियों को रिहा करने की यूपी सरकार की नीति मनमाना

सुप्रीम कोर्ट ने सिर्फ गणतंत्र दिवस पर कैदियों को रिहा करने की उत्तर प्रदेश सरकार की नीति को भेदभावपूर्ण व मनमाना करार

13-05-2021 03:19:00

सुप्रीम कोर्ट: सिर्फ गणतंत्र दिवस पर कैदियों को रिहा करने की यूपी सरकार की नीति मनमाना Prisoners SupremeCourt UPgovt CMOfficeUP

सुप्रीम कोर्ट ने सिर्फ गणतंत्र दिवस पर कैदियों को रिहा करने की उत्तर प्रदेश सरकार की नीति को भेदभावपूर्ण व मनमाना करार

जस्टिस नवीन सिन्हा और जस्टिस वी रामासुब्रह्मण्यम की पीठ ने कहा है कि एक वर्ष में सिर्फ किसी खास एक दिन पर उम्रकैद की सजा काट रहे कैदियों को प्रीमेच्योर रिलीज करने का मापदंड भेदभावपूर्ण है क्योंकि किसी अन्य वर्ग के कैदियों के लिए ऐसा नहीं है। पीठ ने यह भी कहा है कि ऐसा मापदंड होने का कोई आधार भी नहीं बताया गया है। पीठ ने कहा है कि अनुच्छेद-161 उम्रकैद की सजा पाए कैदियों पर भी समान रूप से लागू होता है।

नताशा नरवाल, देवांगना और आसिफ़ इक़बाल हुए रिहा, कोर्ट ने दिया था आदेश - BBC Hindi नताशा, तन्हा जेल से बाहर आकर बोले- जारी रहेगा संघर्ष, हाई कोर्ट को कहा- शुक्रिया - BBC Hindi उत्तर कोरिया: तीन हज़ार रुपये का एक किलो केला, खाने को तरस रहे हैं लोग - BBC News हिंदी

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि हम उस नीति को भी अस्वीकार करते है जिसके तहत सिर्फ वहीं कैदी प्रीमेच्योर रिलीज के हकदार हैं जो रियायत का आवेदन दाखिल करते हैं।वास्तव में शीर्ष अदालत उम्रकैद की सजा पाए कुछ कैदियों की रिट याचिकाओं पर विचार कर रही थी। ये याचिकाकर्ता कैदी 14 वर्ष कैद की सजा काट चुके हैं और सभी ने प्रीमेच्योर रिहाई की मांग की गई थी। ये सभी ऐसे कैदी थे जो 16 से 24 वर्ष तक की सजा काट चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने गौर किया कि वर्ष 2018 की नीति जेलों में भीड़भाड़ कम करने के उद्देश्य से बनाई गई थी। कोर्ट ने कहा कि कोरोना महामारी के इस दौर में यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि जेलों से भीड़भाड़ कम की जाए।सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह भी संभव है कि कैदियों को इस बारे में जानकारी न हो कि उन्हें रियायत के लिए आवेदन या और कुछ करना होता है। लिहाजा सुप्रीम कोर्ट ने यूपी विधिक सेवा अथारिटी से न सिर्फ याचिकाकर्ताओं को बल्कि ऐसे अन्य कैदियों के बारे पर भी निगरानी रखने के लिए कहा है जो प्रीमेच्योर रिलीज होने की श्रेणी में आते हैं लेकिन किसी कारणवश आवेदन दाखिल करने में असमर्थ हैं। headtopics.com

सुप्रीम कोर्ट ने व्यापक जनहित में संबंधित अथॉरिटी को इस सबंध में विधिक सेवा अथॉरिटी से मिलकर काम करने के लिए कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि एक कल्याणकारी राज्य होने के नाते उसका यह दायित्व है कि वह समय-समय पर ऐसे कैदियों का असेसमेंट करें।विस्तार

दिया है। साथ ही शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि उम्रकैद पाए उन कैदियों को भी प्रीमेच्योर (समर से पहले) रिलीज करने पर भी विचार करें जो किसी कारणवश राहत की गुहार नहीं लगा पाते।विज्ञापनजस्टिस नवीन सिन्हा और जस्टिस वी रामासुब्रह्मण्यम की पीठ ने कहा है कि एक वर्ष में सिर्फ किसी खास एक दिन पर उम्रकैद की सजा काट रहे कैदियों को प्रीमेच्योर रिलीज करने का मापदंड भेदभावपूर्ण है क्योंकि किसी अन्य वर्ग के कैदियों के लिए ऐसा नहीं है। पीठ ने यह भी कहा है कि ऐसा मापदंड होने का कोई आधार भी नहीं बताया गया है। पीठ ने कहा है कि अनुच्छेद-161 उम्रकैद की सजा पाए कैदियों पर भी समान रूप से लागू होता है।

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि हम उस नीति को भी अस्वीकार करते है जिसके तहत सिर्फ वहीं कैदी प्रीमेच्योर रिलीज के हकदार हैं जो रियायत का आवेदन दाखिल करते हैं।वास्तव में शीर्ष अदालत उम्रकैद की सजा पाए कुछ कैदियों की रिट याचिकाओं पर विचार कर रही थी। ये याचिकाकर्ता कैदी 14 वर्ष कैद की सजा काट चुके हैं और सभी ने प्रीमेच्योर रिहाई की मांग की गई थी। ये सभी ऐसे कैदी थे जो 16 से 24 वर्ष तक की सजा काट चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने गौर किया कि वर्ष 2018 की नीति जेलों में भीड़भाड़ कम करने के उद्देश्य से बनाई गई थी। कोर्ट ने कहा कि कोरोना महामारी के इस दौर में यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि जेलों से भीड़भाड़ कम की जाए।सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह भी संभव है कि कैदियों को इस बारे में जानकारी न हो कि उन्हें रियायत के लिए आवेदन या और कुछ करना होता है। लिहाजा सुप्रीम कोर्ट ने यूपी विधिक सेवा अथारिटी से न सिर्फ याचिकाकर्ताओं को बल्कि ऐसे अन्य कैदियों के बारे पर भी निगरानी रखने के लिए कहा है जो प्रीमेच्योर रिलीज होने की श्रेणी में आते हैं लेकिन किसी कारणवश आवेदन दाखिल करने में असमर्थ हैं। headtopics.com

गुजरात: महिला स्वास्थ्यकर्मियों का आरोप- यौन संबंध बनाने से इनकार पर नौकरी से निकाला चिराग पासवान को पशुपति पारस ने कहा 'तानाशाह', 'निर्विरोध' बने एलजेपी अध्यक्ष - BBC Hindi दिल्ली हिंसा मामला: HC के आदेश पर पिंजरा तोड़ के तीनों एक्टिविस्ट तिहाड़ जेल से रिहा, दिल्ली पुलिस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने व्यापक जनहित में संबंधित अथॉरिटी को इस सबंध में विधिक सेवा अथॉरिटी से मिलकर काम करने के लिए कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि एक कल्याणकारी राज्य होने के नाते उसका यह दायित्व है कि वह समय-समय पर ऐसे कैदियों का असेसमेंट करें।आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

द ग्रेट इंडियन पॉलिटिकल ड्रामा: स्पेशल रिपोर्ट में देखें कैसे पूरे दिन रही सियासी गलियारों में हलचल

आज स्पेशल रिपोर्ट में बात करेंगे द ग्रेट इंडियन पॉलिटिकल ड्रामे की. पूरे दिन सियासी गलियारे में हाइवोल्टेड ड्रामा चलता है, दिल्ली में दो फ्रंट पर सियासी बैटिंग होती रही, एक फ्रंट पर योगी और मोदी की चर्चा तो दूसरी तरफ बीजेपी बनाम आम आदमी पार्टी में तू-तू मैं-मैं. वहीं बंगाल में बीजेपी को ममता ने जोर का झटका जोर से दिया. मुकुल रॉय ने बीजेपी को टाटा बाय-बाय कह दिया, राजस्थान में सचिन पायलट कांग्रेस को थैंक्यू ना कह दे इस लिए दिनभर रूठने और मनाने का खेल चलता रहा. पंजाब में कांग्रेस किचकिच में परेशान है तो अकाली दल ने मैदान मारने के लिए हाथी की सवारी को हरी झंडी दे दी. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

एलगार परिषद: सुप्रीम कोर्ट ने कार्यकर्ता गौतम नवलखा की ज़मानत याचिका ख़रिज कीएलगार परिषद: सुप्रीम कोर्ट ने कार्यकर्ता गौतम नवलखा की ज़मानत याचिका ख़रिज की ElgarParishad SupremeCourt BailPlea GautamNavlakha एलगारपरिषद सुप्रीमकोर्ट गौतमनवलखा भीमाकोरेगांव Welcome decision by honorable supreme court of India! chetna2104 YogiHataoUPBachao Till date public is not aware in detail, what is the charge on him. Why is he in jail? A request to Faizan sahib

पीएम मोदी ने की ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता और आपूर्ति की समीक्षाप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता और आपूर्ति की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। पीएम को बताया गया कि सरकार कोविड के प्रबंधन में प्रयुक्त होने वाली दवाओं की आपूर्ति पर भी सक्रिय रूप से निगरानी रख रही है। narendramodi PMOIndia Tangu FEKU ... tangu very much for making FEKURAJ as world's cemetery .. Congratulations for converting world's pharmacy (made by brainy and visionary leaders of the past) to world's cemetery in just 6+ years .. AtmanirbharBharat world's cemetery.. what a VIKAS FEKU narendramodi PMOIndia 7 saal se bethak ke alawa kiya kya h narendramodi PMOIndia साला जनता वोट भी दे सरकार की नाकामयाबी भी झेले जब जनता को ही सब कुछ करना है तो फिर सरकार का क्या काम है! करते रहो बस तुम लोग मीटिंग

केंद्र का अड़ियल रुख: सुप्रीम कोर्ट को ऑक्सीजन सप्लाई की जानकारी देने से इनकार, कहा- न्यायिक दखल की गुंजाइश कम, हम एक्सपर्ट सलाह पर काम कर रहेकोरोना मैनेजमेंट में खामियों को लेकर अब तक सुप्रीम कोर्ट के निशाने पर रही केंद्र सरकार ने अब सुप्रीम कोर्ट को ही नसीहत दे डाली है। सुप्रीम कोर्ट ने ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर केंद्र से नेशनल प्लान मांगा था, लेकिन केंद्र ने अड़ियल रुख अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट को ही सलाह दे दी। महामारी से निपटने की नीतियों को लेकर कोर्ट के सवालों पर केंद्र ने रविवार को जो हलफनामा (एफिडेविट) पेश किया है, उसकी डिटेल सोमवा... | Any overzealous judicial intervention may lead to unforeseen and unintended consequences Centre said to Supreme Court on covid PMOIndia इनको अपना यही अभिमान नीचे लाएगा… रावण को भी अपनी शक्ति पे अभिमान था पर श्री राम ने उसका भी वध किया … ये भाजपा वालों को उनका यही अभिमान मार देगा … PMOIndia Let's the nation know what are you and your expert doing PMOIndia कुछ बोलने लायक बचा ही नहीं तो बोलेगा क्या इस टाइप के लोगो से इस्तीफा मांगा जाता है दलाल मीडिया

पप्पू यादव की गिरफ्तारी के लिए देर रात खुली कोर्ट | DW | 12.05.2021ना कोई संवैधानिक संकट की स्थिति ना किसी व्यक्ति ने फांसी जैसी सजा रोकने की गुहार लेकिन फिर भी मधेपुरा में रात 11 बजे कोर्ट खुली, एक पूर्व सांसद को पेश किया गया और अदालत ने उन्हें जेल भेजने का निर्देश सुनाया.

पप्पू यादव की गिरफ्तारी से भड़के समर्थक, सुलग उठी बिहार की राजनीतिकोरोना काल की इस त्रासदी में पप्पू यादव बिहार में लोगों की उम्मीद बनकर उभरे. वे मरीजों की मदद कर रहे थे. किसी को ऑक्सीजन दिला रहे थे, किसी को दवाई तो किसी को बेड, किसी को खाना. वे सरकारी तंत्र की अव्यवस्था की पोल भी खोल रहे थे. उन्होंने दिखाया कि राजीव रुडी के यहां खड़ी 40 एंबुलेंस कचरे की तरह पड़ी है. वे पटना के सरकारी अस्पतालों की पोल खोल रहे थे. उन्होंने कोरोना नियमों की अनदेखी भारी पड़ी, सरकारी दखल के बाद वे गिरफ्तार हो गए. अब उनकी गिरफ्तारी पर बिहार की राजनीति सुलग उठी है. देखें रिपोर्ट. Real hero pappu Yadav ji aye kash har ek neta aisa ho inke jaisa bahut help karte hain bihar mein .. एम्बुलेंस चोरी करने वाले अपराधी नही, लोगो की सेवा करने वाले अपराधी है बिहार में.... pappuyadavjapl की आवाज बनो वर्ना आज के बाद तुम्हारी आवाज उठाने कोई भी नहीं आएगा ... ReleasePappuYadav पप्पू_यादव_को_रिहा_करो शराब थी तो डबल दाम पर भी खरीद ली, प्याज होती तो सरकार पलट देते ! कुछ ऐसा देश है मेरा 🤔🙄

फैन की मां की मदद के‍ लिए आगे आए Sidharth Shukla, ऑक्सीजन सिलेंडर का किया इंतजामदेश में कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने तबाही मचाई हुई है। लोगों को अस्पतालों में बेड से लेकर ऑक्सीजन के लिए संघर्ष करना पड़ रहा हैं। वहीं संकट की इस घड़ी में कई सेलेब्स मदद के लिए आगे आ रहे हैं। अब तक कई फिल्मी और टीवी सितारें कोरोना की मार झेल रहे लोगों की मदद कर चुके हैं। अब बिग बॉस 13 विनर और एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला भी अपने एक फैन की मदद के लिए आगे आए है। kgd987123 ❤️❤️ Proud of you Sid sidharthshukla ❤️ AgastyaRao 💕 AgMi ❤️ BrokenButBeautiful3 ❤️ SidHearts 💕 Sidhart43508021 So proud of u Sid ❤️ SidharthShukla