एमनेस्टी इंटरनेशनल, अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन, कतर, नेपाल, मजदूर, प्रवासी, प्रवासी मजदूर

एमनेस्टी इंटरनेशनल, अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन

सुधार की कोशिशों के बावजूद कतर से खाली हाथ लौट रहे मजदूर | DW | 20.09.2019

एमनेस्टी इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के अनुसार कतर में सैकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर बिना वेतन के काम कर रहे हैं. कई सारे मजदूरों को बिना मुआवजा के खाली हाथ अपने देश वापस लौटना पड़ा है.

20.9.2019

एमनेस्टी इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के अनुसार कतर में सैकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर बिना वेतन के काम कर रहे हैं. कई सारे मजदूर ों को बिना मुआवजा के खाली हाथ अपने देश वापस लौटना पड़ा है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के अनुसार कतर में सैकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर बिना वेतन के काम कर रहे हैं. कई सारे मजदूर ों को बिना मुआवजा के खाली हाथ अपने देश वापस लौटना पड़ा है.

एमनेस्टी इंटरनेशनल के ग्लोबल इश्यू के उप-निदेशक स्टीफन कॉकबर्न ने कहा,"वर्ल्ड कप के पहले श्रमिकों के अधिकारों में सुधार के वादों के बावजूद नियोक्ता मजदूरों के साथ छल कर रहे हैं." दूसरी ओर प्रतिक्रिया देते हुए कतर ने कहा कि वह एनजीओ सहित अंतरराष्ट्रीय श्रमिक संगठन (आईएलओ) के साथ मिलकर इस बात को सुनिश्चित कर रहा है कि जो सुधार किए गए है, उसका लाभ श्रमिकों को मिले. सरकारी संचार कार्यालय ने कहा,"यदि श्रमिक अधिकारों के लिए किए गए सुधार को लेकर कहीं कोई समस्या आ रही तो इसे तुरंत दूर किया जाएगा. हमने शुरू से ही कहा है कि इसमें थोड़ा समय लगेगा."

AJENews

कतर के इतिहास में सबसे कम उम्र में अमीर बनने वालों में शेख तमीम का नाम शामिल है. उनके पिता शेख हमद बिन खलीफा अल थानी ने दो दशकों तक शासन किया था.

सातवें अमीर शेख खलीफा अल थानी ने 2003 में ही अपने चौथे बेटे को अपना उत्तराधिकारी बनाया, जब उनके बड़े बेटे खुद किनारे हट गये.

शेख तमीम ने ब्रिटेन में पढ़ाई की. यूके के शेरबॉर्न स्कूल, हैरो स्कूल और फिर रॉयल मिलिट्री एकेडमी से वे सन 1998 में ग्रेजुएट होकर निकले.

कतर नेशनल ओलंपिक कमेटी के अध्यक्ष, कतर की सेना के उप प्रमुख और 2022 के कतर फीफा विश्व कप की आयोजन समिति के अध्यक्ष रह चुके हैं शेख तमीम. तस्वीर में फीफा अध्यक्ष सेप ब्लैटर के साथ शेख हमद.

सऊदी अरब, यूएई जैसे देशों के शेखों ने 2013 में शेख तमीम को कतर की गद्दी संभालने के मौके पर बधाइयां भेजीं और अपने देशों के साथ भाईचारा बनाये रखने की उम्मीद जतायी.

शेख तमीम के पिता और कतर के सातवें अमीर शेख हमद बड़े अनोखे तरीके से गद्दी पर बैठे. 1995 में जब उनके पिता और छठे अमीर विदेश गये थे, पीछे से उन्होंने खुद को नया अमीर घोषित कर दिया.

कतर में प्राकृतिक गैस के विशाल भंडार हैं जो अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार हैं. सन 1995 के 8 अरब डॉलर से बढ़कर कतर की अर्थव्यवस्था 2010 में 174 अरब डॉलर की हो गयी.

शेख हमद के काल में कतर ने व्यावहारिक नीति अपनाते हुए कई देशों से संबंध बनाये. फलस्तीन के आंतरिक विभाजन जैसे कई क्षेत्रीय मुद्दों पर मध्यस्थ की भूमिका में रहा. सीरियाई विपक्ष का भी समर्थन किया.

कई दशकों से कतर के मिलिट्री बेस से युद्धक विमान उड़ाने वाले अमेरिका से शेख हमद ने करीबी संबंध विकसित किये. दूसरी तरफ कतर ने बाकी अरब देशों से अलग रुख रखते हुए ईरान से भी सौहार्दपूर्ण संबंध बनाये.

2014 में खाड़ी सहयोग परिषद में विवाद छिड़ा. सऊदी अरब, यूएई और बहरीन ने"आतंकी संगठन" मुस्लिम ब्रदरहुड का समर्थन करने के लिए शेख तमीम की आलोचना की. नाराज देशों ने कतर ने राजनयिक वापस लौटा दिये. कई महीनों बाद जाकर सुलह हुई.

2017 की शुरुआत से ही नये विवाद भी शुरू हुए. कतर न्यूज एजेंसी पर हैकर्स का हमला हुआ और शेख तमीम के हवाले से अमेरिकी विदेश नीति की निंदा करते हुए कुछ बयान लीक कर दिये गये. इससे नाराज कई अरब देशों ने कतर से संबंध तोड़ लिए.

कतर की 25 लाख की कुल आबादी में करीब 88 फीसदी लोग भारत, नेपाल और बांग्लादेश जैसे देशों से पहुंचे प्रवासी कामगार ही हैं. यहां भारत के करीब 650,000 मजदूर काम करते हैं और कतर का सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय हैं.

और पढो: DW Hindi

झारखंडः धोनी की पत्नी साक्षी ने खोली सरकार के जीरो पावर कट के दावे की पोलअपने ट्वीट में साक्षी ने लिखा कि रांची में लोग प्रत्येक दिन बिजली कटौती का अनुभव करते हैं. इसकी रेंज चार से सात घंटे की होती है. अब कुछ अँधेभक्त धोनी की बीवी को मुल्ला, देशद्रोही बना कर पाकिस्तान भेज देंगे साक्षी जी को समझना चाहिए लाइन में दिक्कत आता है तो मिस्त्री शटडाउन लेता है चलती बिजली पर पोल पर तो नहीं चलेंगे तार तो नहीं पकड़ेंगे इन लोगों का देश के विकास में क्या समर्थन है अगर यह समर्थन नहीं करते तो इन्हें कमेंट भी करने का कोई भी हक नहीं है

कोलकाता के पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार की तलाश के लिए CBI ने बनाई नई टीमकोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार का पता लगाने के लिए सीबीआई के अधिकारियों की विशेष टीम यहां आई है. सूत्रों के मुताबिक टीम में एसपी रैंक के दो अधिकारियों समेत कुल 10 अधिकारी हैं. indrajitkundu Aaj MamataOfficial delhi me thi wahi unse poochh lete bhai sab bata deti ki kaha hai ye. indrajitkundu सारी हेकडी बाहर । indrajitkundu Arrest his family then, if he is hiding.

अमेरिका के वाशिंगटन में गोलीबारी, कई लोगों के मारे जाने की आशंकाअमेरिका के वाशिंगटन की सड़कों पर गोलीबारी होने की खबर है। स्थानीय मीडिया के अनुसार बताया जा रहा है कि घटना में कई लोगों

बिजली कटौती से परेशान रांची, धोनी की पत्नी साक्षी ने खोली सरकार के दावों की पोलबिजली कटौती से परेशान रांची, धोनी की पत्नी साक्षी ने खोली सरकार के दावों की पोल Jharkhand powercut msdhoni SaakshiSRawat dasraghubar HemantSorenJMM SubodhKantSahai msdhoni SaakshiSRawat dasraghubar HemantSorenJMM SubodhKantSahai किसी भी देश के विकास की नींव शिक्षा होती है और अच्छी शिक्षा के लिए योग्य शिक्षक जरूरी है,जो कि हम 69kशिक्षकभर्ती60_65प्रतिशत द्वारा निर्धारित मानदंडों पर खरे उतरे है। मा0 मुख्यमंत्री myogiadityanath जी आप भी आपने वादे को पूरा करें narendramodi Amit 69000_योग्य_शिक्षक_लाचार

अमेरिका में व्हाइट हाउस के नजदीक गोलीबारी, कई लोगों के मारे जाने की आशंकाअमेरिका के वाशिंगटन की सड़कों पर गोलीबारी होने की खबर है। स्थानीय मीडिया के अनुसार बताया जा रहा है कि घटना में कई लोगों

सऊदी अरब के शहजादे सलमान से मिले इमरान खान, कश्मीर के हालात पर की चर्चासऊदी अरब के शहजादे सलमान से मिले इमरान खान, कश्मीर के हालात पर की चर्चा Pakistan Kashmir ImranKhan ImranKhanPTI MohammedBinSalman ImranKhanPTI झूठ बोलना पाक की आदत है कश्मीरियों पर रोज मोर्टार दाग रहा है और हितेषी होने का दुनिया मे नाटक कर रहा है ImranKhanPTI बेटा इमरान इसी तरह कश्मीर का रट्टा लगाते मर जायेगा लेकिन कछू होगा नही।अब तो pok भी छिनेगा ImranKhanPTI सऊदी का खुद हालत ख़राब है तो इस भिखमंगा को क्या देगा

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

20 सितम्बर 2019, शुक्रवार समाचार

पिछली खबर

चीन में आईफोन 11 का फीका स्वागत | DW | 20.09.2019

अगली खबर

सेंसेक्स में 10 साल की सबसे बड़ी तेजी, निवेशकों ने 6.83 लाख करोड़ रुपए कमाए