Biharelections 2020, Biharpolls, Alcohalsmuggling, Seemanchal Area İn Bihar, Bihar News, Home Delivery Of Alcohol, Bihar News İn Hindi, Latest Bihar News İn Hindi, Bihar Hindi Samachar

Biharelections 2020, Biharpolls

सीमांचल में उद्योग बना शराब तस्करी, तीन गुना दाम चुकाने पर होम डिलीवरी

जेब में पैसे हैं तो होम डिलीवरी की भी सुविधा। बस कीमत बाजार मूल्य से तीन से चार गुना चुकानी होगी। साल 2016 में शराब बंदी

29-10-2020 04:35:00

सीमांचल में उद्योग बना शराब तस्करी, तीन गुना दाम चुकाने पर होम डिलीवरी BiharElections2020 BiharPolls AlcohalSmuggling NitishKumar iChiragPaswan yadavtejashwi BJP congress

जेब में पैसे हैं तो होम डिलीवरी की भी सुविधा। बस कीमत बाजार मूल्य से तीन से चार गुना चुकानी होगी। साल 2016 में शराब बंदी

पांच वर्ष पूर्व 5 अप्रैल 2016 को पूर्ण शराब बंदी के बाद कुछ महीने तक इसका व्यापक असर देखा गया। महिलाओं के खिलाफ अपराध में चार फीसदी की कमी आई, मगर इसके बाद धीरे-धीरे स्थिति पहले की तरह हो गई। अंतर बस इतना आया कि शराब की सरकारी दुकानें तो बंद हो गईं, मगर शराब की खपत और बिक्री में कोई कमी नहीं आई। सीमांचल में उसी की शराब तक पहुंच नहीं हैं, जिनकी जेब में पैसे नहीं हैं। जिनकी जेब में पैसे हैं, उनके लिए शराब हासिल करना पहले की तुलना में ज्यादा आसान है।

किसानों के प्रदर्शन की एक और रात, दिल्ली के बॉर्डर पर ही जमे हुए हैं अधिकतर किसान कृषि कानून के विरोध में आर-पार के मूड में किसान, आंदोलन की 10 बड़ी बातें लॉकडाउन में घर जमाई बना दामाद तो साली को ले भागा, पकड़े जाने पर लड़की ने खाया जहर

शराबबंदी कहने भर कोकटिहार जिले के तेलता रेलवे स्टेशन पर दवा की दुकान चलाने वाले मोहम्मद इश्तियाक कहते हैं शराबबंदी बस कहने भर के लिए है। हकीकत यह है कि शराब हासिल करना पहले से ज्यादा आसान है। सभी को पता है कि शराब कहां मिलेगा।हां, अंतर बस इतना आया है कि पहले लोग शराब पी कर हंगामा करते थे, अब ऐसी घटनाओं में कमी आई है। पूर्णिया जिले के चटांगी पंचायत के पूर्व मुखिया तौकीर हसन कहते हैं शराब बंदी बस दिखावा है। सरकार हर साल चार हजार करोड़ के राजस्व का नुकसान झेलती है। शु

बढ़ते मामले भी बता रहे हैं हकीकतपूर्ण शराब बंदी के लिए बिहार सरकार ने कठोर कानून बनाए हैं। इसके तहत शराब निर्माण, तस्करी और सेवन के लिए 50000 रुपये जुर्माना और दस साल तक की सजा का प्रावधान है। शराब सेवन से मौत के मामले में तस्करी से जुड़े लोगों को फांसी की सजा का भी प्रावधान है।

इसके बावजूद राज्य में इससे जुड़े दो लाख से अधिक मामले अदालत में लंबित हैं। बीते पांच साल में तीन लाख लोग शराब सेवन, तस्करी जैसे मामले में गिरफ्तार हुए हैं।विपक्ष और सरकार में वार पलटवारशराबबंदी इस बार चुनाव में बड़ा मुदï्दा है। राजद की अगुवाई वाले विपक्षी महागठबंधन के साथ ही अन्य विपक्षी दलों का कहना है कि शराबबंदी महज कागजों तक सीमित है। इस फैसले के कारण राज्य में शराब माफिया का उदय हुआ है। युवा वर्ग तेजी से शराब तस्करी से जुड़े हैं।

जबकि जदयू का कहना है कि इससे समाज में बड़ा परिवर्तन आया है। जदयू शराबबंदी को भविष्य में भी जारी रखने का वादा कर रही है।शराबबंदी एक छलावा है। नीतीश सरकार बिहारियों को तस्कर बनाने पर आमदा है।रोजगार के अभाव में बड़ी संख्या में युवा वर्ग शराब तस्करी से जुड़ गए हैं। इसकारण हजारों परिवार मुकदमों का सामना कर रहे हैं। -चिराग पासवान, अध्यक्ष लोजपा

शराबबंदी कानून से लाखों की संख्या मेंगरीब लोग मुकदमों का सामना कर रहे हैं। पुलिस-प्रशासन की सांठगांठ से पूरे बिहार में शराब तस्करी के धंधे ने अपनेपांव जमा लिए हैं। इस कानून की व्यापक समीक्षा की जरूरत है। सरकार बनी तो हम इससे जुड़े कानून में व्यावहारिक बदलाव लाएंगे। -मदन मोहन झा, अध्यक्ष कांग्रेस

विपक्ष सामाजिक सरोकारों को भूल लोगों को गुमराह करने में जुटा है। खासतौर से कांग्रेस अंबेडकर और महात्मा गांधी की विचारधारा से बहुत दूर चली गई है। नीतीश सरकार ने इन्हीं महापुरुषों की इच्छा का मूर्तरूप दिया है। इससे बिहार में व्यापक सामाजिक बदलाव हुआ है। भविष्य में भी हम शराब बंदी को जारी रखेंगे। -अशोक चौधरी, अध्यक्ष जदयू

Live: शाह ने लगाई 'कंडीशन' तो गुस्सा गए किसान, राकेश टिकैत बोले- ये गुंडागर्दी वाली बात Dev Deepawali 2020: देव दिवाली का क्या है महत्व, इस दिन क्यों किया जाता है दीपदान? भारत में सीमा पार से चरमपंथी भेजने को बेताब पाकिस्तान: आर्मी चीफ़ नरवणे - BBC News हिंदी

लोजपा समेत विपक्षी गठबंधनों ने शराब बंदी को चुनावी मुद्दा बनाया है। राजद की अगुवाई वाले महागठबंधन ने शराबबंदी की समीक्षा करने का वादा किया है। लोजपा प्रमुख चिराग पासवान इस मुद्दे पर बेहद हमलावर हैं। उन्होंने सरकार पर युवाओं को तस्कर बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि रोजगार के अभाव में बड़ी संख्या में युवा शराब तस्करी से जुड़ गए हैं। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में शराब बंदी की समीक्षा कर निर्णय लेने की बात कही है।

बालगुदर गांव ने किया चुनाव का बहिष्कारजिले के बालगुदर गांव के लोगों ने खेल के मैदान में संग्रहालय बनाने के विरोध में मतदान का बहिष्कार किया। गांव की बूथ संख्या 115 पर लोग नदारद थे।बूथ के पीठासीन अधिकारी मोहम्मद इकरामुल हक ने बताया कि ग्रामीणों ने म्यूजियम बनाने से नाराज होकर मतदान का बहिष्कार किया है। वहीं भाजपा प्रत्याशी और नीतीश कैबिनेट में मंत्री कुमार सिन्हा ने कहा कि सुशासन तो दिख रहा है, लेकिन कहीं-कहीं बहिष्कार का वातावरण बनाना ‘प्रायोजित’ है।

के बाद बिहार और खासतौर से सीमांचल में यही स्थिति है। आपको बस एक फोन करने की जरूरत है। कुछ ही मिनटों में शराब आपके घर तक पहुंचा दी जाएगी। पश्चिम बंगाल से जुड़े सीमांचल में युवाओं का एक बड़ा वर्ग शराब तस्करी के धंधे से जुड़ गया है।विज्ञापनपांच वर्ष पूर्व 5 अप्रैल 2016 को पूर्ण शराब बंदी के बाद कुछ महीने तक इसका व्यापक असर देखा गया। महिलाओं के खिलाफ अपराध में चार फीसदी की कमी आई, मगर इसके बाद धीरे-धीरे स्थिति पहले की तरह हो गई। अंतर बस इतना आया कि शराब की सरकारी दुकानें तो बंद हो गईं, मगर शराब की खपत और बिक्री में कोई कमी नहीं आई। सीमांचल में उसी की शराब तक पहुंच नहीं हैं, जिनकी जेब में पैसे नहीं हैं। जिनकी जेब में पैसे हैं, उनके लिए शराब हासिल करना पहले की तुलना में ज्यादा आसान है।

शराबबंदी कहने भर कोकटिहार जिले के तेलता रेलवे स्टेशन पर दवा की दुकान चलाने वाले मोहम्मद इश्तियाक कहते हैं शराबबंदी बस कहने भर के लिए है। हकीकत यह है कि शराब हासिल करना पहले से ज्यादा आसान है। सभी को पता है कि शराब कहां मिलेगा।हां, अंतर बस इतना आया है कि पहले लोग शराब पी कर हंगामा करते थे, अब ऐसी घटनाओं में कमी आई है। पूर्णिया जिले के चटांगी पंचायत के पूर्व मुखिया तौकीर हसन कहते हैं शराब बंदी बस दिखावा है। सरकार हर साल चार हजार करोड़ के राजस्व का नुकसान झेलती है। शु

बढ़ते मामले भी बता रहे हैं हकीकतपूर्ण शराब बंदी के लिए बिहार सरकार ने कठोर कानून बनाए हैं। इसके तहत शराब निर्माण, तस्करी और सेवन के लिए 50000 रुपये जुर्माना और दस साल तक की सजा का प्रावधान है। शराब सेवन से मौत के मामले में तस्करी से जुड़े लोगों को फांसी की सजा का भी प्रावधान है।

इसके बावजूद राज्य में इससे जुड़े दो लाख से अधिक मामले अदालत में लंबित हैं। बीते पांच साल में तीन लाख लोग शराब सेवन, तस्करी जैसे मामले में गिरफ्तार हुए हैं।विपक्ष और सरकार में वार पलटवारशराबबंदी इस बार चुनाव में बड़ा मुदï्दा है। राजद की अगुवाई वाले विपक्षी महागठबंधन के साथ ही अन्य विपक्षी दलों का कहना है कि शराबबंदी महज कागजों तक सीमित है। इस फैसले के कारण राज्य में शराब माफिया का उदय हुआ है। युवा वर्ग तेजी से शराब तस्करी से जुड़े हैं।

Hyderabad civic poll : लोकल चुनाव में बीजेपी की 'वोकल रणनीति' जम्मू-कश्मीर ने मनाया लोकतंत्र का त्यौहार, घाटी में हुआ भयमुक्त मतदान छत्तीसगढ़ में IED विस्फोट, सीआरपीएफ का अधिकारी शहीद, 9 जवान घायल

जबकि जदयू का कहना है कि इससे समाज में बड़ा परिवर्तन आया है। जदयू शराबबंदी को भविष्य में भी जारी रखने का वादा कर रही है।शराबबंदी एक छलावा है। नीतीश सरकार बिहारियों को तस्कर बनाने पर आमदा है।रोजगार के अभाव में बड़ी संख्या में युवा वर्ग शराब तस्करी से जुड़ गए हैं। इसकारण हजारों परिवार मुकदमों का सामना कर रहे हैं। -चिराग पासवान, अध्यक्ष लोजपा

शराबबंदी कानून से लाखों की संख्या मेंगरीब लोग मुकदमों का सामना कर रहे हैं। पुलिस-प्रशासन की सांठगांठ से पूरे बिहार में शराब तस्करी के धंधे ने अपनेपांव जमा लिए हैं। इस कानून की व्यापक समीक्षा की जरूरत है। सरकार बनी तो हम इससे जुड़े कानून में व्यावहारिक बदलाव लाएंगे। -मदन मोहन झा, अध्यक्ष कांग्रेस

विपक्ष सामाजिक सरोकारों को भूल लोगों को गुमराह करने में जुटा है। खासतौर से कांग्रेस अंबेडकर और महात्मा गांधी की विचारधारा से बहुत दूर चली गई है। नीतीश सरकार ने इन्हीं महापुरुषों की इच्छा का मूर्तरूप दिया है। इससे बिहार में व्यापक सामाजिक बदलाव हुआ है। भविष्य में भी हम शराब बंदी को जारी रखेंगे। -अशोक चौधरी, अध्यक्ष जदयू

लोजपा समेत विपक्षी गठबंधनों ने शराब बंदी को चुनावी मुद्दा बनाया है। राजद की अगुवाई वाले महागठबंधन ने शराबबंदी की समीक्षा करने का वादा किया है। लोजपा प्रमुख चिराग पासवान इस मुद्दे पर बेहद हमलावर हैं। उन्होंने सरकार पर युवाओं को तस्कर बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि रोजगार के अभाव में बड़ी संख्या में युवा शराब तस्करी से जुड़ गए हैं। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में शराब बंदी की समीक्षा कर निर्णय लेने की बात कही है।

बालगुदर गांव ने किया चुनाव का बहिष्कारजिले के बालगुदर गांव के लोगों ने खेल के मैदान में संग्रहालय बनाने के विरोध में मतदान का बहिष्कार किया। गांव की बूथ संख्या 115 पर लोग नदारद थे।बूथ के पीठासीन अधिकारी मोहम्मद इकरामुल हक ने बताया कि ग्रामीणों ने म्यूजियम बनाने से नाराज होकर मतदान का बहिष्कार किया है। वहीं भाजपा प्रत्याशी और नीतीश कैबिनेट में मंत्री कुमार सिन्हा ने कहा कि सुशासन तो दिख रहा है, लेकिन कहीं-कहीं बहिष्कार का वातावरण बनाना ‘प्रायोजित’ है।

और पढो: Amar Ujala »

ओवैसी के गढ़ में बीजेपी चखेगी जीत का स्वाद? देखें दंगल

हैदराबाद में यूं तो हैं निकाय चुनाव, मगर उसकी गहमगमी किसी लोकल चुनाव की तरह नहीं है. निकाय चुनावों में बीजेपी के दिग्गज नेताओं ने पूरा दमखम झोंक दिया है. जेपी नड्डा हैदराबाद होकर आ चुके हैं. योगी आदित्यनाथ हैदराबाद में ही हैं. गृहमंत्री अमित शाह हैदराबाद में प्रचार करने जाएंगे. बीजेपी के दिग्गज नेताओं का यही प्रचार करना ओवैसी को अखर रहा है. उन्होंने उम्मीद भी नहीं की होगी कि निकाय चुनाव में बीजेपी इस कदर पूरी ताकत झोंक देगी. देखिए दंगल, रोहित सरदाना के साथ.

यूपी में शराब की दुकानों का बदला समय, अब रात 10 बजे तक होगी बिक्रीउत्तर प्रदेश सरकार ने शराब की दुकानों का समय बदल दिया है. सरकार ने राज्य में अब रात 10 बजे तक शराब की दुकानें खोलने की इजाजत दी है. बता दें कि कंटेनमेंट जोन के बाहर की दुकानों को रात 10 बजे तक खोलने की अनुमति मिली है. ShivendraAajTak वाह वाह। वाह वाह ShivendraAajTak एक साधू संत महात्मा अपने आप को कहने वाले योगी जी के राज मे शराब बिके यह शोभा नही देता. ShivendraAajTak UP me ab 10 bje tak Shraab milege , ho sakta hai esse Apradh me kmmi aaye . Ramrajy .

कोरोना बुलेटिन: देश में रिकवरी रेट में बढ़ोतरी, मृत्यु दर में आई भारी गिरावटकोरोना बुलेटिन: देश में रिकवरी रेट में बढ़ोतरी, मृत्यु दर में आई भारी गिरावट coronavirus Coronaupdate MoHFW_INDIA NITIAayog

तीन साल में डिजिटलीकरण पर खर्च होंगे 68 खरब डॉलरवैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास में डिजिटलीकरण की अहम भूमिका है। इंटरनेशनल डाटा कॉरपोरेशन (आईडीसी) का कहना है कि आने

दिल्ली: ऊंची आवाज में गाने को लेकर तीन भाइयों पर हमला, एक की मौतदिल्ली के नॉर्थ-वेस्ट इलाके के भड़ौला गांव में ऊंची आवाज में गाना बजाने को लेकर झगड़ा हो गया. एक परिवार में तीन भाइयों पर धारदार हथियारों से हमला हुआ, जिसमें एक भाई की मौत हो गई और दो घायल हैं. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. ये घटना मंगलवार दोपहर की है. TanseemHaider लोकतंत्र का पतन प्लुरल्स पार्टी प्रेसिडेंट पुष्पम प्रिया चौधरी को पुलिस ने किया अरेस्ट। मुख्यमंत्री होश में आओ लोकतंत्र की हत्या बर्दाश्त नहीं होगी WeSupportPushpamPriya ShameOnPatnaPolice TanseemHaider मै भी बहुत परेशान हूं ध्वनि प्रदूषण से, हमारा भी पड़ोसी सुबह से ही गाने चला देता है तेज आवाज में। TanseemHaider मैं शैलेश निषाद गोरखपुर से हम 5 साल से बहुत परेशान हैं तीन भूमाफिया से कोई कार्यवाही नहीं हो रहा है उनके ऊपर सभी जगह से आदेश हुआ फिर भी थाना चिलुआताल उसे कोई कार्यवाही नहीं की गई

बंगलूरू : 2,500 रुपये में कोविड-19 नेगेटिव की नकली रिपोर्ट बेच रहीं तीन महिलाएं, शिकायत दर्जबंगलूरू : 2,500 रुपये में कोविड-19 नेगेटिव की नकली रिपोर्ट बेच रहीं तीन महिलाएं, शिकायत दर्ज coronatest RapidAntigenTest RTPCR FakeCovid19Report हमारादेशप्राचीनसमय से नकली और भ्रष्टाचार का विश्वगुरु है।महिलाएं कभी पीछे नहीं रहीं। हर अच्छेबुरे काम में पुरुष के आगे पीछे महिला का हाथ है। यह यूनिवर्सल सत्य है। कुंती नेसूरजके संभोग से कर्ण पैदा किया छिपाने को नदी में बहा दिया।सीता नेमायकेथाली व्यंजनों की राम को गलत सूचना दी।

भोजपुरी जंक्‍शन: पहिला चरण में भोट खातिर जोश लेकिन होश ना, का होई दोसरा चरण में?NEWS 18 हिंदी की विशेष श्रृंखला – पहली बार भोजपुरी भाषा में ही पढ़ें यूपी-बिहार की बात भोजपुरी जंक्‍शन: पहिला चरण में भोट खातिर जोश लेकिन होश ना, का होई दोसरा चरण में? Justice for Nikita निकिता को दिनदहाड़े गोली मारने वाले मोहम्मद तौफीक का सीधा एनकाउंटर हो Yes लिखकर जोरदार समर्थन दें आज कांग्रेस की गंदी राजनीति का चेहरा उजागर हो गया प्रियंका और राहुल गांधी अब कहाँ मर गए या ये मुल्ला तुम्हारा बाप है जो कि तुम हाथरस तो पहुँच गए लेकिन दिल्ली से बल्लबगढ़ नही पहुंचा गया