Re, Indian Defence Forces, 100 Heron Drones, Offensive Operations, China, India China Face Off

Re, Indian Defence Forces

सीमा पर तनाव के बीच 100 हेरॉन ड्रोन मंगाने की तैयारी, जानें इसकी खासियत

10-08-2020 04:30:00

रक्षा मंत्रालय को 100 हेरॉन ड्रोन मंगवाने का प्रस्ताव भेजेगा भारतीय रक्षा बल। RE

प्रस्ताव में लेजर गाइडेड बम, एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल और काफी ऊंचाई से जमीन पर मार करने में माहिर ड्रोन लाने की बात कही जाएगी.मौजूदा हालात को देखते हुए भारतीय रक्षा बल, हेरॉन सर्विलांस ड्रोन की मांग बढ़ाने वाला है. क्योंकि भारत अपनी सर्विलांस क्षमता बढ़ाने पर विचार कर रहा है. ऐसे में हेरॉन सर्विलांस ड्रोन और स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल के आने से भारतीय सेना को काफी मजबूती मिलेगी.

2015 से PM मोदी ने की 58 देशों की यात्रा, 500 करोड़ रुपये से ज्यादा हुए खर्च : सरकार 'NDA मतलब No Data Available': शशि थरूर ने सरकार के पास आंकड़ों के अभाव को लेकर साधा निशाना उत्तर प्रदेशः सुप्रीम कोर्ट ने गैंगरेप के आरोपी पूर्व मंत्री की ज़मानत पर रोक लगाई

स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में शामिल होने वाले सभी लोग 15 अगस्त तक क्वारनटीनक्यों खास है हेरॉनहालांकि हम अभी भी हेरॉन मानवरहित विमान का प्रयोग कर रहे हैं. वायु सेना, जल सेना और थल सेना द्वारा बड़े पैमाने पर सर्विलांस के लिए हेरॉन का प्रयोग किया जा रहा है. वायु सेना लद्दाख में इसका प्रयोग कर रही है.

हेरॉन ड्रोन लगातार 30 घंटे तक उड़ सकता है. इसमें खुफिया कैमरे लगे होते हैं जिससे सेना को दुश्मनों की जानकारी इकट्ठा करने में आसानी होगी.यह ड्रोन हवा से ही आतंकी ठिकानों की पहचान कर लेता है और उस पर निशाना लगाकर उसे ध्वस्त भी कर सकता है. यह ड्रोन किसी भी मौसम में उड़ सकता है, साथ ही 45000 फीट की ऊंचाई तक एक टन वजन के साथ उड़ सकता है.

वो दिन जब हिंदुस्तान के बंटवारे पर लगी मुहर और वजूद में आया पाकिस्तान और पढो: आज तक »

Kangana vs Shiv Sena: ये कंगना का धर्मयुद्ध है!

बोलने की आजादी लोकतंत्र की एक सबसे अहम शर्त है लेकिन जब लोकतंत्र को सत्ता के अहंकार की जूती के नीचे कुचला जाता है तो क्या होता है, उसकी झलक कंगना रनौत के दफ्तर की टूटी-फूटी तस्वीरों में दिखती है. कंगना ने शिवसेना और महाराष्ट्र सरकार के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ बोला तो उनके दप्तर पर बुलडोजर चल गया. कंगना आज ही हिमाचल प्रदेश से मुंबई पहुंचीं लेकिन उनके आने से पहले ही उनका दफ्तर अंदर से बाहर तक मलबे में तब्दील हो चुका है. कंगना ने शिवसेना से सीधी टक्कर ले ली है. ये टक्कर अब कंगना की भाषा में धर्मयुद्ध में बदल गया है. जिस वक्त कंगना का दफ्तर टूट रहा था उसी वक्त उन्होंने ट्वीट किया जिसमें अपने दफ्तर को मंदिर बताया और तोड़ने वाले को बाबर. जय श्री राम का नारा उछाला, वो इसके ऊपर से. देखिए दस्तक में हमारा खास शो, कंगना का धर्म युद्ध.

हम कहते हैं 18 घंटे नही वो नकारा बस 1 घंटा ही काम कर लेता और अंधभक्तो अगर उसको कुछ काम ही करना होता तो क्या 30 साल से प्रोफेशनल भिखा/ri बन कर घूम रहा होता झोलाछाप🤦🤦🤦 😂😂😂😂😂😂😂 2024 tak saare items aa jayenge, 101 main ye nahin hai kya फिर 5 दिन TV पर उछल कुद करोगे तुमलोग आत्मनिर्भर बनने का क्या हुआ?

Updated 😱😱

भारत-चीन सीमा पर भूंकप के झटके, रिक्टर स्केल पर 4.1 रही तीव्रताभारत और पूर्वी जियांग सीमा पर भूकंप के जबरदस्त झटके महसूस किए गए हैं। नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी ने बताया कि भूकंप ये भूकंप नहीं..... चीन की तरफ से अंडरग्राउंड रेललाइन या फिर भारी हथियारों का आना जाना हो सकता है। May be this earth quake may convince Chinese army to withdraw from the Indian territory in Eastern Ladakh?

राम के बाद बुद्ध पर विवाद, विदेश मंत्री के बयान पर नेपाल ने जताई आपत्तिJust cut it. Nepal is like a village. Don't ever report anything from Nepal until its officially added to Bharat. Nepal🤣 Soon Chinese stooge will realise its mistake.. I see

डेपसांग पर तनाव, सैनिकों को हटाने के लिए चीन से मेजर जनरल स्तर की वार्ता जारीShivAroor War kra do Godimedia uss pe b acha trp milega fir ShivAroor उम्मीद करता हु सब ठीक हो , ShivAroor “चाईना” से क़ब्ज़ा छुड़ाने के लिए ,संघ करेगा देश मे “यज्ञ” !! !! बेरोज़गार ,गरीब, मंहगाई,भ्रष्टाचार,बेबस देश की बिकती हुई सम्पत्ति पे “फूल बरसाएगा “राफ़ेल “ !!

अमेरिका: डोनाल्ड ट्रंप ने टिकटॉक और वीचैट पर प्रतिबंध लगाने के आदेश पर हस्ताक्षर किएअमेरिका में टिकटॉक और वीचैट जैसे चीनी ऐप पर 45 दिनों में लागू होगा प्रतिबंध. भारत टिकटॉक और वीचैट पर प्रतिबंध लगाने वाला पहला देश है. भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी चिंताओं का हवाला देते हुए यह प्रतिबंध लगाया था. कोरोनावायरस का कहर और प्रधानमंत्री के जुमलो का जहर रुकने का नाम ही नहीं ले रहे

मिड-डे-मील पर दिल्ली सरकार के हलफ़नामे पर हाईकोर्ट ने नाराज़गी जताईदिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि दिल्ली सरकार ने दावा किया था कि वह मिड-डे मील योजना के तहत हर महीने प्रत्येक बच्चे को 540 रुपये का भुगतान करती है, लेकिन इस साल मार्च में उसके ख़ुद के हलफ़नामे में कहा गया कि उसने पंजीकृत 8.21 लाख बच्चों को क़रीब सात करोड़ रुपये का भुगतान किया, जो प्रति बच्चा 100 रुपये से भी कम है. जिनसे आप सवाल पूछ रहे हैं वो पार्टी BJP4India तो बनाई ही गई थी दलितों को दोबारा तथाकथित रामराज्य में धकेलने के लिए जहाँ नर-नारी तक बाजार में बिकते थे लेकिन आप अपना गैरजिम्मेदाराना रवैया कब छोड़ेंगे AamAadmiParty SanjayAzadSln और हाँ राष्ट्रपति पद लॉलीपॉप है।

झूलन की निगाह अब 2022 के विश्व कप पर, बोलीं- सीरीज दर सीरीज प्रदर्शन पर नजरझूलन की निगाह अब 2022 के विश्व कप पर, बोलीं- सीरीज दर सीरीज प्रदर्शन पर नजर Cricket WomenCricket JhulanGoswami worldcup2020 JhulanG10 BCCI JhulanG10 BCCI Best luck Team India 🇮🇳