Madhyapradesh, Re, Mp High Court Gwalior, High Court Decision On Love Marriage, High Court On Love Marriage, Love Marriage, High Court Gwalior, Mp High Court, Mp High Court Website

Madhyapradesh, Re

सिर्फ माला पहनाने से ही शादी नहीं होती, सात फेरे लेना भी जरुरी: कोर्ट

कोर्ट ने कहा- अग्नि के 7 फेरे लेने और विधि-विधान पूरा करने के बाद ही एक विवाह वैध माना जाता है #MadhyaPradesh #Re | @ReporterRavish

18-09-2021 00:30:00

कोर्ट ने कहा- अग्नि के 7 फेरे लेने और विधि-विधान पूरा करने के बाद ही एक विवाह वैध माना जाता है MadhyaPradesh Re | ReporterRavish

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने आर्य समाज मंदिर में शादी के बाद सुरक्षा मांगने की याचिका खारिज कर दी. कोर्ट ने कहा- अग्नि के 7 फेरे लेने और विधि-विधान पूरा करने के बाद ही एक विवाह वैध माना जाता है.

स्टोरी हाइलाइट्ससिर्फ माला पहनाने से ही शादी नहीं होती- कोर्टसुरक्षा मांगने को थी याचिका, हुई खारिजमध्य प्रदेश हाई कोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने आर्य समाज मंदिर में शादी के बाद सुरक्षा मांगने की याचिका खारिज कर दी. कोर्ट ने कहा- अग्नि के 7 फेरे लेने और विधि-विधान पूरा करने के बाद ही एक विवाह वैध माना जाता है, पर देखने में आ रहा है कि आर्य समाज मंदिर में शादी के बाद जोड़े कोर्ट में सुरक्षा के लिए याचिका दायर कर रहे हैं. ऐसी याचिका सुनवाई के योग्य नहीं है. कोर्ट ने यह भी कहा है कि सिर्फ मंदिर में एक दूसरे को माला पहनाना शादी नहीं है.

शेख़ हसीना ने हिन्दुओं की सुरक्षा पर भारत को क्यों दी चेतावनी? - BBC News हिंदी सीएम योगी बोले: साढ़े चार साल में एक भी दंगा नहीं हुआ, अब फसाद किया तो सात पीढ़ियां मुआवजा भरेंगी चीन ने उड़ाई अमेरिका की नींद: अंतरिक्ष से ही दागी परमाणु मिसाइल, क्या होता है हाइपरसोनिक मिसाइल? जानें

कोर्ट ने मुरैना निवासी नवविवाहित प्रेमी जोड़े की ओर से दायर याचिका पर उक्त टिप्पणी की है. कोर्ट ने यह भी कहा है कि याचिका में भी ऐसा कोई साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया गया है, जिससे पता लगे कि उन्हें कहीं धमकी मिली है या वह पुलिस के पास गए हों, इसलिए इसे खारिज किया जाता है.

16 अगस्त को प्रेमी जोड़े ने की थी शादीमुरैना निवासी एक 23 साल के युवक ने 21 साल की युवती के साथ 16 अगस्त 2021 को ग्वालियर के लोहा मंडी किलागेट स्थित आर्य समाज मंदिर में प्रेम विवाह किया था. आर्य समाज से विवाह का प्रमाण पत्र भी दिया. इसके बाद दोनों ने हाई कोर्ट में अपनी सुरक्षा को लेकर एक याचिका दायर की थी. सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से तर्क दिया गया कि दोनों ने प्रेम विवाह किया है. उनके परिजन और अन्य लोग झूठी शिकायतें कर रहे हैं, उन शिकायतों पर कोई कार्रवाई न की जाए. वैवाहिक संबंधों को मजबूत बनाने के लिए उनको सुरक्षा प्रदान की जाए. उनकी जान को लोगों से खतरा है. headtopics.com

कोर्ट ने सुनवाई के बाद खारिज की याचिकाशासकीय अधिवक्ता दीपक खोत ने याचिका का विरोध करते हुए कहा कि याचिकाकर्ताओं की ओर से किसी भी थाने में सुरक्षा के लिए आवेदन नहीं दिया है. उन्हें किससे खतरा है, किसने धमकी दी है, कौन परेशान कर रहा है? यह भी नहीं बताया है. सीधे कोर्ट में याचिका दायर कर दी गई है, इसलिए यह याचिका सुनवाई योग्य नहीं लगती. पूरी सुनवाई के बाद कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी.

गौरतलब है कि कई कपल आर्य समाज मंदिर में शादी के बाद हाई कोर्ट से सुरक्षा मांगते हैं. कोर्ट का कहना है कि यदि जान का खतरा है तो पहले पुलिस के पास जाएं. वहां मदद न मिले तो कोर्ट में आएं.Live TV और पढो: आज तक »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

ReporterRavish ये किस तरह के 'cases' अदालत तक जा रहे हैं? अब क्या अदालतों को यही काम रह गया है ? ReporterRavish Bilkul Sanatan dharma yahi kahata hai jai shree ram ReporterRavish Agar shadi ki bhavna se mala pahnai jae ya sindur bhara jae wo bhi vivah hi hota hai. Jab vivah ka vada karke sambandh banana balatkar hai to mala ya sindoor to poorna vivah hua hi.

ReporterRavish Kya Dalal Anchors ko har mahine ke Dalali ka jo payment dena hai wo paisa bhi Sarkaar PETROL aur DIESEL ke jariye Janta se vasool kar rahi hai AMISHDEVGAN DChaurasia2312 anjanaomkashyap RubikaLiyaquat sudhirchaudhary RajatSharmaLive navikakumar rahulkanwal Arnab

नुसरत के बच्चे के पिता पर सस्पेंस खत्म: निखिल जैन नहीं, एक्टर यश दासगुप्ता ही हैं नुसरत जहां के बेटे के पिता, बर्थ सर्टिफिकेट से हुआ खुलासातृणमूल सांसद नुसरत जहां के न्यू बॉर्न बेबी के पिता की अटकलें आखिरकार खत्म हो गई हैं। बच्चे के बर्थ सर्टिफिकेट के मुताबिक, नुसरत के रूमर्ड पार्टनर देबाशीष दासगुप्ता ही उनके बेटे के पिता हैं। देबाशीष को यश दासगुप्ता के नाम से जाना जाता हैं। नुसरत के बच्चे यिशान जे दासगुप्ता के सर्टिफिकेट में उनकी जन्म तिथि 26 अगस्त है मेंशन है। बता दें नुसरत प्रेग्नेंसी के दिनों से ही अपने रूमर्ड पार्टनर यश के साथ र... | Birth certificate of Nusrat Jahan's son Yashan goes viral, actor Yashdas Gupta's name in father's column Koi baat nhi, jain nhi तो gupta shi.😂😂 Kya news diya hai, inaam to banta h चलो तुम्हे एक राज़ की बात बताती हूं... ये बकवास दिखाने से अच्छा ढंग से करेंट अफेयर्स कवर करवा दिया भाई...जो कि सही न्यूज कहलाता है...देश में बेरोजगारों की कमी नही है...अभी जितनी TRP आती हैं, उससे तो ज्यादा ही बढ़ेगी.... घर में हर तीसरे इंसान को करेंट अफेयर्स की जरूरत है...😁😂

PM नरेंद्र मोदी ही नहीं आज ही के दिन पैदा हुए थे दक्ष‍िण के आंबेडकर कहे जाने वाले ये समाज सुधारकआज 17 सितंबर को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन है. आज ही के दिन देश के एक और जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ का भी जन्म हुआ था. दक्षि‍ण भारत के आंबेडकर कहे जाने वाले इस समाज सुधारक के बारे में आइए जानते हैं ये खास बातें. Aaj desh ka sabse panauti divas aaj hai dalali ku.e aajtak unemploymentday ये आज तक वाले वामपंथी को ही ढूढ़ते फिरते हैं 🤔

Farm Laws के एक साल पर SAD का Protest, पुलिस ने बॉर्डर पर ही रोका, देखेंकृषि कानूनों का विरोध करने के लिए दिल्ली आ रहे अकाली दल के कार्यकर्ताओं और पुलिस में तनातनी है. दिल्ली पुलिस ने जगह जगह बैरिकेडिंग लगा कर इन्हें रोक दिया है. अकाली दल के कार्यकर्ताओं ने पुलिस और सरकार के खिलाफ नारेबाज़ी भी की. तीन कृषि कानूनों को बने एक साल पूरा होने पर अकाली दल ने इस दिन को काला दिवस मनाने का एलान किया है. गुरद्वारा रक़ाबगंज से संसद तक प्रोटेस्ट मार्च निकलने के लिए बड़ी तादाद में रात में ही पंजाब से लोगों को बुलाया था. देखें NationalUnemploymentDay

न्यायाधिकरणों की नियुक्तियों में 'पसंदीदा लोगों के चयन' पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को फटकाराकेंद्र द्वारा विभिन्न न्यायाधिकरणों में नियुक्ति की प्रक्रिया पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोष जताने पर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि सरकार के पास चयन समिति की अनुशंसा स्वीकार न करने की शक्ति है. इस पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कोर्ट ने कहा कि यदि सरकार को ही अंतिम फ़ैसला करना है, तो प्रक्रिया की शुचिता क्या है.

Sun Transit : सूर्य कन्या संक्रांति के साथ ही 3 राशियों की चमक जाएगी किस्मत17 सितंबर को सूर्य कन्या राशि में प्रवेश करेगा, खूब फायदे में रहेगी 3 राशियां, सूर्य देव राशि कन्या में प्रवेश को कहते हैं सूर्य कन्या संक्रांति, 3 राशि वालों को करियर में अपार सफलता मिलने की संभावना. बुधादित्य योग का होगा निर्माण....

विराग गुप्ता का कॉलम: कोरोना के मुआवजे में कई चुनौतियां, सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सामाजिक सुरक्षा के प्रति सरकारों की जवाबदेही बढ़ेगीआपदा प्रबंधन कानून 2005 के तहत बाढ़, सुनामी, सूखा, भूकंप, भूस्खलन और चक्रवात जैसी 12 आपदाओं से तबाही के मामलों में राहत कार्य व मुआवजे का कानून है। 2015 में गृह मंत्रालय ने इस कानून के तहत आपदा से मरने वालों के परिवारजनों को 4 लाख रुपए के मुआवजे का नियम बनाया था। | There are many challenges in the compensation of Corona, the decision of the Supreme Court will increase the accountability of the governments towards social security viraggupta These spooky laws exists in India because of Article 372 of constitution of india, Art.372 should be Repealed with immediate effect to feel Joy of Freedom from spooky british laws. Sir any progress?