सिकंदर: 32 साल की उम्र में सबसे बड़े साम्राज्य की स्थापना करने वाला नौजवान - BBC News हिंदी

सिकंदर: 32 साल की उम्र में सबसे बड़े साम्राज्य की स्थापना करने वाला नौजवान

16-06-2021 06:55:00

सिकंदर: 32 साल की उम्र में सबसे बड़े साम्राज्य की स्थापना करने वाला नौजवान

अपनी बुलंदी के दौर में, सिकंदर का साम्राज्य पश्चिम में यूनान से लेकर पूर्व में आज के पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, ईरान, इराक़ और मिस्र तक फैला हुआ था.

बेमिसाल शासकसिकंदर पर जीवन भर अरस्तू के शिष्य होने का प्रभाव रहा. रिचेल मायर्स कहती हैं, "आप शायद ये सोचें कि अरस्तू के पास यह एक बड़ा मौक़ा था, कि वह यूनानी अभिजात वर्ग के एक अक्खड़ लड़के को एक बेमिसाल शासक में बदल सकते थे.""पूरी तरह से तो ऐसा नहीं हुआ, लेकिन जिस तरह सिकंदर यूनानी राज्यों के साथ व्यवहार करते थे, उसमे अरस्तू की दी हुई शिक्षाओं का बड़ा प्रभाव था. एक घटना इस शिक्षा को ज़ाहिर करती है."

ज्ञानवापी मस्जिद ने काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरडोर के लिए दी ज़मीन - BBC News हिंदी भारत-पाकिस्तान की 1971 की लड़ाई में भारतीय मेजर ने जब अपने हाथों से काटी थी अपनी टाँग - BBC News हिंदी Tokyo Olympics LIVE Updates: भारत को पहला मेडल, वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू ने जीता सिल्वर

इतिहास का एक क्रूर शासक: जब रोम जल रहा था तो क्या नीरो सचमुच बाँसुरी बजा रहा था?"वह यूनान के कोरिन्थ शहर में प्रसिद्ध दार्शनिक डायोजनीज से मिलने के लिए गए थे, ताकि उनके काम के लिए उन्हें शुभकामनाएँ दे सकें. जब सिकंदर वहाँ पहुँचे, तो डायोजनीज बैठे हुए थे.

"सिकंदर ने डायोजनीज से पूछा कि वह उनके लिए क्या कर सकते हैं. जवाब में, डायोजनीज ने कहा, "सामने से हट जाओ क्योंकि तुम्हारी वजह से सूरज की रोशनी मुझ तक नहीं आ रही है."सिकंदर का इस जवाब को बर्दाश्त करना अरस्तू की शिक्षा का ही परिणाम था.इमेज स्रोत, headtopics.com

सिकंदर कीकमज़ोरियाँसिकंदर के सत्ता में आने के बारे में बताते हुए, बर्मिंघम यूनिवर्सिटी में क्लासिक्स की प्रोफेसर डायना स्पेंसर कहती हैं, "जैसा कि हम जानते हैं कि सिकंदर के पिता फिलिप द्वितीय की कई पत्नियाँ थी, जिनमे से एक क्लियोपेट्रा नाम की महिला भी थी. जिन्होंने सिकंदर और उनकी माँ के लिए मुश्किल पैदा कर दी थीं."

"माँ और बेटे दोनों को ये लगने लगा था कि वे पूरी तरह से मेसिडोनिया का ख़ून नहीं हैं. ये सच्चाई उनकी गरिमा को भी ठेस पहुँचा रही थी और राजनीतिक रूप से भी नुक़सानदेह थी. सिंहासन तक पहुँचने की लड़ाई में सिकंदर की ये कमज़ोरियाँ थीं.वीडियो कैप्शन,आगरा के मुगल और छत्रपति शिवाजी के संबंध की कहानी

डायना स्पेंसर का कहना है कि फिलिप द्वितीय की नई पत्नी क्लियोपेट्रा, नई रानी बन सकती थी और उन लोगों के लिए मददगार साबित हो सकती थी, जो फिलिप के बाद राजा बनने की दौड़ में शामिल थे. इस वजह से, क्लियोपेट्रा सिकंदर के राजा बनने के रास्ते में एक रुकावट बन सकती थी.

इमेज स्रोत,Getty Imagesराजनीतिक सच्चाईयह एक राजनीतिक सच्चाई थी कि पूरी तरह से मेसिडोनिया से ताल्लुक रखने वाले एक नए पुरुष उत्तराधिकारी के सामने आते ही, सिकंदर के लिए मुश्किलें पैदा हो सकती थीं. कई इतिहासकारों ने इस स्थिति की मनोवैज्ञानिक पृष्ठभूमि भी पेश किया है. headtopics.com

सौरभ चौधरी: 10 मीटर एयरपिस्टल प्रतिस्पर्धा के फ़ाइनल में, गोल्ड पर लगेगा निशाना? - BBC News हिंदी टोक्यो ओलंपिक: भारत की हॉकी में रोमांचक जीत, निशानेबाज़ी में मेडल की उम्मीद - BBC News हिंदी टोक्यो ओलिंपिक LIVE: हॉकी में भारत ने न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया, दीपिका-प्रवीण की जोड़ी क्वार्टर फाइनल में; पहला गोल्ड चीन के नाम

डायना स्पेंसर के अनुसार, सिकंदर छह महीने के लिए ख़ुद ज़िलावतन हो गए थे, और उनकी माँ भी कुछ महीनों के लिए दरबार से दूर हो गई थी. कुछ समय बाद, पिता और बेटे के बीच कड़वाहट तो कम हो गई और सिकंदर वापस लौट आए, लेकिन रिश्ते में आया ठहराव, सिकंदर के उत्तराधिकारी बनने के रास्ते में रुकावट बन चुका था.

"इस स्थिति में, एक घटना घटी, जिसने सिकंदर को सिंहासन पर बैठाया. यह वह मौक़ा था, जब उन्होंने शायद ऐसी स्थिति को बनने से रोक दिया था, कि कोई शुद्ध मेसिडोनियन ख़ून उसके उत्तराधिकार को चुनौती दे सके."इमेज स्रोत,फारससाम्राज्य पर नज़रडायना स्पेंसर का कहना है कि सिकंदर की सौतेली बहन, यानी क्लियोपेट्रा की बेटी की शादी में एक सुरक्षा गार्ड ने राजा फिलिप द्वितीय की हत्या कर दी थी. गार्ड को भी भागने की कोशिश के दौरान मार दिया गया था. इसलिए यह पता नहीं चल सका कि इस हत्या की वजह क्या थी.

लेकिन माना जाता है कि इस हत्या में सिकंदर और उसकी माँ का हाथ हो सकता है. इस हत्या के बाद सिकंदर का हाथ नहीं रुका. उन्होंने एक-एक करके उन सभी लोगों को मार दिया, जो उसके उत्तराधिकार के लिए ख़तरा बन सकते थे.वीडियो कैप्शन,Vivechna: मुग़लों से लोहा लेने वाले बंदा सिंह बहादुर की कहानी

अपने एक सौतेले भाई फिलिप एरिडाइस को छोड़कर, उसने अपने सभी भाइयों, चचेरे भाइयों और उन सभी लोगों को मार डाला, जो उनके राजा बनने के रास्ते में रुकावट बन सकते थे. उनमे से कुछ को तो बहुत ही क्रूरता से मौत के घाट उतरा गया था.आख़िरकार सिकंदर सिंहासन पर बैठे और अब उनकी नज़र फारस साम्राज्य पर थी. फारस साम्राज्य ने 200 से अधिक वर्षों तक भूमध्य सागर से जुड़े इलाक़ों पर शासन किया. यह साम्राज्य इतिहास के वास्तविक सुपर पावर में से एक था. headtopics.com

इमेज स्रोत,AFPइमेज कैप्शन,सिकंदर ने प्राचीन शहर पर्सेपोलिस को बर्बाद कर दिया थायुद्ध रणनीति में महारतफारस साम्राज्य की सीमा भारत से लेकर मिस्र और उत्तरी यूनान की सीमा तक फैली हुई थी. लेकिन इस महान साम्राज्य का ख़ात्मा सिकंदर के हाथों हुआ.फारस साम्राज्य की तुलना में एक छोटी लेकिन प्रभावी सेना के हाथों राजा डेरियस तृतीय की हार को इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ के रूप में देखा जाता है.

वीडियो कैप्शन,कोहिनूर हीरे के खूनी इतिहास की कहानी Vivechnaइस युद्ध के नतीजे में एक प्राचीन सुपर पावर का पतन हुआ और एक नए और विशाल साम्राज्य के ज़रिए यूनानी संस्कृति और सभ्यता का प्रसार हुआ.इतिहासकार लिखते हैं कि सिकंदर की विजय का श्रेय उनके पिता को भी जाता है, जिन्होंने अपने पीछे एक बेहतरीन फ़ौज छोड़ी थी. जिसका नेतृत्व बहुत अनुभवी और वफ़ादार सेनापतियों के हाथों में था.

योगी सरकार का दावा- यूपी में साढ़े 4 साल में 6.65 लाख सरकारी नौकरियां दीं, टूटा SP-BSP का रिकॉर्ड टोक्यो ओलिंपिक LIVE: शूटर सौरभ चौधरी फाइनल में पहुंचे, हॉकी में भारत ने न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया; दीपिका-प्रवीण की जोड़ी क्वार्टर फाइनल में कोरोना देश में: बीते दिन 39496 केस आए, 35124 ठीक हुए और 541 मौतें; पिछले 23 दिनों में इलाज करा रहे मरीजों के आंकड़े में 1.14 लाख की कमी

हालाँकि, एक चालाक और कुशल दुश्मन को उसके इलाक़े में जा कर हराना, ख़ुद सिकंदर की एक नेता के रूप में बुद्धिमत्ता और युद्ध रणनीति में महारत का कमाल था.इमेज स्रोत,AFPसिकंदर की फौजमेसिडोनिया के लोग हमेशा से एक सैन्य ताक़त नहीं थे. यूनान में, एथेंस, स्पार्टा और थेब्स राज्य ऐतिहासिक रूप से शक्ति के स्रोत रहे हैं. इन राज्यों के नेता मेसिडोनिया के लोगों को जंगली या बारबेरियन कहते थे.

सिकंदर के पिता फिलिप द्वितीय ने अकेले ही मेसिडोनिया की सेना को एक ऐसी प्रभावशाली सेना बना दिया था, जिसका डर उस प्राचीन दौर में दूर-दूर तक फैल गया था. फिलिप ने मेसिडोनिया के पूरे समाज को एक पेशेवर सेना के साथ दोबारा संगठित किया.जब इतिहास में गुम एक इस्लामी लाइब्रेरी ने रखी आधुनिक गणित की नींव

उच्च श्रेणी की पैदल सेना, घुड़सवार दस्ते, भाला चलाने वाले और तीरंदाज़ इस सेना का हिस्सा थे. फिलिप की मृत्यु के बाद सिकंदर को यही सेना विरासत में मिली. सिकंदर हमेशा एक बुद्धिमान रणनीतिकार थे.वो जानते थे कि यूनान पर डर और ताक़त से शासन नहीं किया जा सकता. उन्होंने एक सदी पहले फारस साम्राज्य की तरफ से यूनान पर हमले की घटना को, राजनीतिक रूप से इस्तेमाल किया और फारस पर अपने हमले को देशभक्ति के साथ जोड़ कर उचित ठहराया.

इमेज स्रोत,Fine Art Images/Heritage Images/Getty Imagesफारस के साम्राज्य कारेजिमेंटसिकंदर ने एक प्रोपेगैंडा शुरू किया, जिसमें कहा गया कि मेसिडोनिया के लोग पूरे यूनान की तरफ से फारस पर हमला कर रहे हैं, हालाँकि एक सदी पहले फारस साम्राज्य और यूनान के बीच होने वाली जंग में मेसिडोनिया शामिल ही नहीं था.

सन 334 ईसा पूर्व में सिकंदर की सेना फारस साम्राज्य में दाखिल हुई. सिकंदर की 50 हज़ार की सेना को उस समय दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे अधिक प्रशिक्षित सेना का सामना करना था.काशी में कब और कैसे बनी ज्ञानवापी मस्जिद?एक अनुमान के अनुसार, राजा डेरियस तृतीय की मातहत सेना की संख्या 25 लाख थी, जो उसके पूरे साम्राज्य में फैली हुई थी. इस सेना का दिल कहे जाने वाले दस्ते को 'अमर सेना' कहा जाता था. यह 10 हज़ार सैनिकों की एक इलीट रेजिमेंट थी.

इस इलीट रेजिमेंट की संख्या 10 हज़ार से कम नहीं होने दी जाती थी. युद्ध के दौरान, जब इस दल का कोई सैनिक मारा जाता था, तो दूसरा उसकी जगह ले लेता था और कुल संख्या पूरी रहती थी. और पढो: BBC News Hindi »

10तक: केंद्र नहीं करती दो बच्चों की नीति का समर्थन, BJP शाषित राज्यों में क्यों आया कानून?

यूपी सरकार जनसंख्या नियंत्रण नीति लेकर आ चुकी है. असम के मुख्यमंत्री भी आबादी कंट्रोल करने वाले कानून के लिए प्रबल समर्थक हैं. एमपी के कई मंत्री, विधायक मांग कर रहे हैं कि आबादी नियंत्रण कानून लाया जाए. लेकिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने संसद में लिखित जवाब दिया कि टू चाइल्ड पॉलिसी यानी दो बच्चों की नीति लाने का कोई इरादा केंद्र सरकार का नहीं है. तो जब केंद्र की सरकार ही नीति का समर्थन नहीं करती तो फिर राज्यों में बीजेपी की सरकार क्या सिर्फ धर्म के आधार पर वोटों के ध्रुवीकरण वाली राजनीति के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून का इस्तेमाल करना चाहते हैं? देखें 10तक.

Bharat me porus se haar gaya tha sikandar or ghayal hone se uski mot ho gyi thi...uski bachi hui sena ko Chandragupta mourya ne samapt kar diya tha....Jai Hind वह सारी खानदानी लोग थे। कोई चाय वाला नहीं... Not a Tea guy .... To regret 😬 कैसे-कैसे लोग सत्ता में He was happy to suicide as soon as possible a real psychic.

लेकिन बिहार के एक नौजवान ने उसका विश्व विजय का सपना तोड़ दिया था, चंद्रगुप्त मौर्य अब कोई टॉपिक न मिला तो यह गड़े मुर्दे उखाड़ने शरू कर दिए BBC ISVTHE REAL VILKAIN IN OUR CIUNTRY Bharat par hamla uske jeevan ki sbse bdi galti thi.... Na khuda hi mila na visale sanam... नीव में विद्यमान ... व्यक्ति सुकुमार.. किया बहुत यत्न.. या .. जुड़े ..उसके जैसे लोग तमाम .. अग्रिम पंक्ति में था .. लेकिन.. पंक्ति में युक्ति नही ... फिर .. कहां रहा था.. ☄️

'सब कुछ सीखा हमने, ना सीखी होशियारी, सच है दुनिया वालों के हम हैं अनाड़ी...!' जिंदगी न जाने तुझ में क्या है ऐसी बात हर कोई चाहे बस तुझे ही दिन रात जानते हैं एक दिन छोड़ देगी तु उनका हाथ फिर भी चाहिए सबको बस तेरा ही साथ और हमारे यहां एक नौजवान ऐसा भी था जिसने 35 साल भीख मांग कर खाया था

Bihar Politics : क्या बिहार में बीजेपी की ताकत कम करने की हो रही है कोशिश !पटना न्यूज़: बिहार में कोरोना का कहर जैसे-जैसे कम हो रहा है उसके उलट सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। दिवंगत रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी में अंदरूनी कलह की वजह से फूट पड़ चुकी है। यह बाहर से तो दिखता है लेकिन अंदर से क्या कोई और ही खेल खेला जा रहा है ? Happy birthday to you kumarmangalam ji AmitShah,narendramodi ,anjanaomkashyap,aajtak हिंदू समाज के लोगो से प्रार्थना है आजतक चैनल पर सईद अंसारी जैसे एंकरिंग करते दिखे तुंरत चैनल बदल दें।इस हरमजादे को जब कोई हिंदुस्तान की बुराई करता है बहुत मज़ा आता है जैसे दूसरे डीबेटर बोलना शुरु करते है बीच में डिस्टर्ब करता है। दिल्ली में हो सकता तो स्कूल अतिथि शिक्षक मध्यप्रदेश में सुरक्षित क्यो नही हो सकता।।।जवाब दीजिये मुख्यमंत्री शिवराज जी। save_Guest_Teacher_For_MP ChouhanShivraj BansalNewsMPCG digvijaya_28 im_kunql1 jitupatwari CMMadhyaPradesh aajtak rai_amrrita

नागपुर में वारदात: सात साल की बच्ची के साथ स्कूल के शौचालय में दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तारमहाराष्ट्र के नागपुर जिले में स्कूल के शौचालय में सात साल की बच्ची के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म करने के आरोप में एक व्यक्ति Kha gya knoon vyavstha kha gaye lagata hai aage bhi aisa hi hoga jab koi baat sunta nahi hai is des ka pradhanmantri modi khuch keh ta nahi kya desh ko sabhal raha hai apni apni bhan betiyo ko drindo se vachao veti hai to sab khuch hai

Airtel की बड़ी तैयारी: ग्रुरुग्राम में शुरू हुआ 5G का ट्रायल, मिल रही 1Gbps की स्पीडAirtel ने अब ग्ररुग्राम में 5G का ट्रायल शुरू किया है। ट्रायल के दौरान कंपनी अपने ग्राहकों को अधिकतम 1Gbps तक का स्पीड दे रही airtelindia स्पीड को कहाँ घुसोड ले,,,,? सरकार की......😠😠😠😠😠😠 बेरोजगारों के पास पढ़ने खाने तक के वैसे नही वो 199 का रिचार्ज किस तरह से करता है सोचा है कभी? हर दिन अभ्यर्थी घुट घुट कर परिवार के साथ खून के आंसू रो रहे हैं उनके बारे में भी पता करो 😠😠😠 CANCELUPSSSCPET airtelindia Ban5G airtelindia 1Gbps की स्पीड सिर्फ ट्रायल में मिल रही है, लेकिन जब रूटीन में आ कर ग्राहकों को ठगने के मोड में आएंगे तो वही थकी हुई स्पीड मिलेगी। सभी कंपनियों का यही हाल है।

Viral Video: फरीदाबाद में बेकाबू कार का आंतक, देखिए बचकर भागने की कोशिश में क्या हुआदिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में तेज रफ्तार से कार का एक्सीडेंट का वीडियो वायरल हो गया है। बताया जा रहा है कि ये तेज रफ्तार कार पलवल की तरफ से आ रही थी जिसने पहले एक रेहड़ी को टक्कर मारी और फिर डिवाइडर की ग्रिल से जा टकराई। कार कुछ देर रुकी रही, लोग उसकी तरफ दौड़े, लेकिन ड्राइवर ने फिर कार तेजी से दौड़ाई और भागने की कोशिश की। लेकिन कुछ दूर जा कर कार फिर बेकाबू हो जाती है और ट्रैफिक से उल्टी दिशा में आकर खड़ी हो जाती है। फिर लोग कार को घेर लेते हैं। ड्राइवर नशे में था या कोई नौसिखिया था, इस बारे में जानकारी नहीं मिल पाई है। लेकिन इस हादसे में कई लोगों की जान बाल-बाल बच गई।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में बच्चों और युवाओं के अधिक प्रभावित होने की धारणा गलततीसरी लहर आने पर बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आशंका के बीच सरकार ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि बच्चों के बीच गंभीर संक्रमण होने का संकेत देने के लिए कोई ठोस सुबूत नहीं है लेकिन फिर भी सभी आयु वर्ग के लोगों को सतर्कता की आवश्यकता।

हरियाणा: युवक की हिरासत में मौत के आरोप में 12 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ केस दर्जपरिजनों का आरोप है कि 24 वर्षीय जुनैद को ग़लत तरीके से बीते 31 मई को फ़रीदाबाद की साइबर पुलिस ने हिरासत में लिया गया था और इस दौरान उन्हें बुरी तरह से प्रताड़ित किया गया, जिससे उनकी मौत हो गई. हालांकि पुलिस ने आरोप से इनकार करते हुए कहा है कि जुनैद की मौत किडनी संबंधी दिक्कत की वजह से हुई. मगर अफसोस सब के सब छूट जायेंगें ,गवाही नही मिलेगी .