Singhuborder, Nihang, Singhu Border, Nihang Singh, Nihang Narayan Singh, Nihang Sarabjit Singh, Akal Takht Sahib, Tarantaran News

Singhuborder, Nihang

सिंघु बॉर्डर हत्या में एक और सरेंडर: दिल्ली के निहंग नारायण सिंह ने अमृतसर पहुंचकर सरेंडर किया, कहा- सरबजीत के साथ मैं भी कसूरवार

सिंघु बॉर्डर हत्या में एक और सरेंडर: दिल्ली के निहंग नारायण सिंह ने अमृतसर पहुंचकर सरेंडर किया, कहा- सरबजीत के साथ मैं भी कसूरवार #SinghuBorder #nihang

16-10-2021 16:20:00

सिंघु बॉर्डर हत्या में एक और सरेंडर: दिल्ली के निहंग नारायण सिंह ने अमृतसर पहुंचकर सरेंडर किया, कहा- सरबजीत के साथ मैं भी कसूरवार SinghuBorder nihang

सिंघु बॉर्डर पर तरनतारन के गांव चीमा के रहने वाले लखबीर सिंह की हत्या का विवाद गर्माता जा रहा है। इस घटना के 15 घंटे बाद शुक्रवार शाम को निहंग सरबजीत सिंह ने सरेंडर किया था। अब एक और निहंग नारायण सिंह ने सरेंडर कर दिया है। दिल्ली के निहंग नारायण सिंह को सरेंडर के बाद अमृतसर के देवीदास पुरा गुरुद्वारे के बाहर से हिरासत में लिया गया। पुलिस ने कहा कि नारायण सिंह के अमृतसर पहुंचने की खबर मिलते ही इलाक... | सिंघु बॉर्डर पर तरनतारन के गांव चीमा के रहने वाले लखबीर सिंह की हत्या का विवाद गरमाता जा रहा है। एक तरफ शुक्रवार शाम सिंघु बॉर्डर पर निहंग सर्बजीत सिंह ने सरेंडर कर दिया था।

सिंघु बॉर्डर पर हुई हत्या के मामले में सरेंडर करने वाला दूसरा निहंग नारायण सिंह।सिंघु बॉर्डर पर तरनतारन के गांव चीमा के रहने वाले लखबीर सिंह की हत्या का विवाद गर्माता जा रहा है। इस घटना के 15 घंटे बाद शुक्रवार शाम को निहंग सरबजीत सिंह ने सरेंडर किया था। अब एक और निहंग नारायण सिंह ने सरेंडर कर दिया है। दिल्ली के निहंग नारायण सिंह को सरेंडर के बाद अमृतसर के देवीदास पुरा गुरुद्वारे के बाहर से हिरासत में लिया गया। पुलिस ने कहा कि नारायण सिंह के अमृतसर पहुंचने की खबर मिलते ही इलाके को घेर लिया गया था। गुरुद्वारे से बाहर निकलते ही पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया।

अमृतसर में हिरासत में लिए जाने के बाद पुलिस की गाड़ी में बैठने से पहले नारे लगाता नारायण सिंह।अमृतसर में हिरासत में लिए गए निहंग नारायण सिंह ने कहा, 'लखबीर सिंह ने गुरु का अपमान किया था, इसलिए उन्होंने जो किया, ठीक किया। अगर सरबजीत सिंह कसूरवार है, तो मैं भी कसूरवार हूं। मैंने भी सरबजीत सिंह का उतना ही सहयोग किया है। 2014 से गुरुओं का अपमान हो रहा है। गुरु ग्रंथ साहिब के अपमान की कितनी घटनाएं सामने आईं, लेकिन पुलिस ने सहयोग नहीं दिया। एक भी आरोपी पर कार्रवाई नहीं की गई। इस घटना में आरोपी को सरेआम पकड़ लिया गया और उस समय जो ठीक लगा, निहंग जत्थेबंदियों ने वही किया। ऐसे में मैं भी उतना ही कसूरवार हूं, जितना सरबजीत।'

निहंग नारायण सिंह को पंजाब पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।सोनीपत पुलिस की टीम अमृतसर रवानासोनीपत के DSP वीरेंद्र सिंह ने बताया कि उन्हें अमृतसर में निहंग नारायण सिंह के सरेंडर की सूचना वहां की पुलिस से मिल गई थी। सोनीपत पुलिस की एक टीम अमृतसर के लिए रवाना कर दी गई है, जो निहंग नारायण सिंह को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर आएगी। सिंह ने कहा कि यहां सरबजीत और नारायण सिंह को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जाएगी ,जिससे जांच में तेजी आएगी। इन दोनों से यह भी पता चल सकेगा कि इस हत्या में उनके साथ और कौन-कौन शामिल था। headtopics.com

संगत चाहती थी अमृतसर में हो सरेंडरदिल्ली का निहंग नारायण सिंह समर्पण करने के लिए सुबह ही सिंघु बॉर्डर से निकल चुका था। नारायण सिंह का कहना था कि संगत ने उसे अमृतसर में सरेंडर करने के लिए कहा था। इसके बाद वह अमृतसर पहुंचा। जानकारी के अनुसार वह पुलिस से छिपते हुए देवीदास पुरा पहुंचा था।

नारायण ने अरदास के बाद समर्पण कियानारायण सिंह के पहुंचने की खबर मिलने के बाद दोपहर में ही पुलिस ने गांव को घेर लिया था। इसके बाद नारायण ने कहा कि अरदास के बाद खुद ही समर्पण कर देगा। अरदास के बाद वह गुरुद्वारा साहिब से बाहर आया और सरेंडर कर दिया। अमृतसर रूरल के SSP राकेश कौशल का कहना है कि फिलहाल निहंग नारायण सिंह उनकी कस्टडी में है। हरियाणा पुलिस के अमृतसर पहुंचते ही उसे हैंडओवर कर दिया जाएगा। पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे घटनाक्रम की जानकारी देने की बात कही है।

शुक्रवार को सरबजीत ने किया था सरेंडरशुक्रवार को सरेंडर करने वाला निहंग सरबजीत सिंह।शुक्रवार तड़के सिंघु बॉर्डर पर युवक की हत्या के 15 घंटे बाद एक निहंग ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था। कुंडली थाने से पुलिस की एक टीम शुक्रवार शाम 6 बजे सिंघु बॉर्डर पर निहंगों के डेरे में पहुंची थी। यही टीम सरबजीत सिंह नाम के निहंग को हिरासत में लेकर आई थी। शनिवार को इसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 7 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया।

और पढो: Dainik Bhaskar »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

Mindset is that it's pride moment for them so the reason, redical religion is the problem. Goli mar do inko इस खबर को ध्यान से पढ़ना इस का बयान साफ राजनीति से प्रेरित है '2014 से गुरु ग्रन्थसाहब का अपमान हो रहा है' ये बयान जानबूझकर दिया गया है सरकार के खिलाफ सिक्खों को करने के लिए जबकि इनको इनके ग्रन्थ के साथ सुरक्षित अफगानिस्तान से यही सरकार लाई थी

धर्मान्ध धार्मिक मूर्ख जिनको बरगलाकर उनको आतंकवादी जानवर बना देता है धर्म भारत को धर्म ही बर्बाद करेगा Sabko fasi do कुत्ते है तुम yeh toh yahan bhi Jat farmers ko fasane ke chakkar mei the Bahut hi Dukhdayak aur nindaniya ghatna hai.

सिंघु बॉर्डर पर बेरहमी से हत्या के आरोपी 'निहंग' का सरेंडर, पुलिस ने किया अरेस्टहरियाणा दिल्‍ली सीमा, सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्‍थल पर एक शख्‍स की निर्ममता से हत्‍या के मामले में निहंगों के दल के एक सदस्‍य ने समर्पण कर दिया है. गौरतलब है कि प्रदर्शन स्‍थल पर शुक्रवार सुबह एक शख्‍स का शव पाया गया था जिसकी कलाई और पैर को निर्ममता से काट दिया गया था. Abe libarndu video aaya hai samne surrender nhi hai arrest hai aakh khol kr dekho Q bcha rhe ho chinese एक से ना चलेगा,उन सारे को लो,जो धमकी दे रहा है और फासी पर लटकाओ,वरना अब ये ट्रेंड दूसरे के लिए भी शुरू होगा।तब रंडी रोना मत मचाना। एक बेबस दलित भाई को काट के मार दिया हरामियों ने,अगर मर्द की औलाद है तो सामने से लड़। कोई टेनी थोड़े ना है जो भागता फिरेगा। 🏹

कुंडली सिंघु बॉर्डर पर शख्स की हत्या करने वाले निहंग ने पुलिस के सामने किया आत्मसमर्पणकुंडली सिंघु बॉर्डर पर एक शख्स की हत्या करने वाला निहंग ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया है। समर्पण करने वाले का नाम निहंग सरबजीत बताया जा रहा है। उसने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर हत्या की जिम्मेदारी ले ली है। DHIRE DHIRE Y APNE AAP SARE SURRENDER KRENGE JO Y KAM KR RHE H , EK ONKAR ये अकेला हत्या करने वाला नहीं है । जानबूझकर इसे आगे किया है । Rakesh Tikait kahan hai.. Vohi responsible hai.. Har baat pe sarkar ki jimmedari hai aisa kehne me bhi sharm nahi aati... Isko aur Yogendra yadav, aur dusre neta o ko NSA me arrest karna chahiye..

Sanjay Gandhi: जब संजय गांधी की चप्पल उठाने के लिए दौड़ पड़े थे ज्ञानी जैल सिंहकुलदीप नैयर, वरिष्ठ पत्रकारसंजय गांधी ने अपने राजनीतिक प्रभाव और अपनी ख्याति, दोनों को काफी हद तक बढ़ा लिया था। हर मुख्यमंत्री को यही लगता था कि अगर संजय से मुलाकात नहीं हुई तो दिल्ली का दौरा अधूरा रहा। उनमें इस बात की होड़ लगी थी कि वे उन्हें अपने राज्य में आने का न्योता दें और सरकार प्रायोजित रैली से दिखाएं कि वह कितने लोकप्रिय हैं। श्रीमती गांधी भी सचमुच मानती थीं कि वे लोकप्रिय हैं। एक बार चरणजीत यादव ने उनसे शिकायत करते हुए कहा कि संजय के ज्यादातर स्वागत प्रायोजित होते हैं। यह बात उन्हें अच्छी नहीं लगी और उन्होंने कहा, ‘कुछ लोग संजय से जलते हैं, क्योंकि वह लोकप्रिय है।’ लेकिन श्रीमती गांधी को कभी-कभी इस बात से शर्म महसूस होती थी मुख्यमंत्री संजय को एयरपोर्ट पर लेने आते हैं। सिद्धार्थ रे ने यह बात उनके सामने रखी थी।

निहंग नेता की धमकी: ज्ञानी शमशेर सिंह बोले- किसी ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी करने की हिम्मत की तो फिर ऐसा ही 'प्रसाद' देंगे'सिंघु बॉर्डर पर गुरु ग्रंथ साहिब की कथित बेअदबी के मामले में बेरहमी से मार दिए गए लखबीर सिंह के मामले में निहंग नेता ज्ञानी शमशेर सिंह का कहना है कि धर्म की रक्षा बिना ताकत के नहीं हो सकती। उन्होंने दावा किया, 'पहले भी गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले सामने आए थे। हमने तब गुनहगारों को पुलिस के हवाले किया था, लेकिन पुलिस ने कुछ दिनों में उन्हें छोड़ दिया। इसलिए इस बार हमने सबक देने के लिए गुनाह ... | 'If anyone dares to desecrate the Guru Granth Sahib, then he will give such 'prasad' - Nihang leader Giani Shamsher Singh sandhyadwivedi1 Christian missionaries kya kar rahe he punjaab me. sandhyadwivedi1 Aaj guru bhi sarminda hoge ki kese moorakh log unke panth ke aanuaayi bane hue hai jo insaan ko noch noch kar khaate hai sandhyadwivedi1 दैनिक भास्कर कितना सम्मान दे रहे है खालिस्तानियों को

कोयले और बिजली के संभावित संकट के लिए ख़ुद मोदी सरकार ज़िम्मेदार हैनरेंद्र मोदी सरकार के लिए मौजूदा संकट के लिए यूपीए को दोष देना आसान है, लेकिन सच्चाई यह है कि वह ख़ुद कोयले के भंडार जमा करने और बिजली उत्पादन को बढ़ावा देने में बुरी तरह विफल रही है. Advance rudali, afvah kali. LambaAlka Ache se dhoya LambaAlka क्या बात कर रहे हो नेहरू जिम्मेदार हैं।

बड़ी उपलब्धि: भारत UN मानवाधिकार परिषद के रिकार्ड छठे कार्यकाल के लिए चुना गयासदस्य देशों के भारी समर्थन से भारत संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के रिकार्ड छठे कार्यकाल के लिए चुना गया। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 18 नए सदस्यों के लिए चुनाव किया गया जो जनवरी 2022 से शुरू होकर तीन साल की अवधि के लिए काम करेंगे। बड़ी उपलब्धि ....क्यों शरम आ रही दिखाने में Good