Varanasi, Uttarpradesh, Kashi Vishwanath Mandir, Up Kashi Vishwanath Temple

Varanasi, Uttarpradesh

सावन में नहीं कर सकेंगे गर्भगृह में प्रवेश, बाबा विश्वनाथ के स्पर्श दर्शन पर भी रोक

इस बार भी पिछली बार सावन माह की ही तरह #Varanasi स्थित काशी विश्वनाथ के दरबार में दर्शन पूजन को लेकर काफी पाबंदियां रहेगी | #UttarPradesh

24-07-2021 20:47:00

इस बार भी पिछली बार सावन माह की ही तरह Varanasi स्थित काशी विश्वनाथ के दरबार में दर्शन पूजन को लेकर काफी पाबंदियां रहेगी | UttarPradesh

कोरोना महामारी के बीच तीसरी लहर की संभावना और सावन पर बाबा काशी विश्वनाथ के दरबार में उमड़ने वाली भक्तों की तादाद को देखते हुए इस बार भी पिछली बार सावन माह की ही तरह वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ के दरबार में दर्शन पूजन को लेकर काफी पाबंदियां रहेगी.

रोशन जायसवालवाराणसी,(अपडेटेड 24 जुलाई 2021, 11:01 PM IST)स्टोरी हाइलाइट्सभक्त न तो काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश कर सकेंगेसिर्फ झांकी दर्शन ही श्रद्धालुओं को मिल सकेगासावन माह में द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन करने के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के यह खबर थोड़ी निराश करने वाली है, क्योंकि इस बार भी भक्त न तो काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश कर सकेंगे और न ही बाबा का स्पर्श दर्शन ही कर सकेंगे. सिर्फ झांकी दर्शन ही श्रद्धालुओं को मिल सकेगा और तो और जलाभिषेक भी गर्भगृह के बाहर लगे अरघे से ही सकेंगे.

नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देश भर में बीजेपी की क्या है तैयारी - BBC News हिंदी पीएम मोदी का 71वां बर्थडे : देश में रिकॉर्ड टीकाकरण का लक्ष्य, सीएम योगी का ट्वीट- प्रभु राम आपको लंबी उम्र दें अमेरिका 9/11 हमलों के बाद चरमपंथ को ख़त्म करने में कितना कामयाब रहा - BBC News हिंदी

इस बारे में और जानकारी देते हुए काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनिल वर्मा ने बताया कि सावन के सोमवार के दिन काशी विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश को वर्जित किया गया है. ताकि श्रद्धालुओं को दर्शन करने में असुविधा न होने पाए. पूरे सावन में ही गर्भगृह में प्रवेश पर रोक रहेगी. हालांकि आगे भीड़ को देखते हुए निर्णय लिया जाएगा. जहां तक जलाभिषेक का सवाल है तो पिछले साल की ही तरह गर्भगृह के बाहर लगे अरघे में से श्रद्धालु गंगाजल डालकर बाबा का जलाभिषेक कर सकेंगे.

वीआईपी दर्शन के लिए पिछली बार सावन में अलग से समय दिया गया था, लेकिन शिवरात्रि के पर्व पर वीआईपी के लिए अलग से एक रास्ता ही बना लिया गया था. यही व्यवस्था इस बार भी रहेगी. इसके अलावा उन्होंने बताया कि विश्वनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए एबीसीडी नाम से चार गेट बनाए गए हैं. गंगा की तरफ से आने वाले ए गेट से प्रवेश करेंगे और मंदिर के पूर्वी द्वार से दर्शन करते हुए निकलेंगे. छत्ता द्वार से प्रवेश करने वाला बी गेट कहलाएगा. जहां से प्रवेश किए हुए श्रद्धालु उत्तरी गेट से निकलेंगे. ढुंढिराज गेट से प्रवेश वाला रास्ता डी और सरस्वती फाटक से प्रवेश करने वाले श्रद्धालु वह सी कहलाएगा. headtopics.com

सावन को देखते हुए विशेष तैयारीमंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनिल वर्मा ने आगे बताया कि सावन को देखते हुए विशेष तैयारी की गई है. चूंकि कॉरिडोर के काम के चलते परिसर का आकार बढ़ा है. इसलिए श्रद्धालुओं को और सुविधाओं को देने की कोशिश है. मंदिर में गर्भगृह के पहले ही बाबा काशी विश्वनाथ का दर्शन एलईडी पर श्रद्धालु कर सकेंगे और आने जाने वाले रास्तों को और भी खूबसूरत बनाया जा रहा है.

सभी रास्तों पर पेयजल की व्यवस्था भी होगी. इस बार मंदिर परिसर विस्तृत हुआ है तो इसका लाभ श्रद्धालुओं को होगा. शिवरात्रि पर इसका प्रयोग भी हो चुका है. हर गेट पर एंट्री-एग्जिट दोनों की व्यवस्था होगी. ताकि श्रद्धालु एक ही रास्ते से मंदिर में प्रवेश और बाद में निकल सके. रास्तों में रेड कार्पेट भी बीछा होगा. रास्तों में रेलिंग भी होगी. सभी गेट पर एलईडी की भी व्यवस्था होगी. ताकि उससे भी शिवलिंग के दर्शन हो सकेगे. आने वाले श्रद्धालुओं को काशी विश्वनाथ धाम या कॉरिडोर का स्वरुप भी देखने को मिलेगा.

Live TV और पढो: आज तक »

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल

तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा कर दी है. इस अंतरिम सरकार में प्रधानमंत्री यानी सरकार के प्रमुख की भूमिका में मुल्ला हसन अखुंद होंगे. मुल्ला हसन अखुंद तालिबान की रहबरी शूरा यानी लीडरशिप काउंसिल का चीफ है और तालिबान प्रमुख मुल्ला हिब्तुल्लाह अखुंदजादा के बेहद करीबियों में शामिल हैं. मुल्ला बरादर को तालिबान सरकार में डिप्टी पीएम बनाया गया है. डिप्टी पीएम की भूमिका में मुल्ला हन्नाफी की भी भूमिका रहेगी. इसके अलावा मुल्ला याकूब तालिबान सरकार में रक्षा मंत्री होगा और सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों का मंत्री होगा. शेर मोहम्मद अब्बास स्तनकजई तालिबान सरकार में उपविदेश मंत्री होगा. खैरुल्लाह खैरख्वा तालिबान सरकार में सूचना मंत्री होगा. जबकि तालिबान प्रवक्ता जैबुल्लाह मुजाहिद को उप सूचना मंत्री की जिम्मेदारी मिल रही है. अब्दुल हकीम को तालिबान सरकार का न्याय मंत्री बनाया गया है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें खबरदार.

श्री मान मुख्य मंत्री महोदय जी 2022 से पहले होमगार्ड्स_को_नियमित_करो होमगार्ड्स_को_नियमित_करो होमगार्ड्स_का_स्थाईकरण_करो PMOIndia CMOfficeUP myogiadityanath howtoshikhe🙏🙏🇮🇳8

Sawan 2021: सावन के महीने में इन कामों की मनाही, खान-पान में भी बरतें सावधानीसावन का महीना 25 जुलाई से शुरू होने वाला है. सावन का पहला सोमवार 26 जुलाई को है. सावन के महीने में भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है. भोले भक्त इस पूरे महीने शिव को प्रसन्न करने के प्रयत्न करते हैं. इस महीने में कुछ खास कार्य शुभ माने जाते हैं वहीं कुछ कार्य करने की मनाही है. पंडित प्रवीन मिश्रा बता रहे हैं कि सावन के महीने में कौन से काम करने चाहिए और किन कामों को करने से बचना चाहिए.

Sawan 2021: सावन के महीने में किस तरह के विशेष वरदान पा सकते हैं?श्रावण मास की शुरुआत 25 जुलाई यानि रविवार से शुरू होने वाला है. इस मास भगवान शिव से आप वरदान पा सकते हैं. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि सावन के महीने में किस तरह की विशेष लाभ आपको हो सकते हैं? ज्योतिष के अनुसार जिनका विवाह नहीं हो पा रहा है ऐसे लोग विशेष प्रयोग करके विवाह का वरदान पा सकते हैं. जिनकी कुंडली में आयुभाव कमजोर है उन्हें भी आयु ऱक्षा का वरदान मिल सकता है. सावन में शनि की पूजा सबसे ज्यादा फलदायी होती है. इस महीने में कुंडली के तमाम दोषों को शांत कर सकते हैं- जैसे ग्रहण दोष, राहु दोष, गुरु चांडाल दोष आदि. देखें वीडियो. Ra_Bies sir acche se vidhi samajh lo

देश के कई हिस्सों में बाढ़ से तबाही: महाराष्ट्र में बाढ़ से जुड़े हादसों में 136 मौतें, कर्नाटक के 7 जिलों में रेड अलर्ट; गोवा के कई शहर पानी में डूबेमहाराष्ट्र में शनिवार को भी बारिश का कहर जारी है। गुरुवार शाम से लेकर अब तक बारिश से जुड़ी अलग-अलग घटनाओं में 136 लोगों की मौत हो चुकी है। बुरी तरह प्रभावित ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी, सतारा, सांगली और कोल्हापुर जिलों से 8 हजार से ज्यादा लोगों को NDRF, नेवी और आर्मी ने रेस्क्यू किया है। 200 से ज्यादा गांवों का प्रमुख इलाकों से संपर्क टूट गया है। | heavy rain in maharashtra: NDRF, Army and Navy have rescued more than 8 thousand people so far, 129 people died in the state; Red alert of rain for the next two days in many districts नर्सेज भर्ती 2018 को अस्थायी पदस्थान को 1 साल से ऊपर हो गया फ़ाइल मंत्री RaghusharmaINC के पास पड़ी है वो ध्यान नही दे रहे है मंत्री जी आम नर्सेज को कार्य बहिष्कार के लिए मजबूर नही करें 12000 नर्सेज में बहुत आक्रोश है ajaymaken RahulGandhi SachinPilot ashokgehlot51

काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर प्रोजेक्ट के लिए ज्ञानव्यापी मस्जिद ने दी जमीनवक्फ बोर्ड के चेयरमैन जफर फारूखी ने बताया कि जमीन ट्रस्ट को दी गई भूमि कर्मशियल थी और अधिक मूल्य की थी। अफसरों ने हमसे उसके बारे में पूछा था, क्योंकि उसकी जरूरत काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर प्रोजेक्ट के लिए थी। 'जय बाबाभोलेनाथ की' ***

ज्ञानवापी मस्जिद ने काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरडोर के लिए दी ज़मीन - BBC News हिंदीमस्जिद के अधिकारियों ने बताया कि मस्जिद समिति ने जो ज़मीन दी है वह पहले प्रशासन को पुलिस कंट्रोल रूम बनाने के लिए स्थायी पट्टे पर दी गई थी. आज के अख़बारों की प्रमुख ख़बरें. 'दी' ...जैसे 'मांगी' गई थी। ये कौन बताऐगा कि बदले मे दूसरी जमीन ली? 8056k मीडिया के हिसाब से ये आठवा अजूबा हो गया सब हमारा है सब लेंगे।

Taliban की दहशत के बीच Afghanistan में Sikh Community के लोग कर रहे पलायनरिपोर्टिंग करने के लिहाज से इस वक्त दुनिया का सबसे खतरनाक मुल्क अगर कोई है. तो वो है अफगानिस्तान. और आजतक ने अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को दुनिया के सामने लाने का बीड़ा उठाया है. आजतक की टीम लगातार अफगानिस्तान के अलग-अलग इलाकों की ग्राउंड रियलिटी को कवर कर रही है. अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के बढ़ते दबदबे के चलते वहां रह रहीं सिख परिवार (Sikh Families) खौफ में है और इसी डर के चलते 53 परिवार जलालाबाद (Jalalabad) को छोड़कर इंडिया (India) आ गए हैं. और वहां सिर्फ 6 से 7 सिख परिवार ही बची हैं. Aajtak ने जाना उनका दर्द. देखें वीडियो. भारत में मुस्लिम समुदाय और सिख समुदाय एक हैं तो जलन हो रही है- आज तक जहाँ देश के ऊपर धर्म का कब्ज़ा हो फिर देश का कोई मतलब नहीं रह जाता, क्यों जलालत झेल रहें है ये लोग, क्यों नहीं मिल जाते पानी में नमक की तरह... INCIndia AITCofficial was not just against CAA but these helpless sikhs