साल का अंतिम सूर्यग्रहण, लेकिन ये भारत में क्यों नहीं दिखेगा? - BBC News हिंदी

साल का अंतिम सूर्यग्रहण, लेकिन ये भारत में क्यों नहीं दिखेगा?

03-12-2021 20:18:00

साल का अंतिम सूर्यग्रहण, लेकिन ये भारत में क्यों नहीं दिखेगा?

साल का अंतिम सूर्यग्रहण शनिवार को होगा जिसे दुनिया के कई हिस्सों में देखा जा सकेगा.

एपिसोड्ससमाप्तदुनिया में ऐसे लोग भी हैं जिनके लिए ग्रहण किसी ख़तरे का प्रतीक है- जैसे दुनिया के ख़ात्मे या भयंकर उथल-पुथल की चेतावनी.हिंदू मिथकों में इसे अमृतमंथन और राहु-केतु नामक दैत्यों की कहानी से जोड़ा जाता है और इससे जुड़े कई अंधविश्वास प्रचलित हैं. ग्रहण सदा से इंसान को जितना अचंभित करता रहा है, उतना ही डराता भी रहा है.

असल में, जब तक मनुष्य को ग्रहण के वजहों की सही जानकारी नहीं थी, उसने असमय सूरज को घेरती इस अंधेरी छाया को लेकर कई कल्पनाएं कीं, कई कहानियां गढ़ीं.17वीं सदी के यूनानी कवि आर्कीलकस ने कहा था कि भरी दोपहर में अंधेरा छा गया और इस अनुभव के बाद अब उन्हें किसी भी बात पर अचरज नहीं होगा.

मज़े की बात यह है कि आज जब हम ग्रहण के वैज्ञानिक कारण जानते हैं तब भी ग्रहण से जुड़ी ये कहानियां और ये अंधविश्वास बरक़रार हैं.कैलिफोर्निया की ग्रिफिथ वेधशाला के निदेशक एडविन क्रप कहते हैं, ''सत्रहवीं सदी के अंतिम वर्षों तक भी अधिकांश लोगों को मालूम नहीं था कि ग्रहण क्यों होता है या तारे क्यों टूटते है. हालांकि आठवीं शताब्दी से ही खगोलशास्त्र‍ियों को इनके वैज्ञानिक कारणों की जानकारी थी.'' headtopics.com

कर्नाटक: सरकारी स्कूल में नमाज पढ़ने का हिंदू संगठनों ने किया विरोध, जांच के आदेश

क्रप के मुताबिक़, ''जानकारी के इस अभाव की वजह थी- संचार और शिक्षा की कमी. जानकारी का प्रचार-प्रसार मुश्किल था जिसके कारण अंधविश्वास पनपते रहे."वो कहते हैं, "प्राचीन समय में मनुष्य की दिनचर्या कुदरत के नियमों के हिसाब से संचालित होती थी. इन नियमों में कोई भी फ़ेरबदल मनुष्य को बेचैन करने के लिए काफ़ी था.''

इमेज स्रोत,Alamyग्रहण के बारे में विभिन्न सभ्यताओं का नज़रियाप्रकाश और जीवन के स्रोत सूर्य का छिपना लोगों को डराता था और इसीलिए इससे जुड़ी तरह-तरह की कहानियां प्रचलित हो गई थीं. सबसे व्यापक रूपक था सूरज को ग्रसने वाले दानव का.एक ओर पश्चिमी एशिया में मान्यता थी कि ग्रहण के दौरान ड्रैगन सूरज को निगलने की कोशिश करता है और इसलिए वहां उस ड्रैगन को भगाने के लिए ढोल-नगाड़े बजाए जाते थे.

वहीं, चीन में मान्यता थी कि सूरज को निगलने की कोशिश करने वाला दरअसल स्वर्ग का एक कुत्ता है. पेरुवासियों के मुताबिक़, यह एक विशाल प्यूमा था और वाइकिंग मान्यता थी कि ग्रहण के समय आसमानी भेड़ियों का जोड़ा सूरज पर हमला करता है.वीडियो कैप्शन,क्यों ख़ास है इस बार चंद्र ग्रहण?

Punjab: कैप्टन अमरिंदर सिंह का नवजोत सिंह सिद्धू पर बड़ा हमला कहा- इसके पास दिमाग नहीं है

खगोलविज्ञानी और वेस्टर्न केप विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर जरीटा हॉलब्रुक कहते हैं, "ग्रहण के बारे में विभिन्न सभ्यताओं का नज़रिया इस बात पर निर्भर करता है कि वहाँ प्रकृति कितनी उदार या अनुदार है. जहां जीवन मुश्किल है, वहाँ देवी-देवताओं के भी क्रूर और डरावने होने की कल्पना की गई और इसीलिए वहाँ ग्रहण से जुड़ी कहानियाँ भी डरावनी हैं. जहां जीवन आसान है, भरपूर खाने-पीने को है, वहाँ ईश्वर या पराशक्तियों से मानव का रिश्ता बेहद प्रेमपूर्ण होता है और उनके मिथक भी ऐसे ही होते हैं." headtopics.com

मध्यकालीन यूरोप में, प्लेग और युद्धों से जनता त्रस्त रहती थी, ऐसे में सूर्यग्रहण या चंद्रग्रहण उन्हें बाइबल में प्रलय के वर्णन की याद दिलाता था. प्रोफ़ेसर क्रिस फ्रेंच कहते हैं, 'लोग ग्रहण को प्रलय से क्यों जोड़ते थे, इसे समझना बेहद आसान है.बाइबल में उल्लेख है कि क़यामत के दिन सूरज बिल्कुल काला हो जाएगा और चाँद लाल रंग का हो जाएगा.

सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण में क्रमश: ऐसा ही होता है. फिर लोगों का जीवन भी छोटा था और उनके जीवन में ऐसी खगोलीय घटना बमुश्किल एक बार ही घट पाती थी, इसलिए यह और भी डराती थी.

और पढो: BBC News Hindi »

UP Elections: मुस्लिम वोटरों का बही-खाता, देखें क्या कहता है आंकड़ों का इतिहास

उत्तर प्रदेश में चुनाव सर पर हैं और पार्टियां चुनावी रैलियों के साथ-साथ सांठगांठ में भी लगी हुई हैं. यूपी में सियासत गरम है. दलबदलू नेता अपने अपने स्वार्थ सिद्ध करने के लिए कभी इस पार्टी कार्यालय तो कभी उस पार्टी के कार्यालय में घूम रहे हैं. तो वहीं नेतागण वोट बैंक की भी राजनीति कर रहे हैं. धर्म, जाति, उपजाति, हर तरह से वोट साधने की कोशिश की जा रही है. अभी पार्टियों की नजर प्रदेश के मुस्लिम वोटरों पर है. लेकिन सवाल है कि इस बार मुसलमान किस पर मेहरबान होंगे, किसका साथ देंगे और किसकी सरकार बनाएंगे? यूपी में बड़ी आबादी मुस्लिम वोटरों की है. देखें मुस्लिम वोटरों का बही-खाता और जानें क्या कहता है आंकड़ों का इतिहास. और पढो >>

मुझे तो लग रहा है कि गोडसे का पुनर्जन्म हो चुका है और आज या कल वह इस देश के प्रधानमंत्री होकर रहेंगे। क्या आप सब को भी ऐसा लगता है अगर हां तो पहचानिए कौन? भारत के कुछ व्यक्ति सफल गृहणी है, उनके प्राकृतिक ग्रहण कमजोर पड़ जाते है ।। Kyu ki pehle se hi bharat mai grahan laga huwa hai O_mitrio भाइरस ही दिख रिया हैं सात सालों से 🤔🤫🤐😒😏

आत्मनिरीक्षण का अवसर का भी है भारत की आजादी का अमृत महोत्सववर्तमान की उपलब्धियों और सीमाओं को ध्यान में रखकर देश के भविष्य पर विचार करते समय हमारा ध्यान देश को आत्मनिर्भर बनाने पर जाता है। इस लक्ष्य को पाने के लिए स्वदेशी का विचार स्वधर्म के रूप में उभर कर आता है जो सकारात्मक कार्यसंस्कृति को संभव कर सकता है।

Surya Grahan 2021: साल का आखिरी सूर्यग्रहण कब लगेगा? इन 4 राशि वालों को दिलाएगा लाभSurya Grahan 2021 date: सूर्य ग्रहण का नाम आते ही मन में उसके अशुभ प्रभावों का डर सताने लगता है. हालांकि जब भी सूर्य ग्रहण पड़ता है तो वह अच्छा नहीं माना जाता है लेकिन यह हमेशा अशुभ हो ये जरूरी नहीं है. ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रहण कुछ राशियों के लिए अशुभ, तो कुछ के लिए शुभ परिणाम लेकर भी आ सकता है. ऐसी ही चार राशियां हैं, जिनके लिए साल का अंतिम सूर्यग्रहण शुभ परिणाम लेकर आ सकता है.

4 दिसंबर को लगेगा साल का अंतिम सूर्य ग्रहण, ज्योतिष के अनुसार क्या करना चाहिए और क्या नहींSurya Grahan 2021: साल का अंतिम सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर को लगने जा रहा है। भारत में सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) नहीं दिखाई देगा, जिस वजह से सूतक काल मान्य नहीं ... Kyu ap koi jyotish hai jo bta rahe hai

साल का अंतिम सूर्य ग्रहण कहां दिखाई देगा, क्या है इसमें खास, ग्रहण के बाद तुरंत करें ये 5 कामSolar Eclipse 2021 : वर्ष 2021 का दूसरा और अंतिम सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर शनिवार (Surya Grahan 2021 Date) को लगेगा। यह सूर्य ग्रहण कब लगेगा और कहां दिखाई देगा? किन राशियों पर रहेगा शुभ और किन पर अशुभ आओ जानते हैं हर जरूरी बात।

कोविड-19 का ओमीक्रॉन प्रकार अभी बड़ी चिंता का विषय नहीं: दक्षिण अफ्रीकी मेडिकल एसोसिएशन अध्यक्षदक्षिण अफ्रीकी मेडिकल एसोसिएशन की अध्यक्ष एंजेलिक कोएट्ज़ी ने कहा कि कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमीक्रॉन के मरीज़ों में हल्के लक्षण दिखाई दे रहे हैं. हालांकि इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि इसके गंभीर मामले भी आ सकते हैं.

देश का सबसे लंबा गंगा-एक्सप्रेसवे का निर्माण करेगा अडानी समूहजानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महीने के अंत में इस एक्सप्रेसवे का शिलान्यास कर सकते हैं। वहीं उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव भी होने हैं। मालिक के मालिक को कैसे मना कर सकते हैं जोगी ?