Mumbai, Share Bazar, Indian, Economy, Improve, Index, İnvestor

Mumbai, Share Bazar

साठ हजारी

साठ हजारी

27-09-2021 03:23:00

साठ हजारी

बंबई शेयर बाजार सूचकांक अब साठ हजार के पार निकल गया।

इसलिए छोटे निवशकों के पास तात्कालिक तौर पर शेयर बाजार ही बचा था। इस साल 21 जनवरी को बीएसई सूचकांक पचास हजार को पार कर गया था। 13 अगस्त को यह पचपन हजार पर आ गया और अब डेढ़ महीने में ही यह पांच हजार अंक चढ़ता हुआ साठ हजार के पार निकल गया। सूचकांक का चढ़ता ग्राफ इस बात का भी संकेत है कि अभी रुख तो तेजी का ही रहने वाला है। कहा तो यहां तक जा रहा है कि साल के अंत तक यह सत्तर हजार के पार भी चला जाए तो हैरानी नहीं। हालांकि यह शेयर बाजार है और इसमें जिस तेजी से बाजार चढ़ता है, उसके नीचे आने में भी देर नहीं लगती।

बांग्लादेश में दुर्गा पूजा स्थल पर क़ुरान रखने वाले की पहचान हुई - BBC News हिंदी भारत की नई उपलब्धि, कोरोना वैक्सीन का 100 करोड़ का आंकड़ा पार Prime Time With Ravish Kumar: किसान आंदोलन -Court में सुनवाई, सरकार कहां गई?

गौरतलब है कि पिछले साल मार्च के बाद बाजार में दो गुने से भी ज्यादा का उछाल आ चुका है। इस साल अगस्त से अब तक पंद्रह फीसद की वृद्धि दर्ज हुई। यह ऐसे वक्त में हुआ जब महामारी कहर बन कर बरपी। हालांकि दुनिया के दूसरे देशों में शेयर बाजार अभी भी वृद्धि के संकेतकों से दूर हैं। इसलिए भी विदेशी निवेशकों ने भारत के बाजार में भारी निवेश किया है। अनुमान है कि पिछले डेढ़ साल में विदेशी निवेशकों ने पैंसठ हजार करोड़ रुपए भारतीय बाजार में लगाए।

इससे छोटे निवेशकों में तात्कालिक भरोसा पैदा हुआ। और इसीलिए पिछले कुछ महीनों में कई नई कंपनियां भी बाजार में उतरीं। खुदरा निवेशकों से जुड़े आंकड़े भी बता रहे हैं कि शेयरों और म्युचुअल फंडों के जरिए कमाई करने को लेकर छोटे निवेशक किस तरह से आगे आ रहे हैं। भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) की मानें तो हर महीने करीब बारह लाख लोग डीमैट खाता खुलवा रहे हैं। जबकि 2019-20 में यह आंकड़ा चार लाख का ही था। जाहिर है, शेयर बाजार में छोटे निवेशकों की भागीदारी अचानक बढ़ गई है। headtopics.com

गौर किया जाना चाहिए कि भारतीय अर्थव्यवस्था में गिरावट का एकमात्र कारण महामारी ही नहीं रही। पहले की कई तिमाहियों से ही अर्थव्यवस्था में सुस्ती चली आ रही थी। ऐसे में शेयर बाजार में कुछ महीनों से लगातार तेजी का रुख उम्मीदें बंधाता है। हालांकि शेयर बाजार को नियंत्रित करने वाले अनेक कारक होते हैं, ऐसे में जोखिम भी कम नहीं है।

कई विशेषज्ञ और बाजार विश्लेषक इस खतरे को भांप भी रहे हैं। छोटे निवेशकों के लिए जोखिम का पक्ष इसलिए भी महत्त्वपूर्ण होता है क्योंकि वे अच्छे रिटर्न की उम्मीद में अपनी गाढ़ी कमाई का पैसा बाजार में लगाते रहते हैं। ऐसे में भारी और लंबे समय की गिरावट को झेल पाना उनके लिए मुश्किल होता है। इसलिए निवेशकों के लिए यह वक्त सावधानी बरतने का है। इस वक्त भारतीय शेयर बाजार दुनिया के बाजारों के सामने आगे बढ़ता भले ही दिख रहा हो, लेकिन टिके रहने की एक ही शर्त है कि बाजार में नए और छोटे निवेशक लगातार बढ़ते रहें और वे बाजार की चालाकियों का शिकार न बनें।

और पढो: Jansatta »

लखीमपुर खीरी से ग्राउंड रिपोर्ट: नाराज किसान बोले- आज हमारे बच्चों को कुचला तो 45 लाख में समझौता हो गया, कल कोई और कुचलेगा तो 50 लाख में मामला निपट जाएगा

पिछले कुछ दिनों से चर्चा में रहे लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में अब खामोशी है। जली हुई गाड़ियां, थके हुए पुलिसकर्मी और सच तलाशते गिने-चुने पत्रकारों को देखने के बाद ये अहसास ही नहीं होता कि 48 घंटे पहले यहां हुए उपद्रव में 8 लोगों की जान गई है। मन में सवाल कौंधता है कि आखिर इतनी जल्दी स्थिति कैसे काबू हो गई। लोग इतने सामान्य क्यों दिखाई दे रहे हैं? सरकार ने इस पूरे मामले को कैसे कंट्रोल किया? | UP Lakhimpur Kheri Violence Ground Report; Farmers On Rs 45 Lakh Compensation जब हमने चश्मदीद प्रदर्शनकारी से घटना को लेकर सवाल किया तो वे किसानों पर गाड़ी चढ़ाने के बारे में तो खुलकर बात कर रहे थे,