Dilli Mere Dilli, Election, Pollution, Poor, Air Quality

Dilli Mere Dilli, Election

सांस से आस

सांस से आस in a new tab)

27-09-2021 03:40:00

सांस से आस in a new tab)

चुनाव के समय में तमाम पुराणे मुद्दे गौण हो जाते हैं तो कुछ बाहर ही नहीं आते।

चूक ही चूकदिल्ली से लगे नोएडा में जमीन से जुड़े कामकाज देखने वाले विभाग की जितनी कमियां सामने आती हैं वह एक तरह से कम ही हैं, क्योंकि यहां कमियों के भंडार में कोई कमी नहीं। कुछ समय पहले सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी परियोजना पर काफी सख्त टिप्पणी की थी, उसके बाद भी सावधानी से काम करने की कोशिश भी सफल नहीं हो पाती है। यहां बिल्डर परियोजनाओं में सीवन शोधन संयंत्र को अनिवार्य बताने के नियम के चलते संबंधित विभाग के अधिकारी कार्रवाई के मूड में नजर आए। उसने धड़ाधड़ क्लब हाउस व बिल्डर के सेल्स कार्यालय को ही सील कर दिया। लेकिन बाद में अधिकारियों ने अपना माथा पकड़ लिया जब बिल्डर कंपनियों ने उल्टा नियम विभाग को पढ़ा दिया। हुआ दरअसल यूं कि जो बिल्डर कंपनियों ने दस्तावेज दिखाएं हैं उसमें 10 से 12 साल पहले कब्जा दे चुकी परियोजनाओं में क्रियाशील संयंत्र का कोई जिक्र ही नहीं है। अब बेचारे खिसयाए अधिकारी अपनी चूक मानते हुए सील खोलते फिर रहे हैं और मामले को रफा-दफा करने की कोशिश में जुटे हैं।

Aryan khan Drug Case: आर्यन खान की गिरफ्तारी पर प्रकाश झा ने कहा- मैं उस बेचारे बच्चे को जानता हूं जो मुसीबत में फंस गया है आगरा जा रही प्रियंका गांधी वाड्रा को UP पुलिस ने हिरासत में लिया Kushinagar Airport: कुशीनगर में बोले पीएम मोदी, यूपी में पहले थी खुली छूट और लूट की नीति, अब माफी मांगता फिर रहा है माफिया

अर्थ का अनर्थहिंदी भाषा के प्रसार और प्रचार को लेकर सरकारी विभाग कितने संवेदनशील हैं या फिर प्रयासरत हैं इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इन दिनों हिंदी पखवाड़ा अधिकतर सरकारी विभागों में चल रहा है। कई विभाग हिंदी भाषा में सूचना साझा कर रहे हैं। पर मजेदार बात यह है कि पखवाड़े के दौरान सूचनाओं को साझा करने से पहले कई विभाग के संबंधित अधिकारी भाषा शैली का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रख रहे हैं। कई बार तो देखा गया है कि अंग्रेजी भाषा से हिंदी में अनुवाद करने के लिए गूगल के अनुवाद टूल का इस्तेमाल किया जाता है। इस कारण कई बार अर्थ का अनर्थ होने की संभावना अधिक होती है। बावजूद इसके संबंधित विभाग अपनी आंखे बंद किए रहते हैं। बेदिल ने किसी को कहते सुना कि अगर हिंदी भाषा में जानकारी मिल रही हो तो उसे अंग्रेजी भाषा में दी गई जानकारी से मिला जरूर लो, वरना कुछ का कुछ समझ आएगा।

अजब समस्याबीते दिनों रोहिणी अदालत में हुई गोलीबारी को लेकर वकीलों ने सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराया। यह एक बड़ी समस्या बताई गई जिसके समाधान की जरूरत है। इसे लेकर पुलिस और वकील दोनों आमने-सामने है। लेकिन पुलिस की दिक्कत को कौन समझे भला। अदालत में प्रवेश से पहले जब भी वकीलों की जांच होने लगती वे इसे अपने मान और सम्मान से जोड़ बैठते। यहां बात खत्म नहीं हुई तो अपने लिए अलग से प्रवेश द्वार आबंटित करा लिया गया। जिसपर अपेक्षाकृत जांच हल्की होती है। अब पुलिस करे तो क्या करे! अदालत में गोलीबारी करने वाले अपराधी वकीलों के भेष में दाखिल हुए थे और संभवतया इसलिए वे हथियार लेकर अदालत परिसर में दाखिल होने में कामयाब हो गए। वारदात के बाद भी वकीलों के नेता सीसीटीवी कैमरों की चुस्ती सहित जांत की तकनीक बढ़ाने की बात कर रहे हैं, शारीरिक जांच की नहीं। किसी ने ठीक ही कहा, जब पुलिस की नहीं चलने दोगे तो व्यवस्था चाक-चौबंद कैसी होगी। दूसरे ने कहा-चित भी मेरी और पट भी मेरी, केवल शिकायत की नियत मेरी! headtopics.com

इतिहास रचेंगेपुलिस विभाग के नए मुखिया ने शायद कुछ खास करने की कसम खा ली है। यही कारण है कि नियुक्ति के बाद से ही वे विभाग को बदलने के कोई न कोई नुस्खा तैयार रखते हैं। पहले पुलिस मुख्यालय में सीपी सचिवालय, फिर पुलिस वालों के लिए हरेक शुक्रवार को जनसुनवाई, थाने और पीसीआर को मिलाकर कुछ अहम फैसले लिए गए। यह सब चल ही रहा था कि रोहिणी कोर्ट में गोलीबारी हो गई। वैसे तो दिल्ली में पहले भी ऐसी घटनाएं हुई हैं लेकिन इस घटना ने तो सबको चौंका दिया, सुरक्षा व्यवस्था पर उंगली उठी अलग से। इसलिए इसका असर अगले ही दिन 40 आइपीएस के स्थानांतरण के रूप में दिखा। बेदिल को पता चला कि दिल्ली पुलिस के इतिहास में पहली बार एक साथ 40 आइपीएस का स्थानांतरण हुआ है। यह भी इतिहास रचने के समान है।

कुर्सी की चाहतकुर्सी का मोह क्या-क्या नहीं कराता। यह अपनों में भी बैर करा देता है। दिल्ली के एक निगम में महापौर की गद्दी पर बैठ चुके नेता जी आजकल खाली हैं। जब वे पहली बार पार्षद बने तो पार्टी की ऐसी दया हुई कि वे एक समिति की सीढ़ी से चढ़कर महापौर की गद्दी तक पहुंचे। इनको सभी तरह के बड़े पद मिले उसमें निर्माण समिति से लेकर स्थायी समिति भी शामिल है। लेकिन पिछले चुनाव में हारने के बाद ही उनकी कामयाबी को जैसे ग्रहण लग गया। दिल्ली में अपना काफी व्यापार स्थापित कर चुके पूर्व माननीय ने अपनी खोई ताकत पाने और कुर्सी की चाहत में अब जोड़-घटाना शुरू कर दिया है। इसके लिए वे अपनी पार्टी के पार्षद के खिलाफ ही काम कर रहे हैं। बेदिल को पता चला कि अगर मौजूदा पार्षद की खामियां नजर नहीं आईं तो इनको टिकट मिलने से रहा। अगर टिकट नहीं मिला तो चुनाव लड़ना काफी मुश्किल होगा। इसलिए वे सभी बड़े पदों पर बैठे पदाधिकारियों को अपने पार्षद के खिलाफ चिट्ठी भेज रहे हंै।

और पढो: Jansatta »

India Today Conclave 2021: Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October

India Today Conclave 2021 - Check out the full details and schedule of India Today Conclave event to be held at Taj Palace Hotel, New Delhi on 8th and 9th October 2021.

यूपी में चुनाव से ठीक पहले योगी कैबिनेट विस्तार के क्या हैं मायने?उत्तर प्रदेश में आज कैबिनेट विस्तार होने की पूरी-पूरी संभावना है. कैबिनेट में 7 नए चेहरों को शामिल किया जा सकता है. माना जा रहा है कि कैबिनेट विस्तार के जरिए बीजेपी उन जातियों को साधने की कोशिश करेगी, जिसका विधानसभा चुनाव में फायदा मिल सकता है. abhishek6164 Aunty hot

यूपी चुनाव से पहले योगी कैबिनेट का विस्तारसोशल इंजीनियरिंग को ध्यान में रखते हुए इसी साल जून महीने में कांग्रेस छोड़ भाजपा की सदस्यता लेने वाले जितिन प्रसाद को योगी कैबिनेट में शामिल किया गया है।

LIVE बिहार पंचायत, मुखिया चुनाव रिजल्‍ट: मतगणना जारी; जमुई, कैमूर व औरंगाबाद से आए पहले रिजल्‍टLIVE बिहार पंचायत मुखिया चुनाव रिजल्‍ट बिहार के 10 जिलों की 151 पंचायतों में आज मुखिया पंचायत समित सदस्‍य वार्ड सदस्‍य सरपंच पंच व जिला पार्षदों पहले चरण के मतदान की मतगणना शुरू हो चुकी है। नतीजे आने भी शुरू हो चुके हैं।

यूपी चुनाव से पहले CM योगी का ऐलान- गन्ना समर्थन मूल्य में करेंगे इजाफाउत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले योगी आदित्यनाथ सरकार ने किसानों को अपने पाले में करने के लिए बड़ा मास्टर स्ट्रोक खेला है। योगी सरकार ने गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए करने का ऐलान किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा मकसद राज्य में 119 चीनी मिलों को चलाना है। पंजाब से भी पीछे रह गये बाबाजी 260 है वहां का समर्थन मूल्य

अमेरिका में पटरी से उतरी ट्रेन, डिब्बे पलटने से 3 की मौत, कई घायलअमेरिका के सिएटल और शिकागो के बीच चलने वाली एमट्रैक कंपनी की ट्रेन शनिवार दोपहर को उत्तर-मध्य मोंटाना में पटरी से उतर गई। इस हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई और कई घायल हो गए। अमरीका में भी ट्रेन पलटती है ?🙄🤔

क्लीन स्वीप से बची टीम इंडिया, आस्ट्रेलिया ने 2-1 से जीती WODI सीरीजIndia vs Australia WODI Series भारत और आस्ट्रेलिया की महिला टीम के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज खेली गई। इस सीरीज में भारत का सूपड़ा साफ हो सकता था लेकिन पुछल्ले बल्लेबाजों के दम पर भारत ने जीत हासिल की।