सवाल हिंदी के हक का

सवाल हिंदी के हक का

Hindi Divas, Language

14-09-2021 23:50:00

सवाल हिंदी के हक का

हिंदी कागजों में भले ही राजभाषा बन गई हो, पर हमारी आत्महीनता की वजह से आजादी के साढ़े सात दशक बाद भी यह अपने अधिकार से महरूम है।

हिंदी दिवस के साथ ही सरकारी और निजी कार्यालयों में हिंदी पखवाड़ा, हिंदी माह जैसे आयोजन शुरू हो गए हैं। फिर से वही वादे, वही अंदाज, पर आगे फिर से वही अंग्रेजी का राज। इसे देख मन में यह टीस पैदा होना स्वाभाविक ही है कि आखिर कब तक हिंदी को बढ़ावा देने के ऐसे कागजी और दिखावटी प्रयास चलते रहेंगे। आयोजन करना या उत्सव मनाना गलत नहीं है। भारत तो देश ही उत्सवों और आयोजनों का है।

फिर हमें राष्ट्रभाषा, राजभाषा के उत्सव से परहेज-खीज क्यों? पर पीड़ादायक तो यह है कि आजादी के अमृत वर्ष में भी भारत की राजभाषा की बुनियादी स्थिति बहुत हद तक संक्रमण की बनी हुई है। यह दुर्भाग्य ही है कि हिंदी के मामले में भारत की पूरी व्यवस्था संतुलित और प्रगामी सोच के अभाव में काम करती आई है। यह भी स्थापित सत्य है कि भाषा का मामला मात्र भावुकता का नहीं, बल्कि ठोस यथार्थ का है। पर हिंदी के मामले में आज भी हम सभी भावुक होकर काम करते हैं। इसका नतीजा यह है कि यथार्थ में राज व्यवस्था पर अंग्रेजी का राज ही कायम है। सबसे दुखद स्थिति यह है कि जिस हिंदी ने अपने ठोस सामाजिक एवं राजनीतिक यथार्थ के बल पर पूरे देश में स्वीकार्यता हासिल की थी, उसे व्यवस्था के घालमेल ने पीछे धकेल दिया।

भारत की भाषाई विडंबना यह है कि हम एक विदेशी भाषा के कुचक्र से अपने को निकाल पाने में दीर्घ काल से असफल ही रहे हैं। दोष किसी एक को देने से क्या होगा? क्योंकि इस कुचक्र को बनाए रखने में समाज और व्यवस्था की भूमिका ही रही है। यह सिद्ध सत्य है कि कोई भी भाषा अपने मूल स्वरूप में कभी भी हीन नहीं होती। परंतु सरकार की नीतियों के तहत हिंदी सहित भारत की सभी भाषाएं व्यावहारिक तौर पर हीन होती चली गईं, बल्कि सच कहें तो जानबूझ कर बना दी गईं। और एक पूरी प्रक्रिया के तहत अंग्रेजी को बतौर श्रेष्ठ भाषा के रूप में स्थापित कर दिया गया। चूंकि यह व्यवस्था एक खास वर्ग के लिए अत्यंत उपयोगी साबित हुई है, इसलिए इसे बनाए रखने के लिए सभी प्रकार की नीतियां अपनाई गईं। क्या यह देश का दुर्भाग्य नहीं है कि आज भी उच्चतम न्यायालय और देश के चौबीस में से बीस उच्च न्यायालयों में अंग्रेजी के साथ भारतीय भाषाओं का प्रयोग कोसों दूर है? headtopics.com

बिहार में शिक्षकों से शराब 'ढूंढवाने' के आदेश पर विवाद, शिक्षा मंत्री ने दी सफाई, कहा- बस सहयोग मांगा गया है

भारत में हिंदी अथवा दूसरी भारतीय भाषाओं के साथ अंग्रेजी भाषा का यह द्वंद्व बहुत हद तक भावुकता बनाम यथार्थ का ही है। अर्थात यह कि भावुकता में हम भले ही कह लें कि हिंदी या दूसरी भारतीय भाषाएं किसी भी मामले में अंग्रेजी से कमतर नहीं है, पर दुखद सच्चाई यही है कि हमने हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं की ऐसी स्थिति खुद ही बनाई है। एक विदेशी भाषा के प्रति यह अंतहीन प्रेम एवं हीनता-बोध की पराकाष्ठा नहीं तो और क्या है कि तमाम दुश्वारियों के बीच यदि अधिकारी से लेकर क्लर्क और कार्यालय सेवक तक अपना पेट काट कर बच्चों को अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में भेजना चाहते हैं और भेज भी रहे है तो इसके गहरे अर्थ हैं।

समय-समय पर प्रकाशित संचार माध्यमों की रिपोर्टों से यह भी स्पष्ट है कि देश में अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में प्रवेश लेने वाले छात्रों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। भले ही हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में पढ़ने वालों की कुल संख्या अब भी बहुत अधिक है। लेकिन यह भी दुर्भाग्य की बात है कि सफल और संपन्न वर्ग के ऐसे व्यक्ति विरले ही होंगे जो अपने बच्चों की पढ़ाई स्वेच्छा से अंग्रेजी माध्यम में नहीं करवा रहे हैं। यह भी सत्य है कि जैसे-जैसे मध्य वर्ग या निम्न मध्यम वर्ग के लोगों की संख्या बढ़ेगी, हिंदी या भारतीय भाषाओं की स्थिति में कमी ही दर्ज की जाएगी। क्योंकि माहौल भी यही है।

ऐसे में नई शिक्षा नीति आशा की किरण जगाती है, पर तब जब व्यवस्था और लोग में भाषिक आत्मविश्वास का संचार होगा। तभी लोग और व्यवस्था हिंदी को तरजीह देंगे। अब समय आ गया है जब सरकार को कोरी भावुकता से ऊपर उठ कर हिंदी एवं भारतीय भाषाओं को उनका उचित अधिकार दिलाने के लिए कदम उठाना होगा। सरकारों को भी यह समझना होगा कि भाषा सिर्फ अभिव्यक्ति का साधन मात्र नहीं है। यह एक जीवन व्यवस्था भी है और जब तक उस जीवन व्यवस्था पर निर्णायक प्रहार नहीं किया जाएगा, जिसमें अंग्रेजी को फूलने-फलने का खतरनाक अवसर मिल रहा है, तब तक हिंदी एवं भारतीय भाषाओं के बलवती होने की आशा दिवा-स्वप्न मात्र है।

खेल की खबरें: बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत का नेतृत्व करेंगे सेन-मालविका और इन खिलाड़ी को मिला AUS क्रिकेट पुरस्कार

यह हिंदी की सामर्थ्य ही है कि इसने अर्थ जगत के बदलते स्वरूप के अनुसार स्वयं को ढाल लिया है। आज हिंदी का अपना व्यावसायिक मूल्य है, इसलिए कारोबार, मनोरंजन, परस्पर संवाद और संचार जगत में हिंदी ने अंग्रेजी को चुनौती दी है। पिछले कुछ वर्षों में हिंदी भाषा की शब्द संपदा का जितना विस्तार हुआ है, उतना विश्व की शायद ही किसी भाषा का हुआ हो। आज इंटरनेट पर हिंदी की पर्याप्त उपस्थिति है। headtopics.com

गूगल ने हिंदी की ताकत को पहचान कर इसे तकनीकी क्षेत्र में सशक्त भाषा के रूप में स्थापित करने में बड़ी भूमिका निभाई है। आज हिंदी विश्व की समृद्ध भाषाओं में गिनी जाती है। अंग्रेजी जिसे महत्त्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय भाषा होने का गौरव प्राप्त है, उसके मूल में कुल शब्द जहां मात्र दस हजार हैं, वहीं हिंदी के पास संस्कृत एवं देश की समरूपी भाषाओं की कुल ताकत से दस लाख से भी अधिक शब्द संख्या की ताकत है। संख्या बल के आधार पर आज हिंदी संयुक्त राष्ट्र की भाषा होने का हक मांग रही है। पर इसके पहले यह जरूरी है कि हिंदी को उसके घर मेँ उसका वास्तविक हक मिले।

नवोन्मेषी सोच में भी हिंदी व भारतीय भाषाओं की भूमिका कम नहीं है। यह चिंता का विषय है कि तकनीक के क्षेत्र में हिंदी और भारतीय भाषाएं जुगाड़ के स्तर तक ही उपलब्ध हैं। ऐसे में डिजिटल क्रांति की सार्थकता पर भी प्रश्न चिह्न खड़े हो जाते हैं। हिंदी की भूमिका की संवृद्धि के लिए यह जरूरी है कि भारत में इसे ज्ञान-विज्ञान में शिक्षण और संप्रेषण के रूप में विकसित होने वाली भाषा के रूप में स्थापित किया जाए। इसके लिए विश्वविद्यालयों को बीड़ा उठाना होगा। आज भारत में उच्च शिक्षा में हिंदी अल्पांश रूप में ही उपस्थित है। इस स्थिति को बदलने के लिए सभी को समवेत होकर कार्य करना होगा।

TET Exam 2020: रिजल्ट में गड़बड़ी को लेकर IAS ऑफिसर सहित अब तक 13 गिरफ्तार

आजादी के अमृत वर्ष में यह संकल्प लिया जाना चाहिए कि आत्मनिर्भरता एवं सांविधानिक हितों की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी को राजनीतिक, आर्थिक, प्रशासनिक, वैज्ञानिक, तकनीकी व औद्योगिक व्यवस्था से जोड़ना ही एकमात्र विकल्प है। इस दिशा में हिंदी भाषी राज्यों के साथ ही देश के सभी राज्यों को पहल करनी होगी। अन्यथा वही ढाक के तीन पात। हिंदी को लागू करने के लिए सबसे बड़ी जरूरत है सामाजिक व्यवस्था को बदलने की। यह तथ्य है कि हिंदी की जमीन सामान्य जन से जुड़ी है, तो अंग्रेजी का संबंध भारत में शोषण और संग्रह की प्रक्रिया से है। इस प्रक्रिया में प्रत्यक्ष या परोक्ष रुप से शामिल हुए बगैर संपन्नता की सीढ़ियां कभी नहीं चढ़ी जा सकतीं।

और पढो: Jansatta »

राजस्थान के करोड़पति किसानों का गांव: इस गांव को कहते हैं मिनी इजराइल, हाईटेक खेती के दम पर लग्जरी गाड़ियों में चलते हैं किसान

राजस्थान का एक गांव ऐसा जो करोड़पति किसानों का है। खेती में नई टेक्नीक की मदद से हर साल लाखों रुपए कमा रहे हैं। 10 साल पहले इस गांव और किसानों की स्थिति बिल्कुल उलट थी। पारंपरिक खेती की वजह से कोई मुनाफा नहीं हुआ। इसके बाद गांव से एक किसान इजराइल से खेती की नई टेक्नीक सीख कर आया। वहां हुए प्रयोग को अपने खेतों में प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया तो किस्मत बदल गई। शुरुआती दौर में लोग मजाक भी उड़ाते थे, ... | Polyhouse, green house farming made many farmers millionaires, made fun of the farmer who took the initiative 10 years ago, today everyone adopted और पढो >>

हिंदी दिवस विशेष: बाज़ार की हिंदी बनाम हिंदी का बाज़ारकेवल दिवस, पखवारा या माह मनाने से नहीं बढ़ेगा हिंदी का मान. मातृभाषा हिंदी के विकास और हालात पर साहित्य आजतक का एक सटीक विश्लेषण. हिंदी_दिवस हिन्दी_दिवस_2021

हिंदी दिवस: 'चुपके- चुपके' से 'हिंदी मीडियम' तक, इन बॉलीवुड फिल्मों ने बताया मातृभाषा का महत्वहिंदी दिवस: 'चुपके- चुपके' से 'हिंदी मीडियम' तक, इन बॉलीवुड फिल्मों ने बताया मातृभाषा का महत्व akshaykumar SrBachchan s_qamarzaman irfankhan हिंदीदिवस

कार्टून: हिंदी दिवस और राजनीति की भाषा - BBC News हिंदीहिंदी दिवस के मौके पर राजनीति की भाषा को लेकर आज का कार्टून हिंदी अब मिलिजुली रंगीन_भाषा हो गई है... हमारे हिसाब से यह हिंदी के लिए खराब नहीं है.... इसे इसीतरह फलने फूलने दो.... भाषाओं में जितनी पर्यायवाची होगी.. रोचकता उतनी ही बढ़ेगी... चाहे वह किसी भी भाषा का रेडीमेड_शब्द ही क्यों न हो... जानवर इंसान में भेद विचार का... कौन क्या सोचे विस्तार उसी का⚡ Angrejo ghar ghar toilets bna diye modi ji ne ab to twitter par tatti mat kro

जब सरदार पटेल ने सैन्य कार्रवाई के ज़रिए हैदराबाद को भारत में मिलाया - BBC News हिंदीसरदार वल्लभ भाई पटेल की नज़र में उस समय का हैदराबाद 'भारत के पेट में कैंसर' की तरह था जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता था. 13 सितंबर, 1948 को ही सरदार पटेल ने सेना को हैदराबाद का भारतीय संघ में विलय करने का दिया था आदेश. ये बीबीसी को कैसे पता चला Who sardar ji the...aaj hai kisi mein dum POK ko mila dee जैसे ही हैदराबाद में सरदार पटेल का हवाई जहाज पहुंचा वैसे ही वहां के सेनापति ने हाथ जोड़कर भारत में विलय करने की विनती की। और जो हाथ जोड़कर खड़ा हो जाता है उसके खिलाफ सैन्य कार्रवाई नहीं होती।

सारागढ़ी की लड़ाई के नायक की प्रतिमा का ब्रिटेन में अनावरण - BBC News हिंदीसारागढ़ी की लड़ाई 1897 में ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रांत में हुई थी. ब्रिटिश भारतीय सेना के केवल 21 सिख जवानों ने अफ़ग़ान क़बाइलियों की 10 हज़ार की विशाल फ़ौज से जमकर लोहा लिया था. हमे तो बचपन से हमेशा मुगलों के काली करतूतों के बारे में अच्छा दिखाकर बताया गया। इन जैसे महान नायकों के बारे में हमसे दूर रखा गया । 🙏 Police rank ?

भारत ने पहली बार माना, तालिबान के पास पूरे अफ़ग़ानिस्तान की सत्ता - BBC News हिंदीपेगासस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, असदउद्दीन ओवैसी पर भाजपा नेता राधा मोहन सिंह का बयान, साथ में आज के अख़बारों की अन्य अहम सुर्खियां. 😀🤗😇😡 Isme bhi BJP ki pic chipka di 😂😂 शीर्षक कुछ, खबर कुछ 🙄🙄 सबेरे सबेरे फूंक लिए हो का 😂😂😂