Abhijeetbanerjee, Bank, Jairam Ramesh, Abhijeet Banerjee, Abhijit Banerjee, Nobel Prize Economics 2019, Congress, İndian Banking System, Privatization Of Public Sector Banks, Public Sector Banks, Narendra Modi

Abhijeetbanerjee, Bank

सरकारी बैंकों के निजीकरण पर अभिजीत बनर्जी के बयान से सहमत नहीं: जयराम रमेश

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी

23.10.2019

सरकारी बैंकों के निजीकरण पर अभिजीत बनर्जी के बयान से सहमत नहीं: जयराम रमेश AbhijeetBanerjee Bank Jairam_Ramesh INCIndia

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी

अभिजीत बनर्जी ने कहा था कि सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में अपनी हिस्सेदारी को 50 फीसदी से कम करनी चाहिए, ताकि बैंक केंद्रीय सतर्कता आयोग के दायरे से बाहर हो जाएं।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैं अभिजीत बनर्जी के बौद्धिक कौशल से आश्चर्य में हूं, मैं उनसे दृढ़ता से असहमत हूं कि सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण करना चाहिए।

While I am in awe of Abhijit Banerjee's intellectual prowess I disagree strongly with him that govt should privatise public sector banks.

और पढो: Amar Ujala

Jairam_Ramesh INCIndia कोई कुछ भी कहे बैंकॊ का निजी करण =मोदी जी बहुत मन की बात करते हैं लेकिन कभी जनता के मन में क्या है पूछना चाहिए! ऐसा नहीं है कि उपर बैठे लोग ही बुद्धिमान है! Jairam_Ramesh INCIndia अर्थ यह कि, आप भी मानते हो कि नोबल प्राइज मिलने से विद्वता प्रमाणित नही हो जाती है। Jairam_Ramesh INCIndia सरकारी बैंकों के निजीकरण का समर्थन नहीं किया जा जाना चाहिए।

Jairam_Ramesh INCIndia Jairam_Ramesh INCIndia इसका मालिक तो गुण गाते नहीं थक रहा था बेनर्जी के लेकिन मोदी जी की बुराई नहीं की बेनर्जी ने तो अब उस से तकलीफ हो गयी 😂😂😂😂😂🤣🤣🤣🤣🤣🤣

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण के अभिजीत बनर्जी के विचार से असहमत: जयराम रमेशनोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी मुलाकात के बाद उन्होंने कहा- बैंकिंग सेक्टर संकट में है, हमें सावधान रहने की जरूरत उन्होंने कहा- सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण करना चाहिए | Jairam Ramesh on Abhijit Banerjee \'s idea of privatisation of public sector bank s सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण, भारतीय अर्थव्यवस्था को चौपट कर देगा और नागरिकों को लुटेरों के हाथ सौंप देगा ।जरूरत राष्ट्रीय कृत बैंकों को भ्रष्टाचार मुक्त कर बेहतर बनाने की है। इंदिरा गांधी जी ने बैंकों का राष्ट्रीयकरण कर देश को बड़ा लाभ पहुंचाया था. Jairam_Ramesh

अभिजीत बनर्जी से मिले पीएम मोदी, कहा- लोगों के सशक्तीकरण के लिए उनका नजरिया बिल्कुल साफअर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) जीतने वाले अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पीएम हाउस (7 लोक कल्याण मार्ग) पर मुलाकात की है. | business News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

अभिजीत बनर्जी से पीएम मोदी की मुलाकात के मायनेप्रतिभा और सम्मान की राह में विचारधारा को आड़े नहीं आने दे रहे पीएम मोदी | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी brajeshksingh Modi hi h to sabkuch mumkin h nmonmo brajeshksingh बहुत बढ़िया निर्णय।

बैंकिंग सेक्टर में सुधार के लिए अभिजीत बनर्जी की यह सलाह, मानेगी सरकार?नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी ने मंगलवार को बैंकिंग सेक्टर को लेकर चिंता जताई और उसमें सुधार के लिए सरकार को सलाह दी है. Right Sir Nahin maanegi aur Desh ki economic growth aur Kam hoga. Hume ek mauka deke dekho Kamaal ki tarkib h humare paas pure desh ki kismat badalne ki shamta h hum me kewal hum

नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी से मिले पीएम मोदी, कहा- कई मुद्दों पर हुई बातनोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी से मिले पीएम मोदी, कहा- कई मुद्दों पर हुई बात AbhijeetBanerjee NarendraModi narendramodi PMOIndia narendramodi PMOIndia पियुष गोयल, निर्मला सीतारामन और स्मृती इराणी जैसे टॅलेंट को साथ में रखतें तो अच्छा होता.

पीएम मोदी से मिले नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी, PM ने कहा- उपलब्धियों पर देश को गर्वपीएम मोदी ने इसके बाद कहा कि अभिजीत बनर्जी से शानदार मुलाकात हुई. मानव विकास के प्रति उनका जुनून स्‍पष्‍ट दिखाई देता है. narendramodi भाजपा जब जब सत्ता में आई है चाहे राज्य हो या केंद्र; अपने विचारधारा के विद्वानों का सम्मान नहीं किया है। अटल जी के समय सीताराम गोयल जी का बहिष्कार और मोदी जी के समय सुब्रमण्यम स्वामी और अरूण शौरी, सुभाष काक इत्यादि जैसे विद्वानों का बहिष्कार। narendramodi सुप्रीम कोर्ट की नजर में उत्तर प्रदेश में जंगलराज चल रहा है, बंगाल में द्वापर, केरल में त्रेता तो MP में सतयुग चल रहा है क्या narendramodi Aishe baithta h nobel vijeta Desh k pm k samne 😉👇

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

23 अक्तूबर 2019, बुधवार समाचार

पिछली खबर

अल्पसंख्यकों को क़ानूनी संरक्षण के बावजूद भारत में हो रहीं हिंसा-भेदभाव की घटनाएं: अमेरिका

अगली खबर

मोदी सरकार आज किसानों के लिए कर सकती है बड़ा ऐलान! इतने रुपये तक बढ़ सकता है फैसला का MSP