सरकारी नौकरी ही नहीं है, कब तक सब्र करे देश का नौजवान: वरुण गांधी

सरकारी नौकरी ही नहीं है, कब तक सब्र करे देश का नौजवान: वरुण गांधी #VarunGandhi #Youth #Unemployment #GovtJobs #वरुणगांधी #युवा #सरकारीनौकरी #बेरोजगारी

Varungandhi, Youth

03-12-2021 02:30:00

सरकारी नौकरी ही नहीं है, कब तक सब्र करे देश का नौजवान: वरुण गांधी VarunGandhi Youth Unemployment GovtJobs वरुणगांधी युवा सरकारीनौकरी बेरोजगारी

पीलीभीत से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने कहा कि प्रत्येक क्षेत्र में पहले के मुकाबले कम सरकारी नौकरियां हैं, लिहाज़ा युवा ओं में कुंठा के भाव पैदा हो रहे हैं. पिछले दो वर्षों में सिर्फ उत्तर प्रदेश में पेपर लीक होने की वजह से 17 परीक्षाएं स्थगित की जा चुकी हैं और अभी तक इसमें शामिल किसी बड़े सिंडिकेट की पहचान नहीं की जा सकी है.

नई दिल्ली:किसानों के मुद्दों पर लगातार अपनी ही पार्टी की सरकार को कटघरे में खड़ा करने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी ने बृहस्पतिवार को सरकारी नौकरियों की कमी का मुद्दा उठाया और कहा कि देश के नौजवान कब तक सब्र करेंगे.उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘पहले तो सरकारी नौकरी ही नहीं है, फिर भी कुछ मौका आए तो पेपर लीक हो, परीक्षा दे दी तो सालों साल रिजल्ट नहीं, फिर किसी घोटाले में रद्द हो. रेलवे ग्रुप डी के सवा करोड़ नौजवान दो साल से परिणामों के इंतजार में हैं. सेना में भर्ती का भी वही हाल है. आखिर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान?’

पहले तो सरकारी नौकरी ही नहीं है, फिर भी कुछ मौका आए तो पेपर लीक हो, परीक्षा दे दी तो सालों साल रिजल्ट नहीं, फिर किसी घोटाले में रद्द हो। रेलवे ग्रुप डी के सवा करोड़ नौजवान दो साल से परिणामों के इंतज़ार में हैं। सेना में भर्ती का भी वही हाल है। आखिर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान??

— Varun Gandhi (@varungandhi80)December 2, 2021बाद में एक बयान में उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से भाजपा सांसद गांधी ने कहा कि ग्रामीण भारत में औसत युवाओं के लिए रोजगार के अवसर मुख्यत: सरकारी नौकरियों तक ही सीमित रहते हैं, चाहे वह रक्षा क्षेत्र हो या पुलिस, रेलवे या फिर शिक्षा. headtopics.com

Afghanistan Crisis: रोटी के लिए बेटियों और किडनी को बेच रहे लोग! लोगों की रुलाने वाली कहानी

उन्होंने कहा, ‘प्रत्येक क्षेत्र में पहले के मुकाबले कम सरकारी नौकरियां हैं, लिहाजा युवाओं में कुंठा के भाव पैदा हो रहे हैं. पिछले दो वर्षों में सिर्फ उत्तर प्रदेश में पेपर लीक होने की वजह से 17 परीक्षाएं स्थगित की जा चुकी हैं और अभी तक इसमें शामिल किसी बड़े सिंडिकेट की पहचान नहीं की जा सकी है. युवाओं को निजी क्षेत्र में रोजगार से जोड़ने का भी कोई तंत्र नहीं है. इसलिए रोजगार संबंधी दिशानिर्देशों और निर्धारित समय-सारणी का पालन किया जाना आवश्यक है.’

वरुण गांधी अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार के प्रबंधन की भी आलोचना करते रहे हैं. हालांकि इस दौरान उन्होंने अभी तक सीधे केंद्र सरकार को निशाना नहीं बनाया है.केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों की आवाज में भी वह आवाज मिलाते रहे हैं.

तीन कानूनों को निरस्त किए जाने की घोषणा के एक दिन बाद भी उन्होंने आंदोलनरत किसानों के सुर में सुर मिलाते हुएन्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानूनबनाने की मांग की थी और आगाह किया था कि राष्ट्रहित में सरकार को ‘तत्काल’ यह मांग मान लेनी चाहिए अन्यथा आंदोलन समाप्त नहीं होगा.

पति के गंदे मोजे से खुला धोखेबाजी का राज़, गलती से सौतन ने छोड़ दी थी अपनी निशानी

बता दें कि वरुण गांधी उन कुछ भाजपा नेताओं में से एक हैं, जिन्होंने किसानों के लिए खासकरलखीमपुर खीरी हिंसा के बाद सेआवाज उठाई है.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिख कर उन्होंने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की थी और कहा था कि तीन कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने का यह निर्णय यदि पहले ही ले लिया जाता तो 700 से अधिक किसानों की जान नहीं जाती. headtopics.com

बीते कुछ समय सेवरुण गांधीकिसानों के मुद्दे पर लगातार अपनी राय रख रहे हैं और किसान आंदोलन को लेकर उन्होंने किसानों की मांगों का समर्थन भी किया था.उन्होंने लखीमपुर खीरी में बीते तीन अक्टूबर को हुई हिंसा को लेकर भी वीडियो साझा किए थे और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. इसके बाद भाजपा की नवगठित राष्ट्रीय कार्यसमिति से

को बाहर कर दिया गया था.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

और पढो: द वायर हिंदी »

UP Elections: अमित शाह से मुलाकात, क्या मान जाएंगे जाट? देखें शंखनाद

उत्तर प्रदेश की सियासी बिसात बिछ चुकी है, पहले दो चरण में पश्चिमी यूपी में मतदान होना है जिसके लिए हर पार्टी ने पूरा जोर लगा दिया है. कोई मुस्लिम तुष्टीकरण की सियासत कर रहा है तो कोई ध्रुवीकरण के साथ मैदान पर है. इस सियासी खेल के दो सबसे बड़े कार्ड हैं पहला जाट और दूसरा मुस्लिम. जिसे लेकर हर पार्टी अपनी रणनीति तय कर रही है. आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जाट नेताओं के साथ मुलाकात की. जहां उस नाराजगी को दूर करने की कोशिश है जो कृषि कानूनों के बाद बीजेपी और जाट नेताओं के बीच आई. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड. और पढो >>

शायद वरूण गांधी जी को मालूम नही के उनकी पार्टी ने भारत के नौजवानो को एक अच्छा रोजगार दिया है नफ़रत फैलाओ और नफ़रत करो इसी मे पार्टी का भला है varungandhi80 जब वरुण गाँधी ऐसा लग रहा है कि सरकार यूवाओ को नौकरी देने मे बिलकुल नकाम है,तो फिर वे किस उम्मीद मे भाजपा का झंडा अपने कंधो पर उठाकर घुम रहे है!उनको अगर सच मे युवाओ से हमदर्दी है तो फिर भाजपा को रीजाईन कर दें!या यूही पब्लिकसिटी पाने के लिये यह सब कर रहे है!

A fascist enabler giving gyan now when Modi stopped giving ghass to Mother-Son Duo! ना आरक्षण चाहिए ना सरकारी नौकरी... उल्टा 5/10 लोगों को काम देते है... ओर Income tax भी भरते है हमें सुरक्षित देश चाहिए !! वरुण गांधी जो कह रहे हैं यह बात पूरे विपक्ष को कहना चाहिए जब तक है जान क्या करेगा नौकरी लेकर राम मंदिर तो बन गया है मुसलमानों को बर्बाद होता देखिए अच्छा लगेगा नौजवानों को 😂😂😂

सब्र करने को कौन कह रहा हैं जो उखाड़ सकें तो उखाड़े..! PK को पहचानो. वो AK का सिक्वेल है.

मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में गड़बड़ी, 65 में से 15 लोगों की निकालनी पड़ी आंखजानकारी के लिए बता दें कि बीते 22 नवंबर को मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पिटल में 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. जिसमें ज्यादातर लोगों की आंखों में इंफेक्शन हो गया.

टेनिस: चीन में नहीं होगा कोई टूर्नामेंट, पेंग शुआई की सुरक्षा को लेकर लिया गया फैसलाटेनिस: चीन में नहीं होगा कोई टूर्नामेंट, पेंग शुआई की सुरक्षा को लेकर लिया गया फैसला WomenTennisAssociation China TennisTournament PengShuai

घबराएं नहीं, भारत में ओमिक्रॉन के मामले सामने आने के बाद केंद्र की अपील : 5 बातेंपिछले कुछ दिनों से दुनिया भर में हड़कंप मचा रहे कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने आख‍िरकार भारत में भी दस्‍तक दे ही दी. कर्नाटक में इसके दो मरीज सामने आए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी. दोनों में से एक मरीज की उम्र 66 साल है जबकि दूसरे की 46 साल. दोनों में ही फिलहाल कोई गंभीर लक्षण नहीं दिख रहे. क्या हर एक छोटे बड़े शहरों में ऑमिक्रॉन की जांच हो सकती है? क्या सिर्फ वायरल लोड से इसका पता चल जाएगा या जीनोम सिक्वेंसिंग आवश्यक है? 11 और 20 नवम्बर को आए थे... तो इन्हें भारत में ही हुआ है... PMOIndia केन्द्र सरकार को लापरवाही से बचना चाहिए। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा, सरकार को सबक लेना चाहिए था।

WhatsApp के जरिए बुक कराई जा सकेगी Uber की राइड, ऐप डाउनलोड करने की जरूरत नहींबुकिंग कराने पर ड्राइवर के बारे में और कैब के नंबर की जानकारी भी दी जाएगी। यूजर्स ड्राइवर की लोकेशन को देख सकेंगे और उससे एक बिना पहचान वाले नंबर के इस्तेमाल से बात कर सकेंगे Uber Time to uninstall Uber_Support as well Uber Wow😲😍

Omicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामलेOmicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामले OmicronVarient Covid19 Karnataka mansukhmandviya MoHFW_INDIA mansukhmandviya MoHFW_INDIA कर्नाटक सरकार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बहाल करना चाहिए ताकि वायरस को तेजी से वायरल होनें से रोका जाए। इसें मज़ाक में कतई न लें , नहीं तो बहुत जल्दी विकराल रूप धारण कर लेगा. सज़ग रहे , सतर्क रहें mansukhmandviya MoHFW_INDIA

अंतरिक्ष में मिले 5 लाख ऐसे तारे...जो भविष्य में बन सकते हैं धरती की 'बैटरी'भारतीय वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में ऐसे पांच लाख तारों की खोज की है, जो लिथियम से भरे हुए हैं. अगर किसी तरह से इन तारों से लिथियम लाने की व्यवस्था या तकनीक विकसित कर ली जाए तो सैकड़ों सालों दुनिया को ग्रीन और क्लीन एनर्जी का स्रोत मिल जाएगा. JusticeForRailwayStudent railway_exam_calander railway_hay_hay