समीर वानखेड़े: आर्यन ख़ान की गिरफ़्तारी से लेकर ‘हिंदू-मुसलमान’ की पहचान तक - BBC News हिंदी

समीर वानखेड़े: आर्यन ख़ान की गिरफ़्तारी से लेकर ‘हिंदू-मुसलमान’ की पहचान तक

27-10-2021 15:51:00

समीर वानखेड़े: आर्यन ख़ान की गिरफ़्तारी से लेकर ‘हिंदू-मुसलमान’ की पहचान तक

महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के एक दावे के बाद एनसीबी के मुंबई डिवीज़न के डायरेक्टर समीर वानखेड़े की धार्मिक पहचान को लेकर चर्चाएं ज़ोरों पर हैं.

किरण गोसावी ने आर्यन ख़ान के साथ सेल्फी ली थी.नवाब मलिक की ये आरोपों की शुरुआत थी इसके बाद उन्होंने अगले दिन एनसीबी के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े का वीडियो ट्वीट करते हुए सवाल उठाए कि समीर वानखेड़े ने कहा था कि 8 से 10 लोग गिरफ़्तार किए जाएंगे क्या उन्हें नहीं पता था कि कितने लोग गिरफ़्तार किए जा रहे हैं या फिर वो दो और लोगों पर मामला दर्ज करने वाले थे.

कैटरीना कैफ और विक्की कौशल की 'शाही शादी' की तैयारी में जुटा राजस्थान - BBC News हिंदी पाकिस्तान से आती है प्रदूषित हवा : SC में प्रदूषण पर सुनवाई के दौरान यूपी सरकार ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर WHO ने दी ये चेतावनी - BBC Hindi

इसके बाद फिर प्रेस कॉन्फ़्रेंस करके उन्होंने आरोप लगाया कि ड्रग्स मामले में 11 लोगों को गिरफ़्तार किया गया था लेकिन 3 लोगों को इसलिए छोड़ दिया गया क्योंकि उनमें से एक शख़्स बीजेपी के वरिष्ठ नेता का रिश्तेदार था.वहीं नवाब मलिक पर यह आरोप लगे कि उनके दामाद समीर ख़ान को एनसीबी ने ड्रग्स मामले में गिरफ़्तार किया था, इस कारण वो व्यक्तिगत रूप से एनसीबी पर हमलावर हैं.

इन आरोपों के बाद मलिक एक बार फिर ट्विटर पर सामने आए और उन्होंने ट्वीट किया कि कोर्ट ने उनके दामाद को यह कहते हुए ज़मानत दी है कि उनके पास से ड्रग्स के कोई सबूत नहीं मिले थे.नवाब मलिक खुलकर वानखेड़े पर हमलावर हैं. उन्होंने उनकी पहली शादी समेत कई निजी तस्वीरों को ट्वीट किया है. headtopics.com

एनसीबी की कार्रवाई के बाद वानखेड़े पर हमलावरनवाब मलिक एनसीबी और उसकी कार्रवाई पर आरोप लगाते-लगाते अब इसके ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर कई आरोप लगा रहे हैं.शुरुआत में उन्होंने इस मामले में गवाह बताए गए फ़्लैचर पटेल को वानखेड़े का पारिवारिक मित्र बताया और सवाल उठाए कि क्या कोई पारिवारिक मित्र ऐसे मामले में गवाह हो सकता है. इसके बाद उन्होंने आरोप लगाए कि वानखेड़े को साज़िश के तहत एनसीबी में लाया गया ताकि बॉलीवुड को बदनाम किया जा सके.

आर्यन ख़ान मामला: रेव पार्टी क्या है, वहाँ क्या होता है?उन्होंने वानखेड़े पर कोरोना लॉकडाउन के दौरान साल 2020 में 'दुबई और मालदीव जाकर फ़िल्म इंडस्ट्री के लोगों से उगाही' करने का आरोप भी लगाया.इन आरोपों का जवाब देने के लिए वानखेड़े ख़ुद सामने आए और कहा कि मलिक के दावे बेबुनियाद हैं, वो मालदीव ज़रूर गए थे लेकिन दुबई कभी नहीं गए और इसके बारे में पासपोर्ट और एयरपोर्ट अथॉरिटी से भी पुष्टि की जा सकती है.

वानखेड़े ने कहा कि वो इन आरोपों से कमज़ोर नहीं होंगे बल्कि और मज़बूत होंगे.मलिक ने गोसावी के बॉडीगार्ड प्रभाकर सैल के हवाले से ये भी आरोप लगाया कि एनसीबी और गोसावी ने आर्यन ख़ान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की थी और वानखेड़े ने एक सादे काग़ज़ पर साइन लेकर गोसावी को इस मामले में गवाह बनाया था.

वानखेड़े के हिंदू-मुसलमान होने पर बहसताज़ा आरोप नवाब मलिक ने सोमवार को लगाया. उन्होंने एक बर्थ सर्टिफ़िकेट ट्वीट करके कहा कि समीर वानखेड़े का असली नाम 'समीर दाऊद वानखेड़े' है. इस सर्टिफ़िकेट में धर्म के कॉलम में मुसलमान दर्ज है.समीर वानखेड़े 2008 बैच के आईआरएस अधिकारी हैं. मलिक का आरोप है कि वानखेड़े जन्म से मुसलमान हैं और नौकरी पाने के लिए उन्होंने जाली तरीक़े से एससी सर्टिफ़िकेट बनवाया था. headtopics.com

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हुए कांग्रेस में शामिल, लड़ सकते हैं विधानसभा चुनाव गीता गोपीनाथ IMF में अब इस अहम पद को संभालेंगी - BBC Hindi UP: दूल्‍हे की दबंगई, कार से दारोगा की गाड़ी टकराई तो कर दी पिटाई, गिरफ्तार

इसके बाद बुधवार को मलिक ने समीर वानखेड़े की पहली शादी का कथित 'निकाहनामा' (मैरिज सर्टिफ़िकेट) शेयर किया और बताया कि उनकी पहली शादी डॉक्टर शबाना क़ुरैशी से हुई थी.मलिक ने अगले ट्वीट में लिखा कि 'उनका मक़सद वानखेड़े का धर्म बताना नहीं बल्कि उनके द्वारा की गई जालसाज़ी को लोगों के सामने लाना है.'

बर्थ सर्टिफ़िकेट और उनकी पहचान को लेकर समीर वानखेड़े ने बयान जारी करके कहा है कि यह मानहानि का मामला है और उनकी परिवार की निजता को जानबूझकर घसीटा जा रहा है.मुकेश अंबानी केस में मुंबई पुलिस ऑफिसर सचिन वाझे विवादित कैसे बनेउन्होंने कहा कि वो 'सच्चे मायनों में एक समग्र और बहु-धार्मिक भारतीय परंपरा से संबंध रखते हैं और उसका मुझे गर्व है.

"इस संदर्भ में बताना चाहूंगा कि मेरे पिता श्री ज्ञानदेव कचरुजी वानखेड़े पुणे में 30 जून 2007 को स्टेट एक्साइज़ डिपार्टमेंट के वरिष्ठ पुलिस इंस्पेक्टर के पद से रिटायर हुए हैं. मेरे पिता हिंदू हैं और मेरी दिवंगत मां श्रीमती ज़ाहिदा एक मुसलमान थीं."

पहली शादी पर भी बोलेइमेज स्रोत,TWITTER / NAWAB MALIKइमेज कैप्शन,समीर वानखेड़े की पहली शादी की तस्वीर को नवाब मलिक ने शेयर किया थाइस प्रेस रिलीज़ में वानखेड़े ने पहली शादी का भी ज़िक्र किया.उन्होंने कहा, "2006 में स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत मैंने डॉक्टर शबाना क़ुरैशी से शादी की थी. 2016 में आपसी सहमति से हमने सिविल कोर्ट में तलाक ले लिया. 2017 के आख़िर में मैंने क्रांति दीनानाथ रेडकर से शादी कर ली." headtopics.com

इसके बाद वानखेड़े ने अपनी निजी तस्वीरों को ट्विटर पर शेयर करने की भी निंदा की.उन्होंने कहा कि यह उनके परिवार की निजता का मामला है, यह उन्हें उनके पिता और उनकी दिवंगत मां को बदनाम करने के लिए है.वानखेड़े की पत्नी और पिता ने भी दिया जवाबइमेज स्रोत,इमेज कैप्शन,

वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकरमहाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के दावों और तस्वीरें ट्वीट करने के बाद समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर ने भी इन आरोपों का जवाब दिया.उन्होंने ट्वीट किया कि वो और उनके पति दोनों हिंदू हैं और उन्होंने कभी भी कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया है और दोनों सभी धर्मों का सम्मान करते हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- कोरोना के नए वैरिएंट से निपटने के लिए एयरपोर्ट तैयार बेंगलुरु के बाद राजस्थान में ओमिक्रॉन का खतरा: अफ्रीका से जयपुर लौटे एक ही परिवार के 4 लोगों को कोरोना; जिन 12 रिश्तेदारों से मिले, उनमें 5 संक्रमित विदेशों में बसे बांग्लादेश के लोग अपनी मेहनत से कर रहे कमाल - BBC Hindi

उन्होंने कहा, "समीर के पिता भी हिंदू हैं जिन्होंने मेरी मुस्लिम सास से शादी की थी जो अब इस दुनिया में नहीं हैं. समीर की पिछली शादी स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत हुई थी और दोनों का 2016 में तलाक़ हो गया. हमारी शादी हिंदू मैरिज एक्ट 2017 के तहत हुई है."

नवाब मलिक ने जो बर्थ सर्टिफ़िकेट शेयर किया था उसमें पिता के नाम पर दाऊद वानखेड़े लिखा था लेकिन उसे काटकर ज्ञानदेव वानखेड़े लिखा हुआ है.इस सवाल पर समीर के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े ने विभिन्न मीडिया चैनलों से बात करते हुए कहा है कि उनकी सर्विस बुक से लेकर पैन कार्ड और इनकम टैक्स दस्तावेज़ों में हमेशा उनका नाम ज्ञानदेव वानखेड़े ही रहा है.

समीर के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े ने खुलकर नवाब मलिक पर इसमें जालसाज़ी करने के आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि वो बर्थ सर्टिफ़िकेट झूठा है और वो इस मामले को कोर्ट में लेकर जाएंगे क्योंकि उनकी निजता पर हमला किया गया है.इमेज स्रोत,Twitterवहीं, अब मौलाना मुज़म्मिल अहमद नामक एक क़ाज़ी सामने आए हैं जिन्होंने दावा किया है कि उन्होंने समीर वानखेड़े की पहली शादी कराई थी. उनका कहना था कि इस्लाम में दो लोगों की तभी शादी हो सकती है जब वो मुसलमान हों.

उन्होंने दावा किया कि निकाह के दौरान समीर ने स्वीकार किया था कि उनका नाम 'समीर दाऊद वानखेड़े' है.समीर वानखेड़े ने मलिक के आरोपों पर एबीपी माझा चैनल से कहा था कि वो जन्म से हिंदू हैं और अभी भी हिंदू हैं.उन्होंने कहा, "हां, मैंने मुस्लिम रीति-रिवाज से शादी की थी क्योंकि मेरी मां चाहती थीं. मेरी मां जन्म से मुस्लिम थीं लेकिन मेरे पिता से शादी के बाद उन्होंने हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया था. मैं एक धर्मनिरपेक्ष व्यक्ति हूं. मैं ईद और दिवाली दोनों मनाता हूं. मैं मंदिर और मस्जिद दोनों जगह जाता हूं. मैंने अपनी मां की इच्छा के अनुसार मुस्लिम मैरिज एक्ट और स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत अपनी शादी दर्ज कराई. तो यह क्या कोई अपराध है?"

वहीं, नवाब मलिक ने दावा किया है कि उनके द्वारा शेयर किए गए बर्थ सर्टिफ़िकेट और निकाहनामा को कोई झूठा साबित कर दें तो वो राजनीति छोड़ देंगे.मलिक बार-बार कह रहे हैं कि यह बर्थ सर्टिफ़िकेट जाली है तो समीर वानखेड़े असली बर्थ सर्टिफ़िकेट को शेयर करें.कौन हैं समीर वानखेड़े?

मूल रूप से महाराष्ट्र के रहने वाले समीर वानखेड़े 2008 बैच के भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी हैं. राजस्व सेवा में आने से पहले वे साल 2006 में पहली बार केंद्रीय पुलिस संगठन (सीपीओ) में शामिल हुए थे.इंटेलिजेंस ब्यूरो, सीबीआई, नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (एनसीआरबी), नेशनल डिज़ास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ), नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी जैसे कुछ और महकमे सीपीओ के तहत आते हैं. समीर वानखेड़े के पिता भी एक्साइज़ विभाग में इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी रहे हैं.

इमेज स्रोत,ANIभारतीय राजस्व सेवा में आने के बाद वानखेड़े को सीमा शुल्क विभाग में तैनात किया गया था. उन्होंने कुछ सालों तक मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर असिस्टेंट कमिश्नर (कस्टम) के रूप में काम किया.कहा जाता है कि इस दौरान उन्होंने कई मशहूर हस्तियों को कस्टम ड्यूटी न चुकाने को लेकर पकड़ा था.

उन्होंने राजस्व ख़ुफ़िया निदेशालय (डीआरआई) और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के साथ भी काम किया है. एनआईए आतंकवादी गतिविधियों से संबंधित मामलों की जांच करने वाली सरकारी एजेंसी है.साल 2020 में समीर वानखेड़े को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो में मुंबई ज़ोन के डायरेक्टर की ज़िम्मेदारी दी गई. उन्हें केंद्रीय गृह मंत्रालय से उत्कृष्ट जांच के लिए पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है.

और पढो: BBC News Hindi »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

Anyone dare to submit or file a case against those who are responsible to fix forged & fake drug case to innocent & budding young generation and kept them in Jail for almost a month. and it is so sad that wholesaler of drug mafia at large & open up...😞 कहीं ऐसा तो नहीं कि विश्वविख्यात दाऊद ही इसका असली बाप?

Vasooli karne wala chor naam badalkar kaam karta hai जिनके औलादों की कृत्य जेल जाने वाली है वो दूसरे पर उंगली ही उठाएंगे

क्रूज़ ड्रग्स मामला: रिश्वत मामले में एनसीबी ने अपने अधिकारी समीर वानखेड़े की जांच शुरू कीमुंबई क्रूज़ ड्रग्स मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल ने दावा किया हैं कि अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन ख़ान को छोड़ने के लिए एनसीबी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई के निदेशक समीर वानखेड़े और कुछ अधिकारियों द्वारा 25 करोड़ रुपये की मांग की गई थी. एनसीबी और समीर वानखेड़े ने इन आरोपों के ख़िलाफ़ अदालत का रुख़ किया है. शिकारी खुद यहाँ शिकार हो गया Bollywood valo ko bachane ki kosis..... bina post se hataye kun si janch hogi?

पेगासस के ज़रिये भारतीय नागरिकों की जासूसी के आरोपों की जांच के लिए विशेष समिति गठितसुप्रीम कोर्ट ने समिति का गठन करते हुए कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा की आड़ में निजता का हनन नहीं हो सकता. अदालत ने इस मामले में केंद्र सरकार द्वारा उचित हलफ़नामा दायर न करने को लेकर गहरी नाराज़गी जताई और कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा होने का दावा करना पर्याप्त नहीं है, इसे साबित भी करना होता है. सबसे पहले तुम्हारे जैसे चरसी पत्रकार की भी जासूसी करवानी चाहिए

आर्यन खान ड्रग्स केसः आरोपों के बीच एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े पहुंचे दिल्ली - BBC Hindiमुंबई ड्रग पार्टी मामले की जांच कर रहे एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े ख़ुद पर लग रहे आरोपों के बीच सोमवार रात दिल्ली पहुंचे हैं. बीबीसी इन खबरों पर भी प्रकाश डालो। ये बात अगर अमित शाह ने कही होती और मुस्लिम की जगह हिंदू शब्द का प्रयोग होता तो अब तक तुम्हारे सारे पन्ने उसी न्यूज पर केंद्रित होते। बीजेपी जॉइन करवादों बच जाएगा । यहाँ dg_ncb इसकी क्लास ले रहे हैं! यह गया काम से!

एनसीबी अफसर समीर वानखेड़े के पिता बोले,  मेरा नाम ज्ञानदेव है, दाऊद नहींNCP नेता पर पलटवार करते हुए समीर के पिता ने कहा कि वो बहुत निचले स्तर की राजनीति कर रहे हैं. मलिक ने दावा किया था कि समीर वानखेड़े जन्म से मुस्लिम हैं और उनका असली नाम ‘समीर दाऊद वानखेड़े’ है. मुम्बई पुलिस को चाहिए इसे जल्द से जल्द गिरफ्तार करो वरना ए दुबई भाग जाएगा धीरे धीरे अब आर्यन खान केस को दूसरी तरफ मोड़ दिया जाएगा इस केस में आर्यन खान को ये कहकर छोड़ देंगे कि वहां पार्टी में आर्यन खान ने कोई ड्रग नहीं लिया ना कोई ड्रग से वास्ता है आर्यन का। और सारा दोष समीर पर मढ दिया जाएगा।ये पैसे वाले होते है ना जेल कभी नहीं जाते। Aap ka beta koi acha kaam nahi kiya jo aap ko fakrr ho

समीर वानखेड़े के पिता दलित थे और मां मुस्लिम, फर्जी सर्टिफिकेट से पाई नौकरी : नवाब मलिकनवाब मलिक ने कहा कि ज्ञानेश्वर वानखेड़े अनुसूचित जाति के हैं और उन्होंने मुस्लिम महिला से शादी की तो उन्होंने मुस्लिम धर्म का ही पालन किया. मुझे लगता है कि यह फर्जी प्रमाण पत्र दिखाकर उन्होंने (वानखेड़े) योग्य अनुसूचित जाति के उम्मीदवार का अधिकार छीन लिया है. Charsi ka Sasra Dawood ka dost 1 no ka Bhangar mantri hai Malik मोदी जी का भी किसी ने ऐसे ही दावा किया था। उसकी जांच हुई क्या? OfficeofNM उस समय किसकी सरकार थी।

समीर वानखेड़े की पत्नी बोलीं- उगाही की होती तो महलों में रहते, अभी ही क्यों बना रहे निशाना?आर्यन खान ड्रग्स मामले की जांच कर रहे एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े को लेकर कई आरोप लग रहे हैं. अब उनकी पत्नी क्रांति वानखेड़े ने इन आरोपों पर विस्तार से सफाई पेश की है. 'आजतक' से बात करते हुए क्रांति ने दावा किया है कि अगर समीर वानखेड़े ने उगाही की होती तो हम लोग महल में रह रहे होते. CHOR HAIN ye sala inkalon iskon desh se PAKISTAAN bhejion Patni baap bhai behen bachche sab aa gaye bachane ke liye uss cheez ko jo Sameer sahab ne dusron ki(read srk) udani chahi. Shayad ab pata chala hoga kitna mushkil hota hai respect kamana aur kitna asan hota hai iske saath khilwad karna.Kitna mettle chahiye fr sabr srk se sikho दलाल मीडिया को आब हिंदुस्तान में सिर्फ अंधभक्त ही विश्वास करता है।