Newspaper, Madrashighcourt, Newspapersnotspreadscorona, Madras High Court Dismisses Pıl Against Newspapers, Madras High Court, Pıl Against Newspapers, Coronavirus Update, Newspapers Not Spreads Corona

Newspaper, Madrashighcourt

समाचार पत्रों के प्रकाशन पर रोक से हाईकोर्ट का इंकार, कहा, अखबार से संक्रमण फैलने के तर्को में दम नहीं

समाचार पत्रों से कोरोना वायरस फैल सकता है लिहाजा इनका प्रकाशन रोक दिया जाये को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा कि मात्र आशंका के आधार ऐसा नहीं किया जा सकता।

10-04-2020 15:48:00

समाचार पत्रों के प्रकाशन पर रोक से हाईकोर्ट का इंकार, कहा, अखबार से संक्रमण फैलने के तर्को में दम नहीं newspaper madrashighcourt newspaper snotSpreadscorona

समाचार पत्रों से कोरोना वायरस फैल सकता है लिहाजा इनका प्रकाशन रोक दिया जाये को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा कि मात्र आशंका के आधार ऐसा नहीं किया जा सकता।

। मद्रास हाईकोर्ट ने अखबारों के प्रकाशन पर रोक लगाने से इन्कार कर दिया है। कोर्ट ने कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण लाकडाउन में प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीाडिया को मिली छूट को चुनौती देने वाली याचिका खारिज करते हुए कहा कि भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में जीवंत मीडिया की बहुत अहमियत है।याचिकाकर्ता के इस तर्क कि समाचार पत्रों से कोरोना वायरस फैल सकता है लिहाजा इनका प्रकाशन रोक दिया जाये, को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा कि मात्र आशंका के आधार ऐसा नहीं किया जा सकता।

लड़की को दूसरा नाम बता पंजाब से मेरठ लाकर किया मर्डर, काट दिया था टैटू वाला बाजू, 1 साल बाद सुलझी गुत्थी दलित छात्रा ने ऑनलाइन क्लास नहीं कर पाने के चलते की 'आत्महत्या' कोरोना अपडेटः कोविड-19 के इलाज के लिए इबुप्रोफ़ेन का हुआ परीक्षण - BBC Hindi

समाचार पत्रों के प्रकाशन पर रोक मौलिक अधिकारों के उल्लंघन के समान होगागुरुवार को इस याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एन.किरुबाकरन और जस्टिस आर.हेमलता की पीठ ने कहा कि अगर समाचार पत्रों के प्रकाशन पर रोक लगाई जाती है तो यह संविधान के अनुच्छेद 19 (1) (ए) के तहत न केवल प्रकाशक, संपादक बल्कि पाठक के भी मौलिक अधिकारों के उल्लंघन के समान होगा। पीठ ने कहा कि एक जीवंत मीडिया भारत जैसे किसी भी लोकतांत्रिक देश की थाती है।

यह भी पढ़ेंआजादी की लड़ाई में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिकाअतीत में आजादी की लड़ाई के दौरान इसी मीडिया ने अंग्रेजों के शासन के खिलाफ राय बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके बाद आपातकाल के काले दौर में भी इसकी उल्लेखनीय भूमिका रही। प्रिंट मीडिया न केवल लोगों के विचारों को परिलक्षित करता है बल्कि सरकारों की निगरानी करता है। यह उच्च पदों पर व्याप्त भ्रष्टाचार और अंधेरगर्दी को भी उजागर करता है।

यह भी पढ़ेंसमाचार पत्रों से नहीं फैलता कोरोना वायरसपीठ ने इस संबंध में 10 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के अनुराधा भसीन बनाम केंद्र सरकार के मामले का उल्लेख करते हुए कहा कि इसमें भी प्रेस की स्वतंत्रता को बरकरार रखा गया। तमिलनाडु सरकार के महाधिवक्ता पीएच अरविंद पांडियन के तर्को से सहमति जताते हुए पीठ ने कहा कि रिकार्ड व मीडिया रिपोर्ट से यह स्पष्ट है कि समाचार पत्रों के माध्यम से या कागज की सतह से कोरोना बहुत व्यापक तरीके से फैल रहा है सही नहीं है। इस विषय में अभी बहुत सीमित शोध हुआ है। केवल आशंका या मामूली संभावना के आधार पर समाचार पत्रों के प्रकाशन पर रोक लगाना उचित नहीं है। याचिकाकर्ता टी. गणेश कुमार ने दलील दी थी कि अखबार लाने वाला लड़का यदि संक्रमित है तो अखबारों के जरिये और लोगों को भी संक्रमण हो सकता है।

और पढो: Dainik jagran »

Very very good

कोरोना: मज़दूर महिलाओं के लिए जंग वायरस से ही नहीं, ग़रीबी से भीकोरोना वायरस के चलते दिहाड़ी मज़दूरों की ज़िंदगी पर बन आई है. महिला मज़दूरों का संघर्ष तो अलग ही है. देश की और लॉकडौन कि असली जंग ये गरीब लोग ही असल मे लड़ रहे है, इनके लिए सरकार की काम चलाऊ प्रक्रिया से काम नहीं चलेगा असल में कुछ करना पड़ेगा। So true... Es maha maari mein ab gareeb mar jayega.... Aur middle class gareeb ho jayega... Sirf rajneta ko he faida hai es mahamaari mein Photo kich sakte ho , but help nahi kya log hai wale, sorry tum toh hindustani nahi ho kyun help koroge

Samsung के तीन धांसू स्मार्टफोन से उठा पर्दा, मिलेंगे कमाल के फीचर्ससैमसंग (Samsung) ने A सीरीज के एक नहीं बल्कि तीन नए स्मार्टफोन गैलेक्सी A21, गैलेक्सी A11 और गैलेक्सी A01 को अमेरिका लॉन्च कर दिया

दिल्ली LIVE: बिना मास्क के घर से बाहर निकलने पर 32 लोगों के खिलाफ केस दर्जDelhi Samachar: दिल्ली में कोरोना वायरस (coronavirus in delhi) से अब तक 720 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 12 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके संक्रमण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने बुधवार को ही 20 हॉटस्पॉट सील (20 hotspot sealed in delhi) कर दिए थे।

डॉक्टरों के साथ की थी बदसलूकी, अब कोरोना से बचाने के लिए रो पड़े जमातीकानपुर न्यूज़: कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्या भारत में लगातार बढ़ रही है। देश में इन स्थितियों को देखते हुए फिलहाल 21 दिनों का लॉकडाउन (lockdown) लागू है। dog hai ye.... But Dr. please help them... 🤣🤣🤣 इन्हे तो इनकी मस्जिदो मे ही रहने दो ,तब इन्हें समझ आएगा ।

नोएडा के 22 इलाके रहेंगे सील, जरूरत के सामान के लिए यहां करें संपर्कनोएडा के इन 22 इलाकों में अब किसी भी आदमी का बाहर निकलना मुमकिन नहीं होगा. वो अपनी सोसाइटी में ही रहेंगे. उन्हें अगर कोई जरूरत का सामान चाहिए तो इलाके में सुनिश्चित किए गए व्यक्ति को संपर्क कर मंगवा सकते हैं. आज पूरा संसार कोरोना महामारी से परेशान है , हम मनुष्यों ने पृथ्वी पर बहुत अत्याचार किया । अब समय है हम अपनी बढी हुई इच्छाओं को खत्म करें । कृपया मेरा यह गीत सुनें ... Covid 19 will end soon just pray🙏

गरीबों के मसीहा बने सचिन तेंदुलकर, 5 हजार लोगों के महीनेभर के राशन का किया इंतजामगरीबों के मसीहा बने सचिन तेंदुलकर, 5 हजार लोगों के महीनेभर के राशन का किया इंतजाम sachintendulkar CoronaInMaharashtra CoronavirusOutbreak Proud of u..... Salute hai aaapko...... Bhooooooleeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee Nation first बहुत देर करदी सनम आते आते पहले क्या कान के बाहर कॅरोना बैठा था ।।

निसर्ग: मुंबई में 129 साल के बाद आएगा चक्रवाती तूफ़ान दिल्ली BJP अध्यक्ष पद से मनोज तिवारी की छुट्टी, आदेश कुमार गुप्ता को मिली जिम्मेदारी कोरोना अपडेटः प्रधानमंत्री मोदी बोले, कोरोना महामारी विश्वयुद्ध के बाद आया सबसे बड़ा संकट है - BBC Hindi BJP विधायक ने सोनू सूद से मांगी मदद तो अलका लांबा ने जमकर लताड़ा, कहा- देश में इन्हीं की सरकार फिर भी मदद, शर्म हो तो... लॉकडाउन: राम माधव के अनुसार 90 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह पर टिके हैं पुलिस चीफ़ की ट्रंप को नसीहत 'आप कोई ढंग की बात नहीं कर सकते तो मुँह बंद रखिए' सीमा पर अच्छी खासी तादाद में चीन के लोगः राजनाथ सिंह BHIM ऐप यूज़र्स सावधान, 70 लाख भारतीयों के निजी डेटा पर सेंध लगने का दावा पानी में खड़े तीन दिन मौत का इंतेज़ार करती रही गर्भवती हथिनी मनोज तिवारी हटे, आदेश गुप्ता को मिली दिल्ली भाजपा की कमान राहुल का ट्वीट- क्या भारतीय सीमा में नहीं घुसा कोई चीनी सैनिक? स्पष्ट करे सरकार