Biharkibaat, Voteonbihar, Biharelections, समस्तीपुर विधानसभा क्षेत्र, समस्तीपुर विधानसभा सीट, समस्तीपुर निर्वाचन क्षेत्र, Samastipur Assembly Constituency, Samastipur Assembly Seat, Samastipur Assembly Elections, Samastipur Vidhan Sabha Constituency, Bihar Election 2020, Bihar Assembly Election 2020, बिहार विधानसभा चुनाव 2020, बिहार चुनाव 2020, बिहार के निर्वाचन क्षेत्र

Biharkibaat, Voteonbihar

समस्तीपुर जिला: आरजेडी का मजबूत किला, बदले समीकरण तेजस्वी के लिए चुनौती

बिहार का समस्तीपुर जिला आरजेडी के लिए मजबूत किला माना जाता है. #BiharKiBaat #VoteOnBihar #BiharElections

23-10-2020 08:37:00

बिहार का समस्तीपुर जिला आरजेडी के लिए मजबूत किला माना जाता है. BiharKiBaat VoteOnBihar BiharElections

पिछले चुनाव में जेडीयू के साथ मिलकर लड़ने वाली जेडीयू के सामने इस बार यहां बड़ी चुनौती है. जिले में कुल 10 विधानसभाएं हैं. 14 नवंबर 1972 में दरभंगा से अलग होकर समस्तीपुर जिला बनाया गया.

सामाजिक ताना-बाना2011 की जनगणना के मुताबिक, समस्तीपुर जिले की कुल आबादी 42,54,782 है. जिले में साक्षरता दर सिर्फ 52.04 फीसदी है. समस्तीपुर जिले का 2,904 वर्ग किलोमीटर (1,121 वर्ग मील) का क्षेत्रफल है. समस्तीपुर में बूढ़ी गंडक, बाया, कोसी, कमला, करह, जामवारी और बलान सहित कई नदियां निकलती हैं. जिले के दक्षिण भाग में गंगा नदी बहती है. समस्तीपुर अपने उपजाऊ मैदान की वजह से कृषि में समृद्ध है. तंबाकू, मक्का, चावल और गेहूं यहां की मुख्य फसलें हैं. लीची और आम फल बहुतायत में उगाए जाते हैं. समस्तीपुर में कई चीनी मिलें हैं. समस्तीपुर आलू का भी प्रमुख उत्पादक है.

कपिल देव की प्लेइंग इलेवन: 1983 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान ने कहा- विकेटकीपर सिर्फ धोनी, उस लेवल को कोई नहीं छू सकता कंगना रनौत और उनकी बहन 8 जनवरी को मुंबई पुलिस के सामने पेश हों : कोर्ट पीएम की मुख्यमंत्रियों से 9वीं बैठक: मोदी बोले- वैक्सीन की कीमत क्या होगी और इसके कितने डोज होंगे, इसका जवाब अभी हमारे पास नहीं है

जिले के साथ खास बात यह है कि संसदीय क्षेत्र घोषित होते ही इसे बिहार के अति पिछड़े इलाके का दर्जा दिया गया. लिहाजा भारत सरकार इस क्षेत्र को बैकवर्ड रीजन ग्रांट फंड प्रोग्राम (बीआरजीएफपी) के तहत उचित फंड जारी करती रही है.2015 का जनादेशसमस्तीपुर जिले में कुल 10 विधासभा सीटें आती हैं. इनमें कल्याणपुर, वारिसनगर, समस्तीपुर, उजियारपुर, मोरवा, सरायरंजन, मोहद्दीनगर, बिभूतिपुर, रोसरा और हसनपुर हैं. इस बार जिले में दो चरणों में चुनाव होगा. 2015 के चुनाव में इस जिले में नीतीश और लालू के महागठबंधन को 10 में से 9 सीटों पर जीत मिली थी. अब बदले समीकरण में यहां की लड़ाई देखना दिलचस्प होगा. 2015 में जिले की वारिसनगर विधानसभा सीट पर जेडीयू के अशोक कुमार को कुल 92687 वोट के साथ जीत मिली थी. उन्होंने दूसरे नंबर पर रहे एलजेपी प्रत्याशी को 58573 वोटों के अंतर से मात दी थी.

समस्तीपुर विधानसभा सीट पर आरजेडी प्रत्याशी अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने कुल 82508 वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी. दूसरे नंबर पर बीजेपी प्रत्याशी रेनू कुमार को 51428 वोट मिले थे. उजियारपुर सीट से आरजेडी के आलोक कुमार मेहता ने 85466 वोट पाकर जीत दर्ज की थी. मोरवा से जेडीयू के विद्या सागर सिंह निषाद ने 18816 वोटों से बीजेपी के सुरेश राय को हराया था.

सरायरंजन से जेडीयू के विजय कुमार चौधरी ने बीजेपी प्रत्याशी को 34044 वोटों के बड़े अंतर से हराया था. कल्याणपुर सुरक्षित सीट से पिछले चुनाव में जेडीयू के महेश्वर हजारी ने जीत दर्ज की थी. उन्होंने लोजपा प्रत्याशी प्रिंस राज को हराया था. मोहद्दीनगर से आरजेडी की इज्या यादव ने 47137 वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी. बिभूतिपुर से जेडीयू के रामबालक सिंह ने सीपीएम प्रत्याशी राम देव को 17235 वोटों के अंतर से हराया था.

रोसरा की सुरक्षित सीट से कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. अशोक कुमार ने बीजेपी प्रत्याशी मंजू को 34361 वोटों से हराया था. हसनपुर सीट से जेडीयू प्रत्याशी राजकुमार राय ने 63094 वोट हासिल कर जीत हासिल की थी. और पढो: आज तक »

Coronavirus: दिल्ली में जानलेवा कोरोना वायरस पर क्यों नहीं लग रही लगाम? देखें स्पेशल रिपोर्ट

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना प्रचंड प्रहार कर रहा है. दिल्ली के हालात बेहद खराब है. पिछले तीन दिनों से तो रोजाना 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो रही है. दिल्ली में बेकाबू होते कोरोना को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है. केंद्र सरकार ने भी दिल्ली में कोरोना को काबू में करने के लिए दिमाग दौड़ाना शुरु कर दिया है. सवाल ये है कि दिल्ली में कोरोना से हालात इतने क्यों बिगड़े, कोरोना के इस विस्फोट का मुजरिम कौन है? दिल्ली सरकार या दिल्ली की जनता, आखिर दिल्ली में इतना भयंकर कोरोना फैला कैसे? देखिए स्पेशल रिपोर्ट, अंजना ओम कश्यप के साथ.

gobackmodi BiharRejectsModi

सर्च में Google की दादागिरी के खिलाफ अमेरिका में केस; जानें भारत में क्या असर पड़ेगा?यूरोप-अमेरिका के बाद जापान और ऑस्ट्रेलिया ने भी Google जैसी टेक कंपनियों के एकाधिकार को चुनौती देने के संकेत दिए,Google का जवाब- हमने किसी के साथ जबरदस्ती नहीं की, लोग अपनी मर्जी से सर्च के लिए करते हैं इस्तेमाल | Google Search Antitrust Case (Alphabet) Update; अमेरिका में जस्टिस डिपार्टमेंट ने मंगलवार को गूगल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। उस पर अवैध तरीके से सर्च और सर्च से जुड़ी गतिविधियों के लिए अवैध तरीके से मोनोपोली का आरोप लगाया Google ravibhajni justicforjaiprakashpal justicforjaiprakashpal justicforjaiprakashpal myogiadityanath BJP4UP narendramodi Mayawati PMOIndia Jitendr04457971 pal_dhamu HolkarSena31 AmitShah PAL_YOUTH_ Palektamanch Rashmipal_86

बिहार के पहले चरण के चुनाव में उतरे 31 फ़ीसदी प्रत्याशियों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले: एडीआरबिहार विधानसभा चुनाव राउंडअप: चुनाव आयोग ने मतदान वाले दिन और उससे एक दिन पहले राजनीतिक दलों, प्रत्याशियों तथा अन्य द्वारा अप्रमाणित विज्ञापन प्रकाशित किए जाने पर रोक लगाई. नीतीश कुमार ने लालू पर तंज़ करते हुए कहा कि पत्नी को सीएम बनाने के अलावा महिलाओं के लिए क्या किया. लोजपा का घोषणा पत्र ‘बिहार फ़र्स्‍ट, बिहारी फ़र्स्‍ट’ जारी. दूसरे चरण की 94 सीटों के लिए 1,464 उम्मीदवार मैदान में. यदि आर्थिक अपराधियों को जोड़ा जाय तो

मार्केट कैपिटलाइजेशन के मामले में टॉप 3 में नहीं कोई सरकारी बैंकनिजी सेक्टर का एचडीएफसी बैंक 6,73,736 रुपये के मार्केट कैपिटलाइजेशन के साथ देश का नंबर वन बैंक है। बीते करीब ढाई दशकों में एचडीएफसी ने बैंकिंग सेक्टर में तेजी से अपनी पहचान बनाई है।

Gaya: पिता के निधन के बाद गया में चिराग की हुंकार, कहा- अकेले सब पर भारीबुधवार को वे गया के खिजरसराय में देर रात पहुंचे. इस दौरान उन्होंने कहा कि मुझे यहां आने में बहुत देरी हो गई है. मैं अकेला हूं. पहली बार एक ऐसे चुनाव में हूं जहां पर मेरे पापा मेरे साथ नहीं हैं. इसके पहले वह हमेशा मेरे साथ होते थे. कई जगह चुनाव प्रचार में वो जाते थे और कई जगह मैं जाता था. अब अकेले सारी जिम्मेदारी मेरे कंधे पर है. देश का क्या होगा एक भी सही नेता नही । लोगो की मजबुरी है की उनके पास और कोई ऑप्शन नहि अब । बस इन लोगो को तोह कुर्सी चाहिये कैसे भी। It will take years before you even be of some value.

कोरोना काल में भाजपा शासित NDMC के हॉस्पिटलों में डॉक्टरों को सैलरी नहीं, उठाया बड़ा कदमअस्पताल के आरडीए (रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन) के सदस्य पिछले कई दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं और पिछले तीन महीने का बकाया वेतन जारी करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं।

9/11 के हमले के बाद डिप्रेशन में चले गए थे 'बुर्ज खलीफा' के सिंगर डीजे खुशी, उबरने के लिए पार्टियां करने लगे और 20 घंटे की ट्रेनिंग में डीजे बन गएअपकमिंग फिल्म 'लक्ष्मी बॉम्ब' का सॉन्ग बुर्ज खलीफा इन दिनों ट्रेंड में हैं। अक्षय कुमार और कियारा आडवाणी पर फिल्माए गए इस गाने को चार दिन के अंदर 38 मिलियन (3.8 करोड़) से ज्यादा व्यू मिल चुके हैं। इस गाने में डीजे खुशी और शशि सुमन ने आवाज दी है। दैनिक भास्कर से खास बातचीत में डीजे खुशी ने अपने संघर्ष के बारे में बताया। उनकी मानें तो वे बिजनेस मैनेजमेंट में करियर बनाने अमेरिका जाने वाले थे। लेकिन तभ... | Burj Khalifa Singer Dj Khushi Talks About His Struggle; अपकमिंग फिल्म 'लक्ष्मी बॉम्ब' का सॉन्ग बुर्ज खलीफा इन दिनों ट्रेंड में हैं। अक्षय कुमार और कियारा आडवाणी पर फिल्माए गए इस गाने को चार दिन के अंदर 38 मिलियन (3.8 करोड़) से ज्यादा व्यू मिल चुके हैं।